"देशज गीत" सजरिया से रूठ पिया दूर काहें गइल नजरिया के नूर सैंया दूर काहें कइल

08 जनवरी 2019   |  महातम मिश्रा   (70 बार पढ़ा जा चुका है)

"देशज गीत"


सजरिया से रूठ पिया दूर काहें गइल

नजरिया के नूर सैंया दूर काहें कइल

रचिको न सोचल झुराइ जाइ लौकी

कोहड़ा करैला घघाइल छान चौकी

बखरिया के हूर राजा दूर काहें गइल..... सजरिया से रूठ पिया दूर काहें गइल


कहतानि आजा बिहान होइ कइसे

झाँके ला देवरा निदान होइ कइसे

नगरिया के झूठ सैंया फूर काहें कइल..... सजरिया से रूठ पिया दूर काहें गइल


कुछ त बताव गलानि करें अँगना

अस निर्मोही कस होइ गइल सजना

का देखि लुभइल गरूर काहें कइल..... सजरिया से रूठ पिया दूर काहें गइल


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "चौपाई मुक्तक" वन-वन घूमे थे रघुराई, जब रावण ने सिया चुराई। रावण वधकर कोशल राई, जहँ मंदिर तहँ मस्जिद पाई।



मंच व मित्रों का हृदय से आभारी हूँ, इस देशज गीत काव्य सृजन को विशिष्ट रचना का सम्मान देने के लिए व दैनिक पृष्ठ पर प्रकाशित करने के लिए, सादर नमन

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 दिसम्बर 2018
छं
..!छंदमुक्त काव्य, बदलता मौसम तुम ही हो मेरे बदलते मौसम के गवाहमेरे सावन की सीलनमेरे मन की कुढ़न मेरी गर्मी की तपनमेरे शिशिर की छुवनमधुमास की बहार हो तुम।।तुम ही होे मेरे उम्र की पहचानमेरे चेहरे पर सेहरे की शानतुम ही बहार हो तुम ही संसार होकहो तो हटा दूँ इन फूलों की लड़ियों कोदिखा दूँ वह ढ़का हुआ चाँदम
27 दिसम्बर 2018
26 दिसम्बर 2018
"
मत्तगयन्द सवैये के अंतर्गत 7 भगण और अंत मे दो गुरु का प्रयोग होता है। 16/16 पर यति भी दे दी जाय तो रचना और निखर जाती है।साधारण शब्दों मे मत्तगयन्द सवैये की मापनी इस तरह.होती है ----- 211/211/211/211/211/211/211/22 मत्तगयन्द सवैया छंद ७ भगण +२ गुरु = २३ वर्ण ] वर्णिक मात्रा प्रभार ३२ ] १२ /११ वर्ण /
26 दिसम्बर 2018
12 जनवरी 2019
दुर्मिल सवैया ( वर्णिक )शिल्प - आठ सगण, सलगा सलगा सलगा सलगा सलगा सलगा सलगा सलगा 112 112 112 112 112 112 112 112, दुर्मिल सवैया छंद लघु से शुरू होता है ।छंद मे चारों पंक्तियों में तुकांत होता है"छंद दुर्मिल सवैया" चित भावत नाहिं दुवार सखी प्रिय साजन छोड़ गए बखरी।अकुलात
12 जनवरी 2019
27 दिसम्बर 2018
"कुंडलिया"मारे मन बैठी रही, पुतली आँखें मीच।लगा किसी ने खेलकर, फेंक दिया है कीच।।फेंक दिया है कीच, तड़फती है कठपुतली।हुई कहाँ आजाद, सुनहरी चंचल तितली।।कह गौतम कविराय, मोह मन लेते तारे।बचपन में उत्पात, बुढापा आ मन मारे।।महातम मिश्र, गौतम
27 दिसम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
"
11 जनवरी 2019
"
28 दिसम्बर 2018
19 जनवरी 2019
11 जनवरी 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x