बिटिया मेरी हुई सियानी

09 अक्तूबर 2019   |  व्यंजना आनंद   (461 बार पढ़ा जा चुका है)

🧚🏻‍♂🧚🏻‍♂🧚🏻‍♂🧚🏻‍♂🧚🏻‍♂🧚🏻‍♂🧚🏻‍♂

लोक गीत÷÷÷


बिटिया मेरी हुई सियानी

"""""""""""""****"""""""""



बिटिया रानी अब तो हुई है सियानी।

मुझे बोलेगी छोटी परी अब नानी।। होsssss


माँ के अंगना में खेली- कूदी

करती रहती थी हरदम ठिठोली

बड़े जतन से पिता पढ़ाये

पढ़ा कर उसे राह दिखाये

घर की रखना लाज हो बिटिया

नयनों से जाएँ ना कभी पानी होssssssss


बिटिया रानी अब तो हुई है सियानी।

मुझे बोलेगी छोटी परी अब नानी।।sssss


फूलों सा चेहरा अब तो खिला

तेरे जीवन में खुशियाँ भरा

माँ तो देख के हुई है निहाल

अपनी बगीया के फूल को संभाल

देख अब कैसे बदली बिटिया

अब तो वो भी करें निगरानी होssssssss


बिटिया रानी अब तो हुई है सियानी।

मुझे बोलेगी छोटी परी अब नानी।।sssssss

""""""""""""""":*************"""""""""""""


व्यंजना आनंद ✍

अगला लेख: हाइकु



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 अक्तूबर 2019
🙏🏻आखिर ऐसा क्यों? 🙏🏻"""""""""""""""""""""""""""""""""अचानक से मेरे मन मस्तिष्क पर वह दृश्य नाच गया।घर के चौतरे पर एक घूँटे से बंधी थी वह लाचार माँ। उनकी हृदय को झकझोर देने वाली आवाज ।अब भी रौंगटे खड़े हो जाते हैं उन दर्दनाक दृश्य को याद कर ।उन दिनों मैं छोटी बच्ची थी ,दर्द हुआ था पर समझ न पाई
18 अक्तूबर 2019
09 अक्तूबर 2019
को
🕉कोमल कठोर कृष्ण 🕉 -------------------------पृथा राज्य में पैदा लेकर, कुन्ती पृथा कहलाई।'ष्ण' प्रत्यर्पण लगाकर उसमें, कौन्तेय पार्थ कहलाएँ ।।पार्थ सारथी बन प्रभु वर, महाभारत रचवाएँ। किसकी होती जग में गाथा, जन जन को बतलाएँ।।वृन्दावन का त्याग कर , मथ
09 अक्तूबर 2019
12 अक्तूबर 2019
भौ
💥💥भौरा जिया 💥💥तुम जो गये हमसे दूर पिया ,दिल के और भी करीब हो गये।यह बात अलग है तुम्हें खो कर, हम मुफलिस और गरीब हो गये।मेरी साँसें, मेरी धड़कन, गाती रहती है इक गीत ।तेरे सिवा न दूजा होगा, तू तो जन्मो का मेरा मीत। दूर मुझे क्यों खुद किया । तुम जो गये हमसे दूर पिया ।।आज जो ये चाँ
12 अक्तूबर 2019
05 अक्तूबर 2019
🙏🏻 🙏🏻🌹जलती रही बाती 🌹""""""""""""****""""""""""""रात भर तेरे इन्तजार में- जलती रही बाती । बुझती रही बाती।।इधर लौ जल रहे थे, भौरें मचल रहे थे। क्या करती वह बाती मन मोम गल रहे थे।। रात भर तेरे इन्तजार में , जलती रही बाती बुझती रही बाती ।अकेली क्या करेंगी
05 अक्तूबर 2019
02 अक्तूबर 2019
घर मेरा टूटा हुआ सन्दूक हैहर पुरानी चीज़ से अनुबन्ध है पर घड़ी से ख़ास ही सम्बन्ध हैरूई के तकिये, रज़ाई, चादरें खेस है जिसमें के माँ की गन्ध हैताम्बे के बर्तन, कलेंडर, फोटुएँजंग लगी छर्रों की इक बन्दूक हैघर मेरा टूटा ..."शैल्फ" पे चुप सी कतारों में खड़ी अध्-पड़ी
02 अक्तूबर 2019
09 अक्तूबर 2019
मु
मात्रिक- - 16 मात्रा भार🌷मुक्तक🌷 """"""""""""हम रुठे है वो भी रुठी। किस्मत देखों कैसे छूटी । जाने कहाँ गये प्यारे दिन, करते थे हम बातें मीठी।।ऐसे नहीं प्रेम होता है। समर्पण से क्रोध खोता है। ऐसे नहीं टीकती दोस्ती, वो दोस्त हमेशा रोता है।।🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹व्यंजना आनंद ✍
09 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
गी
09 अक्तूबर 2019
हा
03 अक्तूबर 2019
07 अक्तूबर 2019
मा
09 अक्तूबर 2019
गी
09 अक्तूबर 2019
बा
18 अक्तूबर 2019
पु
05 अक्तूबर 2019
भौ
12 अक्तूबर 2019
10 अक्तूबर 2019
05 अक्तूबर 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x