स्वतंत्रता दिवस विशेष: ... जब वाराणसी की तवायफों से हिल गई थी अंग्रेजी हुकूमत

14 अगस्त 2018   |  रेखा यादव   (40 बार पढ़ा जा चुका है)

स्वतंत्रता दिवस विशेष: ... जब वाराणसी की तवायफों से हिल गई थी अंग्रेजी हुकूमत  - शब्द (shabd.in)

यूपी का वाराणसी भी देश की आजादी के लिए छिड़े स्वतंत्रता संग्राम का गवाह रह चुका है। वाराणसी के चौक थाने के बगल में दालमंडी के नाम से प्रसिद्ध गली आज बिजनस का बड़ा हब बन गई है, लेकिन कभी इसी गली में कोठे हुआ करते थे जहां से आने वाली तवायफों के घुंघरूओं की झनकार ने अंग्रेजी हुकूमत को हिला कर रख दिया था।

उस दौर में राजेश्‍वरी बाई, जद्दन बाई से लेकर रसूलन बाई तक के कोठों पर सजने वाली महफिलें म‍हज मनोरंजन का केंद्र ही नहीं होती थी। अंग्रेजों को देश से निकालने की रणनीति भी यहीं से तय होती थी।

'फुलगेंदवा न मारो, मैका लगत जोबनवा (करेजवा) में चोट...', जैसे गीत से मशहूर रसूलन बाई ने महात्मा गांधी के स्‍वदेशी आंदोलन के दौरान से ही आभूषण पहनना छोड़ दिया था। अपने प्रण के मुताबिक उन्‍होंने देश के आजाद होने के बाद ही विवाह किया था। आजाद भारत में रसूलन बाई को संगीत नाट्य अकादमी पुरस्‍कार से सम्‍मानित किया गया था।

जद्दन बाई को छोड़नी पड़ी दालमंडी
कला मर्मज्ञ रामशंकर उर्फ रामबाबा बताते हैं, 'आजादी के आंदोलन के दौर में दालमंडी ही नहीं, राज दरबार, रईसों की कोठियों के अलावा मंदिरों में भी जमने वाली संगीत की महफिलों में क्रांतिकारी इकट्ठा होते थे। ठुमरी गायिका राजेश्‍वरी बाई तो हर महफिल में खास बंदिश 'भारत कभी न बन सकेला गुलाम खाना...', गाना नहीं भूलती थीं।'

उन्होंने आगे बताया, 'मशहूर अभिनेत्री नर्गिस की मां और संजय दत्त की नानी जद्दन बाई के दालमंडी कोठे पर आजादी के दीवानों को शरण मिलती रही। अंग्रेजों ने कई बार उनके कोठे पर छापा मारा। प्रताड़ना से तंग आकर जद्दन बाई को दाल मंडी की गली तक छोड़नी पड़ी थी। इन सबके वावजूद म‍हफिल से मिलने वाले पैसों को तवायफें चुपके से क्रांतिकारियों को दे दिया करती थीं।'

दुलारी ने तो हेस्टिंग्‍स को खदेड़ा
वरिष्‍ठ पत्रकार अमिताभ भट्टाचार्य बताते हैं कि दालमंडी में कोठों पर क्रांति की कहानियां लिखने वाली तवायफों की सूची में दुलारी बाई का नाम सबसे ऊपर है। वारेन हेस्टिंग्‍स ने जब सेना के साथ वाराणसी में प्रवेश किया था, उस वक्‍त दुलारी घुंघरू उतार अपने खास नन्‍हकू को खोजने गलियों में दौड़ पड़ी थीं।

नन्‍हकू के मिलते ही दुलारी के मुंह से निकला, 'तिलंगो ने राजा साहब को घेर लिया है।' बस फिर क्‍या था। दुलारी की बातें सुन नन्‍हकू शिवाला घाट की ओर दौड़ पड़ा। कुछ समय बाद खबर आई कि उसने कई अंग्रेजों के सिर कलम कर दिए।

आजादी के तराने ही गाती रही
कजली गायिका सुंदरी अंग्रेज सेना के छक्‍के छुड़ा देने वाले अपने प्रेमी नागर को याद कर जिंदगी भर आजादी के तराने गाती रही। नागर को कालापानी की सजा होने पर सुंदरी का मानसिक संतुलन बिगड़ गया था। वह गंगा घाट की सीढ़ियों पर बैठ गाती रहती थी, 'सबकर नैया जाला कासी हो बिसेसर रामा, नागर नैया जाला कालेपनियां रे।'

तिरंगी बर्फी बनी हथियार
मन को भाने वाली वाराणसी की मिठाई भी जंग-ए-आजादी का इतिहास अपने में समेटे हुए है। महात्‍मा गांधी के नमक आंदोलन के दौर में पहली बार मशहूर राम भंडार में बनी तिरंगी बर्फी को जब लोग हाथों में लिए घूमते तो पता चल जाता था कि आजादी के दीवानों की फौज है। अंग्रेजों के दमन के बावजूद तिरंगी बर्फी घर-घर पहुंचने से तिरंगा फहर गया था।


https://navbharattimes.indiatimes.com/state/uttar-pradesh/varansi/independence-day-special-prostitutes-of-varanasi-also-contributes-in-freedom-fight/articleshow/65401700.cms

अगला लेख: नाले की गैस से चूल्हा जलाने वाले के पीएम मोदी हैं मुरीद, जानिए कौन है ये शख्स?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 अगस्त 2018
गोरखपुरउत्तर प्रदेश राज्य के पूर्वी भाग में नेपाल के साथ सीमा के पास स्थित भारत का एक प्रसिद्ध शहर है। यह गोरखपुर जिले का प्रशासनिक मुख्यालय भी है। यह एक धार्मिक केन्द्र के रूप में मशहूर है जो बौद्ध, हिन्दू, मुस्लिम, जैन और सिख सन्तों की साधनास्थली रहा। किन्तु मध्ययुगीन सर्वमान्य सन्त गोरखनाथ के बाद
14 अगस्त 2018
10 अगस्त 2018
मॉनसून का असर पूरे देश के साथ ओडिशा पर भी देखने को मिल रहा है। ओडिशा में पिछले कई दिनों से लगातार बारिश हो रही है। भारी बारिश के कारण सरकार मछुआरों के लिए समुद्र में न जाने की चेतावनी भी जारी कर चुकी है। बंगाल की खाड़ी के ऊपर कम दबाव का क्षेत्र बनने के कारण ओडिशा में तेज
10 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
नौकरी की तलाश कर रहे बेरोजगार युवाओं के लिए बड़ी खुशखबरी है।एयर इंडिया ने कई पदों पर भर्तियां निकाली हैं।एयर इंडिया ने अनुबंध के आधर पर सुरक्षा एजेंट के 63 रिक्त पदो पर भर्ती के लिए साक्षात्कार कार्यक्रम का आयोजन किया हैं। जिन उम्मीदवारो ने किसी मान्यता प्राप्त विश्वविध्यालय/संस्थान से स्नातक डिग्र
14 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
बोधगया – बौद्धों का पूजनीय स्थलअंतरराष्ट्रीय पर्यटन की नज़र से देखे तो बोधगया बिहार का सबसे सुप्रसिद्ध स्थान है। बिहार में यह इकलौती ऐसी जगह है जो विश्व धरोहर के दो स्थलों में से एक है। बौद्धों के लिए यह जगह बहुत ही पूजनीय है क्योंकि, इसी स्थान पर बोधि वृक्ष के नीचे बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति हुई थी।
14 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
देश के रहने लायक शहरों से जुड़े 'लिवेबिलिटी इंडेक्स' में पुणे पहले नंबर पर है। नवी मुंबई दूसरे और ग्रेटर मुंबई तीसरे स्थान पर है। इस मामले में नई दिल्ली का 65वां स्थान है। इस प्रतिस्पर्धा में कोलकाता ने भाग नहीं लिया। टॉप 10 में मध्य प्रदेश के 2 शहर भोपाल और इंदौर भी हैं
14 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में अपने एक भाषण में कहा था उन्हें इस बात ने काफी प्रेरणा दी कि एक शख्स नाले की गैस से चूल्हा जलाता है। बीते शुक्रवार को वर्ल्ड बायोफ्यूल डे के मौके पर पीएम मोदी ने कई प्रेरणादायक बाते करते हुए जनता से ये बात साझा की थी कि रायपुर में एक शख्स चाय की दुकान ऐसे ही चल
14 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
जोधपुर भारत के राज्य राजस्थान का दूसरा सबसे बड़ा नगर या ज़िला है। इसकी जनसंख्या १० लाख के पार हो जाने के बाद इसे राजस्थान का दूसरा "महानगर " घोषित कर दिया गया था। यह यहां के ऐतिहासिक रजवाड़े मारवाड़ की इसी नाम की राजधानी भी हुआ करता था। जोधपुर थार के रेगिस्तान के बीच अपने
14 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
लड़की : Activa क्यों ले रहे हो ? कोई स्टाइलिश सी bike लो नालड़का : वो क्या है ना नमकीन , पऊआ , सोडा लाने के लिए बाइक में डिक्की नहीं ना होती। …… तू ये सब पकड़ कर बैठेगी ?लड़की : Activa ले लो मैं भी चला लूंगी लड़का लड़की को अपनी कार में बिठा कर ले जा रहा था ,लड़की – हम कहाँ जा रहे है ?लड़का – लॉन्ग ड्राइव पे
14 अगस्त 2018
17 अगस्त 2018
भगवान ने इंसान बनाए, इंसानों ने जुगाड़ बनाया. पृथ्वी पर कोई अन्य जीव जुगाड़ू नहीं होता. अगर वो है भी, तो उस पर इंसानों की संगत के असर है. हमने जुगाड़ विधि में इतनी महारत हासिल कर ली है कि आने वाली नस्लें हम पर नाज़ करेंगी. . जुगाड़ की सबसे अच्छा बात होती है कि इसका कोई फ़
17 अगस्त 2018
31 जुलाई 2018
15:42 HRS IST वाराणसी, 31 जुलाई (भाषा) प्राचीन शहर वाराणसी में एक अनोखा ‘भारत माता मंदिर’ है जिसके संगमरमर पर अविभाजित भारत का नक्शा बना हुआ है। दुनियाभर के श्रद्धालुओं को आकर्षित करने वाले इस शहर में स्थित यह मंदिर अक्सर श्रद्धालुओं की नजर से बच जाता है लेकिन यह विदेशी पर्यटकों का एक पसंदीदा स्थल
31 जुलाई 2018
14 अगस्त 2018
गोरखपुरउत्तर प्रदेश राज्य के पूर्वी भाग में नेपाल के साथ सीमा के पास स्थित भारत का एक प्रसिद्ध शहर है। यह गोरखपुर जिले का प्रशासनिक मुख्यालय भी है। यह एक धार्मिक केन्द्र के रूप में मशहूर है जो बौद्ध, हिन्दू, मुस्लिम, जैन और सिख सन्तों की साधनास्थली रहा। किन्तु मध्ययुगीन सर्वमान्य सन्त गोरखनाथ के बाद
14 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x