भगवान का पूर्णावतार :----- आचार्य अर्जुन तिवारी

03 सितम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (101 बार पढ़ा जा चुका है)

भगवान का पूर्णावतार :----- आचार्य अर्जुन तिवारी

*भगवान श्री कृष्ण का नाम मस्तिष्क में आने पर एक बहुआयामी पूर्ण व्यक्तित्व की छवि मन मस्तिष्क पर उभर आती है | जिन्होंने प्रकट होते ही अपनी पूर्णता का आभास वसुदेव एवं देवकी को करा दिया | प्राकट्य के बाद वसुदेव जो को प्रेरित करके स्वयं को गोकुल पहुँचाने का उद्योग करना | परमात्मा पूर्ण होता है अपनी शक्तियों से भगवान कन्हैया पूर्णरूप में अपनी शक्ति (योगमाया) के साथ धराधाम पर पधारे | स्वयं जैसे ही कारागृह में प्रकट हुए उनके साथ ही गोकुल में यशोदा के गर्भ से योगमाया का प्राकट्य होता है | श्री कृष्ण ने बचपन में ही राक्षसों का वध करके मनुष्य को नकारात्मक शक्तियों से संघर्ष करने के लिए प्रेरित किया | परिवर्तन समय की माँग है समय समय पर पुरानी रूढिवादी परम्पराओं में बदलाव आवश्यक बताते हुए भगवान श्री कृष्ण ने इन्द्र की पूजा बन्द करवा के गोवर्धनपूजा प्रारम्भ की | मनुष्य के कर्म पथ पर मोह , माया अवरोध नहीं बन सकती इसका दिव्य उदाहरण भगवान श्री कृष्ण के चरित्र में तब देखने को मिलता है जब कर्मपथ पर अग्रसर होते हुए (मथुरा जाते हुए) उन्होंने प्राणों से प्रिय गोपियों एवं ग्वालों का मोह त्याग दिया | धर्म एवं न्याय के लिए अपने सम्बन्धियों को भी दण्डित करने का उदाहरण श्री कृष्ण ने अपने मामा कंस का वध करके प्रस्तुत किया |श्रीकृष्ण ‘अहिंसा परमो धर्म:' का उपदेश अर्जुन को देते हैं, तो ‘धर्महिंसा तथैव च' का उद्घोष करने से भी नहीं चूकते | जो कृष्ण आवश्यकता पड़ने पर कालयवन से भागते हुए स्वयं रणछोड़ के नाम से प्रसिद्ध होते हैं, वह ही समयानुसार आवश्यकता पड़ने पर युद्ध से विरत होते अर्जुन को युद्ध के लिए प्रेरित करते हैं | श्रीकृष्ण के व्यक्तित्व के इतने आयाम हैं कि नवधा भक्ति के अनुसार हर प्रवृत्ति का भक्त अपनी भक्ति के अनुसार उनकी छवि गढ़ कर भक्ति कर सकता है | दैत्यों का वध करते कृष्ण, कहीं वंशी बजाते एवं रास रचाते कृष्ण, कहीं गीता उपदेश करते योगेश्वर कृष्ण, कभी द्रौपदी तथा कुब्जा के दुख को दूर करते कृष्ण | जीवन के हर क्षेत्र तथा हर रूप में श्रीकृष्ण पूर्ण दिखाई देते हैं, शायद इसीलिए भक्तों ने इन्हें पूर्णावतार कहा |* *आज हम प्रतिवर्ष भगवान कन्हैया का जन्मोत्सव "जन्माष्टमी" के रूप में मनाते तो हैं परंतु उनके आदर्शों पर चलने को तैयार नहीं दीखते | आज मनुष्य कर्मयोगी कम भोगी ज्यादा होता जा रहा है | काम , क्रोध , मद , लोभ , मोह , माया , अहंकार ने मनुष्य को इतना जकड़ लिया है कि वह कहीं कहीं स्वयं को विवश पाता है | जबकि भगवान कन्हैया ने सिखाया है कि किस तरह मनुष्य को अपने कर्मपथ पर किसी भी प्रकार की विवशता का अवरोध नहीं आने देना चाहिए | आज का मनुष्य धर्म - अघर्म मेम निर्णय लेने में स्वयं को अक्षम पा रहा है | कुछ ग्वालों को साथ लेकर बाहुबली कंस का सामना करके भगवान श्री कृष्ण ने यही सिखाया है कि आतताईयों एवं अत्याचारों के विरुद्ध मनुष्य चुप नहीं रहना चाहिए अपितु विरोध करना चाहिए | परंतु मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" यह कह सकता हूँ कि आज समाज में अनेकों घटनायें (लूट , हत्या , बलात्कार , छेड़छाड़ , छिनैती आदि) को अपनी आँखों से देखते हुए भी हम यह कहकर आँखें बन्द कर लेते हैं कि हमसे क्या मतलब ?? यही वह प्रबल कारण है जो आतताईयों के हौसले बुलन्द करता है | हमारा जन्माष्टमी मनाना तभी सार्थक होता जब हम भगवान कन्हैया के बताये मार्गों का अनुसरण करेंगै |* *हम कृष्णचन्द्र तो नहीं बन सकते परंतु उनके दिखाये मार्गों का अनुसरण तो कर ही सकते हैं |*

अगला लेख: काम प्रवृत्ति :----- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म में त्यौहारों की कमी नहीं है | नित्य नये त्यौहार यहाँ सामाजिक एवं धार्मिक समसरता बिखेरते रहते हैं | ज्यादातर व्रत स्त्रियों के द्वारा ही किये जाते हैं | कभी भाई के लिए , कभी पति के लिए तो कभी पुत्रों के लिए | इसी क्रम में आज भाद्रपद कृष्णपक्ष की षष्ठी (छठ) को भगवान श्री कृष्णचन्द्र जी के
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*सनातन वैदिक धर्म ने मानव मात्र को सुचारु रूप से जीवन जीने के लिए कुछ नियम बनाये थे | यह अलग बात है कि समय के साथ आज अनेक धर्म - सम्प्रदायों का प्रचलन हो गया है , और सनातन धर्म मात्र हिन्दू धर्म को कहा जाने लगा है | सनातन धर्म जीवन के प्रत्येक मोड़ पर मनुष्यों के दिव्य संस्कारों के साथ मिलता है | जी
03 सितम्बर 2018
02 सितम्बर 2018
नई दिल्ली। पीएम मोदी ने पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम की दूसरी पुण्यतिथि के मौके पर रामेश्वरम में कलाम के मैमोरियल का उद्घाटन किया था। रामेश्वरम वही जगह है जिसे हिंदू धर्म के चार धामों में से एक माना जाता है।रामेश्वरम हिंदुओं का एक पवित्र तीर्थ है। यह तमिलनाडु के राम
02 सितम्बर 2018
22 अगस्त 2018
*इस संसार में जब से मानवी सृष्टि हुई तब से लेकर आज तक मनुष्य के साथ सुख एवं दुख जुड़े हुए हैं | समय समय पर इस विषय पर चर्चायें भी होती रही हैं कि सुखी कौन ? और दुखी कौन है ?? इस पर अनेक विद्वानों ने अपने मत दिये हैं | लोककवि घाघ (भड्डरी) ने भी अपने अनुभव के आधार पर इस विषय पर लिखा :- "बिन व्याही ब
22 अगस्त 2018
03 सितम्बर 2018
*संसार में मनुष्य एक अलौकिक प्राणी है | मनुष्य ने वैसे तो आदिकाल से लेकर वर्तमान तक अनेकों प्रकार के अस्त्र - शस्त्रों का आविष्कार करके अपने कार्य सम्पन्न किये हैं | परंतु मनुष्य का सबसे बड़ा अस्त्र होता है उसका विवेक एवं बुद्धि | इस अस्त्र के होने पर मनुष्य कभी परास्त नहीं हो सकता परंतु आवश्यकता हो
03 सितम्बर 2018
29 अगस्त 2018
*इस सृष्टि में चौरासी लाख योनियां बताई गयी हैं जिनमें सबका सिरमौर बनी मानवयोनि | वैसे तो मनुष्य का जन्म ही एक जिज्ञासा है इसके अतिरिक्त मनुष्य का जन्म जीवनचक्र से मुक्ति पाने का उपाय जानने के लिए होता अर्थात यह कहा जा सकता है कि मनुष्य का जन्म जिज्ञासा शांत करने के लिए होता है , परंतु मनुष्य जिज्ञास
29 अगस्त 2018
27 अगस्त 2018
*मानव शरीर को गोस्वामी तुलसीदास जी ने साधना का धाम बताते हुए लिखा है :--- "साधन धाम मोक्ष कर द्वारा ! पाइ न जेहि परलोक संवारा !! अर्थात :- चौरासी लाख योनियों में मानव योनि ही एकमात्र ऐसी योनि है जिसे पाकर जीव लोक - परलोक दोनों ही सुधार सकता है | यहाँ तुलसी बाबा ने जो साधन लिखा है वह साधन आखिर क्या ह
27 अगस्त 2018
27 अगस्त 2018
*सनातन संस्कृति इतनी मनोहारी है कि समय समय पर आपसी प्रेम सौहार्द्र को बढाने वाले त्यौहार ही इसकी विशिष्टता रही है | शायद ही कोई ऐसा महीना हो जिसमें कि कोई त्यौहार न हो , इन त्यौहारों के माध्यम से समाज , देश एवं परिवार के बिछड़े तथा अपनों से दूर रह रहे कुटुंबियों को एक दूसरे से मिलने का अवसर मिलता है
27 अगस्त 2018
29 अगस्त 2018
*सनातन काल से मनुष्य धर्मग्रंथों का निर्देश मान करके ईश्वर को प्राप्त करने का उद्योग करता रहा है | भिन्न - भिन्न मार्गों से भगवत्प्राप्ति का यतन किया जाता रहा है | इन्हीं में एक यत्न है माला द्वारा मंत्रजप | कुछ लोग यह पूंछते रहते हैं कि धर्मग्रंथों में दिये गये निर्देशानुसार यदि निश्चित संख्या में
29 अगस्त 2018
21 अगस्त 2018
*हमारी भारतीय संस्कृति सदैव से ग्राह्य रही है | हमारे यहाँ आदिकाल से ही प्रणाम एवं अभिवादन की परम्परा का वर्णन हमारे शास्त्रों में सर्वत्र मिलता है | कोई भी मनुष्य जब प्रणाम के भाव से अपने बड़ों के समक्ष जाता है तो वह प्रणीत हो जाता है | प्रणीत का अर्थ है :- विनीत होना , नम्र होना या किसी वरिष्ठ के
21 अगस्त 2018
27 अगस्त 2018
*राखी के बंधन का जीवन में बहुत महत्त्व है | राखी बाँधने का अर्थ क्या हुआ इस पर भी विचार कर लिया जाय कि राखी का अर्थ है रक्षण करने वाला | तो आखिर यह रक्षा कि जिम्मेदारी है किसके ऊपर /? अनेक प्रबुद्धजनों से वार्ता का सार एवं पुराणों एवं वैदिक अनुष्ठानों से अब तक प्राप्त ज्ञान के आधार पर यही कह सकते है
27 अगस्त 2018
22 अगस्त 2018
*इस संसार में जिस प्रकार संसार में उपलब्ध लगभग सभी वस्तुओं को अपने योग्य बनाने के लिए उसे परिमार्जित करके अपने योग्य बनाना पड़ता है उसी प्रकार मनुष्य को कुछ भी प्राप्त करने के लिए स्वयं का परिष्कार करना परम आवश्यक है | बिना परिष्कार के मानव जीवन एक बिडंबना बनकर रह जाता है | सामान्य मनुष्य , यों ही अ
22 अगस्त 2018
29 अगस्त 2018
*सनातन काल से मनुष्य धर्मग्रंथों का निर्देश मान करके ईश्वर को प्राप्त करने का उद्योग करता रहा है | भिन्न - भिन्न मार्गों से भगवत्प्राप्ति का यतन किया जाता रहा है | इन्हीं में एक यत्न है माला द्वारा मंत्रजप | कुछ लोग यह पूंछते रहते हैं कि धर्मग्रंथों में दिये गये निर्देशानुसार यदि निश्चित संख्या में
29 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x