कड़वी हकीकत - बेस्टसेलर किताब

22 मई 2020   |  शिल्पा रोंघे   (423 बार पढ़ा जा चुका है)

कड़वी हकीकत - बेस्टसेलर किताब


सुरेश की उम्र करीब तीस साल और कद 5 फीट 4 इंच था, सामने से सिर पर बाल थोड़े कम हो रखे थे, एक लंबा कुर्ता और खादी का झोला, हमेशा यही लुक था उसका। ज्यादातर उन विषयों पर लिखना पसंद करता था जिस पर लोग ध्यान ही नहीं देते या फिर बोलने से कतराते थे। उसकी कई किताबें प्रकाशित हो चुकी थी और उन्हें पुरुस्कार भी मिल चुका था। सुरेश एक किताब लिखना चाहता था जिसकी मुख्य किरदार वो डांस बार में काम करने वाली लड़की को बनाना चाहता था।

इसके लिए वो चुन्नी के पास जा पहुंचा। चुन्नी शहर के एक डांस बार में काम करती थी। उसके ठुमकें और लटके-झटके पर फ़िदा होकर कई लोग उस बार में शिरकत करने लगे। हालांकि वो उसके करीब नहीं जा सकते थे तो दूर से ही अपना मन बहला लेते, जैसे चांद को देखकर चकौर ख़ुश हो जाता है। चुन्नी थी भी बला की खूबसूरत घुटनों तक लंबे बाल, बहुत ज्यादा गोरा रंग, बड़ी बड़ी आंखों पर लगा मोटा गहरा काजल और चटख रंग की लिपस्टिक उसके रुप को मादक बना देती थी। उसके चार छोटे भाई बहन थे और मां टीबी की मरीज़, पिता का चार साल पहले ही एक सड़क दुर्घटना में देहांत हो चुका था। वो सिर्फ 8 वीं तक ही पढ़ पाई थी उसकी मजबूरी उसे वहां ले आई जिसकी कल्पना उसने सपने में भी नहीं की थी। उसका नाच- गाना ख़त्म होते ही नोटों की बारिश शुरु हो जाती थी, लेकिन उसके मालिक ही सारा मुनाफ़ा हड़प लेते और दो चार नोट देकर उसे चलता कर देते, कहते इससे ज्यादा इज्जत वाला काम उसे कहीं नहीं मिलेगा और वो उन्हें वहां आने वाले भेड़ियों से सुरक्षित रखने का अहसान भी जताते थे।

सुरेश सबसे पहले बार मालिक के पास गया और वो उसे सीधे चुन्नी के पास ले गया और कहने लगा तेरा इंटरव्यू लेने आए हैं तब चुन्नी ड्रेसिंग रुम में तैयार हो रही थी वो बोली अरे आदमी कैसे और क्यों आया यहां?”

तब उसका मालिक कहने लगा डरने की ज़रुरत नहींहै भले आदमी है दो चार सवाल पूछ कर चलते बनेंगे।

चुन्नी थोड़ा हैरान हो गई एक बार में भले आदमी को देखकर क्यों आये हो यहां, क्या लोगे साहब, कुछ चाय या बिस्कुट?”

सुरेश ने कहा मैं एक कहानी लिखना चाहता हूं जिसकी मुख्य किरदार एक बार बाला होगी और एक शहर का सबसे रईस बिजनेसमैनयानि कि कारोबारी, तो कहानी इस तरह है कि उसका उसकी प्रेमिका से झगड़ा हो गया है और वो अपना तनाव दूर करने बार में मय के प्याले छलकाता है और डांसर पर नोटों की बारिश करता है धीरे- धीरे दोनों में दोस्ती और प्यार हो जाता है। फिर समाज से लड़ते हुए दोनों अंत में एक हो जाते है।

चुन्नी तपाक से बोली क्या साहब बुरा ना मानों आपसे अच्छी कहानी तो मैं ही लिख लूंगीयहां टाईम पास करने कोई भला आदमी नहीं आता है और किसी बार में काम करने वाली से प्यार तो क्या सहानुभूति भी नहीं हुई किसीको, लिखना हो तो बार बाला की मजबूरी और गरीबी पर लिखो ना कि ये प्यार व्यार पर।

सुरेश उसकी बातें सुनकर चुप ही रह गया और उसे आगे सवाल पूछने की हिम्मत ही नहीं हुई। बार से बाहर आते ही वो सोचने लगा कि चुन्नी की बात में तो दम था लेकिन क्या सचमुत इतनी कड़वी हकीकत को लोग हजम कर पाएंगे और उसकी किताब को खरीदेंगे भी ?

शिल्पा रोंघे

© सर्वाधिकार सुरक्षित, कहानी के सभी पात्र काल्पनिक है जिसका जीवित या मृत व्यक्ति

से कोई संबंध नहीं है।

आप मेरी इस कहानी को नीचे दी गई लिंक पर क्लिक करके भी पढ़ सकते हैं।

कड़वी हकीकत- बेस्टसेलर किताब

http://koshishmerikalamki.blogspot.com/2020/05/blog-post_69.html

अगला लेख: प्रेम का आखिरी पड़ाव



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 मई 2020
इं
कुछ वर्षों पहले कीबात है सज्जनपुर में एक सेठ था जो करोड़ों कमाता था। उसने अपनी सहायता के लिए दीपकनाम के एक सचिव को नियुक्त किया था, क्योंकि सेठ की कोई संतान नहीं थी तो उन्होंने सोचा क्यों नासारी संपत्ति दीपक के नाम कर दी जाए। दीपक उनके बहीखातों का हिसाब तो अच्छी तरहर
27 मई 2020
02 जून 2020
मनीषा औरविकास की ज़िंदगी यूं तो बहुत अच्छे से चल रही थी, घर में किसी सुविधा की कमी नहींथी। फिर भी मनीषा को एक अकेलापन हमेशा खाए जाता, विकास भी हाई सैलरी वाली जॉब कररहा था तो वहीं मनीषा एक प्राइमरी स्कूल में प
02 जून 2020
21 मई 2020
“कम्मो...अरी क्या हुआ...? कुछ बोल तो सही... कम्मो... देख हमारेपिरान निकले जा रहे हैं... बोल कुछ... का कहत रहे साम...? महेसकब लौं आ जावेगा...? कुछ बता ना...” कम्मो का हाल देख घुटनोंके दर्द की मारी बूढ़ी सास ने पास में रखा चश्मा चढ़ाया, लट्ठीउठाई और चारपाई से उतरकर लट्ठी टेकती कम्मो तक पहुँच उसे झकझोरने
21 मई 2020
16 मई 2020
श्
श्यामा नाम था उसका, ठीक उसके श्वेत रंग केविपरीत, हर दिन हमारे घर के सामने आ खड़ी होती। ऐसा उसने करीब 10 दिन तक किया,हमने कहा ये तो अब पराए घर जा चुकी है फिर यहां क्यों आती है तो घर वालों ने कहाकि ये गाय है इंसान नहीं जो किसी को इतनी जल्दी भूल जाए, भूलना तो इंसानी फ़ितरतहै
16 मई 2020
18 मई 2020
आज मनोहर घरआया तो उसकी मां उसे देखकर हक्की बक्की रह गई, चेहरे की हवाईयां उड़ी हुई और कपड़ों पर मिट्टीऔर धूल के धब्बे ऐसे प्रतीत हो रहे थे किमानो मिट्टी में लोट कर आया हो।तब उसकी मांने पूछा बेटा “ये क्या हाल
18 मई 2020
31 मई 2020
“ओह कहां रह गई होगी आखिर वो? सारे कमरे में ढूंढनेके बाद सुधीर ने फिर कहा“अरे सुनती होतुमने कोशिश की ढूंढने की”?“हां बहुत ढूंढ ली नहीं मिली.” रमा ने कहा.थोड़ी देर बाद 17वर्षीय मनोहर जो कि उनका छोटा पुत्र था वो भी आ गया और कहने लगा “पिताजी धर्मशाला के आसपास की जिनती भी दु
31 मई 2020
19 मई 2020
35 साल की वोऔरत माथे पर बड़ा सा तिलक, आंखों में गहरा काजल लगाकर अपने लंबे केश लहराने लगी।“ हां मुझेमहसूस हो रही है, हां मेरे शरीर में उसका प्रवेश हो चुका है....हां उसकी उपस्थितीमुझे महसूस हो रही है...जय मां...जय मां...” मनोरमा ऐसाकहने लगी।अपने मिट्टीसे बने कमरें में लकड़ी
19 मई 2020
21 मई 2020
सुरेखा की शहर के बीचों-बीच कपड़े कीबहुत बड़ी दुकान थी। हर तरह की महंगी साड़ियां और सलवार कमीज के कपड़े वहां मिलतेथे। अच्छी ख़ासी आमदानी होती थी उसकी। क्योंकि अकेले दुकान संभालना मुश्किल था तोउसने कांता को अपनी दुकान पर काम करने के लिए रख लि
21 मई 2020
02 जून 2020
मनीषा औरविकास की ज़िंदगी यूं तो बहुत अच्छे से चल रही थी, घर में किसी सुविधा की कमी नहींथी। फिर भी मनीषा को एक अकेलापन हमेशा खाए जाता, विकास भी हाई सैलरी वाली जॉब कररहा था तो वहीं मनीषा एक प्राइमरी स्कूल में प
02 जून 2020
14 मई 2020
चंद्रपुर नाम के गांव में बिना किसी गुनाह केसभी पंचो के आगे सर झुकाकर खड़ी रही विनिता और उसे फ़रमान सुना दिया गया कि उसेअपने माता-पिता के घर वापस भेज जाए, उसी दोपहर उसका पति उसे अपनी कार में बिठाकरउसके मायके की तरफ़ निकल पड़ा। दोनों के बीच एक अजीब सी ख़ामोशी पसरी हुई है, तभीकार की खिड़की से खेतों की
14 मई 2020
20 मई 2020
मा
सचिन को सुबह-सुबह उसके दोस्त का फ़ोन आया वोकहने लगा “अरे वाह तूने तो सच में शहर का नाम रोशन कर दिया”सचिन ने कहा“ अरेक्या हुआ ऐसा”नवनीत ने कहा “तेरा इंटरव्यू छपा था जबलपुर केएक अखबार में”सचिन ने कहा “ओह उसकी बात कररहा है तू”हेडलाईन छपी “शहर
20 मई 2020
23 मई 2020
भो
ठीक 30 बरस की उम्रमें हैजे से उसकी मौत हो गई, गांव से शहर ले जाया गया उसे। इससे पहले कि उसेअस्पताल ले जाया जाता, यमराज ने उसकी जीवन यात्रा को स्वर्ग तक मोड़ दिया, शायदवहीं गया
23 मई 2020
21 मई 2020
सुरेखा की शहर के बीचों-बीच कपड़े कीबहुत बड़ी दुकान थी। हर तरह की महंगी साड़ियां और सलवार कमीज के कपड़े वहां मिलतेथे। अच्छी ख़ासी आमदानी होती थी उसकी। क्योंकि अकेले दुकान संभालना मुश्किल था तोउसने कांता को अपनी दुकान पर काम करने के लिए रख लि
21 मई 2020
20 मई 2020
मा
सचिन को सुबह-सुबह उसके दोस्त का फ़ोन आया वोकहने लगा “अरे वाह तूने तो सच में शहर का नाम रोशन कर दिया”सचिन ने कहा“ अरेक्या हुआ ऐसा”नवनीत ने कहा “तेरा इंटरव्यू छपा था जबलपुर केएक अखबार में”सचिन ने कहा “ओह उसकी बात कररहा है तू”हेडलाईन छपी “शहर
20 मई 2020
26 मई 2020
उसने उसके भिगोए हुएदो बादाम खा लिए, ये अब उसकी नियमित दिनचर्या का हिस्सा बन चुका था। वो हमेशाअस्वस्थ रहती थी, वो भी सिर्फ 23 साल की उम्र में जब उसका यौवन और सौंदर्य किसी कोभी प्रभावित कर सकता था लेकिन चांद में दाग की तरह कमजोरी के निशान उसके चेहरे परभी दिखाई देने लगे।उसके
26 मई 2020
20 मई 2020
मा
सचिन को सुबह-सुबह उसके दोस्त का फ़ोन आया वोकहने लगा “अरे वाह तूने तो सच में शहर का नाम रोशन कर दिया”सचिन ने कहा“ अरेक्या हुआ ऐसा”नवनीत ने कहा “तेरा इंटरव्यू छपा था जबलपुर केएक अखबार में”सचिन ने कहा “ओह उसकी बात कररहा है तू”हेडलाईन छपी “शहर
20 मई 2020
31 मई 2020
“ओह कहां रह गई होगी आखिर वो? सारे कमरे में ढूंढनेके बाद सुधीर ने फिर कहा“अरे सुनती होतुमने कोशिश की ढूंढने की”?“हां बहुत ढूंढ ली नहीं मिली.” रमा ने कहा.थोड़ी देर बाद 17वर्षीय मनोहर जो कि उनका छोटा पुत्र था वो भी आ गया और कहने लगा “पिताजी धर्मशाला के आसपास की जिनती भी दु
31 मई 2020
18 मई 2020
आज मनोहर घरआया तो उसकी मां उसे देखकर हक्की बक्की रह गई, चेहरे की हवाईयां उड़ी हुई और कपड़ों पर मिट्टीऔर धूल के धब्बे ऐसे प्रतीत हो रहे थे किमानो मिट्टी में लोट कर आया हो।तब उसकी मांने पूछा बेटा “ये क्या हाल
18 मई 2020
16 मई 2020
श्
श्यामा नाम था उसका, ठीक उसके श्वेत रंग केविपरीत, हर दिन हमारे घर के सामने आ खड़ी होती। ऐसा उसने करीब 10 दिन तक किया,हमने कहा ये तो अब पराए घर जा चुकी है फिर यहां क्यों आती है तो घर वालों ने कहाकि ये गाय है इंसान नहीं जो किसी को इतनी जल्दी भूल जाए, भूलना तो इंसानी फ़ितरतहै
16 मई 2020
23 मई 2020
भो
ठीक 30 बरस की उम्रमें हैजे से उसकी मौत हो गई, गांव से शहर ले जाया गया उसे। इससे पहले कि उसेअस्पताल ले जाया जाता, यमराज ने उसकी जीवन यात्रा को स्वर्ग तक मोड़ दिया, शायदवहीं गया
23 मई 2020
23 मई 2020
भो
ठीक 30 बरस की उम्रमें हैजे से उसकी मौत हो गई, गांव से शहर ले जाया गया उसे। इससे पहले कि उसेअस्पताल ले जाया जाता, यमराज ने उसकी जीवन यात्रा को स्वर्ग तक मोड़ दिया, शायदवहीं गया
23 मई 2020
16 मई 2020
शशांक ने कहा “हैलो स्मिता मैं बैंगलुरु पहुंच गयाहूं। यहां की एक फ़ार्मा कपंनी में मैनेज़र के तौर पर मेरा प्रमोशन हो गया है,30 साल का हो गया हूं। कोई अच्छी सी लड़की बताओं ना बिल्कुल तुम्हारीतरह”। “मैं क्या को
16 मई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x