सागर Pradhan के वेबपेज

प्रेरणा

 13  
  3
सागर Pradhan के मित्र
सागर Pradhan ने अभी कोई मित्र नहीं बनाए है

बसंत



बसंत


मंजिल। तुफानो से लड़ने वाले राही क्यों पीछे चलना ।मंजिल अब भी दूर बहुत, तुझको है बढ़ते रहना।भोर हुआ उठ आगे चल, जरा सुन कलरव करना।जब तुझको न राह तके, छोड़ न कोशिश करना। गिरने से क्यों डरना राही , लख मकड़ी का घर बुनना ।तेरे वश में कोशिश है , बस कोशिश कोशिश करना ।बना विचारों में मंजिल और सोंच सोंच सबल करना ।शनै: शनै: करना साकार , हिम्मत से बुनते रहना ।कांटो भरी राहों पर, हो जल्दी जल्दी चलना ।राह कठिन उज्ज्वल मंजिल, यह सोंच सोंच चले चलना । राह बदलने वाले राही रुका नहीं समय चलना । कैसे पहुँचे मंजिल राही, जब संसय में हो चलना । निकल दुविधा के दलदल से , तुझको है मंजिल पाना ।। बुलंद इरादों से पर्वत भी , डरते राहें रुक वाना ।। सागर प्रधान चाम्पा छत्तीसगढ़।


आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x