जिस्म मंडी की रेशमा

24 अप्रैल 2020   |  आलोक कौशिक   (314 बार पढ़ा जा चुका है)

जिस्म मंडी की रेशमा

सीमा परवीन उर्फ रेशमा को बेगमसराय के महबूबा जिस्म मंडी में उसके चाहने वाले उसके हसीन और आकर्षक जिस्म के कारण सनी लियोन के नाम से पुकारते थे। उसके आशिक़ों में सफ़ेदपोश, काले कोट और ख़ाकी वाले भी शामिल थे। जिस्म बेचना कभी भी उसकी मजबूरी नहीं रही। वह इस धंधे में इसलिए आई थी क्योंकि उसे लगता था कि रईस बनने का यह सबसे आसान तरीक़ा है। उसका मानना था कि यह व्यवसाय आदि काल से चल रहा है और अनंत काल तक चलता रहेगा।

एक बार जब पैसे को लेकर उसकी लड़ाई महबूबा जिस्म मंडी के सबसे पुराने दलाल नीरज देव के साथ हुई थी तो नीरज देव ने उससे कहा था - "इतना घमंड अच्छा नहीं है रेशमा! इस पेशे में जब तक जवानी है तभी तक पैसे हैं। जैसे ही जवानी ढलनी शुरू होती है, लोग भूलना शुरू कर देते हैं। तब ना ही हुस्न की तारीफ़ करने वाले ग्राहक होते हैं और ना ही लत बन चुके शौक़ों को पूरा करने के लिए पैसे।"

"तू सिर्फ़ अपनी फ़िक्र कर, मेरी नहीं। जब अभी मेरे पास लाखों हैं तो जवानी ढलने से पहले तक करोड़ों हो जाएंगे। मेरे शौक़ जिस तरह से आज पूरे हो रहे हैं, कल भी उसी तरह से पूरे होंगे।" यह कहते हुए रेशमा ने नीरज देव को धक्के मार कर अपने कमरे से बाहर निकाल दिया था।

इस घटना को पंद्रह वर्ष हो चुके थे और रेशमा अपने जिस्म से करोड़ों रुपए कमा चुकी थी। लेकिन अब उसके हुस्न के क़दरदाऩों की संख्या पहले से काफ़ी कम हो गई थी। उसे नीरज देव की कही हुई बातें याद आने लगीं। इसलिए काफ़ी सोच-विचार करने के बाद उसने अपनी जमा पूंजी को होटल उद्योग में लगाने का सोचा।

रेशमा बहुत उत्साहित थी, क्योंकि कल वह अपनी सारी जमा पूंजी से एक होटल खरीदने वाली थी। उसे लग रहा था जैसे कल उसका नया जन्म होने वाला हो। ख़ूबसूरत भविष्य के सपने में खोए हुए उसे कब नींद आ गई उसको पता भी नहीं चला।

अगले दिन जब सूर्योदय हुआ उसके ख़ूबसूरत भविष्य का सूर्यास्त हो चुका था। कोई अज्ञात चोर उसके शयनकक्ष की अलमारी से उसकी सारी जमा पूंजी चुरा कर ले जा चुका था। उसके रसूख़ के कारण पूरे शहर की पुलिस उस अज्ञात चोर की तलाश में लग गई थी। पुलिस ने चौबीस घंटे के भीतर ही उस चोर की लाश एक निर्माणाधीन भवन से बरामद कर लिया था। लेकिन चुराए गए पैसे बरामद नहीं हो सके थे। फिर भी पुलिस की तफ़्तीश जारी थी।

इस घटना से रेशमा को गहरा सदमा लगा और वह बीमार रहने लगी। अब कोई उससे मिलने भी नहीं आता था। उसकी ऐसी हालत देखकर नीरज देव को उस पर दया आ गई। वह रेशमा को लेकर डॉक्टर के पास पहुंच गया। शारीरिक जांच करने के उपरांत डॉक्टर ने बताया कि रेशमा विषाणु जनित महामारी 'कोरोना' से संक्रमित हो गई है। रेशमा का इलाज चला और कुछ ही दिनों में वह पूरी तरह से ठीक हो गई। लेकिन वायरस के प्रसार को रोकने के लिए तब तक पूरे देश को लॉकडाउन कर दिया गया था। रेशमा की सेहत तो ठीक हो गई थी परंतु उसकी आर्थिक स्थिति पूरी तरह से बिगड़ चुकी थी। रेशमा ने सोचा - "जब तक देश में लॉकडाउन चल रहा है तभी तक ज्यादा परेशानी है। लॉकडाउन खत्म होने के बाद इस जिस्म से जीने लायक पैसे तो कमा ही लूंगी।"

दो महीने बाद देश से लॉकडाउन को हटाया गया। धीरे-धीरे लोग सामान्य जीवन जीने लगे। लेकिन कोरोना वायरस के संक्रमण के डर से अब कोई भी आदमी महबूबा जिस्म मंडी में नहीं दिखता था। जिन गलियों से हमेशा घुंघरुओं की आवाज़ आती रहती थी उन गलियों में अब केवल सन्नाटा छाया रहने लगा। रेशमा ने अपने सभी पुराने चाहने वालों को फ़ोन किया, लेकिन सबने कोरोना वायरस का डर बता कर आने से इंकार कर दिया। फिर एक बार रेशमा को अपने चुरा लिए गए पैसों की याद आई तो उसने पैसों की बरामदगी के विषय में जानने के लिए दारोग़ा को फ़ोन किया। दारोग़ा ने "तफ़्तीश जारी है" कहकर फोन काट दिया।

दो दिन बाद पुलिस ने रेशमा की अलमारी से चुराए गए पैसे बरामद कर लिए और असली अपराधी नीरज देव को भी गिरफ़्तार कर लिया। पैसे की बरामदगी की जानकारी देने के लिए पुलिस रेशमा के कोठे पर आती है, जहां रेशमा मृत अवस्था में पाई जाती है।


✍️ आलोक कौशिक


संक्षिप्त परिचय:-


नाम- आलोक कौशिक

शिक्षा- स्नातकोत्तर (अंग्रेजी साहित्य)

पेशा- पत्रकारिता एवं स्वतंत्र लेखन

साहित्यिक कृतियां- प्रमुख राष्ट्रीय समाचारपत्रों एवं साहित्यिक पत्रिकाओं में सैकड़ों रचनाएं प्रकाशित

पता:- मनीषा मैन्शन, जिला- बेगूसराय, राज्य- बिहार, 851101,

अणुडाक- devraajkaushik1989@gmail.com

चलभाष संख्या- 8292043472

अगला लेख: नन्हे राजकुमार



गुस्ताखी माफ़ लघु कथा में इतने ट्विस्ट ?

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 अप्रैल 2020
"अगले हफ्ते डैडी घर आ रहे हैं। मैं आप दोनों की करतूतों के बारे में डैडी को जरूर बताऊंगी। घर को नर्क बना कर रख दिया है।" ज्योति ने अपनी मां और चाचा को धमकाते हुए कहा। ज्योति तेईस वर्षीया युवती थी। ज्योति के पिताजी निर्मल सिंह फ़ौजी थे और मां नीलम देवी उपचारिका (नर्स) थीं। मनीष और आकाश दो छोटे भाई थे।
11 अप्रैल 2020
30 अप्रैल 2020
प्रतिमा नाम था उसका, हमेशा मुस्कुराती रहती, ऐसा लगता कि मानों ज़िंदगी बहुत आसान है उसके लिए, ना पढ़ाई को गंभीरता से लेती ना जीवन को, उसकी हमेशा की ये आदत थी सभी क्लॉस में पढ़ने वाली सभी लड़कियों से कहना कि आज पार्टी दो ना, मजबूर कर देती थी उन लड़कियों को घर से पैसे मांगने के लिए, खुद भी देती थी, हाल
30 अप्रैल 2020
11 अप्रैल 2020
"अगले हफ्ते डैडी घर आ रहे हैं। मैं आप दोनों की करतूतों के बारे में डैडी को जरूर बताऊंगी। घर को नर्क बना कर रख दिया है।" ज्योति ने अपनी मां और चाचा को धमकाते हुए कहा। ज्योति तेईस वर्षीया युवती थी। ज्योति के पिताजी निर्मल सिंह फ़ौजी थे और मां नीलम देवी उपचारिका (नर्स) थीं। मनीष और आकाश दो छोटे भाई थे।
11 अप्रैल 2020
20 अप्रैल 2020
कई वर्ष पश्चात दूरदर्शन पर धारावाहिक 'रामायण' के पुनः प्रसारण से कौशल्या देवी बहुत खुश थीं। सुबह के नौ बजते ही टेलीविजन के सामने हाथ जोड़ कर बैठ जाती थीं। आज रामायण देखते हुए वह अत्यंत भावविभोर हो रही थीं। सीता एवं लक्ष्मण को राम के संग वन जाते हुए देखकर कौशल्या देवी की आंखों से अश्रु प्रवाहित होने
20 अप्रैल 2020
11 अप्रैल 2020
"अगले हफ्ते डैडी घर आ रहे हैं। मैं आप दोनों की करतूतों के बारे में डैडी को जरूर बताऊंगी। घर को नर्क बना कर रख दिया है।" ज्योति ने अपनी मां और चाचा को धमकाते हुए कहा। ज्योति तेईस वर्षीया युवती थी। ज्योति के पिताजी निर्मल सिंह फ़ौजी थे और मां नीलम देवी उपचारिका (नर्स) थीं। मनीष और आकाश दो छोटे भाई थे।
11 अप्रैल 2020
02 मई 2020
शीला देखने में काफी सुंदर है, बड़ी बड़ी आंखे,घुंघराले बाल और दूध सी दमकती त्वचा और साथ गुणवंती भी थी, उसके ससुर को वो देखतेही भा गई तो उसने अपनी बेटे मनोज का रिश्ता उसके साथ तय कर दिया, मनोज टॉप केकॉलेज से पढ़ा लिखा था और सिर्फ अंग्रेजी में ही बात करना पसंद करता था, तो वहीशीला संस्कृत में एम ए पास थ
02 मई 2020
01 मई 2020
कामिनी देवी जब कभी भी अपने राइस मिल पर जाती थीं, माधो से ज़रूर मिलती थीं। माधो उनकी राइस मिल में कोई बड़ा कर्मचारी नहीं, बल्कि एक मज़दूर था। राइस मिल में काम करने वाले सभी लोगों का मानना था कि माधो कामिनी मैडम का सबसे विश्वासी कामगार है क्योंकि वह कभी झूठ नहीं बोलता। माधो गठीले बदन वाला छब्बीस वर्षीय
01 मई 2020
04 मई 2020
क्षमा मिश्रा नाम था उसका। लेकिन मोहल्ले के सारे लड़के उसे छमिया कह कर पुकारते थे। महज़ अठारह बरस की उम्र में मोहल्ले में हुई अठाईस झगड़ों का कारण बन चुकी थी वो। उसका कोई भी आशिक़ चार महीने से ज्यादा उसकी फ़रमाइशों को पूरी नहीं कर पाता था। इसलिए प्रत्येक चार महीने बाद क्षमा के दिल के रजिस्टर पर नए आशिक़
04 मई 2020
06 मई 2020
गोयल साब ने मुंडी घुमाकर केबिन के शीशे से बैंकिंग हाल में नज़र मारी. तीनों कैशियर बिज़ी थे. बाकी सीटों पर भी दो चार लोग खड़े थे. एक सम्मानित ग्राहक ऑफिसर से गुथमगुत्था हो रहा था पर अभी बीच बचाव का समय नहीं आया था. कुल मिला कर चहल पहल थी अर्थात ब्रांच नार्मल थी. इन्क्वायरी सी
06 मई 2020
19 अप्रैल 2020
मिलता है विषाद इसमें इसमें ही मिलता हर्ष है कहते हैं इसको जीवन इसका ही नाम संघर्ष है दोनों रंगों में यह दिखता कभी श्याम कभी श्वेत में कुछ मिलता कुछ खो जाता रस जीवन का है द्वैत में लक्ष्य होते हैं पूर्ण कई थोड़े शेष भी रह जाते हैं स्वप्न कई सच हो जाते कुछ नेत्रों से बह जाते हैं चाहे बिछे हों पथ में क
19 अप्रैल 2020
16 अप्रैल 2020
डीएम ऑफिस से आने के बाद से ही दीपमाला बहुत दुखी और परेशान थी। वह आईने के सामने खड़ी होकर अपने ढलते यौवन और मुरझाए सौंदर्य को देखकर बेतहाशा रोए जा रही थी। ऐसा लग रहा था मानो वह आईने से कह रही हो कि तुम भी लोगों की तरह झूठे हो। आज तक मुझे सिर्फ झूठ दिखाते रहे। कभी सच देखने ही नहीं दिया। उसने रात का खा
16 अप्रैल 2020
10 अप्रैल 2020
बनारस की गली में दिखी एक लड़की देखते ही सीने में आग एक भड़की कमर की लचक से मुड़ती थी गंगा दिखती थी भोली सी पहन के लहंगा मिलेगी वो फिर से दाईं आंख फड़की बनारस की गली में... पुजारी मैं मंदिर का कन्या वो कुआंरी निंदिया भी आए ना कैसी ये बीमारी कहूं क्या जब से दिल बनके धड़की बनारस की गली में... मालूम ना श
10 अप्रैल 2020
01 मई 2020
कामिनी देवी जब कभी भी अपने राइस मिल पर जाती थीं, माधो से ज़रूर मिलती थीं। माधो उनकी राइस मिल में कोई बड़ा कर्मचारी नहीं, बल्कि एक मज़दूर था। राइस मिल में काम करने वाले सभी लोगों का मानना था कि माधो कामिनी मैडम का सबसे विश्वासी कामगार है क्योंकि वह कभी झूठ नहीं बोलता। माधो गठीले बदन वाला छब्बीस वर्षीय
01 मई 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x