पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुरुदास कामत का हार्ट अटैक से दिल्ली में निधन

22 अगस्त 2018   |  प्रियंका   (60 बार पढ़ा जा चुका है)

पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुरुदास कामत का हार्ट अटैक से दिल्ली में निधन

पूर्व केंद्रीय मंत्री व वरिष्ठ कांग्रेस नेता गुरुदास कामत का दिल्ली के चाणक्यपुरी इलाके में स्थित प्राइमस अस्पताल में निधन हो गया है। कामत को सांस लेने में दिक्कत होने के बाद सुबह करीब सात बजे अस्पताल लाया गया, जहाँ उनकी मौत हो गई | मौत की वजह हार्ट अटैक थी | वह 63 वर्ष के थे |


कामत के नजदीकी बता रहे है कि गुरुदास कामत पिछले काफी समय से बीमार चल रहे थे | कामत दिल्ली में अपनी पत्नी महरुख और बेटे सुनील के साथ रहते थे |


दिल्ली के अस्पताल में गुरुदास कामत ने आखिरी सांस ली (फोटो क्रेडिटः सोशल मीडिया)

कामत के निधन का समाचार सुनकर तुरंत कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी प्राइमस अस्पताल पहुंचीं , जहाँ कामत का पार्थिव शारीर था |




कामत मनमोहन सरकार में मंत्री रह चुके है | वे अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव व कांग्रेस कार्यसमिति के सदस्य़ भी रहे।


कामत 2009 में उत्तर-पश्चिम मुंबई संसदीय सीट से लोकसभा सदस्य रहे. वह 1984, 1991, 1998 और 2004 में भी उत्तर-पूर्व मुंबई संसदीय सीट से चुनकर लोकसभा पहुंचे थे. वह 2009 से 2011 तक केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री रहे | कामत ने साल 2017 में कामत ने पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया था | हालांकि उनकी पार्टी के भीतर सक्रियता बरकरार थी |


आज दोपहर उनका शरीर मुंबई वापस ले जाया जाएगा और अंतिम दर्शन के लिए उनके पार्थिव शरीव को मुंबई के चेंबूर स्थित अवास पर रखा जाएगा |

अगला लेख: देश की सर्वोच्च अदालत सुप्रीम कोर्ट ने धारा 377 को हटाते हुए समलैंगिकता को अपराध की श्रेणी से हटा दिया है



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 सितम्बर 2018
भारत के सुप्रीम कोर्ट ने आज देश मे समलैंगिक संबंधों पर ऐतिहासिक फैसला दिया है। मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अगुवाई वाली सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ ने दो व्यस्को के बीच सहमति से बनाये गए समलैंगिक संबंधों को अपराध मनाने वाली धारा 377 से बाहर कर दिया है। सुप्रीम ने अपने फैसले में कहा कि बहुमत से सभ
06 सितम्बर 2018
01 सितम्बर 2018
बीजेपी के लिए बिहार में मुश्किल बढ़ती जा रही है. SC/ST एक्ट को लेकर सरकार द्वारा लाये गये अध्यादेश से सवर्ण वर्ग बीजेपी से खफा हो गये है. दो दिन पहले सवर्णों द्वारा भारत बंद का आयोजन किया गया था जिसका असर पुरे बिहार में देखने को मिला, खासकर सवर्ण बहुल जिलों में इसका ज्यादा
01 सितम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x