"गीत" लहराती फसलें खेतों की, झूमें गाँव किसान बरगद पीपल खलिहानों में, गाते साँझ बिहान......लहराती फसलें .....

22 नवम्बर 2018   |  महातम मिश्रा   (73 बार पढ़ा जा चुका है)

आधार छंद - सरसी (अर्द्ध सम मात्रिक) शिल्प विधान सरसी छंद- चौपाई + दोहे का सम चरण मिलकर बनता है। मात्रिक भार- 16, 11 = 27 चौपाई के आरम्भ में द्विकल+त्रिकल +त्रिकल वर्जित है। अंत में गुरु /वाचिक अनिवार्य। दोहे के सम चरणान्त में 21 अनिवार्य है


"गीत"


लहराती फसलें खेतों की, झूमें गाँव किसान
बरगद पीपल खलिहानों में, गाते साँझ बिहान......लहराती फसलें .....


बहुत पुरानी बात नहीं यह, माटी की दीवार
सूरज उगता था आँगन में, अंकुर ऋतु अनुसार
झुकती थीं तरुवर की डाली, फलते थे पकवान
तोता मिट्ठू चखे आम फल, मैना धुन धनवान...... लहराती फसलें......


कहाँ गए तुम राह बटोही, सूनी डगर बहार
महुआ जामुन पेड़ करौंदा, बौने हैं दीनार
भालू दिखता नहीं मदारी, जंगल की पहचान
पिजरे में हाथी मतवाला, अरु शेरा बलवान..... लहराती फसलें ......


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: छंद पंचचामर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 नवम्बर 2018
"
"मुक्तक" हार-जीत के द्वंद में, लड़ते मनुज अनेक।किसे मिली जयमाल यह, सबने खोया नेक।बर्छी भाला फेंक दो, विषधर हुई उड़ान-पीड़ा सतत सता रहीं, छोड़ो युद्ध विवेक।।-1हार-जीत किसको फली, ऊसर हुई जमीन।युग बीता विश्वास का, साथी हुआ मशीन।बटन सटन दुख दर्द को, लगा न देना हाथ-यंत्र- यंत्र में तार है, जुड़ते जान नगीन।।-2
30 नवम्बर 2018
15 नवम्बर 2018
"
"पिरामिड"क्याहुआसहाराबेसहाराभूख का मारालालायित आँखनिकलता पसीना।।-1हाँचोरसिपाहीसहायतापक्ष- विपक्षअपना करमबेरहम मलम।।-2महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
15 नवम्बर 2018
01 दिसम्बर 2018
छंद - द्विगुणित पदपादाकुलक चौपाई (राधेश्यामी) गीत, शिल्प विधान मात्रा भार - 16 , 16 = 32 आरम्भ में गुरु और अंत में 2 गुरु "राधेश्यामी गीत" अब मान और सम्मान बेच, मानव बन रहा निराला है।हर मुख पर खिलती गाली है, मन मोर हुआ मतवाला है।।किससे कहना किसको कहना, मानो यह गंदा नाला है।सुनने वाली भल जनता है, कह
01 दिसम्बर 2018
04 दिसम्बर 2018
"
वज़्न--212 212 212 212 अर्कान-- फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन, बह्रे- मुतदारिक मुसम्मन सालिम, क़ाफ़िया— लुभाते (आते की बंदिश) रदीफ़ --- रहे"गज़ल"छोड़कर जा रहे दिल लुभाते रहेझूठ के सामने सच छुपाते रहे जान लेते हक़ीकत अगर वक्त कीसच कहुँ रूठ जाते ऋतु रिझाते रहे।।ये सहज तो न था खेलना आग सेप्यास को आब जी भर प
04 दिसम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x