जानें चारधाम यात्रा के दौरान किन बातों का रखें ध्यान

14 अगस्त 2018   |  रितिका चटर्जी   (31 बार पढ़ा जा चुका है)

जानें चारधाम यात्रा के दौरान किन बातों का रखें ध्यान - शब्द (shabd.in)

18 अप्रैल को अक्षय तृतीया के दिन

गंगोत्री

और

यमुनोत्री

मंदिरों के कपाट खुलने के साथ ही उत्तराखंड की

चारधाम यात्रा

शुरू हो गई थी, लेकिन केदारनाथ और बदरीनाथ धाम के कपाट 29 अप्रैल रविवार और 30 अप्रैल सोमवार को खुले। चारों मंदिरों के कपाट खुलने के साथ ही आधिकारिक रूप से चार धाम की यात्रा शुरू हो गई है। इन चारों तीर्थ स्थलों पर आप कैसे पहुंच सकते हैं और यात्रा के दौरान आपको कौन-कौन सी सावधानियां बरतनी चाहिए, जानें...



यमुनोत्री है पहला पड़ाव

यमुनोत्री को चारधाम यात्रा का पहला पड़ाव कहा जाता है। यहां यमुना का पहाड़ी शैली में बना मनमोहक मंदिर है और मंदिर के पास ही खौलते पानी का स्रोत है जो तीर्थ यात्रियों के आकर्षण का केंद्र है। यमुनोत्री पहुंचने के लिए आप दिल्ली से देहरादून या ऋषिकेश तक हवाई यात्रा या रेल यात्रा से पहुंच सकते हैं। यहां से आगे सड़क मार्ग और आखिरी कुछ किलोमीटर पैदल चलकर यमुनोत्री पहुंच सकते हैं।


चारधाम यात्रा में इन बातों का रखें ध्यान


गंगोत्री है दूसरा पड़ाव

चारधाम यात्रा का दूसरा पड़ाव गंगोत्री है। यमुनोत्री के दर्शन कर तीर्थ यात्री गंगोत्री में गंगा माता की पूजा के लिए पहुंचते हैं। गंगा का प्राकृतिक स्रोत गोमुख ग्लेश्यिर गंगोत्री से 18 किलोमीटर दूर है। यमुनोत्री से गंगोत्री की सड़क मार्ग से दूरी 219 किलोमीटर है जबकि ऋषिकेश से गंगोत्री की दूरी 265 किलोमीटर है और वहां से वाहन से सीधे पहुंचा जा सकता है।


कैसे पहुंचे केदारनाथ?
चारधाम यात्रा का तीसरा पड़ाव केदारनाथ धाम है जो उत्तराखंड के रूद्रप्रयाग जिले में आता है। ऋषिकेश से गौरीकुण्ड की दूरी 76 किलोमीटर है और यहां से 18 किलोमीटर की दूरी तय करके केदारनाथ पहुंच सकते हैं। केदारनाथ और लिंचैली के बीच 4 मीटर चौड़ी सीमेंटेड सड़क बना दी गई है जिससे श्रद्धालु आसानी से केदारनाथ पहुंच सकते हैं।

चारधाम यात्रा में इन बातों का रखें ध्यान


कैसे पहुंचे बद्रीनाथ?

बद्रीनाथधाम

तक गाड़ियां जाती हैं, इसलिए यहां मौसम अनुकूल होने पर पैदल नहीं जाना पड़ता। बद्रीनाथ को बैकुण्ठ धाम भी कहा जाता है। यहां पहुंचने के लिए ऋषिकेश से देवप्रयाग, श्रीनगर, रूद्रप्रयाग, कर्णप्रयाग, चमोली और गोविन्दघाट होते हुए पहुंचा जा सकता है।


चारधाम यात्रा में इन बातों का रखें ध्यान


कई और खूबसूरत मंदिर

केदारनाथ और बद्रीनाथ के बीच कई और मंदिर भी हैं जिनके दर्शन तीर्थ यात्री कर सकते हैं। इनमें भविष्यबद्री मंदिर, नृसिंह मंदिर, बासुदेव मंदिर, जोशीमठ जैसे मंदिर बद्रीनाथ यात्रा मार्ग के आसपास हैं जबकि केदारनाथ मार्ग पर विश्वनाथ मंदिर गुप्तकाशी, मदमहेश्वर मंदिर, महाकाली मंदिर कालीमठ, नारायण मंदिर, तुंगनाथ मंदिर शामिल है। इसके अलावा 5 प्रयागों में से रूद्रप्रयाग, देवप्रयाग केदार मार्ग पर और कर्णप्रयाग, नंदप्रयाग और विष्णुप्रयाग बद्रीनाथ मार्ग पर पड़ते हैं। चारधाम की यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालु और तीर्थ यात्री इन मंदिरों में भी जाते हैं।


कब जाएं?
वैसे तो चारधाम यात्रा हर साल अप्रैल महीने में शुरू होती है और अक्टूबर-नवंबर में खत्म हो जाती है लेकिन सितंबर का महीना इस यात्रा का पीक सीजन होता है क्योंकि जून से अगस्त के बीच इस इलाके में भारी बारिश होती है जिसकी वजह से तीर्थ यात्रियों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। सितंबर चारधाम यात्रा पर जाने का सबसे बेस्ट समय है क्योंकि बारिश के बाद पूरी घाटी धुली हुई और फ्रेश हो जाती है, चारों तरफ हरियाली नजर आने लगती है और यहां की प्राकृतिक खूबसूरती देखते ही बनती है।


यात्रा के दौरान इन चीजों का रखें ध्यान
- सिर्फ चारधाम यात्रा ही नहीं बल्कि किसी भी यात्रा के दौरान आपको अपनी जरूरी दवाइयां हमेशा साथ रखनी चाहिए।
- इसके अलावा छोटी-मोटी सामान्य परेशानियों जैसे- पेट दर्द, उल्टी, सिरदर्द, बुखार की दवा के अलावा क्रीम और पेनरिलीफ स्प्रे भी साथ रखना चाहिए।
- यात्रा के दौरान गर्म और ऊनी कपड़े साथ रखें क्योंकि इस क्षेत्र का मौसम हमेशा ठंडा रहता है और ऊंचाई पर तो ठंड ज्यादा बढ़ जाती है।
- इसके अलावा एक अच्छा टॉर्च भी साथ जरूर रखें।
- हो सके तो चारधाम की यात्रा अकेले करने की बजाए दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ करें क्योंकि रूट चैलेंजिंग होने की वजह से मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है

https://navbharattimes.indiatimes.com/lifestyle/travel/char-dham-yatra-2018-know-everything-how-to-travel-checklist-to-keep-in-mind/articleshow/63983130.cms

अगला लेख: Video : पन्द्रह अगस्त का दिन कहता - आज़ादी अभी अधूरी है। सपने सच होने बाक़ी हैं, राखी की शपथ न पूरी है॥



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 अगस्त 2018
एक्टर कमल हसन की फिल्म 'विश्वरूपम 2' आज सिनेमाघरो में रिलीज होगी है। जब कमल हसन की फिल्म विश्वरूपम रिलीज हुई तो हर ओर कॉन्ट्रोवर्सी का माहौल बन गया था। कहीं इसके नाम के ऊपर विवाद होने लगे तो कहीं धार्मिक बातों के चलते इस पर बैन लगाने की भी कोशिश की गई। अब पांच साल बाद इस फिल्म का दूसरा पार्ट 'विश्वर
14 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
आजादी: राम प्रसाद बिस्मिलइलाही ख़ैर! वो हरदम नई बेदाद करते हैं,हमें तोहमत लगाते हैं, जो हम फ़रियाद करते हैंकभी आज़ाद करते हैं, कभी बेदाद करते हैंमगर इस पर भी हम सौ जी से उनको याद करते हैंअसीराने-क़फ़स से काश, यह सैयाद कह देतारहो आज़ाद होकर, हम तुम्हें आज़ाद करते हैंरहा करता है अहले-ग़म को क्या-क्या
14 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
जोधपुर भारत के राज्य राजस्थान का दूसरा सबसे बड़ा नगर या ज़िला है। इसकी जनसंख्या १० लाख के पार हो जाने के बाद इसे राजस्थान का दूसरा "महानगर " घोषित कर दिया गया था। यह यहां के ऐतिहासिक रजवाड़े मारवाड़ की इसी नाम की राजधानी भी हुआ करता था। जोधपुर थार के रेगिस्तान के बीच अपने
14 अगस्त 2018
23 अगस्त 2018
एक तरफ देश के पहले छोर कश्मीर में सीमा पर तैनात जवान दुश्मनों के साथ लोहा ले रहे हैं, ताकि हमारे देश के लोग आतंकी खतरे से बच सके, वहीं दूसरी तरफ देश के अंतिम छोर केरल में सत्ताधारी पार्टी सीपीएम के नेता सेना ने लिए विवादित टिप्पणी कर सैनिकों का अपमान कर रहे हैं. जी हां हम
23 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
तीन चीजें एक शहर का निर्माण करती हैं - दरिया, बादल, बादशाह. इसे इस प्रकार कह सकते हैं एक नदी, वर्षा-बादल लाने वाली और एक सम्राट (जो अपनी इच्छाएं लागू कर सकता है)। पुरानी कहावत"हम दिल्ली शहर में हैं, जो प्राचीन और नए भारत का प्रतीक है। यह पुरानी दिल्ली की तंग गलियों और मकानों तथा नई दिल्ली के खुली जग
14 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
1. पत्रकार :कश्मीर के हालात बहुत खराब है,सीमा पर गोलीबारी हो रही है,आपका क्या कहना है ?राहुल गांधी :सीमा को कुछ दिन घर पर रहना चाहिए2. आलिया भट्ट: पता है, जब मैं छोटी थी तो छत पर से गिर गयी थीराहुल गाँधी: फिर तू बच गयी थी या मर गयी थी?आलिया: अब मुझे क्या पता, मैं तब छोटी थी ना!!राहुल: अरे हाँ, म
14 अगस्त 2018
23 अगस्त 2018
किसी भी प्रोडक्ट को बाज़ार में लोकप्रिय बनाने के लिए विज्ञापन बहुत ज़रूरी है, तभी तो बड़ी-बड़ी कंपनियां करोड़ों रुपए सिर्फ विज्ञापनों पर ही फूंक डालती हैं और कुछ विज्ञापन वाकई इतने अच्छे होते हैं कि उन्हें बार-बार देखने का मन होता है, मगर सब इतने अच्छे नहीं होते। कुछ विज
23 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
बोधगया – बौद्धों का पूजनीय स्थलअंतरराष्ट्रीय पर्यटन की नज़र से देखे तो बोधगया बिहार का सबसे सुप्रसिद्ध स्थान है। बिहार में यह इकलौती ऐसी जगह है जो विश्व धरोहर के दो स्थलों में से एक है। बौद्धों के लिए यह जगह बहुत ही पूजनीय है क्योंकि, इसी स्थान पर बोधि वृक्ष के नीचे बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति हुई थी।
14 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
14 अगस्त 2018
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x