कोरोना की मार

16 जुलाई 2020   |  मंजू गीत   (305 बार पढ़ा जा चुका है)

वाह! क्या हाल और समाचार है? सावन की बौछार है। कोरोना की मार है। बनती बिगड़ती सरकार है, चुनाव कराने के लिए आयोग हर हाल में तैयार है। बाहरवी में बहुत से बच्चे 90% से पार है। वही दसवीं कक्षा का रिजल्ट पिछली बार से बेकार है। चीन, पाकिस्तान सीमा पर कर रहा वार है। इधर नेपाल भी कर रहा तकरार है। यूपी में गैंगस्टर वार है, अभी बहुत से विकास दुबे फरार है। चीन, चुनाव, छिना झपती की खबरों से भरा पड़ा अखबार है। कोरोना ने सबका किया ‌बुरा हाल है। खोकर नौकरी और लाखों बढ़ गये बेरोजगार है। बिन दावत, भोज के हो रही शादी और तेरहवीं है। अपने अपने पन वाली शाख छोड़ कर, कर रहे अपने ही हित का विचार है। कोरोना में भले ही जान पर बनी हों, पर हर हाल अपनी ड्यूटी के लिए सेवक तैयार है। कुछ चेले, चाटुकार है, अपने माई बाप बोस के लिए हां में हां मिलाते हुए, हर हाल में चेलापंथी के लिए तैयार है। कोरोना भी इन लोगों के लिए अवसर वादिता का त्योहार है। अपना कह कर साथ छोड़ दें, इसी दुनिया में दोगले यार है। कोरोना में अपने पराएं के वायरस हो रहें स्कैन है। हर जगह छाया कोरोना का प्रचार प्रसार है। मांग भरने से पहले मांग, मांग भरने के बाद मांग, यह मांग ही तो है, जो कभी करती है जिंदगी हरी, तो कभी जिंदगी जाती हार है। पीढ़ियों से, रूढ़ियों से भंग खाकर समाज एक ही आइने में सबको धकेल रहा हर बार है। समझौते की जजीरों में घोंटने को, अपना ही घर, परिवार और रिश्तेदार हैं। एक के बाद एक जमाने की नजर से तारा बन कर टूट रहे हस्तियों के सितारे है। इरफान, ऋषि, सरोज, सुशांत, जगदीप और न जाने कितने ही छुपे लोग हैं। कोरोना अमिताभ को हो रहा, घर रेखा का सील हो रहा। 70+ की उम्र में भी इनके याराने और प्यार की जोड़ी बेमिसाल है बड़ा ही गहरा दोनों का प्यार है। सावन की बौछार है। कोरोना की मार है।

अगला लेख: तुम



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 जुलाई 2020
इं
ना वैक्सीन, ना विकेंसी बेरोजगार तो पहले भी कम न थे। एक के पीछे लगने वाली लाइन हर जगह ही है। कोरोनावायरस ने लाइन को कुछ इस तरह खत्म किया कि अब हर चीज आनलाइन हो गई। पैसा, पढ़ाई, कला, कलाकार, काम, ख्वाब, रिश्ते, बात, मुलाकात। जो बेहतर मार्क्स लेकर आ रहे हैं, यह सरकारी तंत्र में कायदे कागज कानून वाली ज
18 जुलाई 2020
15 जुलाई 2020
तु
मैंने तुम्हें सपने में देखा, अब तुम्हें देखने का, यही तो एक जरिया बचा है। इन दिनों... अब तुम तो हमें देखने या मिलने से रहें। भूलने की आदत जो है तुम्हें। खैर ! अब तुम्हें लेकर बुरा भी क्या मानें? क्योंकि उसके लिए भी, हक‌ जो ढूंढने पड़ेंगे हमें। हां, आजकल तुम सपने में भी, मोबाइल में नजरें गड़ाए हुए द
15 जुलाई 2020
31 जुलाई 2020
सा
सुनो! तुम सच बोल दिया करो.. हम मानते हैं कि सच सुनकर खफा होंगे, रूठेगे लेकिन विश्वास है ना हम दोनों के बीच। यह विश्वास सब समझा देगा ... तुम्हारे मैं को मेरे तुम को हम बना देगा। मन ही तो है, कभी उड़ता है, कभी डरता है। जैसे सूरज का तेज हर समय, हर दिन हर मौसम में एक जैसा नहीं होता है। जैसे चन्द
31 जुलाई 2020
06 जुलाई 2020
चा
चाहतों की हरियाली है। घड़ी भर ठहर जाएं, इस पल में यहीं खुशहाली हों। कल कौन मिलता है किसी से? मिलता है वहीं जिसकी चाहत में, अपनेपन की खुशहाली हों। रैन और नैन कालें, दोनों ह
06 जुलाई 2020
05 जुलाई 2020
दि
पढ़ें लिखे समझदार लोग, सांख्य, सवालों में गुम हो गए हैं। हर बात की नुक्ता चीनी में, रिश्ते दिमाग में कैद हो गये‌ है। पहले से ज्यादा भावों के अभाव हो गये है। लोगों के दिल तंग हो गये है, दिलों में अब खूबसूरत अहसास कम हो गये है। लोग बैठ अकेले, तन्हाई के मेले में खोकर , दुनिया से ही गुम हो गए हैं। प्या
05 जुलाई 2020
29 जुलाई 2020
‘विएना’ खूबसूरत और दिलकश प्रेमिका की तरह का एक शहरअप्रैल 12-18 , 2018
ट्रेन से उतरा तो खूबसूरत विएना ने मुझे आगे बढ़कर अपनी बाहों में भर लिया । सबसे पहले उतर कर पूछताछ खिड़की पर गया और लोकल ट्रामों, ट्रेनों और अंडर ग्राउंड ट्यूब रेलवे के बारे में जानकारी ली । पता लगा कि विएना शहर के भीतर सब प्रकार के
29 जुलाई 2020
18 जुलाई 2020
वक्त की पुरानी अलमीरा से एक याद.. वक्त आने जाने का नाम है लेकिन आप अपने काम से वक्त के हिस्से से कुछ यादें संभाल कर रखते हैं। यही यादें हैं जो आपको बदलाव का आइना दिखाती है। कमरें के कोने से लेकर छत की धूप तक ले जाता था यह काम। खैर काम तो सर्द दर्द है। यही काम ही तो नहीं हो पा रहा था। काम का रोना ही
18 जुलाई 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x