‘विएना’ खूबसूरत और दिलकश प्रेमिका की तरह एक शहर - 4 / दिनेश डाक्टर

05 अगस्त 2020   |  दिनेश डॉक्टर   (323 बार पढ़ा जा चुका है)

‘विएना’ खूबसूरत और दिलकश प्रेमिका की तरह एक शहर - 4 / दिनेश डाक्टर

विएना’ खूबसूरत और दिलकश प्रेमिका की तरह एक शहर - 4

विदा विएना विदा ! फिर लौट आऊँगा !!! अप्रैल 12-18 , 2018



अगले सात दिनों में विएना में इतने म्यूजियम देखे, इतने पुराने किले और तकनीकी रूप से इतनी पुरानी पर उत्कृष्ट इमारते देखी और इतना घूमा देखा कि एक पूरी किताब उस पर आराम से लिखी जा सकती है। ग्लोब म्यूज़ियम में सोलहवीं सदी के सैंकड़ों तरह के एक से एक पुराने गलोब्स थे । दूसरे म्यूज़ियम में पुराने से पुराने रेल इंजन और रेलवे के कोच थे । टाइप राइटर म्यूज़ियम में सन 1860 के बाद के क़रीब क़रीब हर तरह के टाइप राइटर्स का संग्रह था । मुझे यह देखकर बड़ी हैरानी हुई की कार बनाने वाली मशहूर मर्सिडीज़ कम्पनी 1920 में टाइप राइटर्स भी बनाती थी।

ग्रामोफ़ोन म्यूज़ियम में सन 1890 से लेकर सैकड़ों प्रकार के एक से एक बेहतरीन तकनीकी श्रेस्ठता लिए हुए ग्रामोफ़ोन्स का संग्रह था । कैमरों के म्यूज़ियम में सन 1895 से लेकर अब तक की सब तकनीकों से लैस कैमरों का संग्रह था । मोटरसाइकिलों और कारों के म्यूज़ियम में एक से एक पुराने वाहन थे । 1697 में निर्मित लोअर और 1717 में निर्मित अपर बेलवेडेयर के विशाल भवनों में दुनिया के श्रेस्ठ कलाकारों की पेंटिंग्स, शिल्प और अन्य कृतियों का विविधता लिए हुए बहुत बड़ा संग्रह है । एक एक पेंटिंग ऐसी है कि जितना भी देखो मन नही भरता । एक एक शिल्प ऐसा है कि कलाकार के प्रति ह्रदय में श्रद्धा और सम्मान भर जाता है । गुस्ताव क्लिमिट की मशहूर कृति ‘द किस’ का मौलिक संस्करण भी वहाँ था जिसे देखने के लिए भारी भीड़ थी । दोनों बेलवेडेयर में कृतियों का इतना बड़ा संग्रह है कि उन्हें ठीक से देखने के लिए दो दिन भी काम हैं। दुनिया भर के इतने सारे म्यूजियम देख चुका हूँ और अब और नए म्यूजियम देखने में कुछ नया नज़र न आने की वजह से ऊब सी हो जाती है । पिछले दिनों गलती से दिल्ली में जनपथ पर स्थित राष्ट्रीय कला संग्रहालय देखने चला गया । अव्यवस्था और कार्यरत कर्मचारियों का लापरवाही भरा व्यवहार देखकर मन अवसाद और वितृष्णा से भर गया ।

सात दिन बाद बैक पैक संभाले विएना के हब्तबाहनहॉफ यानी के मुख्य स्टेशन से जब ट्रेन पकड़ी तो न जाने क्यों विएना को छोड़ते हुए मन भारी हो गया । बेहद नकचढ़ी और गुस्सैल ट्रेन परिचारिका ठंडी बेस्वाद चाय का कप थमा गयी । उसके बुरे स्वभाव को सहयात्रियों ने भी महसूस किया और उसके जाने के बाद मजाक में टिप्पणियां भी की कि शायद अपने घर से लड़ कर निकली है । पूर्वी और पश्चिमी यूरोप की ट्रेन्स में खासा फर्क है । पश्चिमी यूरोप की ट्रेन्स जहां फ़ास्ट और मॉडर्न हैं, वहीं पूर्वी यूरोप की ट्रेन्स अपेक्षाकृत धीमी और कम आधुनिक हैं । हालांकि पेंट्री कार और हाई स्पीड इंटरनेट वाई फाई लगभग सभी ट्रेन्स में मौजूद है पर पश्चिमी यूरोप की ट्रेन्स के इंजिन और पूरी ट्रेन की बनावट ही पूरी तरह एयरोडायनामिक है। खास तौर से फ्रांस और जर्मनी की ट्रेन्स साढ़े तीन सौ से चार सौ किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड पर आराम से दौड़ती है और अंदर पता भी नही चलता । पूर्वी यूरोप की अधिकांश ट्रेन्स डेढ़ दो सौ किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड से ही चलती हैं ।

एक बड़ी खास बात जो महसूस की वो ये कि ऑस्ट्रियन लोग स्वभाव से बहुत बिंदास, खुले दिल के और गर्मजोश होते हैं । संगीत और नृत्य के बहुत प्रेमी होते हैं । जम कर खाते पीते है और स्वास्थ्य के प्रति भी बहुत सजग रहते हैं । मैं स्विस और नॉर्वेजियन लोगो के बारे में ऐसा नही कह सकता जो ज्यादातर स्वभाव से शुष्क और ठंडे होते है और जल्दी से आप से घुलते मिलते नही हैं । दरअसल पूरे पूर्वी यूरोप की, चाहे वो हंगरी हो या चेकोस्लोवाकिया, पोलैंड हो या क्रोएशिया - बात ही कुछ और है । हो सकता है मैं ग़लत होऊं पर मुझे लगता है कि मौसम का असर लोगों के स्वभाव पर पड़ता है । जिन जगहों में हमेशा बर्फ पड़ी रहती है और सूरज सिर्फ चार छह महीने ही ठीक से दिखता है वहां के लोगो के स्वभाव में एक सर्द एकाकी पन और डिप्रेशन जैसा कुछ उतर जाता है ।

इन देशों में साफ सफाई तो चुस्त दुरुस्त है ही, लोग भी जागरूक हैं और गंदगी नही फैलाते । टॉयलेट्स भी साफ सुथरे रहते हैं । वाश बेसिन्स में भी पानी रहता है और फ्लश में भी । हाथ सुखाने के लिए गर्म हवा का ब्लोअर भी ज्यादातर ट्रेन्स के टॉयलेट्स में रहता है । सहयात्रियों के सम्मान के लिए यात्री ऊंची ऊंची आवाज में मोबाइल फोन्स पर बात नही करते । किसी को फोन पर बात भी करनी होती है तो धीमे स्वर में संक्षिप्त सा वार्तालाप या ट्रेन के छोर पर जाकर बात । ट्रेन में स्क्रीन्स पर आने वाले स्टेशन्स की, पहुंचने के समय की अग्रिम सूचना आती रहती है । विएना में भी, चाहे सड़क के बीचों बीच चलने वाली ट्राम सर्विस हो या जमीन के नीचे गहरे गर्भ में चलने वाली अंडर ग्राउंड ट्यूब रेलवे, तकनीकी श्रेष्ठता हर जगह नज़र आएगी । हर स्टेशन पर लगी स्क्रीन्स पर पता चलता रहेगा कि ट्यूब ट्रेन या ट्राम कितनी देर में आएगी । आप अपनी घड़ी मिला लीजिए । मजाल है कि ट्यूब ट्रेन या ट्राम एक मिनट भी लेट हो जाये । अंदर ट्राम या ट्यूब ट्रेन की व्यवस्था और साफ सफाई भी बेहद दुरस्त रहती है । सब कुछ साफ सुथरा चमकता दमकता ।

वृद्ध लोगों के प्रवेश करते ही कई लोग लपककर अपनी सीट की पेशकश कर देते हैं । ट्राम और ट्यूब ट्रेन के भीतर भी स्क्रीन आने वाले स्टेशन्स की सूचना क्रम से आती रहती है । बावजूद इसके कि आप पहली बार इन देशों की यात्रा पर है और आपको इन देशों की भाषा भी नही आती, हर व्यवस्था तकनीकी रूप से इतनी सम्पूर्ण है कि जल्दी से आपको कोई परेशानी नही होने वाली । सहयात्रियों में ब्राजील का एक खूबसूरत युवा जोड़ा है और साथ साथ यात्रा कर रही दो जर्मन औरतें । ब्राजील जोड़ा बर्लिन जा रहा है । जर्मन औरतें आपस ही में कुछ बतिया रहीं हैं जर्मन भाषा में । रास्ता बहुत खूबसूरत है । दोनों तरफ हरी भरी पहाड़ियां है, बीच बीच में खूबसूरत मैदान हैं और ट्रेन के दायीं तरफ एक नदी भी साथ साथ चल रही है । यात्री अब ऊंघते ऊंघते झपकी ले रहे हैं और बीच बीच में उनींदी आँखें खोल कर छह सीटों वाले इस कूपे का जायजा भी ले लेते हैं ।

पश्चिमी और पूर्वी, दोनों ही यूरोप बहुत खूबसूरत हैं । कितना भी देख लो मन ही नही भरता । पिछले पच्चीस छब्बीस सालों में अनगिनत बार यूरोप की यात्रा कर चुका हूँ पर दिल है कि मानता ही नही । फिर फिर लौट आता हूँ इधर । घुमक्कड़ी भी एक मज़ेदार किस्म का नशा है । जिसे ये लत लग जाती है वो ही जानता है कि उस पर उन दिनों में क्या बीतती है जब घर की खाट पर नियमबद्ध जीवन बिताने की मजबूरी आन पड़ती है । जैसे इन दिनों मुझ जैसे घुमक्कडों के साथ हो रहा है । नीरस से दिन काटे नही कटते । एक अवसाद सा उतरना शुरू हो जाता है । स्वभाव में चिड़चिड़ापन भी उतर आता है । खाने में स्वाद नही मिलता और जीवन के प्रति एक अजीब सी निरपेक्षता उतरने लगती है ।

किसी के मिज़ाज़ में कितनी भी घुमक्कड़ी हो आखिर में तो घर लौटना ही पड़ता है । अब घर की तरफ़ लौट चलने का समय हो गया है ।

‘विएना’ खूबसूरत और दिलकश प्रेमिका की तरह एक शहर - 4 / दिनेश डाक्टर
‘विएना’ खूबसूरत और दिलकश प्रेमिका की तरह एक शहर - 4 / दिनेश डाक्टर
‘विएना’ खूबसूरत और दिलकश प्रेमिका की तरह एक शहर - 4 / दिनेश डाक्टर
‘विएना’ खूबसूरत और दिलकश प्रेमिका की तरह एक शहर - 4 / दिनेश डाक्टर

अगला लेख: ‘सालज़बर्ग का “हेलब्रुन्न पैलेस यानी जादुई क़िला” 12-15 अप्रैल 2018 - दिनेश डाक्टर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
26 जुलाई 2020
ची
सोवियत रूस ने अपनी मिसाइलें क्यूबा में तैनात कर दी थीं। इसकी वजह से तेरह दिन के लिए (16 – 28 अक्टूबर 1962) तक जो तनाव रहा उसे “क्यूबन मिसाइल क्राइसिस” कहा जाता है। ये वो बहाना था, जो सुनाकर सोवियत रूस ने नेहरु को मदद भेजने से इनकार कर दिया था। नेहरु शायद इसी मदद के भरोसे बैठे थे जब चीन ने हमला किया
26 जुलाई 2020
30 जुलाई 2020
क्
क्या ये सच है - दिनेश डाक्टतुम्हे ये क्या हो गया हैतुम्हारी साँसों मेंक्यों ज़हर की बू है ?तुम्हारे माथे की शिकनक्यों तुम्हारे दिल में उतर आयी है ?तुम्हारी बात बात में आग के शोलेक्यूं कर भड़कते है ?तुम्हारे दोस्तअब एक ही मजहब/धर्म केक्यों कर हो गए है ?तुम तो हमेशा 'हम' कहा करते थेअब तुम्हारी बातों मे
30 जुलाई 2020
15 अगस्त 2020
फलों , शहद और झरनों के देश क्रोएशिया में -6 14 सितम्बर 2019 से 5 अक्तूबर 2019दुनिया के सबसे खूबसूरत प्लिटविच और सिबनिक नेशनल पार्क्स में क्रोएशिया में लैंड होने के बाद बहुत जगह एक बात बहुत सारे क्रोएशयन ने कई बार जो बड़े गर्व से दोहराई वो है यहां के पानी के बारे में उनका विश्वास । ' आप बोतल के पान
15 अगस्त 2020
11 अगस्त 2020
फलों , शहद और झरनों के देश क्रोएशिया में -314 सितम्बर 2019 से 5 अक्तूबर 2019पुराने शहर का तिलिस्म माटो ने बताया था अगर पुराना शहर देखना है तो शाम का वक़्त बढ़िया रहेगा क्योंकि उस वक़्त ज्यादा टूरिस्ट खाने पीने में मस्त रहते हैं और शहर के अंदर रात के वक़्त जो लाइटिंग इफ़ेक्ट्स आते है वो पुराने शहर की ड
11 अगस्त 2020
27 जुलाई 2020
सालज़्बर्ग में मोज़ार्ट का घर अप्रैल 12-18 , 2018केबल कार सुबह साढ़े सात बजे चलनी शुरू होती थी । नाश्ता सुबह साढ़े छह बजे ही लग जाता था । जल्दी जल्दी नाश्ता कर वापस पच्चीस नम्बर बस के स्टैंड पर पहुंच गया । बस भी जल्दी ही मिल गयी और साढ़े आ
27 जुलाई 2020
11 अगस्त 2020
फलों , शहद और झरनों के देश क्रोएशिया में -314 सितम्बर 2019 से 5 अक्तूबर 2019पुराने शहर का तिलिस्म माटो ने बताया था अगर पुराना शहर देखना है तो शाम का वक़्त बढ़िया रहेगा क्योंकि उस वक़्त ज्यादा टूरिस्ट खाने पीने में मस्त रहते हैं और शहर के अंदर रात के वक़्त जो लाइटिंग इफ़ेक्ट्स आते है वो पुराने शहर की ड
11 अगस्त 2020
19 अगस्त 2020
पैर में शनि का चक्कर यानी टर्की के शहर इस्तांबुल में आदतन घुमक्कड़ !मई - 2014जब मैं छोटा था तो किन्ही पंडित जी ने मेरी जन्म कुंडली देखकर कहा था कि जातक के पैर में शनि का चक्कर है इसलिए ये हमेशा घूमता ही रहेगा । मुझे लगता है कि वैसा ही चक्कर ज़रूर बहुत घुमक्कडों के पैरों में होता होगा । यह बात मैं टर
19 अगस्त 2020
17 अगस्त 2020
फलों , शहद और झरनों के देश क्रोएशिया में -7 14 सितम्बर 2019 से 5 अक्तूबर 2019फिर एक और शहर में हमेशा के लिए बसने का मन जहाँ रुका हूँ , वो घर एक पहाड़ी पर है । नीचे पूर्व में नीले समुद्र का विशाल फैलाव है । सीढियां उतर कर पन्द्रह बीस मिनट में समुद्र का किनारा है । दांयी तरफ बहुत विशाल और खूवसूरत म
17 अगस्त 2020
11 अगस्त 2020
थरूर की परेशानी ओर राजनीति मे जहर का घूट पीते वरिष्ठकांग्रेस अंदर ही अंदर झुलसने लगी है: अब उसके बडे नेता नेत्रत्‍व कोलेकर खुल्‍लम खुल्‍ला बेबाक हैं:सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता शशि थरूर इस मामले में सबसे आगे हैं वे कोईभी बात खुल
11 अगस्त 2020
23 जुलाई 2020
12-15 अप्रैल 2018 ‘सालज़बर्ग का “हेलब्रुन्न पैलेस यानी जादुई क़िला”अच्छी गहरी नींद के बाद अगली सुबह 12 अप्रेल को उठ कर खटाखट तैयार होकर होटल के रेस्तरां में मुफ्त का नाश्ता करने के बाद रिसेप्शन पर तहकीकात की तो अल्टास्टड होफव्रट होटल की खूबसूरत और समझदार रिसेप्शनिस्
23 जुलाई 2020
01 अगस्त 2020
राम !औरों को शाप मुक्त करके भीस्वयम रहे अभिशप्तकभी दूसरों के क्रोध से संतप्ततो कभी अपनो से त्रस्त !!राम !अकारण नही हुआ वनवास तुम्हे और न ही पत्नी हरण !!न होता -तो कैसे बनतेसहनशीलता के उत्कर्षयुग पुरुष !राम !हर युग में कोई तो विष पीता हैआक्रोश और अपमान काशिव होने को ! अकारण भग्न नही हुआ तुम्हारा जन्म
01 अगस्त 2020
23 जुलाई 2020
12-15 अप्रैल 2018 ‘सालज़बर्ग का “हेलब्रुन्न पैलेस यानी जादुई क़िला”अच्छी गहरी नींद के बाद अगली सुबह 12 अप्रेल को उठ कर खटाखट तैयार होकर होटल के रेस्तरां में मुफ्त का नाश्ता करने के बाद रिसेप्शन पर तहकीकात की तो अल्टास्टड होफव्रट होटल की खूबसूरत और समझदार रिसेप्शनिस्
23 जुलाई 2020
23 जुलाई 2020
12-15 अप्रैल 2018 ‘सालज़बर्ग का “हेलब्रुन्न पैलेस यानी जादुई क़िला”अच्छी गहरी नींद के बाद अगली सुबह 12 अप्रेल को उठ कर खटाखट तैयार होकर होटल के रेस्तरां में मुफ्त का नाश्ता करने के बाद रिसेप्शन पर तहकीकात की तो अल्टास्टड होफव्रट होटल की खूबसूरत और समझदार रिसेप्शनिस्
23 जुलाई 2020
07 अगस्त 2020
छत्तीसगढ़ में काजू....है न आश्चर्य की बात!यह आश्चर्य और खुशी की बात है कि दक्षिण के राज्यों का एकाधिकार बने काजू का उत्पादन अब छत्तीसगढ़ में भी होने लगा है और सबसे खुशी की बात तो यह है कि इसका उत्पादन लक्ष्य से तीन गुना ज्यादा हुआ है. हमें इस बात पर गर्व करना चाहिये कि विश्व में सबसे ज्यादा पसंद करन
07 अगस्त 2020
29 जुलाई 2020
‘विएना’ खूबसूरत और दिलकश प्रेमिका की तरह का एक शहरअप्रैल 12-18 , 2018
ट्रेन से उतरा तो खूबसूरत विएना ने मुझे आगे बढ़कर अपनी बाहों में भर लिया । सबसे पहले उतर कर पूछताछ खिड़की पर गया और लोकल ट्रामों, ट्रेनों और अंडर ग्राउंड ट्यूब रेलवे के बारे में जानकारी ली । पता लगा कि विएना शहर के भीतर सब प्रकार के
29 जुलाई 2020
28 जुलाई 2020
मै
परसों किसी सज्जन ने मुझे व्हाट्सएप पर संदेश दियाWhy Job ??? When U can own ur Business..........Let's learn 2 *EARN* कुछ नया व्यापार,सपनों की हर बात हासिल करने की शायद राह दिखाना चाह रहे थे। मैं भी उत्साहित था कि कुछ नया करने का मौका है।और फिर उन्होंने मुझे फोन किया।औपचारिक बातचीत के बाद उन्होंने म
28 जुलाई 2020
12 अगस्त 2020
फलों , शहद और झरनों के देश क्रोएशिया में -4 14 सितम्बर 2019 से 5 अक्तूबर 2019पोलेस का खूवसूरत मलजेट नेशनल पार्कपोलेस में, जो बड़ी बोट द्वारा दुब्रोवोनिक से 1 घंटे 45 मिनट की दूरी पर है, शांत और खूवसूरत मलजेट नेशनल पार्क है । पार्क में घूमने के लिए वहाँ उतरते ही बैटरी वाली साइकिले किराए पर मिल रही
12 अगस्त 2020
10 अगस्त 2020
फलों , शहद और झरनों के देश क्रोएशिया में -214 सितम्बर 2019 से 5 अक्तूबर 2019माटों का शराब खाना और उसकी चिन्ताएँ पुराने शहर के मुख्य दरवाज़े पर जबरदस्त भीड़ का रेला था । लंबी डीलक्स बसों में से उतर कर टूरिस्ट ग्रुप्स के झुंड के झुंड जमा थे । मुझे दिल्ली में होने वाली राजनीतिक रैलियों की याद आ गयी ।
10 अगस्त 2020
23 जुलाई 2020
12-15 अप्रैल 2018 ‘सालज़बर्ग का “हेलब्रुन्न पैलेस यानी जादुई क़िला”अच्छी गहरी नींद के बाद अगली सुबह 12 अप्रेल को उठ कर खटाखट तैयार होकर होटल के रेस्तरां में मुफ्त का नाश्ता करने के बाद रिसेप्शन पर तहकीकात की तो अल्टास्टड होफव्रट होटल की खूबसूरत और समझदार रिसेप्शनिस्
23 जुलाई 2020
28 जुलाई 2020
सालज़्बर्ग में आख़िरी दिन - अप्रैल 12-18, 2018साल्ज़ाश नदी के किनारे बसे इसी पुराने शहर के दूसरे छोर पर एक भव्य और खूबसूरत प्राचीन केथेड्रेल था । कुछ प्रार्थना जैसी हो रही थी । मैँ भी बन्द आंखों से शांत होकर बैठ गया । थोड़ी देर बाद वहां से निकल कर लव लॉक ब्रिज के पास से
28 जुलाई 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x