Google Doodle: गूगल ने बनाया इस शख्स का डूडल, जानिए कौन थे Friedlieb Ferdinand Runge

08 फरवरी 2019   |  अंकिशा मिश्रा   (34 बार पढ़ा जा चुका है)

Google Doodle: गूगल ने बनाया इस शख्स का डूडल, जानिए कौन थे Friedlieb Ferdinand Runge - शब्द (shabd.in)

जर्मन कैमिस्ट फ्रेडलीब फर्डिनेंड रुंज (Friedlieb Ferdinand Runge) के 225वें जन्मदिन पर Google ने डूडल (Google Doodle) बनाया है। इनका जन्म 8 फरवरी 1794 को हैम्बर्ग में हुआ था।

जर्मनी के इस विख्यात कैमिस्ट ने कैफीन की खोज की थी जो कॉफी में पाया जाता है।

जानिए क्या होता है कैफीन?

कैफीन जर्मन शब्द काफी (Kaffee) से निकला है। हम जब भी थकान महसूस करते हैं तो ये पदार्थ हमारे शरीर में जाकर हमें नयी उर्जा देता है।

Friedlieb Ferdinand Runge's 225th Birthday


रुंज ने कोलतार डाई की भी खोज की थी। इन्होंने बर्लिन यूनिवर्सिटी (Berlin University) से डॉक्टरेट की पढ़ाई पूरी की और 1831 तक ब्रेसलो यूनिवर्सिटी में पढ़ाया।


इतना ही नहीं दोस्तों इन्होंने किशोरावस्था से ही प्रयोग करना शुरू कर दिए थे। इनके प्रयोगों की लिस्ट काफी लंबी है।


जैसे की फ्रेडलीब फर्डिनेंड रुंज ने पेपर क्रोमैटोग्राफी के एक ऑरिजिनेटर के रूप में भी योगदान दिया. उन्होंने चुकंदर के रस से चीनी निकालने के लिए एक तरीका भी दुनिया को दिया।




साथ ही वह दुनिया के वो पहले वैज्ञानिक हैं जिन्होंने कुनैन जो कि मलेरिया के इलाज के लिए प्रयोग की जाने वाली दवा को अलग किया है। रुंज की मृत्यु 25 मार्च 1867 को जर्मनी के ऑरेनियनबर्ग में हुई।


लेकिन ये सिर्फ इनकी ज़िदगी का एक पहलू है इनकी ज़िदंगी में और भी कई पहलू हैं इन्होंने दुनिया को कई ऐसे सुझाव भी दिए जिन पर कभी भी अमल नहीं किया गया।

रुंज ने एक सुझाव ये दिया है कि बूचड़खाने के अवशेषों को खेती में इस्तेमाल किया जाए। उनका मानना था कि ऐसा करने से खेती की उर्वरकता को बढ़ाया जा सकता है। लेकिन उनके इस सुझाव को माना नहीं गया।


अगला लेख: Basic Shiksha News: भारत में साक्षरता दर का पूर्ण विवरण



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 जनवरी 2019
हर माँ-बाप अपने बच्चों के लिए कोई न कोई सपना ज़रूर देखते हैं कोई चाहता हैं उनका बच्चा डॉक्टर बने तो किसी का ख्वाब होता है कि उनका बच्चा इंजीनियर बने लेकिन आपको ये बात सुनकर थोड़ी हैरानी होगी कि उत्तर प्रदेश के मैनपुरी ज़िले में नगला दरबारी नाम का एक गांव है, जहां माता-पिता बच्चों को इंजीनियर या डॉक्टर
30 जनवरी 2019
07 फरवरी 2019
कभी किसी से बिछड़ने का दुख, कभी कुछ हारने के दुख, कभी किसी की याद का दुख, कुछ ना कुछ दुख हम हमेशा झेल रहे होते हैं। इसीलिए आज हम आपके लिए कुछ ऐसे ही सैड शायरी इन हिन्दी (girls sad shayri in hindi|) लेकर आये है, जिससे कि आप अपने दुखों को भी लोगो को समझा सकें।Girls Sad Shayari in hindi #1 उतरे जो ज़िन्द
07 फरवरी 2019
05 फरवरी 2019
हिंदू धर्म में किसी की मौत के बाद उसका अंतिम संस्कार किया जाता है, शव को मुखाग्नि दी जाती है औऱ फिर उसकी अस्थियों को गंगा जी में प्रवाहित किया जाता हैं। ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से मृतक की आत्मा को शांति मिलती है और मोक्ष की प्राप्ति होती है। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बताएंगे जिनक
05 फरवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x