गीत, आंचलिक पुट

25 जून 2019   |  महातम मिश्रा   (72 बार पढ़ा जा चुका है)

"गीत" आंचलिक पुट


मोरे अँगने में है तुलसी का चौरा

एक पेड़ नीम संग आम खूब बौरा

अड़हुल का फूल लाल केसर कियारी

मगही के पतवा तुराये भरि दौरा.....मोरे अँगने में


गाय संग कुकुरा के रोज रोज कौरा

धूल और माटी में खेले चंचल छौरा

गैया के गोबर भल घास दूब मोथा

बगिया फुलाए पै उड़े लागल भौंरा.....मोरे अँगने में


होखे जब ओसवनी तब मारे लोग बौंरा

देह खजुआये मानों धइले बा खौरा

जामुन के डारि अरु कोयल की बोली

लाल पीयरि चुनरी लट आँख कजरौरा.....मोरे अँगने में


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: दोहा



रचना को विशिष्ट सम्म्मन प्रदान करने हेतु मंच व मित्रों का हृदय से आभारी हूँ

रेणु
25 जून 2019


होखे जब ओसवनी तब मारे लोग बौंरा
देह खजुआये मानों धइले बा खौरा
जामुन के डारि अरु कोयल की बोली
लाल पीयरि चुनरी लट आँख कजरौरा.....मोरे अँगने में!!!!!!!
बहुत सुंदर भैया | लोकरस माधुरी से सराबोर मस्त रचना |
गवंई अदा के क्या कहने !!!!!!!!!हार्दिक शुभकामनायें और प्रणाम

हार्दिक धन्यवाद बहन, शुभाशीष

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 जून 2019
मु
"मुक्त काव्य"दिन से दिन की बात हैकिसकी अपनी रात हैबिना मांगे यह कैसी सौगात हैइक दिन वह भी था जब धूप में नहा लिएआज घने छाए में भी बिन चाहत भीगती रात हैउमसते हैं कसकते हैं और बिदकते हैंकाश, वह दिन होता और वैसे ही जज्बातफिर न होता यह धधकता दिनऔर न होती यह सिसकती रातपेड़ पौधे भी करते हैं आपस में बात।।महु
12 जून 2019
27 जून 2019
गी
मंच को प्रस्तुत गीतिका, मापनी- 2222 2222 2222, समान्त- अन, पदांत- में...... ॐ जय माँ शारदा!"गीतिका"बरसोगे घनश्याम कभी तुम मेरे वन मेंदिल दे बैठी श्याम सखा अब तेरे घन मेंबोले कोयल रोज तड़फती है क्यूँ राधाकह दो मेरे कान्ह जतन करते हो मन में।।उमड़ घुमड़ कर रोज बरसता है जब सावनमुरली की धुन चहक बजाते तुम मध
27 जून 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x