‘सालज़बर्ग का “हेलब्रुन्न पैलेस यानी जादुई क़िला” 12-15 अप्रैल 2018 - दिनेश डाक्टर

23 जुलाई 2020   |  दिनेश डॉक्टर   (336 बार पढ़ा जा चुका है)

‘सालज़बर्ग  का  “हेलब्रुन्न पैलेस यानी जादुई क़िला”  12-15 अप्रैल 2018 - दिनेश डाक्टर

12-15 अप्रैल 2018

सालज़बर्ग का हेलब्रुन्न पैलेस यानी जादुई क़िला

अच्छी गहरी नींद के बाद अगली सुबह 12 अप्रेल को उठ कर खटाखट तैयार होकर होटल के रेस्तरां में मुफ्त का नाश्ता करने के बाद रिसेप्शन पर तहकीकात की तो अल्टास्टड होफव्रट होटल की खूबसूरत और समझदार रिसेप्शनिस्ट ने दो महत्वपूर्ण सुझाव दिए। पहला साल्जबर्ग कार्ड खरीदने का, जिसके द्वारा सिर्फ शहर के भीतर समस्त पब्लिक ट्रांसपोर्ट में मुफ्त में यात्रा करने की सुविधा थी बल्कि अधिकांश दर्शनीय स्थलों की एंट्री भी मुफ्त थी दूसरे जितना हो सके शहर को घूम कर पैदल देखने का, जिससे कि शहर के स्थापत्य और इतिहास को बारीकी और आराम से समझा जा सके

होटल के रिसेप्शन से ही साल्जबर्ग कार्ड खरीद लिया तय किया कि आज साल्जबर्ग के उत्तर पश्चिम में स्थित बर्फीली चोटियों की तरफ जाया जाए वहां ऊपर ऊंची चोटी पर जाने के लिए केबल कार की व्यवस्था थी सुबह से ही तेज़ ठंडी हवा चल रही थी गर्म फ्लीस के ऊपर जैकेट पहनी और पडिस्ट्रीयन स्ट्रीट की तरफ तेज़ कदमों से चल पड़ा साल्ज़ाश नदी पार करते ही बांयी तरफ पुलिस चौकी के सामने से ही 25 नम्बर की बस पकड़नी थी और उसके अंतिम स्टाप पर उतर कर रोप वे केबल कार लेकर ऊपर पहाड़ी पर पहुंचना था बस में बहुत सारे चीनी, ताइवानी और कोरियन पर्यटक थे जब से साउथ ईस्ट एशिया में अभूतपूर्व औद्योगिक उन्नति के कारण आर्थिक सम्पन्नता बढ़ी है, हर घूमने लायक देश में चीनी, ताइवानी और कोरियन टूरिस्ट्स बहुत नज़र आते हैं

साल्जबर्ग शहर के भिन्न भिन्न स्टॉप्स पर सवारी लेती उतारती बस शहर से बाहर के खूबसूरत हरे भरे खेतों से निकल कर केबल कार के अंतिम स्टाप पर पहुंच ही गयी उतर कर अंदर गया तो पाया कि तेज़ हवा की वजह से केबल कार आज बन्द है और अधिक पूछने पर ज्ञात हुआ कि जब भी केबल कार की बिल्डिंग के ऊपर लगे तीन गुब्बारे जोर जोर से हिलने लगते हैं तो केबल कार का संचालन रिस्क की वजह से बंद कर दिया जाता है क्योंकि ऊंचाई पर पहाड़ी दर्रों और घाटियों से गुजर कर इस हवा की तीव्रता बहुत बढ़ जाती है जिससे केबल कार के उलट कर भयंकर एक्सीडेंट होने खतरा पैदा हो जाता है

थोड़ी निराशा हुई पर कोई रास्ता नही था जिस बस से हम आये थे , कुछ ही देर में वो ही बस शहर की तरफ वापस जाने वाली थी बस स्टैंड पास ही था और भी बहुत से टूरिस्ट थे सब दौड़ कर वापस उसी बस में सवार हो गए अगले स्टाप पर एक भारतीय सा दिखने वाला परिवार बस में सवार हुआ परिवार में एक युवक, उसकी पत्नी और पांच बरस की एक लड़की थी वो भी उत्सुकता से मुझे ही देख रहे थे मैंने ही बातचीत शुरू की परिवार नेपाल से था युवक साल्जबर्ग में ही किसी प्रतिष्ठान में कार्यरत था ऑस्ट्रिया में चार बरस पहले ही परिवार के साथ आकर बसा था जब मैंने उसे कहा कि उसका परिवार कितना भाग्यशाली है कि इतने खूबसूरत देश में आकर बस गया है तो उसने कहा कि नेपाल तो और भी सुंदर है पर वहां दुर्भाग्य से काम के अवसर नही हैं इसलिए उसे यहां मजबूरन रहना पड़ रहा है रास्ते में एक स्टाप पर काफी सवारियां उतर रही थी पूछा तो पता लगा हेलब्रुन्न स्टाप है पास ही चार सौ बरस पुराना बारोक शैली का हेलब्रुन्न पैलेस था इससे पहले कि बस के स्वचालित दरवाजे खटाक से बंद होते , फुर्ती से नीचे उतर गया

कई सौ एकड़ में फैले विशाल हेलब्रुन्न पैलेस का निर्माण चार सौ बरस पहले साल्जबर्ग के प्रिंस आर्चबिशप मार्कस सिटीकस ने गर्मी के मौसम में सिर्फ और सिर्फ दिन के आमोद प्रमोद के लिए कराया था इतने बड़े महल में एक भी सोने का कमरा या बेड रूम नही है रात को पूरा राजसी परिवार और उसके मेहमान वापस साल्जबर्ग शहर में मुख्य किले में लौट जाते थे महल के पास ही पहाड़ी पर एक मीठे जल का झरना था उसी के जल को प्रयोग कर बहुत से सरप्राइज़ फव्वारों का निर्माण आर्चबिशप मार्कस सिटीकस ने कराया था इसमे कोई शक नही कि आर्चबिशप मार्कस सिटीकस वाकई बहुत मजाकिया और दिलचस्प इंसान था सारे फव्वारों में एक दिलचस्प एंगल है जैसे कि बाग में बनी खाने की मेज के चारों तरफ बनी कुर्सियों में एक छेंक छुपा हुआ था जैसे ही मेहमान भोजन समाप्त करते थे उसी छेंक द्वारा अचानक तेज़ रफ़्तार से निकलता पानी मेहमानों के नितम्बो को पानी से सरोबार कर देता था

ऐसे ही बहुत से चौंकाने वाले फव्वारे जगह जगह मौजूद थे पानी के ही प्रेशर से चलने वाली एक विशालकाय झांकी भी थी जिसमे सैंकड़ो छोटे छोटे इंसानी पुतले काम करते, वजन ढोते, परेड करते, आगे पीछे चक्कर काटते, ऑर्गन के संगीत पर नृत्य करते, चक्का चलाते और जाने क्या क्या करते नज़र आते थे यहां तक कि ऑर्गन भी पानी के बहाव से ही बज रहा था चार सौ साल पहले पानी से चलने वाली तकनीक से ऐसी आश्चर्यचकित करने वाली झांकी की परिकल्पना और निर्माण देखकर कोई भी दांतो तले उंगली दबा ले जैसे ही झांकी का शो समाप्त हुआ वैसे ही चारों तरफ छुपे हुए छेदों से निकलती पतली पतली पानी की धाराओं ने दर्शकों को भिगोना शुरू कर दिया मैं पहले से ही फर्श पर पानी के निशानों को देख कर सावधान था तो बच गया

जिन्हें बरसों पुरानी हॉलीवुड की मशहूर फिल्म 'साउंड ऑफ म्यूजिक' याद है, उनकी जानकारी के लिए बता दूं कि उस फिल्म के बहुत बड़े हिस्से की शूट साल्जबर्ग के बेइंतहा खूबसूरत हरे भरे मैदानों और विशाल हेलब्रुन्न पैलेस के परिसर में ही हुई थी

पास ही थोड़ी चढ़ाई चढ़ कर पैलेस का ही एक छोटा सा म्यूजियम था म्यूजियम तो खैर कोई खास नही था पर वहां ऊपर से नीचे की बिल्डिंग्स और हरे भरे पार्कों का दृश्य बहुत सुंदर और अद्भुत था काफी देर वहीं बैठा सारी प्राकृतिक और मनुष्य निर्मित सुंदरता का रस पीता रहा अब तक दोपहर के तीन बजे चुके थे म्यूजियम के मैनेजर ने मेरे प्रार्थना करने पर केबल कार के ऑफिस में फोन कर पूछा कि केबल कार आज शुरू होगी या नही पता चला कि हवा तेज़ होने के कारण आज ऑपरेशन की कोई संभावना नही है

पहाड़ी से नीचे उतर कर पैलेस के परिसर से वापस बस स्टैंड पर आकर पच्चीस नम्बर की बस पकड़ कर साल्जबर्ग शहर के सेंटर में उतर गया सुबह का मुफ्त का नाश्ता कभी का पच चुका था और अच्छी खासी भूख लग आयी थी पश्चिमी देशों में रेस्तरांओं में खाना खाना आपके टूरिस्टिक बजट को अच्छा खासा हल्का कर सकता है ऐसे में किसी साफ सुथरी जगह से स्ट्रीट फूड खरीद लें पानी की वही छोटी से बोतल किसी रेस्तरा में दो यूरो यानी कि एक सौ साठ रुपये की मिलेगी और यदि आप किसी फ़ूड स्टोर में गए तो सिर्फ तीस पैंतीस सेंट यानी बीस या पच्चीस रुपये की टूरिज्म करते वक़्त मै कंजूसी की हद तक खासा किफायती हो जाता हूँ उसकी वजह है कि ज्यादा पैसा में देखने वाले स्थानों के टिकटों, यात्रा भाड़े, किसी विशेष प्रोग्राम जैसे ओपेरा या संगीत की बड़ी प्रस्तुति पर व्यय करने के लिए बचाता रहता हूँ ऐसे कार्यक्रमों की टिकटें कई बार बहुत महंगी भी हो सकती हैं एक व्यक्ति की एंट्री टिकट सौ यूरो यानी सात हजार पांच सौ रुपये कोई बड़ी बात नही।

‘सालज़बर्ग  का  “हेलब्रुन्न पैलेस यानी जादुई क़िला”  12-15 अप्रैल 2018 - दिनेश डाक्टर
‘सालज़बर्ग  का  “हेलब्रुन्न पैलेस यानी जादुई क़िला”  12-15 अप्रैल 2018 - दिनेश डाक्टर

अगला लेख: ‘विएना’ खूबसूरत और दिलकश प्रेमिका की तरह एक शहर - 4 / दिनेश डाक्टर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 जुलाई 2020
न खुशन उदासभले मैं अकेलाया सब आसपासशून्य की बढ़ती हुई प्यासवही लोगवही जमीन वही आकाशफिर भी परिवर्तन की आसदिन वैसे ही चढ़तावैसे ही ढलतावैसी ही रात होतीवैसे ही सोता अजीब से सपनो में खोताफिर नई सुबह होतीवो ही सब करने कोजो रोज ही होतामन न पूरा न आधाहर तरफ बंदिशों की बाधासब कुछ हासिलपर जैसे न कुछ सधा न साधा
19 जुलाई 2020
29 जुलाई 2020
‘विएना’ खूबसूरत और दिलकश प्रेमिका की तरह का एक शहरअप्रैल 12-18 , 2018
ट्रेन से उतरा तो खूबसूरत विएना ने मुझे आगे बढ़कर अपनी बाहों में भर लिया । सबसे पहले उतर कर पूछताछ खिड़की पर गया और लोकल ट्रामों, ट्रेनों और अंडर ग्राउंड ट्यूब रेलवे के बारे में जानकारी ली । पता लगा कि विएना शहर के भीतर सब प्रकार के
29 जुलाई 2020
27 जुलाई 2020
सालज़्बर्ग में मोज़ार्ट का घर अप्रैल 12-18 , 2018केबल कार सुबह साढ़े सात बजे चलनी शुरू होती थी । नाश्ता सुबह साढ़े छह बजे ही लग जाता था । जल्दी जल्दी नाश्ता कर वापस पच्चीस नम्बर बस के स्टैंड पर पहुंच गया । बस भी जल्दी ही मिल गयी और साढ़े आ
27 जुलाई 2020
15 जुलाई 2020
दिनेश शर्मा की सुबह सुबह की राम राम सब दोस्तो , बुजुर्गों बच्चों को । जो लोग वक़्त बेवक़्त हर रोज़ यहाँ वहाँ पूरे देश में जब चाहे मनमर्जी से लॉक डाउन लगाने और बढ़ाने की प्रस्तावना देते हैं वो सब सरकारी अमले के लोग है जिनकी पूरी पूरी तनख्वाहें हर महीने की एक तारीख को उनके खाते में पहुंच जाती है । जिन लोग
15 जुलाई 2020
06 अगस्त 2020
फलों , शहद और झरनों के देश क्रोएशिया में -114 सितम्बर 2019 से 5 अक्तूबर 2019सितम्बर 1935 में श्री राहुल सांकृत्यायन जी ने एक महीने तक जो यात्रा बाकू, कुहीन, तेहरान, इस्फ़हान, कुम, शीराज़, पर्सेपोलिस, मशहद, ज़ाहिदान, बिलोचिस्तान जैसे दुर्गम स्थानों की, वो भी बसों, द्रकों और छकड़ा कारों के ज़रिए, वह वा
06 अगस्त 2020
10 जुलाई 2020
कोरोना से कानपुर वाया चीन लद्दाख - दिनेश डाक्टरपहले थी दिन रातखबरें सिर्फ कोरोना की छाईकितने मरेकितनो ने निज़ात पायीहो रही थी कोविड सेहर वक़्त आरपार की लड़ाईफिर जैसे ही चीनियों ने लद्दाख में सेंध लगाईएंकरों
10 जुलाई 2020
17 जुलाई 2020
को
मैं आर्थिक मामलों की विशेषज्ञ नहीं हूं केवलवर्तमान स्थिती पर अपना मत रख रही हूं। कोरोना ने कुछ दिनों लोगों को काफी डरायालेकिन ये डर कुछ ही दिन लोगों के मन में रहा, अब लोग सावधानी बरत रहे है लेकिनउन्हें संक्रमित होने से ज्यादा डर अपनी आजीविका खत्म होने का सता है। कई कं
17 जुलाई 2020
28 जुलाई 2020
सालज़्बर्ग में आख़िरी दिन - अप्रैल 12-18, 2018साल्ज़ाश नदी के किनारे बसे इसी पुराने शहर के दूसरे छोर पर एक भव्य और खूबसूरत प्राचीन केथेड्रेल था । कुछ प्रार्थना जैसी हो रही थी । मैँ भी बन्द आंखों से शांत होकर बैठ गया । थोड़ी देर बाद वहां से निकल कर लव लॉक ब्रिज के पास से
28 जुलाई 2020
26 जुलाई 2020
ची
सोवियत रूस ने अपनी मिसाइलें क्यूबा में तैनात कर दी थीं। इसकी वजह से तेरह दिन के लिए (16 – 28 अक्टूबर 1962) तक जो तनाव रहा उसे “क्यूबन मिसाइल क्राइसिस” कहा जाता है। ये वो बहाना था, जो सुनाकर सोवियत रूस ने नेहरु को मदद भेजने से इनकार कर दिया था। नेहरु शायद इसी मदद के भरोसे बैठे थे जब चीन ने हमला किया
26 जुलाई 2020
24 जुलाई 2020
प्यार हो और कहना पड़े ? क्या मेरी आंखों में मेरी सांसो मेंमेरे सुनने मेंमेरे कहने में तुम्हे प्यार नज़र नही आता ?क्या मेरी सोच में मेरी चिंता में मेरी दृष्टि मेंमेरी सृष्टि में तुम हमेशा नही रहती ? क्यूँ तुम्हारा रोनानम करता है मुझेऔर तुम्हारा हँसनाउल्लासितक्यूँतुम्हारा मान - अपमानकरता मुझे भीआनन्दित
24 जुलाई 2020
05 अगस्त 2020
‘विएना’ खूबसूरत और दिलकश प्रेमिका की तरह एक शहर - 4विदा विएना विदा ! फिर लौट आऊँगा !!! अप्रैल 12-18 , 2018
अगले सात दिनों में विएना में इतने म्यूजियम देखे, इतने पुराने किले और तकनीकी रूप से इतनी पुरानी पर उत्कृष्ट इमारते देखी और इतना घूमा देखा कि एक पूरी किताब उस पर आराम से लिखी जा सकती है। ग्लोब म्
05 अगस्त 2020
16 जुलाई 2020
कोरोना काल में ऐसा भी क्या आर्थिक संकट की एक या दो महीने का बेकअप भी नहीं है। मार्च से पहले करोड़ों-अरबों का बिज़नेस करने वाले भी छाती पीट रहे है कि धंधा चौपट हो गया है। सोचने वाली बात है कि जब हाई क्लास बिज़नेस करने वालों के ये हाल है तो उन बेचारे दैनिक दिहाड़ी वालों का क्या हाल होगा। जिनमे से ज्यादातर
16 जुलाई 2020
31 जुलाई 2020
विएना’ खूबसूरत और दिलकश प्रेमिका की तरह एक शहर विएना का अद्वितीय और विशाल शोन्नब्रुन्न पैलेस अप्रैल 12-18 , 2018अगले रोज़ सुबह जल्दी तैयार होकर खुद का बनाया नाश्ता खाकर तीन सौ बीस बरस पुराना शोन्नब्रुन्न पैलेस देखने निकल पड़ा । रास्ते में एक साइकिल रैली जैसी कुछ निकल रही थी। हज़ारों की संख्या में साइक
31 जुलाई 2020
05 अगस्त 2020
‘विएना’ खूबसूरत और दिलकश प्रेमिका की तरह एक शहर - 4विदा विएना विदा ! फिर लौट आऊँगा !!! अप्रैल 12-18 , 2018
अगले सात दिनों में विएना में इतने म्यूजियम देखे, इतने पुराने किले और तकनीकी रूप से इतनी पुरानी पर उत्कृष्ट इमारते देखी और इतना घूमा देखा कि एक पूरी किताब उस पर आराम से लिखी जा सकती है। ग्लोब म्
05 अगस्त 2020
09 जुलाई 2020
शा
क्यों रहता हैबिना बात व्यथितऔर मानता हैखुद को अभिशप्त- बाधितसुख गर सुख दे पातेतो तू सही में सुखी होतापर यहाँ तो मूक वेदना की धार बहती है अनवरत निरन्तर तेरे भाल पर पता नही अंदर से बाहर को या बाहर से अंदर कोक्षरित देह क्षरित मनदिनोंदिन बुढाता तन चल शून्य होया खो जा शून्
09 जुलाई 2020
01 अगस्त 2020
राम !औरों को शाप मुक्त करके भीस्वयम रहे अभिशप्तकभी दूसरों के क्रोध से संतप्ततो कभी अपनो से त्रस्त !!राम !अकारण नही हुआ वनवास तुम्हे और न ही पत्नी हरण !!न होता -तो कैसे बनतेसहनशीलता के उत्कर्षयुग पुरुष !राम !हर युग में कोई तो विष पीता हैआक्रोश और अपमान काशिव होने को ! अकारण भग्न नही हुआ तुम्हारा जन्म
01 अगस्त 2020
05 अगस्त 2020
‘विएना’ खूबसूरत और दिलकश प्रेमिका की तरह एक शहर - 4विदा विएना विदा ! फिर लौट आऊँगा !!! अप्रैल 12-18 , 2018
अगले सात दिनों में विएना में इतने म्यूजियम देखे, इतने पुराने किले और तकनीकी रूप से इतनी पुरानी पर उत्कृष्ट इमारते देखी और इतना घूमा देखा कि एक पूरी किताब उस पर आराम से लिखी जा सकती है। ग्लोब म्
05 अगस्त 2020
15 जुलाई 2020
दिनेश शर्मा की सुबह सुबह की राम राम सब दोस्तो , बुजुर्गों बच्चों को । जो लोग वक़्त बेवक़्त हर रोज़ यहाँ वहाँ पूरे देश में जब चाहे मनमर्जी से लॉक डाउन लगाने और बढ़ाने की प्रस्तावना देते हैं वो सब सरकारी अमले के लोग है जिनकी पूरी पूरी तनख्वाहें हर महीने की एक तारीख को उनके खाते में पहुंच जाती है । जिन लोग
15 जुलाई 2020
11 जुलाई 2020
छह साल बाद यात्रा संस्मरण लिखना न तो आसान है और न ही उत्साहपूर्ण । साढ़े तीन महीने से दुनिया भर में घूमने की पुरानी स्मृतियों के सहारे वक़्त काट रहा था कि पिछले हफ़्ते पुराने काग़ज़ खंगालते खंगालते एक नोट पैड हाथ आ गया । मैं भूल ही गया था कि हंगरी यात्रा के दौरान मैंने कुछ हल्के फुल्के नोट्स बनाए
11 जुलाई 2020
05 अगस्त 2020
‘विएना’ खूबसूरत और दिलकश प्रेमिका की तरह एक शहर - 4विदा विएना विदा ! फिर लौट आऊँगा !!! अप्रैल 12-18 , 2018
अगले सात दिनों में विएना में इतने म्यूजियम देखे, इतने पुराने किले और तकनीकी रूप से इतनी पुरानी पर उत्कृष्ट इमारते देखी और इतना घूमा देखा कि एक पूरी किताब उस पर आराम से लिखी जा सकती है। ग्लोब म्
05 अगस्त 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x