सजीव

1


मानवता

मानवता ही नैतिकता का आधार है । सभी नैतिक मूल्य सत्य अहिंसाप्रेम सेवा शांति करुणा इत्यादि गुणों का मूल “मानवता” ही है । ‘मानवता’ हीनैतिकता का आधार है, जैसे कोई निर्धन, असहाय, बीमार व्यक्ति भूखा है; वहां दया सेपूरित होकर कोई सेवा करता है, भूखे को भोजन कराता है; तो



आया ऋतुराज बसंत

शिशिर का प्रकोप ढलान पर आया ऋतुराज बसंत दालान परखेत-खलिहान / बाग़ -बग़ीचे पीलिमा का सुरभित आभामंडल, गुनगुनी धूप पुष्प-पत्तों ने पहने ओस के कुंडल। सरसों के पीले फूल गेंहूँ-जौ की नवोदित बालियां / दहकते ढाक - पलाश, सृष्टि का साकार सौंदर्य मोहक हो





1
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x