“गज़ल” “गज़ल” बहाने मत बनाओ जी धुआँ उठता नहीं यूँ ही

13 अगस्त 2018   |  महातम मिश्रा   (133 बार पढ़ा जा चुका है)

काफिया- आ स्वर रदीफ़-नहीं यूँ ही वज्न- १२२२ १२२२ १२२२ १२२२


“गज़ल”


बहाने मत बनाओ जी धुआँ उठता नहीं यूँ ही

लगाकर आग बैठे घर जला करता नहीं यूँ ही

यहाँ तक आ रहीं लपटें धधकता है वहाँ कोना

तनिक जाकर शहर देखों किला जलता नहीं यूँ ही॥


सुना है जल गई कितनी इमारत बंद कमरों की

खिड़कियाँ रोज खुलती थी तवा तपता नहीं यूँ ही॥


खुला था सर्द दरवाजा अनाथों के लिए जिस दर

उसीने दर्द छलकाया गुन्हा खपता नहीं यूँ ही॥


मिली हैं बच्चियाँ कितनी जो जीने के लिए आई

बिचारी पत्तियों का क्या तना जलता नहीं यूँ ही॥


रहम आती नहीं तुमको अभी भी गूँजती चींखे

शरम से सर झुका जाता बता सकता नहीं यूँ ही॥


निशाना और था गौतम गिरि नीयत जुवारी की

हुआ हैवान पालक बन इंसा मरता नहीं यूँ ही॥


महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "मिलन मुक्तक"



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 जुलाई 2018
वज़्न- २२१ १२२२ २२१ १२२२ काफ़िया- अ रदीफ़ आओगे “गज़ल” आकाश उठाकर तुम जब वापस आओगेअनुमान लगा लो रुक फिर से पछताओगेहर जगह नहीं मिलती मदिरालय की महफिल ख़्वाहिश के जनाजे को तकते रह जाओगे॥ पदचाप नहीं सुनता अंबर हर सितारों का जो टूट गए नभ से उन परत खिलाओगे॥इक बात सभी कहते हद में रह
30 जुलाई 2018
31 जुलाई 2018
“देशज गीत” जिनगी में आइके दुलार कइले बाटगज़ब राग गाइके सुमार कइले बाटनीक लागे हमरा के अजबे ई छाँव बा कस बगिया खिलाइ के बहार कइले बाट॥......जिनगी में आइके दुलार कइले बाटफुलाइल विरान वन चम्पा चमेलीकान-फूंसी करतानी सखिया सहेलीमनवा डेरात मोरा पतझड़ पहारूरात-दिन सावन जस फुहार कइ
31 जुलाई 2018
16 अगस्त 2018
वज़्न- १२२२ १२२२ १२२२ १२२२ काफ़िया-आन रदीफ़- का आरा"गज़ल"उड़ा अपना तिरंगा है लगा आसमान का तारातिरंगा शान है जिसकी वो हिंदुस्तान का प्याराकहीं भी हो किसी भी हाल में फहरा दिया झंडाजुड़ी है डोर वीरों से चलन इंसान का न्यारा।।किला है लाल वीरों का जहाँ रौनक सिपाही कीगरजता शेर के मान
16 अगस्त 2018
21 अगस्त 2018
काफ़िया- आ स्वर रदीफ़- रह गया वज्न- २१२ २१२ २१२ २१२ फाइलुन फाइलुन फाइलुन फाइलुन"गज़ल"आदमी भल फरज मापता रह गयाले उधारी करज छाँकता रहा गयाखोद गड्ढा बनी भीत उसकी कभीजिंदगी भर उसे पाटता रह गया।।दूर होते गए आ सवालों में सभीहल पजल क्या हुई सोचता रह गया।।उमर भर की जहमद मिली मुफ्त
21 अगस्त 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x