कोरोना की मार

16 जुलाई 2020   |  मंजू गीत   (305 बार पढ़ा जा चुका है)

वाह! क्या हाल और समाचार है? सावन की बौछार है। कोरोना की मार है। बनती बिगड़ती सरकार है, चुनाव कराने के लिए आयोग हर हाल में तैयार है। बाहरवी में बहुत से बच्चे 90% से पार है। वही दसवीं कक्षा का रिजल्ट पिछली बार से बेकार है। चीन, पाकिस्तान सीमा पर कर रहा वार है। इधर नेपाल भी कर रहा तकरार है। यूपी में गैंगस्टर वार है, अभी बहुत से विकास दुबे फरार है। चीन, चुनाव, छिना झपती की खबरों से भरा पड़ा अखबार है। कोरोना ने सबका किया ‌बुरा हाल है। खोकर नौकरी और लाखों बढ़ गये बेरोजगार है। बिन दावत, भोज के हो रही शादी और तेरहवीं है। अपने अपने पन वाली शाख छोड़ कर, कर रहे अपने ही हित का विचार है। कोरोना में भले ही जान पर बनी हों, पर हर हाल अपनी ड्यूटी के लिए सेवक तैयार है। कुछ चेले, चाटुकार है, अपने माई बाप बोस के लिए हां में हां मिलाते हुए, हर हाल में चेलापंथी के लिए तैयार है। कोरोना भी इन लोगों के लिए अवसर वादिता का त्योहार है। अपना कह कर साथ छोड़ दें, इसी दुनिया में दोगले यार है। कोरोना में अपने पराएं के वायरस हो रहें स्कैन है। हर जगह छाया कोरोना का प्रचार प्रसार है। मांग भरने से पहले मांग, मांग भरने के बाद मांग, यह मांग ही तो है, जो कभी करती है जिंदगी हरी, तो कभी जिंदगी जाती हार है। पीढ़ियों से, रूढ़ियों से भंग खाकर समाज एक ही आइने में सबको धकेल रहा हर बार है। समझौते की जजीरों में घोंटने को, अपना ही घर, परिवार और रिश्तेदार हैं। एक के बाद एक जमाने की नजर से तारा बन कर टूट रहे हस्तियों के सितारे है। इरफान, ऋषि, सरोज, सुशांत, जगदीप और न जाने कितने ही छुपे लोग हैं। कोरोना अमिताभ को हो रहा, घर रेखा का सील हो रहा। 70+ की उम्र में भी इनके याराने और प्यार की जोड़ी बेमिसाल है बड़ा ही गहरा दोनों का प्यार है। सावन की बौछार है। कोरोना की मार है।

अगला लेख: तुम



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 जुलाई 2020
फो
जब मिल जाए फोन, हम रह लेंगे Alone, फिर घर की घंटी कोई बजाए, नहीं पूछेंगे तुम कौन? चाहें दूर से चलकर भैया आए, या ड्यूटी करने सैंया जाए, आने जाने से पहले घर में करना एक मिस कॉल। खाना बनाना हों, या हो खाना हाथ से दूर रह ना पाए फ़ोन.. जब घर, बाहर में बैठे हो लोग बहुत, या नेटवर्क सिग्नल दे ना साथ तो लेके
25 जुलाई 2020
24 जुलाई 2020
रु
मुझे कहता ए जमाना बिगड़ा, मैं किसी की सुनतीं ही नहीं.. मुझसे रूठे है मेरे अपने, घर बाहर यार परिवार, अब कोई बात करता नहीं। मुझे कहता है जमाना बिगड़ा, मैं किसी की सुनतीं ही नहीं... मैं भी हूं आखिर इंसान, कब तक मैं झुकती रहूं.. दिल पर लगें हैं कितने घाव, ये किसी ने कभी पूछिया ही नहीं, सब अपने गए हैं रू
24 जुलाई 2020
17 जुलाई 2020
को
मैं आर्थिक मामलों की विशेषज्ञ नहीं हूं केवलवर्तमान स्थिती पर अपना मत रख रही हूं। कोरोना ने कुछ दिनों लोगों को काफी डरायालेकिन ये डर कुछ ही दिन लोगों के मन में रहा, अब लोग सावधानी बरत रहे है लेकिनउन्हें संक्रमित होने से ज्यादा डर अपनी आजीविका खत्म होने का सता है। कई कं
17 जुलाई 2020
31 जुलाई 2020
सा
सुनो! तुम सच बोल दिया करो.. हम मानते हैं कि सच सुनकर खफा होंगे, रूठेगे लेकिन विश्वास है ना हम दोनों के बीच। यह विश्वास सब समझा देगा ... तुम्हारे मैं को मेरे तुम को हम बना देगा। मन ही तो है, कभी उड़ता है, कभी डरता है। जैसे सूरज का तेज हर समय, हर दिन हर मौसम में एक जैसा नहीं होता है। जैसे चन्द
31 जुलाई 2020
08 जुलाई 2020
मशीनों के बलबूते बहती धाराओं पर, मनुष्य के लालच ने अवरोध लगाये। लहलहाती फसलों के लिए रसायनों के प्रयोग अपनाएं, आश्रित जीवों के क्रम को भेद, मनुष्य के लालच ने धरा को बंजर कर डाला है। ज़मीं के गड्ढे पाटें जातें नहीं, अंतरिक्ष में गेंद उछाला जाता है। धरा का स्वर्ग नरक कर डाला, इंसान अपने मतलब के लिए ह
08 जुलाई 2020
15 जुलाई 2020
तु
मैंने तुम्हें सपने में देखा, अब तुम्हें देखने का, यही तो एक जरिया बचा है। इन दिनों... अब तुम तो हमें देखने या मिलने से रहें। भूलने की आदत जो है तुम्हें। खैर ! अब तुम्हें लेकर बुरा भी क्या मानें? क्योंकि उसके लिए भी, हक‌ जो ढूंढने पड़ेंगे हमें। हां, आजकल तुम सपने में भी, मोबाइल में नजरें गड़ाए हुए द
15 जुलाई 2020
21 जुलाई 2020
https://vishwamohanuwaach.blogspot.com/2020/06/blog-post_26.html वचनामृतक्यों न उलझूँ बेवजह भला!तुम्हारी डाँट से ,तृप्ति जो मिलती है मुझे।पता है, क्यों?माँ दिखती है,तुममें।फटकारती पिताजी को।और बुदबुदाने लगता हैमेरा बचपन,धीरे से मेरे कानों में।"ठीक ही तो कह रही है!आखिर कितना कुछसह रही है।पल पल ढह र
21 जुलाई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x