स्‍वतंत्रता दिवस: जानिए उन दो शख्सियतों को, जिन्होंने किया था भारत-पाक के बीच संपत्तियों का बंटवारा

14 अगस्त 2018   |  कुनाल मंजुल   (111 बार पढ़ा जा चुका है)

स्‍वतंत्रता दिवस: जानिए उन दो शख्सियतों को, जिन्होंने किया था भारत-पाक के बीच संपत्तियों का बंटवारा

नई दिल्ली : भारत को लंबे संघर्ष के बाद अंग्रेजों की गुलामी से मुक्ति मिलने जा रही थी. स्वतंत्रता की तारीख (Independence Day) मुकर्रर हो गई थी. देश में हर तरफ जश्न का माहौल था, लेकिन जैसे-जैसे यह तारीख (15 अगस्त) नजदीक आती जा रही थी दिल्ली के वायसराय हाउस में माउंटबेटेन के चेहरे पर शिकन भी बढ़ती जा रही थी. इस शिकन की बड़ी वजह भारत के बंटवारे के बाद पैदा हुए हालात तो थे ही, लेकिन उससे कहीं ज्यादा चिंताजनक था दोनों देशों के बीच संपत्तियों का बंटवारा. भारत और बंटवारे के बाद एक नए मुल्क की शक्ल लेने वाले पाकिस्तान के बीच संपत्तियों के विभाजन को लेकर कोई सहमति ही नहीं बन पा रही थी. इधर ज्यों-ज्यों आजादी की तारीख नजदीक आती माउंटबेटेन की चिंता भी बढ़ती जाती. तमाम मशक्कत-मशविरे के बाद जब कोई हल नहीं निकला तो संपत्तियों के बंटवारे के लिए दो लोगों को चुना गया.


बंटवारे का जिम्मा एक हिंदू और एक मुसलमान को मिला
माउंटबेटेन ने दोनों देशों के बीच संपत्तियों के बंटवारे की जिम्मेदारी जिन दो लोगों को देने का निर्णय लिया वे संबंध विच्छेद के मुकदमे में दोनों पक्षों के वकील की हैसियत रखते थे. दोनों बेहद अनुभवी अधिकारी थे. एक जैसे सरकारी बंगले में रहते थे. एक जैसी शेवरलेट गाड़ियों में दफ्तर जाते थे. और दफ्तर चंद कदम की दूरी पर था. इनमें से एक हिंदू था और दूसरा मुसलमान. ये दोनों शख्स थे चौधरी मुहम्मद अली और एच एम पटेल.


दोनों को बंटवारे के लिए कमरे में कर दिया गया बंद
बंटवारे के लिए दो शख्स तय तो कर दिये गए, लेकिन अभी भी जो सबसे बड़ी दिक्कत थी वो ये कि आखिर कर्जे की रकम का भुगतान कौन करेगा. अंग्रेजों के उपर करीब 5 अरब डॉलर का कर्ज था. दोनों देशों के बीच तकरार भी यही थी कि आखिर इस रकम का भुगतान कौन करेगा. यह विवाद इतना ज्यादा बढ़ गया कि एच एम पटेल और चौधरी मुहम्मद अली को सरदार पटेल के घर के एक कमरे में बंद कर दिया गया और तय हुआ कि जब तक वे किसी नतीजे पर नहीं पहुंचते हैं तब तक उन्हें वहीं रहना पड़ेगा. डॉमिनिक लॉपियर और लैरी कॉलिन्स अपनी मशहूर किताब 'फ्रीडम एट मिडनाइट' में इस घटना का जिक्र करते हुए लिखते हैं कि रेहड़ी-पटरी वालों की तरह मोल-तोल और कई दिनों की मशक्कत के बाद आखिर दोनों इस नतीजे पर पहुंचे कि बैंकों में मौजूद नगद रकम और अंग्रेजों से मिलने वाले पौंड-पावने का 17.5 प्रतिशत हिस्सा पाकिस्तान को मिलेगा और भारत के ऋण का 17.5 हिस्सा वह चुकाएगा.


सोफे से लेकर कमोड तक बंटे

बंटवारा सिर्फ देश का ही नहीं हुआ, सोफा, कुर्सी, मेज, कमोड, साइकिल और पानी पीने के जग का भी हुआ. और इन सामानों के बंटवारे के वक्त दोनों देशों के अधिकारियों के बीच बाकायदा लड़ाईयां तक हुईं. डॉमिनिक लॉपियर व लैरी कॉलिन्स लिखते हैं कि विभाग के बड़े अधिकारियों ने अच्छे टाइपराइटर तक छिपा दिये. कलमदान के बदले पानी का जग और हैट के बदले खूंटी स्टैंड तक बदला गया. सबसे ज्याजा जूतम-पैजार तो छूरी-कांटो को लेकर हुई. हां...एक चीज पर कोई बहस नहीं थी या यूं कहें कि पाकिस्तान को यह चाहिये ही नहीं था. वह थी शराब. बंटवारे के वक्त शराब भारत के हिस्से में आई और पाकिस्तान को उसके बदले पैसे दिये गए.


https://khabar.ndtv.com/news/jashn-e-azaadi/indian-independence-day-2018-how-property-dispute-solved-between-india-and-pakistan-after-partition-1900228?trendingnow

अगला लेख: हिंदी में मज़ेदार चुटकुले, हँसते-हँसते हो जायेंगे लोट-पोट !



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 अगस्त 2018
72वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर हम आपको बता रहे हैं, देश में मौजूद एक ऐसे रेलवे स्टेशन के बारे में जिसके अंदर जाने के लिए पासपोर्ट और वीजा की जरूरत होती है।सुनने में बड़ा अजीब लगता है न, कि विदेश जाने के लिए पासपोर्ट और वीजा चाहिए और यहां रेलवे स्टेशन में जाने के लिए, पर
14 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
गोरखपुरउत्तर प्रदेश राज्य के पूर्वी भाग में नेपाल के साथ सीमा के पास स्थित भारत का एक प्रसिद्ध शहर है। यह गोरखपुर जिले का प्रशासनिक मुख्यालय भी है। यह एक धार्मिक केन्द्र के रूप में मशहूर है जो बौद्ध, हिन्दू, मुस्लिम, जैन और सिख सन्तों की साधनास्थली रहा। किन्तु मध्ययुगीन सर्वमान्य सन्त गोरखनाथ के बाद
14 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
72वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर हम आपको बता रहे हैं, देश में मौजूद एक ऐसे रेलवे स्टेशन के बारे में जिसके अंदर जाने के लिए पासपोर्ट और वीजा की जरूरत होती है।सुनने में बड़ा अजीब लगता है न, कि विदेश जाने के लिए पासपोर्ट और वीजा चाहिए और यहां रेलवे स्टेशन में जाने के लिए, पर
14 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
बोधगया – बौद्धों का पूजनीय स्थलअंतरराष्ट्रीय पर्यटन की नज़र से देखे तो बोधगया बिहार का सबसे सुप्रसिद्ध स्थान है। बिहार में यह इकलौती ऐसी जगह है जो विश्व धरोहर के दो स्थलों में से एक है। बौद्धों के लिए यह जगह बहुत ही पूजनीय है क्योंकि, इसी स्थान पर बोधि वृक्ष के नीचे बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति हुई थी।
14 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
जिस देश में गंगा बहती है: शैलेन्द्रहोठों पे सच्चाई रहती है, जहां दिल में सफ़ाई रहती हैहम उस देश के वासी हैं, हम उस देश के वासी हैंजिस देश में गंगा बहती हैमेहमां जो हमारा होता है, वो जान से प्यारा होता हैज़्यादा की नहीं लालच हमको, थोड़े मे गुज़ारा होता हैबच्चों के लिये जो धरती माँ, सदियों से सभी कुछ
14 अगस्त 2018
13 अगस्त 2018
वे बुद्धिमानी होते हैं। वे परिवार उन्मुख भी होते हैं। उनकी यादाश्त बहुत तेज़ होती हैं| वो भावनाओं को महसूसकरने में सक्षम होते हैं, गहन दुःख से लेकर आनंद के किनारे खुशी के साथ-साथसहानुभूति और आश्चर्यचकित करने वाली आत्म-जागरूकता होती है इ
13 अगस्त 2018
10 अगस्त 2018
'10 अगस्त'को प्रत्येक वर्ष 'डेंगू निरोधकदिवस' मनाया जाताहै। इसका उद्देश्यलोगों में डेंगूके प्रति जागरुकताफैलाना तथा उन्हें इसकेप्रति सचेत करना भी है| डेंगू दुनिया केकई हिस्सों मेंतेजी से उभरतीमहामारी-प्रवण वायरल बीमारीहै। डेंगू (Dengue) एक मच्छरसे उत्पन्न होनेवाला
10 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
वीरों को शत्-शत् नमन करते हुए समस्त देशवासियों को 72वें स्वाधीनता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ ! ***स्वतंत्र भारत… मेरा भारत*** लेख स्वतंत्र है भारत देश हमारा इस मिट्टी के हम वासी हैं । भारत देश की शान की खातिर हर राही के हम साथी हैं । सीमा की रक्षा पर जो वीर तैनात हैं भारतवासी हैं । उनके हर कतरे
14 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
आज सुनील शेट्टी उर्फ़ अन्ना को भारत का अर्नोल्ड कहा जाता है. उनकी एक्टिंग भी अपने आप में सबसे हटके है. अगर 90 के दशक की बात करें, तो सुनील शेट्टी के बिना कोई फ़िल्म बनाने की सोचना भी मुश्किल था. उस समय सुनील शेट्टी मूवी के हिट होने की गारंटी थे. अपने अभी तक के करियर में उन्
14 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
72वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर हम आपको बता रहे हैं, देश में मौजूद एक ऐसे रेलवे स्टेशन के बारे में जिसके अंदर जाने के लिए पासपोर्ट और वीजा की जरूरत होती है।सुनने में बड़ा अजीब लगता है न, कि विदेश जाने के लिए पासपोर्ट और वीजा चाहिए और यहां रेलवे स्टेशन में जाने के लिए, पर
14 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x