उम्र भर सफ़र में रहा - डॉ दिनेश शर्मा

03 फरवरी 2020   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (385 बार पढ़ा जा चुका है)

उम्र भर सफ़र में रहा - डॉ दिनेश शर्मा

डॉ दिनेश शर्मा के साथ निकलते हैं आज फिर एक नए सफ़र पर...

उम्र भर सफर में रहा : दिनेश डॉक्टर

अगली सुबह मार्ग्रेट का, जो मुझे साल्जबर्ग के किले से उतरते वक़्त टकराई थी और जिसने मुझे वियना की घूमने वाली जगहों की लिस्ट बना कर दी थी, फोन आ गया | जब मैंने बताया की मैं वियना में ही हूँ तो बहुत खुश हुई और दोपहर को लंच पर मिलने का प्रस्ताव दिया | मैं बहुत भाग्यशाली हूँ कि मुझे अपनी सारी विदेश यात्राओं में सब देशों के स्थानीय लोगों का बहुत स्नेह सम्मान मिला है | पिछले छत्तीस बरसों में अड़तालीस से ऊपर देशों की यात्राएं कर रहा हूँ , सैंकड़ों विदेशी शहरों में घूम चुका हूँ, हज़ारों विदेशियों से मिल चुका हूँ , उनके घरों में ठहर चुका हूँ पर आज तक एक भी बुरा अनुभव नहीं हुआ | उनके प्रेम और सौहार्द ने बार बार मुझे अंदर तक छुआ है और अभिभूत किया है |

उसी दिन दोपहर तय समय और स्थान पर जब मार्ग्रेट को मिलने पहुंचा तो स्थानों के मिलते जुलते नामों की वजह से थोड़ी ग़लतफ़हमी हो गयी | मैं उसे कहीं और ढूंढ रहा था और वो कहीं और थी | खैर फाइनली बीस मिनट देर से जब हम मिले तो एक दूसरे को देख कर मोबाइल फोन्स टेक्नॉलजी का, जिसकी वजह से हम एक दूसरे को ढूंढ पाए, शुक्रिया अदा करते हुए हंसने लगे | मार्ग्रेट मुझे अपने आफिस ले गयी और वहीं आफिस कैंटीन में बैठ कर लंच किया | बात बात में जब उसने बताया कि उसका मंगेतर मार्टिन मुझे दो दिन बाद डिनर पर इनवाइट करना चाहता है तो बड़ा सुखद आश्चर्य हुआ | मार्ग्रेट ने मार्टिन से फोन पर बात करवाई और डिनर तय हो गया | सदा मुस्कराते हुए हैंडसम और सौम्य मार्टिन से डिनर पर मिलकर बहुत अच्छा लगा | भावुक लमहों में विदा लेते वक़्त मैंने दोनों को भारत यात्रा का निमंत्रण दिया और वादा लिया कि मुझे भी उनकी आवभगत करने का मौका मिलेगा |

अगले सात दिनों में विएना में इतने म्यूजियम देखे, इतने पुराने किले और तकनीकी रूप से इतनी पुरानी पर उत्कृष्ट इमारते देखी और इतना घूमा देखा कि एक पूरी किताब उस पर आराम से लिखी जा सकती है| दुनिया भर के बहुत सारे म्यूजियम देख चुका हूँ और अब और नए म्यूजियम देखने में कुछ नया नज़र न आने की वजह से ऊब सी हो जाती है | प्रकृति और प्राकृतिक सौंदर्य जितना भी देख लूँ , मन ही नहीं भरता |

एक बड़ी खास बात जो महसूस की वो ये कि ऑस्ट्रियन लोग स्वभाव से बहुत बिंदास, खुले दिल के और गर्मजोश होते हैं | संगीत और नृत्य के बहुत प्रेमी होते हैं | जम कर खाते पीते है और स्वास्थ्य के प्रति भी बहुत सजग रहते हैं | मैं स्विस और नॉर्वेजियन लोगो के बारे में ऐसा नहीं कह सकता जो ज्यादातर स्वभाव से शुष्क और ठंडे होते है और जल्दी से आप से घुलते मिलते नहीं हैं | दरअसल पूरे पूर्वी यूरोप की, चाहे वो हंगरी हो या चेकोस्लोवाकिया, पोलैंड हो या क्रोएशिया - बात ही कुछ और है | हो सकता है मैं ग़लत होऊं पर मुझे लगता है कि मौसम का असर लोगों के स्वभाव पर पड़ता है | जिन जगहों में हमेशा बर्फ पड़ी रहती है और सूरज सिर्फ चार छह महीने ही ठीक से दिखता है वहां के लोगो के स्वभाव में एक सर्द एकाकी पन और डिप्रेशन जैसा कुछ उतर जाता है |

सात दिन बाद बैक पैक संभाले विएना के हब्तबाहनहॉफ यानी के मुख्य स्टेशन से जब ट्रेन पकड़ी तो न जाने क्यों विएना को छोड़ते हुए मन भारी हो गया |

फिर ट्रेन पकड़ी | बेहद नकचढ़ी और गुस्सैल ट्रेन परिचारिका ठंडी बेस्वाद चाय का कप थमा गयी | उसके बुरे स्वभाव को सहयात्रियों ने भी महसूस किया और उसके जाने के बाद मजाक में टिप्पणियां भी की कि शायद अपने घर से लड़ कर निकली है |

पूर्वी और पश्चिमी यूरोप की ट्रेन्स में खासा फर्क है | पश्चिमी यूरोप की ट्रेन्स जहां फ़ास्ट और मॉडर्न हैं, वहीं पूर्वी यूरोप की ट्रेन्स अपेक्षाकृत धीमी और कम आधुनिक हैं | हालांकि पेंट्री कार और हाई स्पीड इंटरनेट वाई फाई लगभग सभी ट्रेन्स में मौजूद है पर पश्चिमी यूरोप की ट्रेन्स के इंजिन और पूरी ट्रेन की बनावट ही पूरी तरह एयरोडायनामिक है| खास तौर से फ्रांस और जर्मनी की ट्रेन्स साढ़े तीन सौ किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड पर आराम से दौड़ती है और अंदर पता भी नहीं चलता | पूर्वी यूरोप की अधिकांश ट्रेन्स डेढ़ दो सौ किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड से ही चलती हैं |

साफ सफाई तो चुस्त दुरुस्त है | लोग भी जागरूक हैं और गंदगी नहीं फैलाते | टॉयलेट्स भी साफ सुथरे रहते हैं | वाश बेसिन्स में भी पानी रहता है और फ्लश में भी | हाथ सुखाने के लिए गर्म हवा का ब्लोअर भी ज्यादातर ट्रेन्स के टॉयलेट्स में रहता है | सहयात्रियों के सम्मान के लिए यात्री ऊंची ऊंची आवाज में मोबाइल फोन्स पर बात नहीं करते | किसी को फोन पर बात भी करनी होती है तो धीमे स्वर में संक्षिप्त सा वार्तालाप या ट्रेन के छोर पर जाकर बात | ट्रेन में स्क्रीन्स पर आने वाले स्टेशन्स की, पहुंचने के समय की अग्रिम सूचना आती रहती है |

विएना में भी, चाहे सड़क के बीचों बीच चलने वाली ट्राम सर्विस हो या जमीन के नीचे गहरे गर्भ में चलने वाली अंडर ग्राउंड ट्यूब रेलवे, तकनीकी श्रेष्ठता हर जगह नज़र आएगी | हर स्टेशन पर लगी स्क्रीन्स पर पता चलता रहेगा कि ट्यूब ट्रेन या ट्राम कितनी देर में आएगी | आप अपनी घड़ी मिला लीजिए | मजाल है कि ट्यूब ट्रेन या ट्राम एक मिनट भी लेट हो जाये | अंदर ट्राम या ट्यूब ट्रेन की व्यवस्था और साफ सफाई भी बेहद दुरस्त रहती है | सब कुछ साफ सुथरा चमकता दमकता | वृद्ध लोगों के प्रवेश करते ही कई लोग लपककर अपनी सीट की पेशकश कर देते हैं | ट्राम और ट्यूब ट्रेन के भीतर भी स्क्रीन आने वाले स्टेशन्स की सूचना क्रम से आती रहती है | बावजूद इसके कि आप पहली बार इन देशों की यात्रा पर है और आपको इन देशों की भाषा भी नहीं आती, हर व्यवस्था तकनीकी रूप से इतनी सम्पूर्ण है कि जल्दी से आपको कोई परेशानी नहीं होने वाली |

सहयात्रियों में ब्राजील का एक खूबसूरत युवा जोड़ा है और साथ साथ यात्रा कर रही दो जर्मन औरतें | ब्राजील जोड़ा बर्लिन जा रहा है | जर्मन औरतें आपस ही में कुछ बतिया रहीं हैं जर्मन भाषा में | रास्ता बहुत खूबसूरत है | दोनों तरफ हरी भरी पहाड़ियां है, बीच बीच में खूबसूरत मैदान हैं और ट्रेन के दायीं तरफ एक नदी भी साथ साथ चल रही है | यात्री अब ऊंघते ऊंघते झपकी ले रहे हैं और बीच बीच में उनींदी आँखें खोल कर छह सीटों वाले इस कूपे का जायजा भी ले लेते हैं |

पश्चिमी और पूर्वी, दोनों ही यूरोप बहुत खूबसूरत हैं | कितना भी देख लो मन ही नहीं भरता | पिछले पच्चीस छब्बीस सालों में अनगिनत बार यूरोप की यात्रा कर चुका हूँ पर दिल है कि मानता ही नहीं | फिर फिर लौट आता हूँ इधर | हालांकि पूर्वी यूरोप पहली दफा ही जा रहा हूँ पर नब्बे के दशक में रूस की यात्रा और बाद में फिर यूक्रेन की यात्रा कई बार करने का अवसर भी मिला |

इसी बीच ट्रेन चैक गणराज्य में प्रवेश कर गयी | इमिग्रेशन पुलिस ने सब यात्रियों के पासपोर्ट वगैरा चेक किये | अब कुछ दिनों तक प्राग घूमना है |

https://shabd.in/post/111998/-4764799

अगला लेख: २७ जनवरी से २ फरवरी तक का राशिफल



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 फरवरी 2020
डॉ दिनेश शर्मा के साथ थोड़ा सा घुमक्कड़ हो जाएँ...घुमक्कड़ी का कीड़ा : दिनेश डाक्टरघुमक्कड़ी का कीड़ा बचपन से ही मुझे ख़ासा परेशान करता रहा है | मुझे याद है कि हमारे पड़ोस में रहने वाले एक किसान का भतीजा कुछ दिन के लिए हमारे गाँव में आया था |मेरी उम्र रही होगी बामुश्किल दस ग्यारह बरस की | वो जर्मनी मे
10 फरवरी 2020
27 जनवरी 2020
डॉ दिनेश शर्मा का यात्रा वृत्तान्त... हमेशा की तरह एक ख़ूबसूरतशब्दचित्र...खूबसूरत वियना की बाहों में : दिनेश डॉक्टरविएना पहुंचा तोलगा जैसे विएना शहर नही एक खूबसूरत लड़की है जिसने मुझे आगे बढ़कर अपनी बाहों में भरलिया है| सबसे पहले उतर करपूछताछ खिड़की पर गया और लोकल ट्रामों, ट्रेनों और अंडरग्राउंड ट्यूब र
27 जनवरी 2020
22 जनवरी 2020
डॉ दिनेश यात्रा वृत्तान्तों में पूरा शब्दचित्र उकेर देने में माहिर हैं...पूरी सैर करा देते हैं उन स्थलों की जहाँ जहाँ उन्होंने भ्रमण किया है... ऐसा हीएक और यात्रा वृत्तान्त...साल्जबर्ग में आखिरी दिन : दिनेश डॉक्टरकेबल कार सुबहसाढ़े सात बजे चलनी शुरू होती थी । नाश्ता सुबह साढ़े छह बजे ही लग जाता था । ज
22 जनवरी 2020
10 फरवरी 2020
डॉ दिनेश शर्मा के साथ थोड़ा सा घुमक्कड़ हो जाएँ...घुमक्कड़ी का कीड़ा : दिनेश डाक्टरघुमक्कड़ी का कीड़ा बचपन से ही मुझे ख़ासा परेशान करता रहा है | मुझे याद है कि हमारे पड़ोस में रहने वाले एक किसान का भतीजा कुछ दिन के लिए हमारे गाँव में आया था |मेरी उम्र रही होगी बामुश्किल दस ग्यारह बरस की | वो जर्मनी मे
10 फरवरी 2020
02 फरवरी 2020
3 से 9 फरवरी2020 तक का सम्भावित साप्ताहिकराशिफलगणतन्त्र दिवस की हार्दिक बधाई औरशुभकामनाओं के साथ प्रस्तुत है इस सप्ताह का सम्भावित राशिफल...नीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनो
02 फरवरी 2020
10 फरवरी 2020
डॉ दिनेश शर्मा के साथ थोड़ा सा घुमक्कड़ हो जाएँ...घुमक्कड़ी का कीड़ा : दिनेश डाक्टरघुमक्कड़ी का कीड़ा बचपन से ही मुझे ख़ासा परेशान करता रहा है | मुझे याद है कि हमारे पड़ोस में रहने वाले एक किसान का भतीजा कुछ दिन के लिए हमारे गाँव में आया था |मेरी उम्र रही होगी बामुश्किल दस ग्यारह बरस की | वो जर्मनी मे
10 फरवरी 2020
26 जनवरी 2020
गणतन्त्र दिवस की हार्दिक बधाई औरशुभकामनाओं के साथ प्रस्तुत है इस सप्ताह का सम्भावित राशिफल...नीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है
26 जनवरी 2020
30 जनवरी 2020
कहानीदिवस और निशा कीहर भोर उषा की किरणों के साथशुरू होती है कोई एक नवीन कहानी…हर नवीन दिवस के गर्भ मेंछिपे होते हैं न जाने कितने अनोखे रहस्यजो अनावृत होने लगते हैं चढ़ने के साथ दिन के…दिवस आता है अपने पूर्ण उठान परतब होता है भान दिवस के अप्रतिम दिव्यसौन्दर्य का…सौन्दर्य ऐसा, जोकरता है नृत्य / रविकरों
30 जनवरी 2020
22 जनवरी 2020
शनि का मकर में गोचरमाघ मास की अमावस्या को यानी शुक्रवार 24 जनवरी 2020 को दिन में नौ बजकर अट्ठावन मिनट के लगभग अनुशासन और न्याय का कारक मानाजाने वाला ग्रह शनि तीन वर्षों से भी कुछ अधिक समय गुरु की धनु राशि में व्यतीतकरके चतुष्पद करण और वज्र योग में उत्तराषाढ़ नक्षत्र पर रहते हुए ही अपनी स्वयं कीराशि म
22 जनवरी 2020
30 जनवरी 2020
डॉ दिनेश शर्मा का एक और शब्दचित्र - वाह विएना ! वाह !!श्वेडन प्लाटज़बड़ा स्टेशन था |यहां से मुख्य ट्रेन स्टेशन , बस स्टेशन और हवाई अड्डे केलिए अंडर ग्राउण्ड ट्यूब रेलवे के नेटवर्क थे | बगल में हीडेन्यूब के किनारे छोटा सा नाव पोर्ट था जहां से हंगरी में बुडापेस्ट औरस्लोवाकिया में ब्रात्सिलावा के लिए जेट
30 जनवरी 2020
07 फरवरी 2020
मंगल का धनु में गोचरआज यानी शुक्रवार सात फरवरी माघ शुक्ल चतुर्दशी को 27:52 (कल सूर्योदय से पूर्व 3:52) के लगभग गर करण और आयुष्मान योग में मंगल अपनी स्वयं की वृश्चिक राशि से निकल कर अपने मित्र ग्रह गुरु की धनु राशि और मूल नक्षत्र पर प्रस्थान कर जाएगा | गुरुदेव जहाँ पहले से ही अपने मित्र के स्वागत के
07 फरवरी 2020
22 जनवरी 2020
डॉ दिनेश यात्रा वृत्तान्तों में पूरा शब्दचित्र उकेर देने में माहिर हैं...पूरी सैर करा देते हैं उन स्थलों की जहाँ जहाँ उन्होंने भ्रमण किया है... ऐसा हीएक और यात्रा वृत्तान्त...साल्जबर्ग में आखिरी दिन : दिनेश डॉक्टरकेबल कार सुबहसाढ़े सात बजे चलनी शुरू होती थी । नाश्ता सुबह साढ़े छह बजे ही लग जाता था । ज
22 जनवरी 2020
22 जनवरी 2020
डॉ दिनेश यात्रा वृत्तान्तों में पूरा शब्दचित्र उकेर देने में माहिर हैं...पूरी सैर करा देते हैं उन स्थलों की जहाँ जहाँ उन्होंने भ्रमण किया है... ऐसा हीएक और यात्रा वृत्तान्त...साल्जबर्ग में आखिरी दिन : दिनेश डॉक्टरकेबल कार सुबहसाढ़े सात बजे चलनी शुरू होती थी । नाश्ता सुबह साढ़े छह बजे ही लग जाता था । ज
22 जनवरी 2020
11 फरवरी 2020
समुद्र के किनारे चलते चलते रास्ते में एक शांत सी दुकान देखी तो कुछ पीने और सुस्ताने के इरादे से उसमे ही घुस गया । यह दरअसल एक शराब खाना था जो मुख्य टूरिस्ट मार्ग पर न होने की वजह से इस समय वीरान था । अंदर रेड और व्हाइट वाइन के कांच के बड़े बड़े जार थे, लकड़ी के बड़े बड़े गोल हौद थे जिनमे वाइन बनन
11 फरवरी 2020
30 जनवरी 2020
डॉ दिनेश शर्मा का एक और शब्दचित्र - वाह विएना ! वाह !!श्वेडन प्लाटज़बड़ा स्टेशन था |यहां से मुख्य ट्रेन स्टेशन , बस स्टेशन और हवाई अड्डे केलिए अंडर ग्राउण्ड ट्यूब रेलवे के नेटवर्क थे | बगल में हीडेन्यूब के किनारे छोटा सा नाव पोर्ट था जहां से हंगरी में बुडापेस्ट औरस्लोवाकिया में ब्रात्सिलावा के लिए जेट
30 जनवरी 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x