आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
x
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस

लेख

लेख से सम्बंधित लेख निम्नलिखित है :-

भारत की इस बेटी ने आइंस्टीन की थ्योरी को किया चैलेंज, जिसपर नासा और कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी ने भी लगाई मुहर

पटना: हाल ही में हुए टॉपर घोटाले के बाद बिहार में शिक्षा व्यवस्था की जो तस्वीर दुनियां के सामने आई थी उसने बिहार का सिर सबके सामने झुका दिया था. लेकिन बिहार की ही एक बेटी ने ये साबित कर दिया कि बिहार में ना तो कभी प्रतिभा की कमी रही है और ना ही कभी होगी. आईएएस, आईपीएस और इंजीनियर उगलने वाली बिहार घर


आशा (Hope)

सुवचन सकारात्‍मक होते हैं अौर दिशा निर्धारित करते हैं। सुपथ दिखाते हैं अौर लक्ष्‍य प्राप्ति में सहायक होते हैं। आज का सुवचन का शीर्षक 'आशा' है!Video को LIKE और हमारे CHANNEL को SUBSCRIBE करना ना भूले ! JYOTISH NIKETAN: आशा (Hope)


भविष्‍य (Future)

सुवचन सकारात्‍मक होते हैं अौर दिशा निर्धारित करते हैं। सुपथ दिखाते हैं अौर लक्ष्‍य प्राप्ति में सहायक होते हैं। आज का सुवचन का शीर्षक 'भविष्‍य' है! JYOTISH NIKETAN SANDESH: भविष्‍य (Future)


सुषमा स्वराज के पति को ट्विटर पर जो भी सवाल पूछता है वो लोटपोट होकर लौटता है

सुषमा स्वराज की वाकपटुता से हम सब परिचित हैं. ट्विटर पर वे बड़ी सक्रिय हैं. तुर्त-फुर्त और तीखे ट्वीट करने के लिए वो मशहूर हैं. कई सारे लोगों की समस्याओं का समाधान भी ट्विटर से किया है उन्होंने. कुछ लोगों को झाड़ भी लगा चुकी हैं कि अंट-शंट ट्वीट करके जो लोग उल्टी-सीधी मांगें रखते हैं, वो हमेशा उन्हें


इन दो भारतीयों ने इस साल ग्रैमी जीता है लेकिन कोई तारीफ़ करने वाला नहीं है

किसी का भी इस ओर ध्यान नहीं गया कि 2 भारतीयों ने भी इस साल ग्रैमी जीतकर भारत का नाम रौशन किया है। कोई ध्यान भी क्यों देगा? इसमें किसी मशहूर म्यूजीशियन का नाम तो है नहीं। आपको नहीं लगता कि भारत को इन 2 लोगों का शुक्रिया अदा करना चाहिए? लेकिन हम शुक्रिया तब अदा करेंगे जब हम


देश के सभी दिल के मरीजों को दिल्ली के इस वकील का शुक्रिया अदा करना चाहिए

पिछले कई सालों से भारत वासी एक चीज़ के लिए हद से ज़्यादा पैसा अदा कर रहे थे। वो चीज़ है भी बहुत महत्त्वपूर्ण क्योंकि वो दिल की बीमारी से संबंधित है। हम बात कर रहे हैं कोरोनरी स्टेंट की। दिल के मरीज़ों को इसकी काफ़ी ज़रूरत पड़ती है। दिल्ली के एक वकील बिरेंदर सांगवान ने एक पीआईएल दाखिल करके इसकी कीमत को 85%


भैंस-चक्र ( व्यंग्य )

राज्य में कल अचानक आपातकालीन स्थिति उत्पन्न होगई। वहाँ अनौपचारिक राजकीय शोक मन रहा था। अनौपचारिक इसलिए, क्योंकि इसकी औपचारिक घोषणा सरकारी राजपत्र में नहीं हुई थी, हालाँकि राष्ट्रीय दुर्घटना बन गई इस की अखबारी ख़बर से सारा देश ग़मगीन हो गया था। दरअसल नेताजी की दो भैंसों में से एक भैंस उनके तबेले से स


रोग शान्ति का मन्‍त्र प्रयोग

स्‍वस्‍थ्‍य सभी रहना चाहते हैं। रोगभय से सभी घबराते हैं। राेग से मुक्ति सभी को चाहिए। रोग शान्‍त हो जाए इसके लिए एक मन्‍त्र प्रयोग दे रहे हैं। मन्‍त्र की शक्ति सर्वविदित है। इस प्रयोग को आस्‍था व विश्‍वास के साथ करेंगे तो अवश्‍य लाभ होगा। चिकित्‍सक से अपना इलाज कराएं औ


बुढ़ापा

हाइकु 5-7-5 के क्रम वाली क्षणिक कविता है और इसमें एक क्षण को उसकी सम्‍पूर्णता सहित अभिव्‍यक्‍त किया जाता है। इस वीडियो में बुढ़ापा के विषय में कुछ हिन्‍दी हाइकु दे रहे हैं। विश्‍वास हैं अवश्‍य पसन्‍द आएंगे। पसन्‍द आने पर लाईक, कमन्‍ट, शेयर व सब्‍सक्राईब करें। धन्‍यवाद ! बुढ़ापा (Senility) BuDhaapaa


तेजाबी गुलाब है मीडिया का वैलेनटाइन

''गूंजे कहीं शंख कहीं पे अजान है , बाइबिल है ,ग्रन्थ साहब है,गीता का ज्ञान है , दुनिया में कहीं और ये मंजर नहीं नसीब , दिखलाओ ज़माने को ये हिंदुस्तान है .'' ऐसे हिंदुस्तान में जहाँ आने वाली पीढ़ी के लिए आदर्शों की स्थापना और प्रेर


भाव

आज का सुवचन


श्रेष्ट विद्यार्थी और गौरवशाली राष्ट्र (लेखक :- पंकज “प्रखर”)

विद्यार्थी जीवन मनुष्य के जीवन का सबसे महत्वपूर्ण समय होता है | इस समय में बने संस्कार, सीखी हुई कलाएँ हमारा भविष्य निर्धारित करती हैं | इसलिए यह बहुत जरूरी हो जाता है कि मनुष्य अपने विद्यार्थी जीवन से ही देश के प्रति अपने कर्तव्यों को समझे | इससे वह अपने जीवन को इस प्रकार ढाल सकेगा कि राष्ट्र के प्


वैलेंटाइन डे युवाओं का एक दिवालियापन

लेखक:- पंकज प्रखर प्रेम शब्दों का मोहताज़ नही होता प्रेमी की एक नज़र उसकी एक मुस्कुराहट सब बयां कर देती है, प्रेमी के हृदय को तृप्त करने वाला प्रेम ईश्वर का ही रूप है| एक शेर मुझे याद आता है की.... “बात आँखों की सुनो दिल में उतर जाती है ,जुबां का क्या है ये कभी भी मुकर जाती है| ” इस शेर के बाद आज के


देश और हिंदी

हिंदी भाषा को राष्ट्र भाषा बनाने के लिए और इसकी महत्ता को बताने के लिए भारत के नेताओं और साहित्यकारों ने इसके बारे में काफी कुछ लिखा है.


हिंदी मेरी पहचान


सबसे बड़ी बाधा

आज का सुवचन


सुविधा क्षेत्र

आज का सुवचन


कोठे में ज़िदगी का दर्द बयां करती हैं ये दिल छू लेने वाली तस्वीरें

बांग्लादेश, पड़ोस में बसा एक छोटा-सा मुल्क, उन मुस्लिम देशों में से एक है जहां वेश्यावृति लीगल है। बांग्लादेश के तंगैल ज़िले का कांडापारा वेश्यालय वहां का सबसे पुराना और दूसरा सबसे बड़ा वेश्यालय है। 200 साल पुराने इस कोठे को 2014 में हटाया गया, मगर लोकल एनजीओ की मद


विजेता

आज का सुवचन


रचनात्मकता

व्यक्ति की रचनात्मक प्रवृत्ति तब अधिक निखर कर आती है जब वह मुक्त होकर सोचता है। मुक्त सोच के अनुसार कुछ नया करने का प्रयास करने पर भी रचनात्मकता आती है। अपनी मुक्त सोच को अपनी रचनात्मक रुचि के अनुसार विकसित करें। ऐसा करने से आपके कार्य में नवीनता होगी और लक्ष्य प्राप्ति का मार्ग प्रशस्त करने में भी 


आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
x
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस