मदुरई

14 अगस्त 2018   |  रवि मेहता   (55 बार पढ़ा जा चुका है)

मदुरई  - शब्द (shabd.in)

मदुरई दक्षिण भारतीय राज्य तमिलनाडु का दूसरा सबसे बड़ा शहर है। वैगई नदी के किनारे स्थित मंदिरों का यह शहर सबसे पुराने बसे हुए शहरों में से एक है। शहर के उत्तर में सिरुमलाई पहाड़ियां स्थित हैं तथा दक्षिण में नागामलाई पहाड़ियां स्थित हैं। मदुरई का नाम “मधुरा” शब्द से पड़ा जिसका अर्थ है मिठास। कहा जाता है कि यह मिठास दिव्य अमृत से उत्पन्न हुई थी तथा भगवान शिव ने इस अमृत की इस शहर पर वर्षा की थी।


मदुरई को अन्य कई नामों से भी जाना जाता है जैसे “चार जंक्शनों का शहर”, “पूर्व का एथेंस”, “लोटस सिटी” और “स्लीपलेस ब्यूटी”। इनमें से प्रत्येक नाम शहर की विशेषता को प्रदर्शित करता है। इस शहर को लोटस सिटी कहा जाता है क्योंकि यह शहर कमल के आकार में बना हुआ है। इस शहर को “स्लीपलेस ब्यूटी” भी कहा जाता है क्योंकि इस शहर में 24X7 काम करने की संस्कृति है। इस शहर में कई रेस्टारेंट हैं जो लगभग 24 घंटे चलते हैं तथा यहाँ रात में भी परिवहन की सुविधा उपलब्ध रहती है। मदुरई में क्या करें – मदुरई में तथा इसके आसपास आकर्षण मदुरई शहर विभिन्न धर्मों और संस्कृतियों की उपस्थिति के लिए जाना जाता है।


विभिन्न धर्मों के अवशेष इसे महत्वपूर्ण तीर्थ स्थान बनाते हैं। मीनाक्षी सुंदरेश्वर मंदिर, गोरिपलायम दरगाह और सेंट मेरीज़ कैथेड्रल यहाँ के प्रमुख प्रसिद्ध धार्मिक स्थान है। गाँधी म्यूज़ियम (संग्रहालय), कूडल अल्ज़गर मंदिर, कज़ीमार मस्जिद, तिरुमलाई नयक्कर पैलेस, वंदीयुर मारियाम्मन तेप्पाकुलम, तिरुपरंकुन्द्रम, पज्हामुदिरचोलाई, अलगर कोविल, वैगई बाँध और अथिसायम थीम पार्क की सैर अवश्य करनी चाहिए। मदुरई का सबसे महत्वपूर्ण त्योहार चिथिरई त्योहार है जो अप्रैल और मई के महीने में मनाया जाता है। यह त्योहार मीनाक्षी मंदिर में मनाया जाता है तथा इस दौरान यहाँ हजारों की संख्या में भक्त आते हैं। इस त्योहार में कई अनुष्ठान किये जाते हैं जिसमें देवी का राज्याभिषेक, रथ उत्सव तथा देवताओं का विवाह शामिल हैं। इस उत्सव की समाप्ति भगवान विष्णु के अवतार भगवान कल्लाज्हगा को मंदिर में वापस लाने से होती हैं।


थेप्पोरचवं त्योहार जनवरी और फरवरी के महीने में मनाया जाता है तथा सितंबर में मनाया जाने वाला त्योहार अवनिमूलम मदुरई में मनाये जाने वाले प्रमुख त्योहारों में से एक है। जल्लीकट्टू एक प्रसिद्ध ऐतिहासिक खेल है जो मदुरई में मनाये जाने वाले पोंगल त्योहार का एक भाग है तथा यह त्योहार हजारों पर्यटकों को मदुरई की ओर आकर्षित करता है। सिल्क की साड़ियों, लकड़ी की नक्काशी से बनी वस्तुओं, खादी कॉटन तथा मूर्तियों की शॉपिंग के बिना मदुरई की सैर अधूरी है। इतिहास की एक झलक मदुरई का इतिहास ईसा पूर्व 1780 का है जब शहर में तमिल संगम आयोजित किये जाते थे। मैग्स्थ्नीज़ तथा अर्थशास्त्री कौटिल्य के अनेक उत्कृष्ट कार्यों में इस शहर का उल्लेख मिलता है। 6 वीं शताब्दी तक इस शहर पर कालाभरस ने शासन किया।


कालाभरस के पश्चात इस शहर ने कई राजवंशों का उत्थान और पतन देखा जैसे पूर्व पांड्य, पश्चात पांड्य, मध्यकालीन चोल, मदुरई सल्तनत, मदुरई नायक्स, चंदा साहिब, विजयनगर साम्राज्य, कर्नाटिक राज और ब्रिटिश राज। यह शहर 1981 में मद्रास प्रेसीडेंसी के के एक भाग के रूप में ब्रिटिश लोगों के अधीन आया। भारत के स्वतंत्रता आंदोलन में इस शहर ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। विभिन्न नेता जैसे एनएमआर सुब्रमण, मीर इब्राहीम साहिब तथा मोहम्मद इस्माईल साहिब मदुरई शहर में रहते थे। वास्तव में इस शहर के खेतिहर मजदूरों ने ही महात्मा गांधी को पतलून त्यागने तथा धोती पहनने के लिए प्रेरित किया था। मदुरई कैसे पहुंचे मदुरई का परिवहन तंत्र देश के अन्य भागों से अच्छी तरह से जुड़ा है। मदुरई हवाई अड्डा विभिन्न शहरों जैसे दिल्ली, चेन्नई, मुंबई और बैंगलोर से जुड़ा हुआ है। चेन्नई निकटतम अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा है। मदुरई रेलवे नेटवर्क विभिन्न शहरों जैसे मुंबई, कोलकाता, मैसूर, कोयंबटूर और चेन्नई से जुड़ा हुआ है।


मदुरई से विभिन्न शहरों जैसे चेन्नई, बैंगलोर, कोयंबटूर, त्रिवेंद्रम आदि शहरों के लिए बस सुविधा भी उपलब्ध है। मदुरई का मौसम मदुरई का मौसम सूखा और गर्म होता है। हालांकि अक्टूबर से मार्च के महीनों के बीच इस स्थान की सैर करना उचित होता है। इस दौरान मौसम ठंडा और खुशनुमा होता है तथा पर्यटन के लिए उचित होता है। इस समय यहाँ की यात्रा आनंददायक होती है तथा इस दौरान आप यहाँ के मंदिरों तथा दृश्यों का आनंद उठा सकते हैं।


अगला लेख: ठेले वाले पानी के सारे 572 सैंपल फेल, बर्फ वहां पर रखते हैं जहां लोगों ने सूसू की हो



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 अगस्त 2018
प्रसार भारती (PB) ने लाइब्रेरियन इन्फॉर्मेशन असिस्टेंट पदों के लिए वैकेंसी निकाली है। आवेदन करने के लिए योग्य उम्मीदवारों की अधिकतम आयु 35 वर्ष निर्धारित की है। आपको बता दें कि उम्मीदवारों का चयन संस्थान के द्वारा तय की गए नियमों के आधार पर किया जाएगा। उम्मीदवार अपना आवे
14 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
बोधगया – बौद्धों का पूजनीय स्थलअंतरराष्ट्रीय पर्यटन की नज़र से देखे तो बोधगया बिहार का सबसे सुप्रसिद्ध स्थान है। बिहार में यह इकलौती ऐसी जगह है जो विश्व धरोहर के दो स्थलों में से एक है। बौद्धों के लिए यह जगह बहुत ही पूजनीय है क्योंकि, इसी स्थान पर बोधि वृक्ष के नीचे बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति हुई थी।
14 अगस्त 2018
02 अगस्त 2018
नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर में राज्यपाल शासन लागू होने के बाद अब अलगाववादियों पर कार्रवाई तेज हो गई है। जम्मू एवं कश्मीर लिबरेशन फ्रंट के नेता यासिन मलिक को गुरुवार को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। यासिन मलिक ने कश्मीर घाटी में बंद का आह्वान किया था।बता दें अलगाववादि नेता सैय
02 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
गोरखपुरउत्तर प्रदेश राज्य के पूर्वी भाग में नेपाल के साथ सीमा के पास स्थित भारत का एक प्रसिद्ध शहर है। यह गोरखपुर जिले का प्रशासनिक मुख्यालय भी है। यह एक धार्मिक केन्द्र के रूप में मशहूर है जो बौद्ध, हिन्दू, मुस्लिम, जैन और सिख सन्तों की साधनास्थली रहा। किन्तु मध्ययुगीन सर्वमान्य सन्त गोरखनाथ के बाद
14 अगस्त 2018
01 अगस्त 2018
बॉलीवुड की ट्रेजेडी क्वीन के रूप में पहचाने जाने वाली मीना कुमारी को दुनिया से गए आज 44 साल हो गए हैं। मीना कुमारी की मौत 31 मार्च 1972 में एक बीमारी के चलते हुई थी। मीना कुमारी की जिंदगी बहुत उतार-चढ़ाव भरी रही। आज हम बताने जा रहे हैं आपको मीना कुमारी की जिंदगी से जुड़ी
01 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
तीन चीजें एक शहर का निर्माण करती हैं - दरिया, बादल, बादशाह. इसे इस प्रकार कह सकते हैं एक नदी, वर्षा-बादल लाने वाली और एक सम्राट (जो अपनी इच्छाएं लागू कर सकता है)। पुरानी कहावत"हम दिल्ली शहर में हैं, जो प्राचीन और नए भारत का प्रतीक है। यह पुरानी दिल्ली की तंग गलियों और मकानों तथा नई दिल्ली के खुली जग
14 अगस्त 2018
10 अगस्त 2018
11 मार्च 1942. फागुन का मौसम था. शाम के 8 बज रहे थे. दूसरे विश्वयुद्ध का दौर था. इंडिया में इससे जुड़ी हर खबर आतंकित करती थी और रोमांचित भी. लोग रेडियो सुना करते थे. बीबीसी लंदन से प्रसारित खबरें. कहां क्या हुआ. क्या किया हिटलर ने, क्या किया अंग्रेजों ने.रेडियो प्रसारक ने
10 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
यूपी का वाराणसी भी देश की आजादी के लिए छिड़े स्वतंत्रता संग्राम का गवाह रह चुका है। वाराणसी के चौक थाने के बगल में दालमंडी के नाम से प्रसिद्ध गली आज बिजनस का बड़ा हब बन गई है, लेकिन कभी इसी गली में कोठे हुआ करते थे जहां से आने वाली तवायफों के घुंघरूओं की झनकार ने अंग्रेजी
14 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
दुकानदार : कैसा सूट दिखाऊँ ?महिला : पड़ोसन तड़प – तड़प कर दम तोड़ दे ऐसा ……कुछ तो पढ़ी लिखी होगी गर्मी …. वरना इतनी डिग्रीयाँ लेकर कौन घूमता है ? खून में तेरे गर्मी , गर्मी में तेरा खून …. ऊपर सूरज निचे धरती बीच में May aur june हे भगवान् सोनू निगम : सुबह -सुबह मेरी नींद आज़ान से खुलती हैपाकिस्तानी : खुश
14 अगस्त 2018
10 अगस्त 2018
आज़ादी से पहले भारत का अपना कोई एक स्थिर झंडा नहीं था. उस दौर में क्रांतिकारी अपने मुताबिक़ समय-समय पर अलग-अलग झंडा फ़हराया करते थे. 15 अगस्त 1947 को पहली बार आज़ाद भारत ने अपना तिरंगा फ़हराया था. 22 जुलाई 1947 को हुई Constituent Assembly की मीटिंग में पहली बार तिरंगे को भारत का झंडा बनाने का प्रस्ताव रख
10 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
1. लक्ष्मी नाराज हो गयी — और चली गयी स्विट्जरलैंड के बैंक में ।सरस्वती माता नाराज होकर चली गयी जापान , इसिलए वहां के बच्चे ज्यादा बुद्धिमान होते है ।माँ अन्नपूर्णा चली गयी , अमेरिका वहां के लोग अब अच्छी सेहत वाले होते है ।बजरंग बली चले गये , यूरोप इसिलए वहां के लोग WWF के पहलवान हो गये ।कुबेर चले ग
14 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
गोरखपुरउत्तर प्रदेश राज्य के पूर्वी भाग में नेपाल के साथ सीमा के पास स्थित भारत का एक प्रसिद्ध शहर है। यह गोरखपुर जिले का प्रशासनिक मुख्यालय भी है। यह एक धार्मिक केन्द्र के रूप में मशहूर है जो बौद्ध, हिन्दू, मुस्लिम, जैन और सिख सन्तों की साधनास्थली रहा। किन्तु मध्ययुगीन सर्वमान्य सन्त गोरखनाथ के बाद
14 अगस्त 2018
13 अगस्त 2018
1947 का गदर वो खौफनाक मंजर था, जिसे भूलना भी चाहो तो मुमकिन नहीं। 72वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर जानिए उस शख्स के बारे में जो पाकिस्तान से कटी लाशों से भरी ट्रेन लेकर आया था।स्वतंत्रता दिवस के मौके पर बुजुर्ग बाल कृष्ण गुप्ता व सोहन सिंह
13 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x