जीवन में नैतिकता :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

07 अक्तूबर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (43 बार पढ़ा जा चुका है)

जीवन में नैतिकता :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धराधाम पर जीवन जीने के लिए हमारे महापुरुषों ने मनुष्य के लिए कुछ नियम निर्धारित किए हैं | इन नियमों के बिना कोई भी मनुष्य परिवार , समाज व राष्ट्र का सहभागी नहीं कहा जा सकता | जीवन में नियमों का होना बहुत ही आवश्यक है क्योंकि बिना नियम के कोई भी परिवार , समाज , संस्था , या देश को नहीं चलाया जा सकता | इन्हीं नियमों से बना नीतिक , नीतिक से नैतिक एवं नैतिक शब्द से ही नैतिकता का प्रादुर्भाव हुआ | प्राचीनकाल में प्रत्येक मनुष्य बताये गये नैतिक मूल्यों का पालन करते हुए समाज के उत्थान में सतते प्रयत्नशील रहकर सुखपूर्वक जीवन व्यतीत करते थे | जीवन के समस्त गुणों , ऐश्वर्यों की आधारशिला है मनुष्य की नैतिकता , चरित्र एवं नैतिकमूल्य | एक तरफ जहाँ हमारे आधारस्तम्भ प्राचीन ऋग्वेद में प्रत्येक मनुष्य के लिए "असतो मा सदगमय , तमसो मा ज्योतिर्गमय" की अवधारणा स्थापित की गयी , वहीं दूसरी ओर जीवन में नैतिकता के महत्व को प्रतिपादित करते हुए आचार्य चाणक्य ने "चाणक्यनीति" , विदुर जी ने "विदुरनीति एवं राजा भर्तृहरि ने "भर्तृहरिनीतिशतकम्" के माध्यम से मानवमात्र को नीतियों / नैतिकमूल्यों के साथ जीवन जीने का मार्ग प्रशस्त किया है | नैतिक मूल्यों का संबंध जहां सत्य मार्ग एवं सकारात्मकता से हैं जो कि मनुष्य को चरित्रवान एवं गुणी बनाते हैं , वहीं असत्य का आचरण करने वाले अंधकारमय रहते हुए नैतिक मूल्यों से पतित को होकर के समाज के लिए एक श्राप बन कर धरती को नर्क बनाने का कार्य करते रहते हैं | नैतिकमूल्य एवं नैतिकता मनुष्य के जीवम का आधारस्तम्भ हैं जिसकी मान्यताओं ने मानवता को जीवित कर रखा है |* *आज मनुष्य की नैतिकता का पतन हो रहा है | जिसका मुख्य कारण है हमारे नौनिहालों को मिलने वाली व्यवसायिक शिक्षा भी कही जा सकती है | जहाँ पहले विद्यालयों में छात्रों को नैतिकशिक्षा के रूप में एक अलग विषय की शिक्षा दी जाती थी वहीं आज पाठ्यक्रम से यह विषय ही गायब हो चुका है | नैतिक शिक्षा से अपरिचित होकर हमारे नौनिहाल बिना किसी रीति - नीति के मनमाने ढंग से जीवनयापन करने का प्रयास करते रहते हैं ! ऐसा करने में वे न तो परिवार की मान्यतायें मान पाते हैं और न ही दूसरों का आगर करना उनके शब्दकोष में होता है | इसका परिणाम टूटते परिवारों , विखण्डित होते समाज के रूप में देखने को मिल रहा है | मनुष्य के जीवन में नैतिकता का आरोपण करने का सबसे उचित समय बचपन होता है | क्योंकि मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का मानना है कि एक बालक का जब जन्म होता है तो वह न तो नैतिक होता है और न ही अनैतिक | वह शूम्य होता है | जीवन के विकासक्रम में धीरे धीरे पारिवारिक एवं सामाजिक परिवेश के अनुसार ही उसमें नैतिकता एवं अनैतिकता का प्रादुर्भाव होता है | एक बालक जब सत्य , अहिंसा एवं ईमानदारी के महत्व को समझकर जीवन में उसका पालन करने लगता है तो समझ लो उसमें नैतिकता का प्रस्फुटन हो रहा है | ऐसा बालक आगे चलकर अपने आदर्शों पर दृढ रहते हुए समाज में सम्मानित होता है वहीं इसके विपरीत जब एक बालक नैतिक मूल्यों को नहीं अर्जित कर पाता तो वह समाज के लिए अनुपयुक्त हो जाता है |* *जीवन में नैतिकमूल्यों के महत्व को समझते हुए प्रत्येक मनुष्य को अपने व्यस्त समय में से कुछ समय निकालकर अपने बच्चों को इसकी शिक्षा अवश्य देनी चाहिए |*

अगला लेख: त्रिगुणात्मक सृष्टि :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 सितम्बर 2018
*इस सृष्टि के जनक जिन्हे ईश्वर या परब्रह्म कहा जाता है वे सृष्टि में घट रही घटनाओं का श्रेय स्वयं न लेकरके किसी न किसी को माध्यम बनाते रहते हैं | परमपिता परमात्मा ने इस सृष्टि की रचना में पंचतत्वों की महत्वपूर्ण भूमिका बनायी और साथ ही इस सृष्टि में तीन गुणों (सत्व , रज एवं तम) को प्रकट किया और सकल स
28 सितम्बर 2018
01 अक्तूबर 2018
*इस सृष्टि का सृजन करके हमेम इस धरा धाम पर भेजने वाली उस परमसत्ता को ईश्वर कहा जाता है | ईश्वर के बिना इस सृष्टि की परिकल्पना करना ही व्यर्थ है | कहा भी जाता है कि मनुष्य के करने से कुछ नहीं होता जो कुछ करता है ईश्वर ही करता है | वह ईश्वर जो सर्वव्यापी है और हमारे पल पल के कर्मों का हिसाब रखता है |
01 अक्तूबर 2018
24 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म में ऐसी मान्यता है कि मनुष्य जन्म लेने के बाद तीन प्रकार के ऋणों का ऋणी हो जाता है | ये तीन प्रकार के ऋण मनुष्य को उतारने ही पड़ते हैं जिन्हें देवऋण , ऋषिऋण एवं पितृऋण के नाम से जाना जाता है | सनातन धर्म की यह महानता रही है कि यदि मनुष्य के लिए कोई विधान बनाया है तो उससे निपटने या मुक्ति
24 सितम्बर 2018
07 अक्तूबर 2018
*सनातन काल से यदि भारतीय इतिहास दिव्य रहा है तो इसका का कारण है भारतीय साहित्य | हमारे ऋषि मुनियों ने ऐसे - ऐसे साहित्य लिखें जो आम जनमानस के लिए पथ प्रदर्शक की भूमिका निभाते रहे हैं | हमारे सनातन साहित्य मनुष्य को जीवन जीने की दिशा प्रदान करते हुए दिखाई पड़ते हैं | कविकुल शिरोमणि परमपूज्यपाद गोस्वा
07 अक्तूबर 2018
28 सितम्बर 2018
*मानव समाज में एक दूसरे के ऊपर दोषारोपण करने का कृत्य होता रहा है | जबकि हमारे आर्ष ग्रंथों में स्थान - स्थान पर इससे बचने का निर्देश देते हुए लिखा भी है :- "परछिद्रेण विनश्यति" अर्थात दूसरों के दोष देखने वाले का विनाश हो जाता है अर्थात अस्तित्व समाप्त हो जाता है | इसी से मिलता एक शब्द है "निंदा" |
28 सितम्बर 2018
02 अक्तूबर 2018
*हमारे सनातन ग्रंथों में इस संसार को मायामय के साथ साथ मुसाफिरखाना भी कहा गया है | मुसाफिरखाना अर्थात जहां यात्रा के अंतर्गत एक - दो रात्रि व्यतीत करते हैं | कहने का तात्पर्य यह संसार एक किराए का घर है और इस किराए के घर को एक दिन छोड़ कर सबको जाना ही पड़ता है | इतिहास गवाह है कि संसार में जो भी आया
02 अक्तूबर 2018
01 अक्तूबर 2018
*मनुष्य इस पृथ्वी पर इकलौता प्राणी है जिसमें अन्य प्राणियों की अपेक्षा सोंचने - समझने के लिए विवेकरूपी एक अतिरिक्त गुण ईश्वर ने प्रदान किया है | अपने विवेक से ही मनुष्य निरन्तर प्रगति पथ पर अग्रसर होता रहा है | मनुष्य को कब क्या करना चाहिये इसका निर्णय विवेक ही करता है | अपने विवेक का प्रयोग जिसने स
01 अक्तूबर 2018
23 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म प्रत्येक पर्व एवं त्योहार स्वयं इस वैज्ञानिकता कुछ छुपाये हुए हैं | इतना बृहद सनातन धर्म कि इसके हर त्यौहार अपने आप में अनूठे हैं | आज भाद्रपद शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी को "अनंत चतुर्दशी" के नाम से जाना जाता है | संपूर्ण भारत में भक्तजन यह व्रत बहुत ही श्रद्धा के साथ लोग रहते हैं | "अनंत चत
23 सितम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x