दिल कमजोर

05 जुलाई 2020   |  मंजू गीत   (293 बार पढ़ा जा चुका है)

पढ़ें लिखे समझदार लोग, सांख्य, सवालों में गुम हो गए हैं। हर बात की नुक्ता चीनी में, रिश्ते दिमाग में कैद हो गये‌ है। पहले से ज्यादा भावों के अभाव हो गये है। लोगों के दिल तंग हो गये है, दिलों में अब खूबसूरत अहसास कम हो गये है। लोग बैठ अकेले, तन्हाई के मेले में खोकर , दुनिया से ही गुम हो गए हैं। प्यार, वफ़ा, वादे करके, लेकर खुद के कातिल हो गये है। हसरतों की हरारत से टूटकर चकनाचूर हो गये है। पहले लोग यार ढूंढते हैं फिर प्यार, बढ़ते वक्त की तपिश से झुंझलाकर फिर यही यार,प्यार बेकार हो जाता है। लोग दिल दिमाग में दूरियां बढ़ाने के, विचार कर सो बहाने ढूंढते हैं। लोग दिल कमजोर करके, चालाकी की धार से दिमाग तैयार रखते हैं। दूरियां बढ़ती कहां है? लोग बढ़ाने के लिए हर खार, वार ढूंढते हैं। दिल का जीना मुश्किल है, इसलिए लोग दिल में डलवाकर छल्ले, वाल, और तार जिंदगी ढूंढते हैं। जब कोई भी साथ ना हो तुम्हारे तो कांटों से याराना करों, लोग अपना कहकर, बाद में किनारा करने का इशारा करें, उससे पहले उस अपने को मुस्कुरा कर, खुद ही अलविदा कह दें।

अगला लेख: कोरोना की मार



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
29 जून 2020
मु
ख्वाब और ख़्याल भी न जाने किस गली से आ जाए पता ही नहीं चलता। दिन नवरात्रि के चल रहें थे।कल्पना भी देवी की पूजा में मग्न रही। इन्हीं दिनों एक रात सपने में वह एक छवि देखती है कि लाल साड़ी और कुर्ते पजामे में एक जोड़ा उससे दूर खड़ा मुस्कुरा रहा है। यह कौन थे इतन
29 जून 2020
26 जून 2020
दू
दुनिया में आए अकेले हैं। दुनिया से जाना अकेले हैं। दर्द भी सहना पड़ता अकेले हैं। लोग मतलब निकलते ही छोड़ देते अकेला है। तो फिर काहे की दुनियादारी, लोगों से दूर रहने में ही ठीक है। दर्द जब हद से गुजरता है तो गा लेते हैं। जिंदगी इम्तिहान लेती है। कभी इस पग में कभी उस पग में घुंघरू की तरह बजते ही रहें
26 जून 2020
27 जून 2020
माना हम चिट्ठियों के दौर में नहीं मिलें, डाकिए की राह तकी नहीं हमने। हम मिले मुट्ठियों के दौर में। जिसमें रूमाल कम, फोन ज्यादा रहता था। माना हम किताब लेने देने के बहाने नहीं मिलें, जिसे पढ़ते, पलटते सीने पर रख, बहुत से ख्वाब लिए उसके साथ सो जाया करते। हम मिले मेसेज, मेसेंजर, वाट्स अप, एफ बी, इंस्टा
27 जून 2020
29 जून 2020
मु
कल्पना को फिर सपने की वह लाल साड़ी और कुर्ता याद आया। कल्पना ने धीर से काम की दुनिया से छुट्टी ली मंगलवार की। आज कल्पना ने अपनी मामी को फोन करके रोहतक आने के लिए कह दिया। वह अपने आस पास के तीन चार बाजार में गयी। कल्पना साड़ी, कुर्ता पजामा पसंद करना चाहती थी। यह चाह धीर और सपना के लिए थी। नवरात्
29 जून 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x