क्या आप “अशिमा चटर्जी” के बारे में जानते है ???

अशिमाचटर्जी : आजभी देश में कई जगह ऐसी हैं जहाँ पर लड़कियों को पढ़ाया नहीं जाता है । अगरहम सन् 1920 और 1930कीबात करें तो उस समय लड़कियों क



आश्चर्यजनक तस्वीरें

हमारेदेश में कई बार अजीब-अजीब किस्से देखने को मिलते है और तब महसूस होता है कि, हमारे अंदर नया कुछ करने का हौसला बुलंद है अथवाउन घटनाओं को देखने का बाद आश्चर्यचकित हो जाते है और अनायास ही मुँह से निकाल जाताहै ,,, अतुल्य भारत ,,, आश्चर्यजनक भारत...विविधता में एकता



“ इंजीनियर्स-दिवस ” (15 सितम्बर)

‘ भारत रत्न ’ मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया जी का‘जन्म-दिवस’डॉ. विश्वेश्वरैया जी ने एक साधारण परिवार में जन्मलिया । उनके जन्म के समय हम लोग अंग्रेजों के गुलाम थे और उनके कठोर नियम एवं प्रताड़नासे उपेक्षित जीवन जीना पड़ता था । प्रत्येक भारतीय के लिए उस समय प्रगति के सारे द



हिंदी दिवस: अतिथि तुम कब जाओगी?

‘अतिथि देवो भवः’ दुनिया भर में घूमते-घूमते एक दिन अंग्रेजी हिन्दी के घर में आई। शुरू-शुरू में अच्छा लगा, नया मेहमान आया है। खूब-खातिरदारी हुई। घर के हर कोने में अच्छा सम्मान मिला, हर किसी को लगा मेहमान अच्छा है। हिन्दी मेहमाननवाजी करते-करते कब अपने घर में बेगानी हो गई, हिन्दी को पता भी न चला। अंग्रे



हिंदी बनाम अंग्रेजी

हिंदी हमारी मात्र् भाषा है, लेकिन अन्ग्रेज़ी ना तो मात्र्भाषा है ना ही राष्ट्रभाषा !हमारा देश दुनिया के सम्रदतम देशों में से एक है जहाँलगभग ३०० से अधिक भाषाएँ बोली जाती हैं किन्तु हमारे संविधान ने इनमें से२२ भाषाओं को संरक्षण प्रदान कि



लेख-- ब्रिक्स में दिखी भारत की गर्जना

आर्थिक विशेषज्ञो की माने, तो ब्रिक्स देशों की आतंरिक व आर्थिक स्थिति के आधार पर भारत की स्थिति हर दृष्टिकोण से वर्तमान में सबल नज़र आती है। उसके साथ भारत वर्तमान दौर की विश्व व्यवस्था में सबसे मजबूत जनाधार की लोकतांत्रिक सरकार है। साथ-साथ अगर अर्थव्यवस्था की दिशा में भारत तेज़ी से बढ़ रहा है, तो विश्



क्रिकेट इतिहास के “भारतीय दिग्गज”

<!--[if gte mso 9]><xml><w:WordDocument><w:BrowserLevel>MicrosoftInternetExplorer4</w:BrowserLevel><w:DisplayHorizontalDrawingGridEvery>0</w:DisplayHorizontalDrawingGridEvery><w:DisplayVerticalDrawingGridEvery>2</w:DisplayVerticalDrawingGridEvery><w:DocumentKind>Docum



नए हैं हम

नए हैं हमसंकल्प द्ढ है भारत के नवनिर्माण का ।अभी अभी तो आए है विचार लिए विकास का ।दावानल सी फैल उठी है ये बात सारे देश मे ।भारत ! हाँ जी भारत मे हीबल है जनसमुदाय का...! नए है हमअस्तित्व बडा हैयुवाओं के बाँह का ।कदम कदम पर रक्खे हमने नीव तेज विकास का ।हर तरफ अब गूँज उठे ह



‘वसुधैव कुटुम्बकम’ का भाव रखने वाली एकमात्र संस्कृति ‘भारतीय संस्कृति’

हमारी प्राचीन भारतीय संस्कृति समूचे विश्व की संस्कृतियों में सर्वश्रेष्ठ और समृद्ध संस्कृति है | भारत विश्व की सबसे पुरानी सभ्यता का देश है। भारतीय संस्कृति के महत्वपूर्ण तत्व शिष्टाचार, तहज़ीब, सभ्य संवाद, धार्मिक संस्कार, मान्यताएँ और मूल्य आदि हैं। अब जबकि हर एक की जीवन शैली आधुनिक हो रही है भार



स्वच्छता शपथ

आप भी मेरे साथ “ स्वच्छता शपथ ” दोहराइए. ... महात्मा गांधी ने जिस भारत का सपना देखा था, उसमें सिर्फ राजनैतिक आजादी ही नहीं थी, बल्कि एक स्वच्छ एवं विकसित देश की कल्पना भी थी । महात्मा गांधी ने गुलामी की जंजीरों को तोड़कर माँ भारती



वन्दे मातरम्

स्वतंत्रता दिवस पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाये |



आजादी आपनी सोच में लायें

आजादी आपनी सोच में लायें भारत हर साल 15 अगस्त को अपना स्वतंत्रता दिवस मनाता है। यह दिन जहां हमारे आजाद होने की खुशी लेकर आता है वहीं इसमें भारत के खण्ड खण्ड होने का दर्द भी छिपा होता है। वक्त के गुजरे पन्नों में भारत से ज्यादा गौरवशाली इतिहास किसी भी देश का नहीं हुआ। लेक



देश की संसद में 2003 से बैन है सॉफ्ट ड्रिंक्स? कितनी सच्चाई है इसमें, जानिए

देश की आधे से ज्यादा जनता कोल्डड्रिंक्स पर टिकी है। खासकर इसे पीने का मजा गर्मी में आता है जब भरी धूप में चिल्ड कोल्डड्रिंक पीने को मिल जाए। पूरे देश में कोका-कोला, पेप्सी, ड्यू, फैंटा और लिम्बा धड़ल्ले से बि



इंसानों के लायक नहीं है रेलवे का खाना, ट्रेन-स्टेशन बेहद गंदे

 कैग की एक रेलवे पर एक रिपोर्ट शुक्रवार को संसद में पेश की गई। इसमें कहा गया है कि रेलवे स्टेशनों और ट्रेनों में मिलने वाला खाना इंसानों के खाने लायक नहीं है। कैग ने 74 स्टेशंस और 80 ट्रेनों में जांच के बाद



Bharat ko gulam रखने ke लिए मैकॉले में करवाई थी कॉन्वेंट (लावारिस child)school की शुरुआत - YouTube

Bharat ko gulam रखने ke लिए मैकॉले में करवाई थी कॉन्वेंट (लावारिस child)school की शुरुआतPlease don't forget to link, Share , comment & most important SUBSCRIBE https://www.youtube.com/channel/UCx0G...Source : Dainik Bharat Music address:By



पूरी दुनिया में कोई नहीं करता इस तकनिकी का उपयोग ! 85% दूषित पानी को कर रहे फिर से प्रयोग

मप्र के उन्नतशील किसानों ने इजराइल के तेल अबीब शहर में हाल ही में संपन्न हुए अंतरराष्ट्रीय कार्यक्रम में हिस्सा लिया। दरअसल इन किसानों ने इस बात को समझा है कि खेती में पानी और तकनीक का बेहद महत्व है। इजराइल का किसान संपन्न होने के साथ-साथ दुनिया में मॉडल इसलिए बन गया है क



जीवन को बोझिल बनता है समझौता

किसी भी व्यक्ति को अपनी जमीन नहीं छोडऩी चाहिए. क्योंकि जमीन छूटते ही वह हर मोड़ पर समझौते करता है और यही समझौते उसके जीवन को नरक के समान बना देते है. क्योंकि एक बार अगर समझौता हो गया, तो समझो आपने सामने वाले को अपनी जिंदगी में दखलअंदाजी करने का खुला निमंत्रण दे दिया. अब क



भारत की मिटटी से अब नहीं निकलते आर्यभट्ट, चाणक्य क्यूंकि अब हम अंग्रेज बनने चले है !! - Dainik Bharat

देश वही है, मिटटी भी वही है पर सच मानिये अब इस देश से आर्यभट्ट, शुश्रुत, चाणक्य, भाष्कराचार्य, पतंजलि जैसे महान लोग नहीं निकलते यहाँ तक की इजराइल, नीदरलैंड, स्वीडन जैसे देश भी तकनीक में हमसे आगे है क्यूंकि हम अब भारतीय नहीं बल्कि अंग्रेज बनने चले है हम बच्चों को शुरू से



इन चीनी कंपनियों का माल खरीद आप भारत का धन चीन में भेजते है, ऐसा होने से रोकिये, शेयर जरूर कीजिये - Dainik Bharat

ये ऊपर तस्वीर में कुछ कंपनियों के लोगो हैये तमाम कम्पनियाँ चीन की कम्पनियाँ है और भारत में मोबाइल बेचने का धंधा कर रही हैये कम्पनियाँ हैलिनोवो, जीयोनी, LETV, Xiaomi, ओप्पो, वीवो, वन प्लस, कूलपैड इत्यादिये तमाम कंपनिया भारत में रोजाना हज़ारो और लाखों की संख्या में मोबाइल और



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x