कोई ऐसा भी है

12 नवम्बर 2018   |  अरुण कुमार सिंह (अरख)   (50 बार पढ़ा जा चुका है)

वो #मुस्लिम होकर भी #हिन्दू प्रेम का #कर्तव्य समझा गये---

वो #हिन्दू होकर #मुस्लिम की #अहमियत को दर्शा गये ---

#संवेदना यह है फिर भी दोनों के #बंदे

#समाज को #चूर्णित कर गये---

- अरुण आरख "मलिहाबादी"

अगला लेख: मुर्ख जनता महामूर्ख प्रतिनिधि



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 नवम्बर 2018
सं
✒️दान-धर्म की महिमा क्या तुम, समझ गये हो दानवीर?अगर नहीं तो आ जाओ अब, संसद के गलियारों में।रणक्षेत्रों की बात पुरानीभीष्म, द्रोण युग बीत गए हैं,रावण, राम संग लक्ष्मण भीपग-पग धरती जीत गये हैं,कलि मानस की बात सुनी क्या, कौन्तेय हे वीर कर्ण?अगर नहीं तो आ जाओ अब, संसद के गलियारों में।रथी बड़े थे, तुम द्व
03 नवम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
इतिहास की बात की जाये तो पूरे देश के इतिहास को यदि तराजू के एक तरफ रख दें और केवल मेवाड़ के ही इतिहास को दूसरी ओर रख दें, तो भी मेवाड़ का पलड़ा हमेशा भारी ही रहेगा | कभी गुलामी स्वीकार न करने वाले शूरवीर महाराणा प्रताप ने इतने संघर्षों के बाद अकबर को मेवाड़ से खदेड़ने पर मजबूर कर दिया था |न जाने मेव
21 नवम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
तै
12 नवम्बर 2018
R
13 नवम्बर 2018
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x