मज़दूर

01 मई 2020   |  आलोक कौशिक   (343 बार पढ़ा जा चुका है)

मज़दूर

कामिनी देवी जब कभी भी अपने राइस मिल पर जाती थीं, माधो से ज़रूर मिलती थीं। माधो उनकी राइस मिल में कोई बड़ा कर्मचारी नहीं, बल्कि एक मज़दूर था। राइस मिल में काम करने वाले सभी लोगों का मानना था कि माधो कामिनी मैडम का सबसे विश्वासी कामगार है क्योंकि वह कभी झूठ नहीं बोलता।


माधो गठीले बदन वाला छब्बीस वर्षीय अविवाहित नौजवान था। उसकी मेहनत और ईमानदारी की प्रशंसा उसे जानने वाला प्रत्येक व्यक्ति करता था। बयालीस वर्षीया कामिनी देवी के पति वाल्मीकि सिंह एक सफल उद्योगपति थे। तक़रीबन एक वर्ष पूर्व सड़क दुर्घटना में वाल्मीकि सिंह की रीढ़ की हड्डी टूट गई। रीढ़ की हड्डी का इलाज हुआ, लेकिन डॉक्टरों ने कह दिया कि पूरी ज़िंदगी बिस्तर पर लेट कर ही गुजारनी पड़ेगी।


अंतर्राष्ट्रीय मज़दूर दिवस होने के कारण चीनी मिल के सभी कर्मचारी छुट्टी पर थे। कामिनी देवी ने माधो को फ़ोन कर चीनी मिल पर आने को कहा। माधो बिना कोई सवाल किए चीनी मिल पहुंच गया। कुछ ही देर में कामिनी देवी भी अपनी कार से चीनी मिल पहुंच गईं। वहां पहुंचकर कामिनी देवी माधो को अपने केबिन में ले गईं और उसे अपने सीने से लगा कर बेतहाशा चूमने लगीं। कुछ मिनटों तक माधो कुछ भी समझ नहीं पाया। लेकिन जैसे ही उसके दिमाग़ ने काम करना शुरू किया, उसने कामिनी देवी के भूखे जिस्म से खुद को अलग कर लिया।


कामिनी देवी ने प्यासी नज़रों से देखते हुए माधो से कहा - "आओ माधो!"


"नहीं मैडम, यह गलत है! पाप है!" माधो ने कहा।


"किस पापी ने कहा है तुमसे कि यह ग़लत है ? यही सच्चा सुख है माधो। अब देखो ना, कहने को तो मेरे पास सब कुछ है, लेकिन इसके बिना सब व्यर्थ है।" कामिनी देवी ने समझाते हुए कहा।


माधो को चुपचाप सर झुकाए खड़ा देख कामिनी देवी बोलीं - "माधो, तुम तो कभी झूठ नहीं बोलते। इसलिए मैं जो पूछने वाली हूं, उसका सही जवाब देना।"


माधो ने सहमति में अपना सिर हिलाया।


"क्या तुम्हें शारीरिक सुख एवं प्यार की आवश्यकता महसूस नहीं होती ?" कामिनी देवी ने पूछा।


"होती है।" माधो ने जवाब दिया।


"तो फिर सोच क्या रहे हो माधो ? आओ मेरे पास और प्यार के समंदर में डूब जाओ।" कामिनी देवी ने मादकता भरी नज़रों से माधो को देखते हुए कहा।


"नहीं मैडम, हम मज़दूर हैं। हमारा काम मेहनत, निर्माण व सम्मान करना है, विध्वंस करना नहीं। फिर चाहे वह इज़्ज़त अथवा रिश्ता ही क्यों ना हो।" इतना कहकर माधो वहां से चला गया।


✍️ आलोक कौशिक


(साहित्यकार एवं पत्रकार)


पता:- मनीषा मैन्शन, जिला- बेगूसराय, राज्य- बिहार, 851101,

अणुडाक- devraajkaushik1989@gmail.com

चलभाष संख्या- 8292043472

मज़दूर

अगला लेख: जीवन



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 अप्रैल 2020
सीमा परवीन उर्फ रेशमा को बेगमसराय के महबूबा जिस्म मंडी में उसके चाहने वाले उसके हसीन और आकर्षक जिस्म के कारण सनी लियोन के नाम से पुकारते थे। उसके आशिक़ों में सफ़ेदपोश, काले कोट और ख़ाकी वाले भी शामिल थे। जिस्म बेचना कभी भी उसकी मजबूरी नहीं रही। वह इस धंधे में इसलिए आई थी क्योंकि उसे लगता था कि रईस बनने
24 अप्रैल 2020
19 अप्रैल 2020
मिलता है विषाद इसमें इसमें ही मिलता हर्ष है कहते हैं इसको जीवन इसका ही नाम संघर्ष है दोनों रंगों में यह दिखता कभी श्याम कभी श्वेत में कुछ मिलता कुछ खो जाता रस जीवन का है द्वैत में लक्ष्य होते हैं पूर्ण कई थोड़े शेष भी रह जाते हैं स्वप्न कई सच हो जाते कुछ नेत्रों से बह जाते हैं चाहे बिछे हों पथ में क
19 अप्रैल 2020
04 मई 2020
क्षमा मिश्रा नाम था उसका। लेकिन मोहल्ले के सारे लड़के उसे छमिया कह कर पुकारते थे। महज़ अठारह बरस की उम्र में मोहल्ले में हुई अठाईस झगड़ों का कारण बन चुकी थी वो। उसका कोई भी आशिक़ चार महीने से ज्यादा उसकी फ़रमाइशों को पूरी नहीं कर पाता था। इसलिए प्रत्येक चार महीने बाद क्षमा के दिल के रजिस्टर पर नए आशिक़
04 मई 2020
20 अप्रैल 2020
कई वर्ष पश्चात दूरदर्शन पर धारावाहिक 'रामायण' के पुनः प्रसारण से कौशल्या देवी बहुत खुश थीं। सुबह के नौ बजते ही टेलीविजन के सामने हाथ जोड़ कर बैठ जाती थीं। आज रामायण देखते हुए वह अत्यंत भावविभोर हो रही थीं। सीता एवं लक्ष्मण को राम के संग वन जाते हुए देखकर कौशल्या देवी की आंखों से अश्रु प्रवाहित होने
20 अप्रैल 2020
26 अप्रैल 2020
चंद्रा साब ने ताला खोला और बेडरूम में आ गए. टॉवेल उठाया और इत्मीनान से नहा लिए. चिपचिपे मौसम से कुछ तो राहत मिली. दाल गरम की, एक प्याज काटा और प्लेट में चावल डाल कर डाइनिंग टेबल पर आ गए. एक व्हिस्की का पेग बना कर टेबल पर रख लिया. पर बंद घर में अलग सी महक आ रही थी तो उठकर
26 अप्रैल 2020
20 अप्रैल 2020
कई वर्ष पश्चात दूरदर्शन पर धारावाहिक 'रामायण' के पुनः प्रसारण से कौशल्या देवी बहुत खुश थीं। सुबह के नौ बजते ही टेलीविजन के सामने हाथ जोड़ कर बैठ जाती थीं। आज रामायण देखते हुए वह अत्यंत भावविभोर हो रही थीं। सीता एवं लक्ष्मण को राम के संग वन जाते हुए देखकर कौशल्या देवी की आंखों से अश्रु प्रवाहित होने
20 अप्रैल 2020
06 मई 2020
गोयल साब ने मुंडी घुमाकर केबिन के शीशे से बैंकिंग हाल में नज़र मारी. तीनों कैशियर बिज़ी थे. बाकी सीटों पर भी दो चार लोग खड़े थे. एक सम्मानित ग्राहक ऑफिसर से गुथमगुत्था हो रहा था पर अभी बीच बचाव का समय नहीं आया था. कुल मिला कर चहल पहल थी अर्थात ब्रांच नार्मल थी. इन्क्वायरी सी
06 मई 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x