मन :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

20 सितम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (43 बार पढ़ा जा चुका है)

मन :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धराधाम पर ईश्वर की सर्वोत्कृष्ट कृति बनकर आई मनुष्य | मनुष्य की रचना परमात्मा ने इतनी सूक्ष्मता एवं तल्लीनता से की है कि समस्त भूमण्डल पर उसका कोई जोड़ ही नहीं है | सुंदर मुखमंडल , कार्य करने के लिए हाथ , यात्रा करने के लिए पैर , भोजन करने के लिए मुख , देखने के लिए आँखें , सुनने के लिए कान , एवं अफनी अभिव्यक्ति प्रकट करने के जिह्वा तो मनुष्य के साथ प्राय: सभी स्थलीय प्राणियों में है , परंतु मनुष्य को विशेषता प्रदान करने के लिए उस परमपिता ने मनुष्य को "मन" नामक इन्द्रिय का उपहार दे दिया जो कि शायद अन्य प्राणियों में नहीं है और यजि है तो वे व्यक्त नहीं कर पाते हैं | वैसे तो मनुष्य के मन की वृहद व्याख्या प्राचीन से लेकर वर्तमान ग्रंथों , कवियों की कविताओं आदि में की गयी है परंतु मन आखिर है क्या ?? मनुष्य के शरीर में दो हाथ , दो पैर , दो आँखें , दो कान एवं एक मुख है परंतु अकेले मन के पास हजार आँखें , हजार हाथ एवं हजारों पैर होते हैं ! मन के पैरों का आभास मनुष्य को तब होता है जब वह अपने आवास पर बैठे - बैठे ही पूरी दुनिया (मन से) भ्रमण कर लेता है | मनुष्य का कैसा है यह उसकी मानसिकता से परिलक्षित होता है | यदि मनुष्य का मन सात्विक गुणों वाला है तो उसे सब सुंदर ही दिखाई पड़ता है परंतु मनुष्य के मन में तामसी प्रवृत्ति है तो उसे सम्पूर्ण संसार तामसी ही लगेगा | मनुष्य की मानसिकता यदि गंदी हो जाती है तो उसे शुद्ध करने का एक ही साधन है ज्ञानियों का सतसंग | सतसंग के माध्यम से ही मन को मैला करने वाले काम , क्रोधादिक कषायों को तिलांजलि दी जा सकती है |* *आज प्राय: मनुष्य शिकायत करता रहता है कि उसने तीर्थ यात्रायें की , नदियों में स्नान किये , मंदिरों में पूजा की , घर में अनुष्ठान किये परंतु उसका प्रतिफल नहीं प्राप्त हो रहा है | और प्रतिफल प्राप्त होने के अन्य उपायों की खोज में मनुष्य एक नये सद्गुरु की शरण ढूंढने लगता है | ऐसे लोगों से मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" ज्यादा कुछ नहीं बस इतना ही पूंछना चाहूँगा कि हे भैया ! आपने तीर्थ किये , नदियों में मल मलकर शरीर धुले , मंदिरों में जाकर दर्शन करके घरों में अनुष्ठान भी कराये परंतु क्या आपने कभी अपने मन से तीर्थों के दर्शन किये ?? मन के मल को धोने के प्रयास किया ?? क्या कभी मन से किसी सतसंग में गये ?? शायद नहीं ! जिसने भी उपरोक्त कर्म शरीर से न करके मन से किये हैं वह आज के युग में भी सुखी है | आज प्राय: लोग तीर्थ करने कम और मनोरंजन करने ज्यादा जाते हैं ! मंदिरों में दान देकर ख्याति प्राप्त करना और घरों में अनुष्ठान करवा के स्वयं को धार्मिक दिखाने वाले मनुष्य के मन का मैल नहीं धुल पाया है | मन दर्पण की तरह होता है ! जैसे दर्पण पर धूल जम जाने पर अपना चेहरा नहीं दिखता ठीक उसी प्रकार मन पर काम , क्रोध , मद , लोभ अहंकार रूपी धूल चढ जाती है तो मनुष्य को अपना मूल अस्तित्व भी दिखना बन्द हो जाता है | दर्पण की धूल साफ करने के लिए जिस प्रकार वस्त्र की आवश्यकता पड़ती है उसी प्रकार मन की धूल साफ करने के लिए सतसंग रूपी वस्त्र की आवश्यकता होती है |* *आज मनुष्य की गंदी मानसिकता का कारण आधुनिकता की चकाचौंध में अपनी मूल संस्कृति को भूल जाना ही प्रमुख है |*

अगला लेख: भगवान की छठी :----- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म की मान्यतायें कभी भी आधारहीन नहीं रही हैं | यहाँ चौरासी लाख योनियों का विवरण मिलता है | इन्हीं चौरासी लाख योनियों में एक योनि है हम सबकी अर्थात मानव योनि | ये चौरासी लाख योनियाँ आखिर हैं क्या ?? इसे वेदव्यास भगवान ने पद्मपुराण में लिखा है :-- जलज नव लक्षाण
09 सितम्बर 2018
01 अक्तूबर 2018
*इस सृष्टि का सृजन करके हमेम इस धरा धाम पर भेजने वाली उस परमसत्ता को ईश्वर कहा जाता है | ईश्वर के बिना इस सृष्टि की परिकल्पना करना ही व्यर्थ है | कहा भी जाता है कि मनुष्य के करने से कुछ नहीं होता जो कुछ करता है ईश्वर ही करता है | वह ईश्वर जो सर्वव्यापी है और हमारे पल पल के कर्मों का हिसाब रखता है |
01 अक्तूबर 2018
07 सितम्बर 2018
*इस संसार में मानवयोनि पाकर आज मनुष्य इस जीवन को अपने - अपने ढंग से जीना चाह रहा है और जी भी रहा है | जब परिवार में बालक का जन्म होता है तो बड़े उत्साह के साथ तरह - तरह के आयोजन होते हैं | छठवें दिन छठी फिर आने वाले दिनों अनेकानेक उत्सव बालक के एक वर्ष , दो वर्ष आदि होने पर उत्साहपूर्वक मनाये जाते ह
07 सितम्बर 2018
07 सितम्बर 2018
*आदिकाल से ही समाज व देश के विकास में युवाओं का अप्रतिम योगदान रहा है | समय समय पर सामाजिक बुराईयों का अन्त करने का बीड़ा युवाओं ने ही युठाया है | अपनी युवावस्था में ही मर्यादापुरुषोत्तम श्री राम ने ताड़कादि का वध तो किया साथ वन को जाकर रावण आदि दुर्दांत निशाचरों का वध करके विकृत होती जा रही संस्कृत
07 सितम्बर 2018
10 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म में मानव जीवन का उद्देश्य मोक्ष की प्राप्ति होना बताया गया है | प्रत्येक व्यक्ति जीवन भर चाहे जैसे कर्म - कुकर्म करता रहे परंतु चौथेपन में वह मोक्ष की कामना अवश्य करता है | प्राय: यह प्रश्न उठा करते हैं कि मोक्ष की प्राप्ति तो सभी चाहते हैं परंतु मृत्यु के बाद मनुष्य को क्या गति प्राप्त
10 सितम्बर 2018
06 सितम्बर 2018
*मनुष्य इस संसार में अपने क्रिया - कलापों से अपने मित्र और शत्रु बनाता रहता है | कभी - कभी वह अकेले में बैठकर यह आंकलन भी करता है कि हमारा सबसे बड़ा शत्रु कौन है और कौन है सबसे बड़ा मित्र ?? इस पर विचार करके मनुष्य सम्बन्धित के लिए योजनायें भी बनाता है | परंतु क्या मनुष्य का शत्रु मनुष्य ही है ?? क्
06 सितम्बर 2018
07 सितम्बर 2018
*मानव जीवन जीने के लिए अनेक रीतियों - रीतियों का पालन करना बहुत ही आवश्यक है | जो मनुष्य नीति से विमुख होकर चलने का प्रयास करता समाज उससे विमुख हो जाता है | समाज में दो प्रकार के मनुष्य होते हैं एक तो अपने ज्ञान - ध्यान के कारण विद्वान कहे जाते हैं और दूसरे अल्पज्ञ | अल्पज्ञ सदैव जिज्ञासु रहते हुए व
07 सितम्बर 2018
08 सितम्बर 2018
*सम्पूर्ण विश्व में हर्षोल्लास एवं धूमधाम से मनाया जाने वाला छ: दिवसीय श्रीकृष्ण जन्मोत्सव "जन्माष्टमी" आज भगवान की छठी मनाने के साथ पूर्णता को प्राप्त करेगा | मनुष्य जीवन जन्म लेने की छठवें दिन मनाया जाने वाला यह पर्व विशेष महत्व रखता है | भादों की अंधियारी रात में अष्टमी तिथि को कारागार में जन्म ल
08 सितम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x