हमारे पूर्वज :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

11 अक्तूबर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (67 बार पढ़ा जा चुका है)

हमारे पूर्वज :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म की दिव्यता का प्रतीक पितृपक्ष आज सर्वपितृ अमावस्या के साथ सम्पन्न हो गया | सोलह दिन तक हमारे पूर्वजों / पितरों के निमित्त चलने वाले इस विशेष पक्ष में सभी सनातन धर्मावलम्बी दिवंगत हुए पूर्वजों के प्रति श्रद्धा दर्शाते हुए श्राद्ध , तर्पण एवं पिंडदान आदि करके उनको तृप्त करने का प्रयास करते हैं | सनातन धर्म की दिव्यता यही है कि जो मृत्यु को प्राप्त करके इस मृत्युलोक का त्याग कर चुके हैं उन पूर्वजों के लिए भी श्रद्धा दर्शाने एवं उनको याद करने का अवसर प्रदान करता है | विचार कीजिए कि यदि यह व्यवस्था न होती तो क्या हम अपने पूर्वजों को याद रख पाते ?? यही वह समय होता है जब हम वर्ष में एक बार लगभग विस्मृत हो चुके अपने पूर्वजों का नाम आदि याद करने एवं आने वाली पीढी को भी याद कराने का प्रयास करते हैं | अन्यथा तो मनुष्य इतना व्यस्त हो गया है कि वह अपने पड़ोसियों का नाम भी नहीं जानना चाहता | कुछ लोग प्रायः प्रश्न कर देते हैं कि हमारे पिताजी भगवान की बड़ी भक्ति करते थे तो उनका तो मोक्ष हो गया होगा तो हम उनके लिए पिंडदान क्यों करें ? या यदि हम उनके नाम से पिंड प्रदान करते भी हैं तो उसका क्या होगा ?? ऐसे प्रश्नों के उत्तर में एक ही बात कही जा सकती है कि मनुष्य के द्वारा किया गया पिंडदानादि कभी व्यर्थ नहीं जाता | यदि आपके पूर्वजों का मोक्ष भी हो गया है तो भी यह कर्म श्रद्धा से करते रहना चाहिए | यदि यह उन्हें नहीं प्राप्त हो रहा है तो व्यर्थ भी नहीं जा रहा है | आपकी मृत्यु के बाद कर्मानुसार यह आपको प्राप्त हो जायेगा |* *आज ब्लॉग पितृ पक्ष में अपने पितरों के लिए यथाशक्ति श्राद्ध करते हैं , परंतु कुछ लोग यह भी पूछते हुए देखे जाते हैं कि मैंने अपने पितरों का गया तीर्थ में जाकर कि पिंडदान करके घर पर श्रीमद्भागवत का अनुष्ठान भी करा दिया है तो फिर पितृ पक्ष में श्राद्ध कर्म क्यों किया जाए ?? ऐसे सभी लोगों से मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" सिर्फ इतना ही कहना चाहता हूं कि पितरों के लिए आपने यदि गयातीर्थ में पिंडदान कर दिया है , उसके बाद भी पितृपक्ष में श्राद्ध कर्म करते रहना चाहिए | क्योंकि हमारे अनेक ऐसे पितृ होते हैं जिनको कि हम जान भी नहीं पाते हैं | हमारे ही परिवार में अनेक गर्भपात हो जाते हैं या अनेक ऐसे लोग जो हमारे ऊपर ही आश्रित होते हैं उनका संसार में कोई नहीं होता है ऐसे लोग भी आपसे श्रद्धा की कामना करते हैं | पिंडदान में आपके कुल के अतिरिक्त आपके ननिहाल पक्ष के पितृ भी होते हैं जिन्हें कि हम तीन पीढ़ी से ज्यादा नहीं जान पाते | ऐसी स्थिति में उन तमाम पूर्वजों के लिए जो ज्ञात - अज्ञात है हमें श्राद्धादि कर्म करते रहना चाहिए | सबसे बड़ी बात तो यह है कि आज जिस प्रकार पुत्रों के द्वारा माता-पिता का तिरस्कार हो रहा है , ऐसे पुत्रों के द्वारा पिंडदान किया जाया ना किया जाए कोई मायने नहीं रखता है | जीते जी माता पिता की सेवा ना कर पाने वाले , उनको उपेक्षित रखने वाले पिंडदान करें या ना करें इसका कोई अर्थ नहीं है |* *कहने का तात्पर्य है की माता पिता की सेवा उनके जीवनकाल में जितना हो सके कर लीजिए | यही सबसे बड़ी श्रद्धा मानी जा सकता है | अन्यथा तो आज मनुष्य अपनी मनुष्यता ही खो चुका है दिखावे के लिए ही सबकुछ करना चाहता है |*

अगला लेख: हमारे संस्कार :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 अक्तूबर 2018
*सनातन काल से यदि भारतीय इतिहास दिव्य रहा है तो इसका का कारण है भारतीय साहित्य | हमारे ऋषि मुनियों ने ऐसे - ऐसे साहित्य लिखें जो आम जनमानस के लिए पथ प्रदर्शक की भूमिका निभाते रहे हैं | हमारे सनातन साहित्य मनुष्य को जीवन जीने की दिशा प्रदान करते हुए दिखाई पड़ते हैं | कविकुल शिरोमणि परमपूज्यपाद गोस्वा
07 अक्तूबर 2018
27 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc
27 सितम्बर 2018
02 अक्तूबर 2018
*सृष्टि के अखिलनियंता देवों के देव महादेव को शिव कहा जाता है | शिव का अर्थ होता है कल्याणकारी | मानव जीवन में सबकुछ कल्याणमय हो इसके लिए शिवतत्व का होना परम आवश्यक है | शिवतत्व के बिना जीवन एक क्षण भी नहीं चल सकता | शिव क्या हैं ?? मानस में पूज्यपाद गोस्वामी तुलसीदास जी ने भगवान शिव को विश्वास का स्
02 अक्तूबर 2018
26 सितम्बर 2018
*परमात्मा की बनाई हुई इस सृष्टि को सुचारु रूप से संचालित करने में पंचतत्व एवं सूर्य , चन्द्र का प्रमुख योगदान है | जीवों को ऊर्जा सूर्य के माध्यम से प्राप्त होती है | सूर्य की गति के अनुसार ही सुबह , दोपहर एवं संध्या होती है | सनातन धर्म में इन तीनों समय (प्रात:काल , मध्यान्हकाल एवं संध्याकाल ) का व
26 सितम्बर 2018
11 अक्तूबर 2018
*पराम्बा जगदंबा जगत जननी भगवती मां दुर्गा का दूसरा स्वरूप है ब्रह्मचारिणी | जिसका अर्थ होता है तपश्चारिणी अर्थात तपस्या करने वाली | महामाया ब्रह्मचारिणी नें घोर तपस्या करके भगवान शिव को अपने पति के रुप में प्राप्त किया और भगवान शिव के वामभाग में विराजित होकर के पतिव्रताओं में अग्रगण्य बनीं | इसी प्र
11 अक्तूबर 2018
02 अक्तूबर 2018
*हमारे सनातन ग्रंथों में इस संसार को मायामय के साथ साथ मुसाफिरखाना भी कहा गया है | मुसाफिरखाना अर्थात जहां यात्रा के अंतर्गत एक - दो रात्रि व्यतीत करते हैं | कहने का तात्पर्य यह संसार एक किराए का घर है और इस किराए के घर को एक दिन छोड़ कर सबको जाना ही पड़ता है | इतिहास गवाह है कि संसार में जो भी आया
02 अक्तूबर 2018
07 अक्तूबर 2018
*चौरासी योनियों में सर्वश्रेष्ठ एवं सबसे सुंदर शरीर मनुष्य का मिला | इस सुंदर शरीर को सुंदर बनाए रखने के लिए मनुष्य को ही उद्योग करना पड़ता है | सुंदरता का अर्थ शारीरिक सुंदरता नहीं वरन पवित्रता एवं स्वच्छता से हैं | पवित्रता जीवन को स्वच्छ एवं सुंदर बनाती है | पवित्रता, शुद्धता, स्वच्छता मानव-जीवन
07 अक्तूबर 2018
05 अक्तूबर 2018
*इस संसार में मनुष्य को सर्वश्रेष्ठ इसलिए माना गया है क्योंकि मनुष्य में निर्णय लेने की क्षमता के साथ परिवार समाज व राष्ट्र के प्रति एक अपनत्व की भावना से जुड़ा होता है | मनुष्य का व्यक्तित्व उसके आचरण के अनुसार होता है , और मनुष्य का आचरण उसकी भावनाओं से जाना जा सकता है | जिस मनुष्य की जैसी भावना ह
05 अक्तूबर 2018
15 अक्तूबर 2018
*नवरात्र के पाँचवे दिन स्कन्दमाता का पूजन किया जाता है ! कार्तिक कुमार का एक नाम स्कंद भी है इसीलिए भगवती को "स्कन्दमाता" कहा गया है | माता शब्द ऐसा है जिसका वर्णन कर शायद किसी के वश की बात नहीं है | मानव जीवन में माता का सर्वोच्च स्थान है | जीव के गर्भ में आते ही एक माता उसके प्रति कर्तव्य प्रारम्भ
15 अक्तूबर 2018
07 अक्तूबर 2018
*आज हम अपने संस्कारों को भूलते जा रहे हैं | यही हमारे लिए घातक एवं पतन का कारण बन रहा है | सोलह संस्कारों का विधान सनातनधर्म में बताया गया है | उनमें से एक संस्कार "उपनयन संस्कार" अर्थात यज्ञोपवीत -संस्कार का विधान भी है | जिसे आज की युवा पीढी स्वीकार करने से कतरा रही है | जबकि यज्ञोपवीत द्विजत्व का
07 अक्तूबर 2018
29 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc
29 सितम्बर 2018
27 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म के आर्षग्रंथों (गीतादि) में मनुष्य के कल्याण के लिए तीन प्रकार के योगों का वर्णन मिलता है :- ज्ञानयोग , कर्मयोग एवं भक्तियोग | मनुष्य के लिए कल्याणकारक इन तीनों के अतिरिक्त चौथा कोई मार्ग ही नहीं है | प्रत्येक मनुष्य को अपने कल्याण के लिए इन्हीं तीनों में से किसी एक को चुनना ही पड़ेगा |
27 सितम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x