"भोजपुरी गीत" साँझे कोइलरिया बिहाने बोले चिरई जाओ जनि छोड़ी के बखरिया झूले तिरई....... साँझे कोइलरिया बिहाने बोले चिरई

26 दिसम्बर 2018   |  महातम मिश्रा   (154 बार पढ़ा जा चुका है)

भोजपुरी गीत, मात्रा भार-24, मुखड़ा समान्त- ए चिरई, अंतरा समान्त- क्रमशः खटिया,जनाना, जवानी,


"भोजपुरी गीत"

साँझे कोइलरिया बिहाने बोले चिरई

जाओ जनि छोड़ी के बखरिया झूले तिरई....... साँझे कोइलरिया बिहाने बोले चिरई


देख जुम्मन चाचा के अझुराइल खटिया

होत भिनसारे ऊ उठाई लिहले लठिया

गैया तुराइल जान हेराइ गईल बछवा

खोजटाते गली-गली हेराइल भल नथिया

मेला उहें लागल जा खियाव पान बिरई..............साँझे कोइलरिया बिहाने बोले चिरई


बारंबार कहिला की बिगड़ल जनाना

नाहिं सुख देई तुहके मुसुकी मन मखाना

मड़ई मुहल्ला प्रीत महके मधुर माटी

शिशिर हेमंत शरद ऋतु बसंत खिलखिलाना

सैंया सुधरि जा अब सयान भईल जरई........... साँझे कोइलारिया बिहाने बोले चिरई


नाहीं रहल बचपन गईल ऊ जवानी

तलवा तलैया पोखर पीय जनि पानी

छानि-छानि घूँट पीय मिलल बा भल गगरी

राम-राम, कहो राम कर जी मति नादानी

झबरा झुठरलस आज जियावन के परई........... साँझे कोइलरिया बिहाने बोले चिरई


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "गज़ल" पास आती न हसरत बिखरते रहे चाहतों के लिए शोर करते रहे



महातम मिश्रा
27 दिसम्बर 2018

मंच व मित्रों का हृदय से आभारी हूँ, इस भोजपुरी गीत को श्रेष्ठ रचना का सम्मान देने के लिए व मुख्य पृष्ठ पर प्रकाशित करने के लिए, सादर नमन

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 दिसम्बर 2018
"कुंडलिया" पाया प्रिय नवजात शिशु, अपनी माँ का साथ।है कुदरत की देन यह, लालन-पालन हाथ।।लालन-पालन हाथ, साथ में खुशियाँ आए।घर-घर का उत्साह, गाय निज बछड़ा धाए।।कह गौतम कविराय, ठुमुक जब लल्ला आया।हरी हो गई गोंद, मातु ने ममता पाया।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
21 दिसम्बर 2018
15 दिसम्बर 2018
छंद - " मदिरा सवैया " (वर्णिक ) *शिल्प विधान सात भगण+एक गुरु 211 211 211 211 211 211 211 2 भानस भानस भानस भानस भानस भानस भानस भा"छंद मदिरा सवैया" वाद हुआ न विवाद हुआ, सखि गाल फुला फिरती अँगना।मादक नैन चुराय रहीं, दिखलावत तैं हँसती कँगना।।नाचत गावत लाल लली, छुपि पाँव महावर का रँगना।भूलत भान बुझावत हौ
15 दिसम्बर 2018
15 दिसम्बर 2018
"
"मुक्तक" हार-जीत के द्वंद में, लड़ते रहे अनेक।किसे मिली जयमाल यह, सबने खोया नेक।बर्छी भाला फेंक दो, विषधर हुई उड़ान-महँगे खर्च सता रहे, छोड़ो युद्ध विवेक।।-1हार-जीत किसको फली, ऊसर हुई जमीन।युग बीता विश्वास का, साथी हुआ मशीन।बटन सटन है साथ में, लगा न देना हाथ-यंत्र- यंत्र में तार है, जुड़ मत जान नगीन।।-2
15 दिसम्बर 2018
12 दिसम्बर 2018
"
"हाइकु" ठंडी की ऋतुघर घर अलावबुझती आग।।-1गैस का चूल्हान आग न अलावठिठुरे हाथ।।-2नया जमानासुलगता हीटर धुआँ अलाव।।-3नोटा का कोटाअसर दिखलायामुरझा फूल।।-4खिला गुलाबउलझा हुआ काँटामूर्छित मन।।-5महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
12 दिसम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
"
29 दिसम्बर 2018
"
28 दिसम्बर 2018
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x