पैर में शनि का चक्कर यानी टर्की के शहर इस्तांबुल में आदतन घुमक्कड़ !

19 अगस्त 2020   |  दिनेश डॉक्टर   (343 बार पढ़ा जा चुका है)

पैर में शनि का चक्कर यानी टर्की के शहर इस्तांबुल में आदतन घुमक्कड़ !

पैर में शनि का चक्कर यानी टर्की के शहर इस्तांबुल में आदतन घुमक्कड़ !

मई - 2014

जब मैं छोटा था तो किन्ही पंडित जी ने मेरी जन्म कुंडली देखकर कहा था कि जातक के पैर में शनि का चक्कर है इसलिए ये हमेशा घूमता ही रहेगा । मुझे लगता है कि वैसा ही चक्कर ज़रूर बहुत घुमक्कडों के पैरों में होता होगा । यह बात मैं टर्की के शहर इस्तांबुल के बेयोग्लु में तक़सीम स्कवायर पर खड़ा दाना चुगते कबूतरों को देखते हुए, औरतों को अपने छोटे छोटे बच्चे टहलाते हुए, किसी को भुने हुए चने और किसी को भुट्टे बेचता हुआ देखता सोच रहा था । स्कवायर से लगे तक़सीम ग़ाज़ी पार्क में छाया में लोग सुस्ता रहे थे , अख़बार पढ़ रहे थे और औंधे मुँह पड़े सो रहे थे । मौसम ख़ुशगवार था । दो दिन पहले ज़ोर्डन में वादी -ए-रूम के रेगिस्तानी टीलों में था और आज यहाँ अपने देश की ही तरह अख़बार की पुड़िया में बंधे भुने हुए गर्म चने खा रहा था । फ़र्क़ ये था कि चने बड़े ज़रूर थे पर उनमें ख़ुशबू और स्वाद ‘वैसा’ नही था।

फ़ातिह का पुरानी गलियों से गुजरते हुए पैदल ही बोस्फोरस पुल की तरफ़ चल पड़ा । किसी भी नए शहर से अच्छे से परिचित होना हो तो पैदल चलने का हौसला और शौक़ अच्छा मददगार होता है । रास्ते में एक जगह का नाम तक्षशिला देखकर थोड़ा चौंका । मुझे स्मरण हो आया कि एक वक़्त में कुछ हिम्मती लोग तुर्की से भी तक्षशिला (अब पाकिस्तान में) में ज्ञानार्जन या पढ़ाने जाते रहें हैं । शायद किसी ने स्मृति के रूप में इस स्थान का नामकरण उस वक़्त के महान विश्वविद्यालय के नाम पर कर दिया हो । बाँयी तरफ़ शहर और दाँयी तरफ़ चौड़े पाट वाली बोस्फोरस नदी बह रही थी । रास्ते में एक फ़र्नीचर की दुकान पड़ी जिसमें पुराना फ़र्नीचर बिक रहा था । यूरोप के सैलानियों में पुरानी चीजों के लिए बहुत आकर्षण है । फ़र्नीचर देखते ही समझ गया कि नए फ़र्नीचर को पुराना बना कर बेचने का धंधा है ।

बोस्फोरस पुल पर लाइन से लम्बी लम्बी छड़ों वाले काँटे नदी में डाले मछली पकड़ने वाले जमे हुए थे । कुछ खड़े गप्पें मार रहे थे और कुछ अपने साथ लायी कुर्सियों और स्टूलों पर बैठे किताब या अख़बार पढ़ रहे थे और बीच बीच में सरसरी तौर पर आँख उठा कर काँटे को भी देख लेते थे । मैं भी खड़ा होकर नदी में झांकने लगा । बहुत देर तक भी जब मैंने किसी के काँटे में कोई मछली फँसती नही देखी तो मुझे लगा कि शायद मछली पकड़ना इन लोगों का सोशलाइज़िंग का और वक़्त बिताने का शग़ल है । जवान उम्र का एक लड़का और लड़की मेरे पास से गुजरे, फिर वापस मुड़कर मेरी तरफ़ आए और मुस्करा कर पूछा कि क्या मैं इंडिया से हूँ । मेरे हाँ कहने पर वहीं खड़े होकर गप्पें मारने लगे । लड़का सलमान खान - शाहरुख़ खान से मुतास्सिर था और लड़की ह्रितिक़ रोशन से । दोनों की इंडिया जाकर ताजमहल देखने की ख्वाहिश थी । पता लगा कि दोनों डेट कर रहे हैं और जल्दी ही शादी करने वाले हैं । फिर बोले आप हमारे मेहमान हैं आप हमारे घर चलिए । अब मैं थोड़ा चौकन्ना हुआ। मैंने उनका शुक्रिया किया और कहा मैं किसी परिचित का इंतेज़ार कर रहा हूँ जो यहाँ का पुलिस अफ़सर है । पुलिस का नाम सुनते ही दोनों ने एक दूसरे की तरफ़ देखा और गुड नाइट बोल कर पता नहीं क्यों जल्दी जल्दी चलते बने । जिस मुल्क की सांस्कृतिक विरासत जितनी पुरानी होती है - उसमें ठगी, बटमारी वग़ैरा का इतिहास भी बड़ा समृद्ध होता है ।

जब आप इस्तांबुल के पुराने इलाक़ों से गुज़रतें हैं तो यह अहसास कि बावजूद वक़्त की अच्छी बुरी करवटों के - ब्लैक सी और मेडिटेरिनियन समंदरों के बीच बसा डेढ़ करोड़ की आबादी वाला यह शहर - जो सत्रह सदियों तक बिजानटियम और कोंस्टाटिनपोल नाम से मुख़्तलिफ़ राजशाही घरानों की राजधानी रहा है- साढ़े पाँच या छह हज़ार बरस से यूँही मुसलसल चल रहा है, तो आपके दिल की धड़कनों में एक ख़ास क़िस्म की रवाइश पैदा हो जाती है ।

साढ़े पाँच सौ बरस पुराना - चार हज़ार दुकानों और साठ से ऊपर छत वाली गलियाँ वाला ग्रांड बाज़ार - पूरी दुनिया से साल में तीस से चालीस लाख सैलानियों के आकर्षण का केंद्र बनता है । जब आप हज़ारों तरह के सामानों से लदी और रोशनी से चकाचौंध दुकानों के बीच से हक्के बक्के हुए गुजरते हैं तो आपको समझ आ जाता है कि दुनिया में ‘शापिंग माल’ का आइडिया कहाँ से आया होगा ।

पैर में शनि का चक्कर यानी टर्की के शहर इस्तांबुल में आदतन घुमक्कड़ !
पैर में शनि का चक्कर यानी टर्की के शहर इस्तांबुल में आदतन घुमक्कड़ !
पैर में शनि का चक्कर यानी टर्की के शहर इस्तांबुल में आदतन घुमक्कड़ !
पैर में शनि का चक्कर यानी टर्की के शहर इस्तांबुल में आदतन घुमक्कड़ !
पैर में शनि का चक्कर यानी टर्की के शहर इस्तांबुल में आदतन घुमक्कड़ !
पैर में शनि का चक्कर यानी टर्की के शहर इस्तांबुल में आदतन घुमक्कड़ !
पैर में शनि का चक्कर यानी टर्की के शहर इस्तांबुल में आदतन घुमक्कड़ !

अगला लेख: ‘विएना’ खूबसूरत और दिलकश प्रेमिका की तरह एक शहर - 4 / दिनेश डाक्टर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 अगस्त 2020
फलों , शहद और झरनों के देश क्रोएशिया में -4 14 सितम्बर 2019 से 5 अक्तूबर 2019पोलेस का खूवसूरत मलजेट नेशनल पार्कपोलेस में, जो बड़ी बोट द्वारा दुब्रोवोनिक से 1 घंटे 45 मिनट की दूरी पर है, शांत और खूवसूरत मलजेट नेशनल पार्क है । पार्क में घूमने के लिए वहाँ उतरते ही बैटरी वाली साइकिले किराए पर मिल रही
12 अगस्त 2020
11 अगस्त 2020
फलों , शहद और झरनों के देश क्रोएशिया में -314 सितम्बर 2019 से 5 अक्तूबर 2019पुराने शहर का तिलिस्म माटो ने बताया था अगर पुराना शहर देखना है तो शाम का वक़्त बढ़िया रहेगा क्योंकि उस वक़्त ज्यादा टूरिस्ट खाने पीने में मस्त रहते हैं और शहर के अंदर रात के वक़्त जो लाइटिंग इफ़ेक्ट्स आते है वो पुराने शहर की ड
11 अगस्त 2020
13 अगस्त 2020
फलों , शहद और झरनों के देश क्रोएशिया में -5 14 सितम्बर 2019 से 5 अक्तूबर 2019सपनों के शहर स्प्लिट की तरफ़ पूरे रास्ते बांयी तरफ खूवसूरत नीला एड्रियाटिक समुद्र लहराता दिखाई देता है और कम चौड़ी महज दो लेन वाली सड़क पर चौकस रह कर ड्राइविंग करनी पड़ती है । बीच में कुछ जगह व्यू पॉइंट्स पर रुक कर फोटो भी
13 अगस्त 2020
12 अगस्त 2020
श्
।।श्रीमते रामानुजाय नमः।।श्रीरामानुज स्वामी की मेलकोटे की यात्रा-------------------------------------------------श्रीरामानुज स्वामी जी के मार्गदर्शन में सभी वैष्णव श्रीरंगम् में आनन्द मंगल से रह रहे थे। तभी एक दुष्ट राजा , जो शैव सम्प्रदाय से सम्बन्ध रखता था, विचार किया कि शिवजी की श्रेष्ठता को स्थ
12 अगस्त 2020
11 अगस्त 2020
फलों , शहद और झरनों के देश क्रोएशिया में -314 सितम्बर 2019 से 5 अक्तूबर 2019पुराने शहर का तिलिस्म माटो ने बताया था अगर पुराना शहर देखना है तो शाम का वक़्त बढ़िया रहेगा क्योंकि उस वक़्त ज्यादा टूरिस्ट खाने पीने में मस्त रहते हैं और शहर के अंदर रात के वक़्त जो लाइटिंग इफ़ेक्ट्स आते है वो पुराने शहर की ड
11 अगस्त 2020
13 अगस्त 2020
फलों , शहद और झरनों के देश क्रोएशिया में -5 14 सितम्बर 2019 से 5 अक्तूबर 2019सपनों के शहर स्प्लिट की तरफ़ पूरे रास्ते बांयी तरफ खूवसूरत नीला एड्रियाटिक समुद्र लहराता दिखाई देता है और कम चौड़ी महज दो लेन वाली सड़क पर चौकस रह कर ड्राइविंग करनी पड़ती है । बीच में कुछ जगह व्यू पॉइंट्स पर रुक कर फोटो भी
13 अगस्त 2020
05 अगस्त 2020
‘विएना’ खूबसूरत और दिलकश प्रेमिका की तरह एक शहर - 4विदा विएना विदा ! फिर लौट आऊँगा !!! अप्रैल 12-18 , 2018
अगले सात दिनों में विएना में इतने म्यूजियम देखे, इतने पुराने किले और तकनीकी रूप से इतनी पुरानी पर उत्कृष्ट इमारते देखी और इतना घूमा देखा कि एक पूरी किताब उस पर आराम से लिखी जा सकती है। ग्लोब म्
05 अगस्त 2020
12 अगस्त 2020
फलों , शहद और झरनों के देश क्रोएशिया में -4 14 सितम्बर 2019 से 5 अक्तूबर 2019पोलेस का खूवसूरत मलजेट नेशनल पार्कपोलेस में, जो बड़ी बोट द्वारा दुब्रोवोनिक से 1 घंटे 45 मिनट की दूरी पर है, शांत और खूवसूरत मलजेट नेशनल पार्क है । पार्क में घूमने के लिए वहाँ उतरते ही बैटरी वाली साइकिले किराए पर मिल रही
12 अगस्त 2020
12 अगस्त 2020
फलों , शहद और झरनों के देश क्रोएशिया में -4 14 सितम्बर 2019 से 5 अक्तूबर 2019पोलेस का खूवसूरत मलजेट नेशनल पार्कपोलेस में, जो बड़ी बोट द्वारा दुब्रोवोनिक से 1 घंटे 45 मिनट की दूरी पर है, शांत और खूवसूरत मलजेट नेशनल पार्क है । पार्क में घूमने के लिए वहाँ उतरते ही बैटरी वाली साइकिले किराए पर मिल रही
12 अगस्त 2020
10 अगस्त 2020
फलों , शहद और झरनों के देश क्रोएशिया में -214 सितम्बर 2019 से 5 अक्तूबर 2019माटों का शराब खाना और उसकी चिन्ताएँ पुराने शहर के मुख्य दरवाज़े पर जबरदस्त भीड़ का रेला था । लंबी डीलक्स बसों में से उतर कर टूरिस्ट ग्रुप्स के झुंड के झुंड जमा थे । मुझे दिल्ली में होने वाली राजनीतिक रैलियों की याद आ गयी ।
10 अगस्त 2020
05 अगस्त 2020
‘विएना’ खूबसूरत और दिलकश प्रेमिका की तरह एक शहर - 4विदा विएना विदा ! फिर लौट आऊँगा !!! अप्रैल 12-18 , 2018
अगले सात दिनों में विएना में इतने म्यूजियम देखे, इतने पुराने किले और तकनीकी रूप से इतनी पुरानी पर उत्कृष्ट इमारते देखी और इतना घूमा देखा कि एक पूरी किताब उस पर आराम से लिखी जा सकती है। ग्लोब म्
05 अगस्त 2020
10 अगस्त 2020
फलों , शहद और झरनों के देश क्रोएशिया में -214 सितम्बर 2019 से 5 अक्तूबर 2019माटों का शराब खाना और उसकी चिन्ताएँ पुराने शहर के मुख्य दरवाज़े पर जबरदस्त भीड़ का रेला था । लंबी डीलक्स बसों में से उतर कर टूरिस्ट ग्रुप्स के झुंड के झुंड जमा थे । मुझे दिल्ली में होने वाली राजनीतिक रैलियों की याद आ गयी ।
10 अगस्त 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x