2019 कांवड़ यात्रा : हरिद्वार से करीब 1.5 करोड़ कांवड़ियों का उठ रहा सैलाब

25 जुलाई 2019   |  सौरभ श्रीवास्तव   (79 बार पढ़ा जा चुका है)

2019 कांवड़ यात्रा : हरिद्वार से करीब 1.5 करोड़ कांवड़ियों का उठ रहा सैलाब

हरिद्वार में कांवड़ियों का बड़ा सैलाब:-

हर साल की तरह इस बार भी श्रावण महिने में भगवान शिव शंकर, महादेव के नाम पर हर-हर महादेव, बोल बम, बम-बम और जय शिव शंकर के जयकारों से पूरे देश में शिव जी की भक्ति का मस्त माहौल बना हुआ है। इस महिने श्रावण में पंचक काल खत्म होने के बाद कांवड़ियों द्वारा जल भरने और शिवालयों की तरफ लौटने का कार्यक्रम तेजी से चालू हो गया है। आने वाले दिनों में भगवान शिव के भक्तों की संख्या लगातार बढ़ती ही जायेगी। भगवान शिव की भक्ति के इस माहौल को ध्यान में रखते हुए पुलिस-प्रशासन को पूरी तरह से चौकन्ना कर दिया गया है। हमारे श्रोतों से मिली जानकारी के अनुसार गुरुवार को सुबह करीब 10 बजे के आस-पास 1.4 करोड़ कांवड़ियों द्वारा हरिद्वार से गंगाजल उठाया गया। वहीं कांवड़ियों की कड़ी सुरक्षा व व्यवस्था के लिए Haridwar administration ने शुक्रवार से राजधानी दिल्ली से देहरादून हाइवे NH 58 को पूरी तरह से बन्द करने की तैयारी कर दी गयी है और मुजफ्फरनगर क्षेत्र की सीमा में भी भारी संख्या में कांवड़िए पहुंचने लगे हैं।


HARIDWAR

और वहीं सहारनपुर क्षेत्र में कांवड़ियों रास्ते पर पड़ने वाला अंबाला Highway के पास स्थित शाहजहांपुर क्षेत्र के पुलिस चेक पोस्ट से लेकर देहरादून रोड के पास गागलहेड़ी तिराहे पर इन दिनों भगवान शिव की भक्ति का माहौल बना हुआ है। हर जगह कांवड़ियों के लिए शिविर लगाए गये हैं और अपने कांवड़ के साथ गंगाजल लेकर कांवड़िए भगवान शिव के दर्शन की ओर बढ़ रहे हैं।

बहुत ही भीषड़ उमस और गर्मी होने के बावजूद भी कांवड़िए भगवान शिव के दर्शन के लिए तेजी से भारी संख्या में आगे बढ़ रहे हैं, इसका मुख्य कारण यह भी है कि अभी तक तो पंचक काल लगा हुआ था तो दर्शन के लिए जाने वाले कांविड़यों की संख्या कम थी। ऐसा हिंदू धर्म के अनुसार कांवड़ियों का मानना है कि पंचक काल में जल भरना शुभ नहीं होता। दोपहर बुधवार को करीब 4 बजे पंचक काल खत्म हुआ और इसके बाद कांवड़ियों द्वारा गंगाजल भरने का कार्यक्रम तेजी से शुरू हो गया। लेकिन ऐसा ज्यादा दिनों तक नहीं होगा क्योंकि जैसे- जैसे सावन के दिन कम होंगे वैसे-वैसे कांवड़ियों की संख्या कम होने लगेगी। ऐसा अनुमान इसलिए है कि जिन कांवड़ियों ने पंचक काल के बाद जल भरा है, वो मात्र 2 दिनों में जल लेकर लौटेंगे। वैसे अभी तो इन दिनों कांवड़ियों की बढ़ती संख्या के कारण Police Administration को काफी अलर्ट कर दिया गया है।


HARIDWAR

जगह-जगह से हरिद्वार और ऋषिकेश के लिए रवाना हो रहे शिवभक्त:-

जैसा अभी तक देखा जा रहा है कि कांवड़ के मार्ग पर जम्मू-कश्मीर हरियाणा, हिमाचल, पंजाब व राजस्थान जैसे क्षेत्रों की तरफ से कांवड़िए दर्शन के लिए जाते हुए नजर आ रहे थे, लेकिन अब शिवरात्रि की तिथि जैसे-जैसे नजदीक आ रही है, वैसे-वैसे शिवभक्त आसपास के जिलों से भी जल लेने के लिए हरिद्वार और ऋषिकेश के लिए रवाना होते दिखाई देने लगे हैं। इसका एक मुख्य कारण यह भी है कि पंचक काल भी खत्म हो चुका है जिससे कांवड़ियों की संख्या बहुत बढ़ गयी है। इस प्रकार से अनेक आस पास के क्षेत्रों सी तरफ से बुधवार को बड़ी संख्या में कांवड़िये जल लेने के लिए जाते हुए कांवड़िए नजर आये।


जगमगाते हुए मार्ग पर कांवड़ियों की जमकर हो रही सेवा:-

कांवड़ मार्ग को तरह-तरह की लाइटों से सजा दिया गया है औऱ लगभग हर जगह पर कांवड़ियों के लिए कांवड़ शिविर लगे हुए हैं। शिविर में भक्तों की सेवा करने वाले दिन-रात शिवभक्तों की सेवा कर रहे हैं। कांवड़ियों के लिए पर्याप्त भोजन, नहाने-धोने व सोने के लिए विशेष व्यवस्था का इंजजाम किया गया है। इसके साथ ही शिविरों में लगे हुए DJ SOUNDS पर भगवान शिव के मंत्रमुग्ध कर देने वाले Bhakti Songs चल रहे हैं और पूरा का पूरा भक्तिमय माहौल बना हुआ है।


अगला लेख: "Mission Mangal Film 2019 " पर बन रहे जोक्स के चर्चे...



anubhav
26 जुलाई 2019

श्रावण मास में कांवड़ों का मेला लगना आम बात है और इसपर अच्छी जानकारी दी सौरभ जी आपने, धन्यवाद

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
26 जुलाई 2019
कारगिल युद्ध का इतिहास : कार्गिल विजय दिवस की जीत के 20 साल पूरे हो चुके हैं। यह युद्ध भारत और पाकिस्तान के बीच लड़ा गया था। भारती सैनिकों ने इस युद्ध में जीत हासिल करने के लिए पूरी एड़ी चोंटी का बल लगा
26 जुलाई 2019
24 जुलाई 2019
कारगिल युद्ध के पीछे का इतिहास का है सारा मामला- कारगिल युद्ध का विजय दिवस प्रतिवर्ष 26 जुलाई को मनाया जाता है। कारगिल का युद्ध भारत और पाकिस्तान के बीच सन् 1999 में हुआ था। यह कारगिल का युद्ध करीब 3 महीनों तक चला जिसे Operation Vijay के नाम से आज भी लोग जानते हैं। इस युद्ध में भारतीय सेनाओं के
24 जुलाई 2019
22 जुलाई 2019
आजाद भारत को देखने के लिए ना सिर्फ महात्मा गांधी, जवाहरलाल नेहरू या कई स्वतंत्रता सेनानियों का सपना था बल्कि
22 जुलाई 2019
23 जुलाई 2019
अक्षय कुमार की 'Mission Mangal Film' पर बन रहे Memes-Akshay Kumar की आने वाली फिल्म 'मिशन मंगल 15 अगस्त 2019 को रिलीज करने की तैयारी की जा रही है। Mission Mangal Film Trailor रिलीज हो चुका है और दर्शकों को काफी इंटरटेन भी किया है। फ
23 जुलाई 2019
23 जुलाई 2019
भगवान श्री शिवशंकर की अराधना में महामृत्युंजय जाप एककाफी पवित्र मंत्र माना जाता है जिसे हमारे बुजुर्गों द्वारा प्राण रक्षक मंत्रकहा जाता है। इस मंत्र की उत्पत्ति सबसे पहले महाऋषि मार्कंडय जी ने की। Mahmrityunjay Mantra का जाप करनेसे शिव जी को प्रसन्न करने की शक्ति मिलती है। Mahamrityunjay Mantra in
23 जुलाई 2019
25 जुलाई 2019
साल 2019 में 16 जुलाई से श्रावण मास की शुरुआत हुई और ये 15 अगस्त तक बना रहेगा। इस दौरान लोक शिव वंदना करते हैं और उनकी पूजा करने के दौरान Shiv Chalisa और शिव आरती करने के बाद भी शिवजी की पूजा पूरी की जाती है। शिव जी के माध्यम से भक्त अप
25 जुलाई 2019
24 जुलाई 2019
करीब 32 साल बाद कैसे दिखते हैं, ये किरदार? रामानंद सागर जी को आप चाहे Pruducer या Director कह लिजिए वैसे तो इनको विशेष रूप से रामायण फिल्म के लिए जाना जाता है। सन् 1986- 1988 के बीच एक धारावाहिक का काफी तेज प्रचलन था और इस Ramayana Ser
24 जुलाई 2019
05 अगस्त 2019
भारत देश में आपको जितने मंदिर देखने को मिलेंगे उतने शायद ही किसी दूसरी जगह होंगे. यहाँ भगवान को लेकर लोगो की आस्था काफी बड़ी हैं. दिलचस्प बात ये हैं कि जितने भी मंदिर बने हैं उन सभी की अपनी एक खासियत होती हैं. उनके पीछे कोई ना कोई चमत्कार या कहानी होती हैं. समय के साथ साथ
05 अगस्त 2019
24 जुलाई 2019
24 जुलाई 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x