सूर्यनगरी जोधपुर

14 अगस्त 2018   |  अखिलेश ठाकुर   (39 बार पढ़ा जा चुका है)

सूर्यनगरी जोधपुर - शब्द (shabd.in)

जोधपुर भारत के राज्य राजस्थान का दूसरा सबसे बड़ा नगर या ज़िला है। इसकी जनसंख्या १० लाख के पार हो जाने के बाद इसे राजस्थान का दूसरा "महानगर " घोषित कर दिया गया था। यह यहां के ऐतिहासिक रजवाड़े मारवाड़ की इसी नाम की राजधानी भी हुआ करता था। जोधपुर थार के रेगिस्तान के बीच अपने ढेरों शानदार महलों, दुर्गों और मन्दिरों वाला प्रसिद्ध पर्यटन स्थल भी है। जोधपुर को सूर्यनगरी (Suncity) तथा नीला शहर (Blue City) भी कहा जाता है।


गर्मियों का मौसम

मौसम में यहाँ गर्मियों के दिनों में काफी गर्मी रहती है साथ ही पूर्ण रूप से रेतीली भूमि के कारण गर्मियों के दिनों में दिन एवं रात में आँधियाँ चलती रहती है और धूल भी उड़ती रहती है। जून - जुलाई के महीने में काफी गर्मी एवं लू चलती है। यहाँ सबसे ज्यादा गर्मी फलोदी तहसील में पड़ती है।


बरसात का सीजन

गर्मियों के ततपश्चात जुलाई - अगस्त माह में बरसात का मौसम शुरू हो जाता है और सितम्बर महीने तक बरसात होती रहती है।


सर्दियों का मौसम

सर्दियों में भी काफी ठण्ड पड़ती है ,ठण्ड की शुरुआत यहाँ नवम्बर माह में हो जाती है और होली तक थोड़ी - थोड़ी ठण्ड रहती है।

जोधपुर में ग्रामीण क्षेत्र में लगभग शत प्रतिशत मारवाड़ी भाषा ही बोली जाती है जबकि शहरी क्षेत्र में हिन्दी और मारवाड़ी भाषा बोली जाती है तथा कुछ-कुछ अंग्रेजी भाषा का भी प्रभाव रहता है।

जोधपुर खाने के मामले में भी काफी प्रसिद्ध है जिसमें दाल - बाटी ,चूरमा ,दाल - करी और बाटी ,बाजरे की रोटी (सोगरा) ,गेहूँ की रोटी तथा बेसन के गट्टों की सब्जी काफी प्रसिद्ध है। यहाँ पर सूखी सब्जियां काफी होती है जैसे - सांगरी ,कुमटिया ,कैर इत्यादि ,लोग ज्यादातर ऐसी सूखी सब्जियां बनाते रहते है। मिर्ची बड़ा जो कि पूरे भारत जोधपुर का सबसे प्रसिद्ध है।

2lमेहरानगढ़ दुर्ग का एक दृश्य

जोधपुर दर्शनीय स्थलों के लिए काफी प्रसिद्ध है यहाँ मुख्य शहर में मेहरानगढ़ दुर्ग ,जसवंत थड़ा और उम्मैद पैलेस काफी लोकप्रिय है। मेहरानगढ़ दुर्ग पर कई बार फ़िल्मों की शूटिंग भी होती रहती है।

मेहरानगढ़ दुर्ग

मेहरानगढ़ दुर्ग पहाड़ी के बिल्‍कुल ऊपर बसे होने के कारण राजस्‍थान के सबसे खूबसूरत किलों में से एक है। इस किले के सौंदर्य को श्रृंखलाबद्ध रूप से बने द्वार और भी बढ़ाते हैं। इन्‍हीं द्वारों में से एक है जयपोल इसका निर्माण राजा मानसिंह ने १८०६ ईस्वी में किया था। दूसरे द्वार का नाम है-विजयद्वार इसका निर्माण राजा अजीत सिंह ने मुगलों पर विजय के उपलक्ष्‍य में किया था। किले के अंदर में भी पर्यटकों को देखने हेतु कई महत्‍वपूर्ण इमारतें हैं। जैसे मोती महल, सुख महल, फूलमहल आदि-आदि।

जसवंत थड़ा

जसवंत थड़ा जो पूरी तरह से संगमरमर से निर्मित है। इसका निर्माण १८९९ में महाराज सरदार सिंह ने अपने पिता राजा जसवंत सिंह (द्वितीय) और उनके सैनिकों की याद में किया गया था।

उम्मैद भवन पैलेस

महाराजा उम्‍मैद सिंह ने इस महल का निर्माण सन १९४३ में करवाया था। संगमरमर और बालूका पत्‍थर से बने इस महल का दृश्‍य पर्यटकों को खासतौर पर लुभाता है। इस महल के संग्रहालय में पुरातन युग की घड़ियाँ और चित्र भी संरक्षित हैं। यही एक ऐसा बीसवीं सदी का महल है जो बाढ़ राहत परियोजना के अंतर्गत निर्मित हुआ।

गिरडीकोट और सरदार मार्केट

छोटी छोटी दुकानों वाली, संकरी गलियों में छितरा रंगीन बाजार शहर के बीचों बीच है और हस्तशिल्प की विस्तृत किस्मों की वस्तुओं के लिए प्रसिद्ध है तथा खरीददारों का मनपस्द स्थल है।

राजकीय संग्राहलय

इस संग्राहलय में चित्रों, मूर्तियों व प्राचीन हथियारों का उत्कृष्ट समावेश है।

अरना झरना मरु संग्रहालय

अरना झरना मरु संग्रहालय एक मरु संग्रहालय है जो जोधपुर के मोकलावास गाँव के निकट स्थित है।

सच्चीयाय माता मन्दिर

जिले के ओसियां तहसील में सच्चीयाय माता का मन्दिर ,जैन मन्दिर तथा महावीर मन्दिर काफी पुराने मन्दिर है।

जोधपुर में सभी पर्वों को बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है, यहाँ का बेतमार मेला और कागा का शीतला माता मेला बहुत प्रसिद्ध है लोग दूर - दूर से ये मेला देखने आते है। राजस्थान के लोक देवता रामदेव पीर का मसुरिया मेला भी काफी प्रसिद्ध है।

मारवाड़ उत्सव

मारवाड़ उत्‍सव, नागौर का प्रसिद्ध पशु मेला और पीपाड़ का गंगुआर मेला। यह कुछ महत्‍वपूर्ण उत्‍सव है जो जोधपुर में बड़े ही धूम-धाम से मनाया जाते है। यहाँ पर सावन माह की बड़ी तीज और बेतमार मेला विश्व प्रसिद्ध है।

गणगौर पूजन

जोधपुर में गणगौर पूजन का भी विशेष महत्व है और इसी उत्सव पर पुराने शहर में गणगौर की झांकियां भी निकाली जाती हैं। धिंगा गवर इसके बाद आने वाला एक आयोजन है इस दिन महिलाऐं शहर के परकोटे में तरह तरह के स्वांग रच कर रात को बाहर निकलती हैं और पुरुषों को बैंत से मारती हैं अपने प्रकार का एक अनोखा त्योहार है।

जोधपुर पहुँचने के लिए परिवहन की अच्छी सुविधाएँ उपलब्ध है। यहाँ से लगभग सभी बड़े शहरों के लिए रेलगाड़ियाँ मिलती है। जोधपुर में कई रेलवे-स्टेशन है। इसका जोधपुर रेलवे स्टेशन उत्तर पश्चिम रेलवे (एनडब्ल्यूआर) का संभागीय मुख्यालय है। यह अलवर, अहमदाबाद, इंदौर, कानपुर, कोटा, कोलकाता, गुवाहाटी, चेन्नई, तिरुवनंतपुरम, दिल्ली, धनबाद, नागपुर, पटना, पुणे, बरेली, बैंगलोर, भोपाल, मुंबई, लखनऊ तथा हैदराबाद जैसे प्रमुख भारतीय शहरों से रेल के माध्यम से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है।

जोधपुर विमानक्षेत्र राजस्थान के प्रमुख विमानक्षेत्रों में से एक है। यह मुख्य रूप से नागरिक हवाई यातायात के लिए अनुमति देने के लिए एक नागरिक बाड़े के साथ एक सैन्य एयरबेस है। जोधपुर की राजनीतिक स्थिति के कारण, इस विमानक्षेत्र को भारतीय वायु सेना के लिए सबसे महत्वपूर्ण विमानक्षेत्र में से एक के रूप में माना जाता है।

वर्तमान में यहाँ एयर इंडिया और जेट एयरवेज और स्पाइसजेट द्वारा संचालित करने के लिए दिल्ली, मुंबई, उदयपुर, जयपुर, बैंगलोर और पुणे के लिए दैनिक उड़ानें भरती हैं।

जोधपुर राज्य के सड़क परिवहन में भी प्रमुख माना जाता है। यहाँ से दिल्ली, अहमदाबाद, सूरत, उज्जैन, आगरा ,मुम्बई ,पुणे तथा बैंगलोर आदि के अलावा डीलक्स और एक्सप्रेस बस सेवा से जैसे पड़ोसी राज्यों के लिए सड़क मार्ग से जुड़ा हुआ है। राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम दिल्ली के लिए वोल्वो और मर्सिडीज बेंज बस सेवा प्रदान करता है। जबकि अहमदाबाद, जयपुर, उदयपुर और जैसलमेर हाल ही में बस रैपिड ट्रांजिट सिस्टम (बीआरटीएस) लो फ्लोर और सेमी लो फ्लोर प्रमुख मार्गों पर चलने वाली बसों के साथ शहर में शुरू की है।

https://hi.wikivoyage.org/wiki/%E0%A4%9C%E0%A5%8B%E0%A4%A7%E0%A4%AA%E0%A5%81%E0%A4%B0

अगला लेख: कैंसर से जूझ रहीं सोनाली बेंद्रे की Pics Viral, याद में इमोशनल हुईं ऋतिक रोशन की एक्स-वाइफ



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 अगस्त 2018
प्लास्टिक बॉटल्स से भी अब लोगों का अपहरण हो रहा है। हाल ही में साउथ अफ्रीका की एक सिक्युरिटी एजेंसी ने ये चौंकाने वाला खुलासा किया है। एजेंसी ने बताया कि किस तरह एक खाली पानी की बॉटल को कार के टायर के ऊपर फंसाकर कार ड्राइवर को भ्रमित कर दिया जाता है और जैसे ही ड्राइवर कार
16 अगस्त 2018
09 अगस्त 2018
जो
18:39 HRS IST जोधपुर, नौ अगस्त (भाषा) जोधपुर सिविल एयरपोर्ट पर एक लड़ाकू विमान का टायर फट जाने के कारण हवाईअड्डा आज तकरीबन एक घंटा के लिये बाधित रहा। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। हालांकि विमान में किसी अन्य नुकसान की रिपोर्ट नहीं की गयी है, लेकिन कुछ हद तक रनवे क्षतिग्रस्त हो गया। रक्षा प्रवक्ता क
09 अगस्त 2018
02 अगस्त 2018
चाहे ट्विटर हो या इंस्‍टाग्राम, इन दिनों आपको सोशल मीडिया पर कार का गेट खोल उसके साथ-साथ नाचते हुए कई लोग दिख जाएंगें. यह हरकत करते सिर्फ आम लोग ही नहीं, बल्कि कई सेलीब्रिटीज भी आपको नजर आ जाएंगे. अगर आप नहीं समझ पा रहे कि आखिर लोग ऐसा क्‍यों कर रहे हैं तो हम बात दें कि दरअसल इस सब के पीछे है किकी
02 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
Momo Challenge: खतरनाक ब्लू व्हेल के बाद अब इंटरनेट पर ‘Momo’ चैलेंज बच्चों के लिए घातक साबित हो रहा है। ‘Momo’ एक सोशल मीडिया अकाउंट है जो फेसबुक, व्हाट्सएप, और यू-ट्यूब पर मौजूद है। जानकारी के मुताबिक इस अकाउंट के जरिए बच्चों को हिंसक तस्
14 अगस्त 2018
17 अगस्त 2018
पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का गुरुवार को दिल्ली एम्स में निधन हो गया. वह 94 साल के थे. अटल का दुनिया से जाना एक अपूर्णनीय क्षति है. उन्होंने अविवाहित रहकर देश की सेवा की और अपना पूरा जीवन देश के लिए जिया. ऐसे में सवाल उठता है कि अटल के जाने के बाद उनके परिवार म
17 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
राजस्थान भारत का क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे बड़ा राज्य है जो भारत के उत्तर-पश्चिम हिस्से में स्तिथ है| राजस्थान का इतिहास काफी समृद्ध रहा है और यहाँ प्राचीन काल से लेकर अब तक बहुत सारी सभ्यताएं फली-फूली हैं और नष्ट भी हुयी है| यहाँ निम्न पूरा-पाषाण युग, कांस्य युगीन सिधु
14 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
बोधगया – बौद्धों का पूजनीय स्थलअंतरराष्ट्रीय पर्यटन की नज़र से देखे तो बोधगया बिहार का सबसे सुप्रसिद्ध स्थान है। बिहार में यह इकलौती ऐसी जगह है जो विश्व धरोहर के दो स्थलों में से एक है। बौद्धों के लिए यह जगह बहुत ही पूजनीय है क्योंकि, इसी स्थान पर बोधि वृक्ष के नीचे बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति हुई थी।
14 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
गोरखपुरउत्तर प्रदेश राज्य के पूर्वी भाग में नेपाल के साथ सीमा के पास स्थित भारत का एक प्रसिद्ध शहर है। यह गोरखपुर जिले का प्रशासनिक मुख्यालय भी है। यह एक धार्मिक केन्द्र के रूप में मशहूर है जो बौद्ध, हिन्दू, मुस्लिम, जैन और सिख सन्तों की साधनास्थली रहा। किन्तु मध्ययुगीन सर्वमान्य सन्त गोरखनाथ के बाद
14 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
यूपी का वाराणसी भी देश की आजादी के लिए छिड़े स्वतंत्रता संग्राम का गवाह रह चुका है। वाराणसी के चौक थाने के बगल में दालमंडी के नाम से प्रसिद्ध गली आज बिजनस का बड़ा हब बन गई है, लेकिन कभी इसी गली में कोठे हुआ करते थे जहां से आने वाली तवायफों के घुंघरूओं की झनकार ने अंग्रेजी
14 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
तीन चीजें एक शहर का निर्माण करती हैं - दरिया, बादल, बादशाह. इसे इस प्रकार कह सकते हैं एक नदी, वर्षा-बादल लाने वाली और एक सम्राट (जो अपनी इच्छाएं लागू कर सकता है)। पुरानी कहावत"हम दिल्ली शहर में हैं, जो प्राचीन और नए भारत का प्रतीक है। यह पुरानी दिल्ली की तंग गलियों और मकानों तथा नई दिल्ली के खुली जग
14 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
बोधगया – बौद्धों का पूजनीय स्थलअंतरराष्ट्रीय पर्यटन की नज़र से देखे तो बोधगया बिहार का सबसे सुप्रसिद्ध स्थान है। बिहार में यह इकलौती ऐसी जगह है जो विश्व धरोहर के दो स्थलों में से एक है। बौद्धों के लिए यह जगह बहुत ही पूजनीय है क्योंकि, इसी स्थान पर बोधि वृक्ष के नीचे बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति हुई थी।
14 अगस्त 2018
02 अगस्त 2018
आधा से जादा YouTube Views Mobile Device से आता है.महिला (Female) User 38 % और पुरुष (Male) User 62 % है.इसकी शुरुआत Dating Website के रूप में की गई थी !यह अभी 39 देशों में 76 भाषाओं के साथ उपलब्ध है.औसतन प्रतिदिन Mobile YouTube Views 1,000,000,000Most Viewed YouTube Video Despacito 3 अरब 92 करोड़ 10
02 अगस्त 2018
10 अगस्त 2018
फिल्म इंडस्ट्री में अपनी फिटनेस और लग्जरी लाइफस्टाइल के लिए मशहूर सुनील शेट्टी लंबे समय से लाइमलाइट से दूर हैं । अब उनकी बेटी अथिया और बेटा अहान बॉलीवुड में एंट्री करने जा रहे हैं । सुनील ने अपने करियर में 110 फिल्मों में काम किया है । उनके फिल्मी करियर में तो कई उतार चढ़
10 अगस्त 2018
17 अगस्त 2018
फेसबुक पर इन दिनों एक पोस्ट खूब वायरल हो रही है। इस पोस्ट में लिखे फोटो कैप्शन में अंग्रेजी की कुछ इस कदर धज्जियां उड़ाई गई हैं कि पढ़ने वाला हंसते-हंसते लोट-पोट हो जाएगा। इस तस्वीर को पोस्ट करते समय लिखा गया "शी इज माई न्यू पांव"इस तस्वीर को पोस्ट करते समय लिखा गया- वेटि
17 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
यूपी का वाराणसी भी देश की आजादी के लिए छिड़े स्वतंत्रता संग्राम का गवाह रह चुका है। वाराणसी के चौक थाने के बगल में दालमंडी के नाम से प्रसिद्ध गली आज बिजनस का बड़ा हब बन गई है, लेकिन कभी इसी गली में कोठे हुआ करते थे जहां से आने वाली तवायफों के घुंघरूओं की झनकार ने अंग्रेजी
14 अगस्त 2018
07 अगस्त 2018
ना
20:22 HRS IST जोधपुर, सात अगस्त (भाषा) राजस्थान के जोधपुर में विशेष पोस्को अदालत ने एक नाबालिग लड़की से बलात्कार के बाद हत्या के जुर्म में दो व्यक्तियों को मौत की सजा सुनाई है। विशेष न्यायाधीश वमीता सिंह ने घेवर सिंह और श्रवण सिंह को नाबालिग लड़की से बलात्कार और फिर उसकी हत्या का दोषी ठहराया। न्याय
07 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
14 अगस्त 2018
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x