हिंदी दिवस पर प्रस्तुत गीत

17 सितम्बर 2019   |  महातम मिश्रा   (452 बार पढ़ा जा चुका है)

"गीत"


हिंदी हिंद की जान है, आन बान और शान है

भारत के हर वासी का, युग-युग से पहचान है

हर बोली में लहजा हिंदी, हर माथे पर सोहे बिंदी

घर-घर में इंसान है, आँगन मुख मुस्कान है.......


लिखना रुचिकर पढ़ना रुचिकर, रुचिकर है आठो डाँड़ी

हिंदी के हर शब्द में बहती, गंगा यमुना की नाड़ी

स्वर व्यंजन की आरती, प्रिय प्रतीक माँ भारती

सुख सुविधा ईमान है, हिंदी सरल विधान है......

हिंदी हिंद की जान है, आन बान और शान है

भारत के हर वासी का, युग-युग से पहचान है।।


वैतरणी ये पार करा दे, जीवन नौका घाट लगा दे

घट घट का उद्धार करा दे, मूरख मन में ज्ञान जगा दे

अनुप्रास अतिशयोक्ति भारी, अपनी बोली अपनी यारी

अलंकार रसखान है, मात्रिक छंद सुजान है......

हिंदी हिंद की जान है, आन बान और शान है

भारत के हर वासी का, युग-युग से पहचान है।।


दुनियाँ की सबसे प्रिय बोली, पाई पगड़ी कुमकुम झोली

मुहावरे की बात निराली, व्यंग बुझौनी सरस ठिठोली

आओ मिलकर साथियाँ, हर विपदा को झेल लें

कलरव विहग बिहान है, वर्णिक छंद महान है.......

हिंदी हिंद की जान है, आन बान और शान है

भारत के हर वासी का, युग-युग से पहचान है।।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: कुंडलिया



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 सितम्बर 2019
मु
"मुक्तक"सूक्ष्म निरीक्षण से हुए, कोटि कोटि सत्काम।जल के भीतर जीव प्रिय, नभचर थलचर आम।मित्र जीव रक्षा करें, बैरी लेते प्राण-रुधिर सभी का एक सा, अलग अलग है नाम।।लघु के लक्ष्य अभेद हैं, लिए साहसी तीर।चावल पय जब भी मिले, पके माधुरी खीर।कटहल पक मीठा हुआ, लिए नुकीले छाल-काले तिल के शक्ति को, कब समझे बेपीर
08 सितम्बर 2019
16 सितम्बर 2019
पितृपक्ष चल रहा है | सभी हिन्दू धर्मावलम्बी अपने दिवंगत पूर्वजों के प्रति श्रद्धासुमन समर्पित कर रहे हैं | हमने भी प्रतिपदा को माँ का श्राद्ध किया और अब दशमी कोपिताजी का करेंगे | कुछ पंक्तियाँ इस अवसर पर अनायास ही प्रस्फुटित हो गईं... सुधीपाठकों के लिए समर्पित हैं...भरी भीड़ में मन बेचारा खड़ा हुआ कुछ
16 सितम्बर 2019
14 सितम्बर 2019
हिंदी दिवस कीसभी को हार्दिक शुभकामनाएँआप सब सोचेंगे कि पूर्णिमा को अब स्मरण हुआ “हिंदी” दिवसका... पर व्यस्तता ही कुछ ऐसी थी... माँ के श्राद्ध का तर्पण... भोजन... ऊपर से“अतिथि देवो भव”... तो अब साँझ को इस सबसे अवकाश पाकर मोबाइल ऑन किया तो देखाहिंदी दिवस के उपलक्ष्य में अनगिनती शुभकामना सन्देश मेरी अभ
14 सितम्बर 2019
14 सितम्बर 2019
हिंदी दिवस कीसभी को हार्दिक शुभकामनाएँआप सब सोचेंगे कि पूर्णिमा को अब स्मरण हुआ “हिंदी” दिवसका... पर व्यस्तता ही कुछ ऐसी थी... माँ के श्राद्ध का तर्पण... भोजन... ऊपर से“अतिथि देवो भव”... तो अब साँझ को इस सबसे अवकाश पाकर मोबाइल ऑन किया तो देखाहिंदी दिवस के उपलक्ष्य में अनगिनती शुभकामना सन्देश मेरी अभ
14 सितम्बर 2019
01 अक्तूबर 2019
वरिष्ठजन दिवस पर मेरी एक रचना उन बुजुर्गो के नाम जो अपने घर आँगन में सघन छांह भरे बरगद के समान है | जो उनकी कद्र जानते हैं उन्ही के मन के भाव ----बाबा की आँखों से झांक
01 अक्तूबर 2019
14 सितम्बर 2019
हिंदी है हम वतन है। अपनी अभिव्यक्ति कहने का जतन है, अपनी संस्कृति का न हो पतन, बस यही जतन है। हिंदी है हम वतन है। जुबानें बेहिसाब है जहां में, हम वतन के, खुद के आजाद ख्यालात की, जुबान है हिंदी... अपनेपन का अहसास, खुद के शब्दों की परवाज़ है हिंदी, कोयल की जुबान है हिंदी। हिंदी है हम वतन है...
14 सितम्बर 2019
26 सितम्बर 2019
A
ऐसा क्या है जो तुम मुझसेकहने में डरते हो पर मेरे पीछे मेरी बातें करते हो मैं जो कह दूँ कुछ तुमसे तुम उसमें तीन से पांचगढ़ते होऔर उसे चटकारे ले करदूसरों से साँझा करते होमैं तो हूँ खुली किताबबेहद हिम्मती और बेबाक़रोज़ आईने में नज़रमिलाता हूँ अपने भीतर झाँक, फिरऐसा क्या है जो
26 सितम्बर 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x