दिल कमजोर

05 जुलाई 2020   |  मंजू गीत   (293 बार पढ़ा जा चुका है)

पढ़ें लिखे समझदार लोग, सांख्य, सवालों में गुम हो गए हैं। हर बात की नुक्ता चीनी में, रिश्ते दिमाग में कैद हो गये‌ है। पहले से ज्यादा भावों के अभाव हो गये है। लोगों के दिल तंग हो गये है, दिलों में अब खूबसूरत अहसास कम हो गये है। लोग बैठ अकेले, तन्हाई के मेले में खोकर , दुनिया से ही गुम हो गए हैं। प्यार, वफ़ा, वादे करके, लेकर खुद के कातिल हो गये है। हसरतों की हरारत से टूटकर चकनाचूर हो गये है। पहले लोग यार ढूंढते हैं फिर प्यार, बढ़ते वक्त की तपिश से झुंझलाकर फिर यही यार,प्यार बेकार हो जाता है। लोग दिल दिमाग में दूरियां बढ़ाने के, विचार कर सो बहाने ढूंढते हैं। लोग दिल कमजोर करके, चालाकी की धार से दिमाग तैयार रखते हैं। दूरियां बढ़ती कहां है? लोग बढ़ाने के लिए हर खार, वार ढूंढते हैं। दिल का जीना मुश्किल है, इसलिए लोग दिल में डलवाकर छल्ले, वाल, और तार जिंदगी ढूंढते हैं। जब कोई भी साथ ना हो तुम्हारे तो कांटों से याराना करों, लोग अपना कहकर, बाद में किनारा करने का इशारा करें, उससे पहले उस अपने को मुस्कुरा कर, खुद ही अलविदा कह दें।

अगला लेख: कोरोना की मार



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 जुलाई 2020
को
वाह! क्या हाल और समाचार है? सावन की बौछार है। कोरोना की मार है। बनती बिगड़ती सरकार है, चुनाव कराने के लिए आयोग हर हाल में तैयार है। बाहरवी में बहुत से बच्चे 90% से पार है। वही दसवीं कक्षा का रिजल्ट पिछली बार से बेकार है। चीन, पाकिस्तान सीमा पर कर रहा वार है। इधर नेपाल भी कर रहा तकरार है। यूपी में
16 जुलाई 2020
15 जुलाई 2020
तु
मैंने तुम्हें सपने में देखा, अब तुम्हें देखने का, यही तो एक जरिया बचा है। इन दिनों... अब तुम तो हमें देखने या मिलने से रहें। भूलने की आदत जो है तुम्हें। खैर ! अब तुम्हें लेकर बुरा भी क्या मानें? क्योंकि उसके लिए भी, हक‌ जो ढूंढने पड़ेंगे हमें। हां, आजकल तुम सपने में भी, मोबाइल में नजरें गड़ाए हुए द
15 जुलाई 2020
08 जुलाई 2020
मशीनों के बलबूते बहती धाराओं पर, मनुष्य के लालच ने अवरोध लगाये। लहलहाती फसलों के लिए रसायनों के प्रयोग अपनाएं, आश्रित जीवों के क्रम को भेद, मनुष्य के लालच ने धरा को बंजर कर डाला है। ज़मीं के गड्ढे पाटें जातें नहीं, अंतरिक्ष में गेंद उछाला जाता है। धरा का स्वर्ग नरक कर डाला, इंसान अपने मतलब के लिए ह
08 जुलाई 2020
11 जुलाई 2020
मेरी कार धीरे धीरे सुनसगांव में प्रवेश करती है और मंदिर के सामने पत्थर वाले रोड से गुजरती है।सामने बाबू सोन जी मामा का मकान दिखता है हमेशा मुस्कराने वाला मामा और पतली आवाज
11 जुलाई 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x