भक्त और भगवान :----- आचार्य अर्जुन तिवारी

05 दिसम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (57 बार पढ़ा जा चुका है)

भक्त और भगवान :----- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धरा धाम पर भक्त और भगवान का पावन नाता आदिकाल से बनता चला आया है | अपने आराध्य को रिझाने के लिए भक्त जहां भजन कीर्तन एवं जब तथा आराधना करते रहे हैं वहीं ऐसे भी भक्तों की संख्या कम नहीं रही है जो भगवान की भक्ति में मगन होकर के नृत्य भी करते रहे हैं | भगवान को रिझाने की अनेक साधनों में एक साधन भगवान के भजनों का गायन एवं नृत्य भी रहा है | पौराणिक इतिहास में अनेक ऐसे भक्तों का वर्णन मिलता है जिन्होंने भगवान की भक्ति में मगन होकर अपने शरीर की सुध बुध का त्याग करके नृत्य भी करने लगे हैं , ऐसे भक्तों में अग्रणी कही जाने वाली मीराबाई रही हों , चाहे चैतन्य महाप्रभु आदि | ऐसे अनेक उदाहरण देखने को मिलते हैं | जहां भगवान की कथाएं होने लगती थीं वहां भक्तगण भगवान की कथाओं में मगन होकर के नृत्य भी करने लगते थे | ब्रज की गोपियों के नृत्य को कैसे भुलाया जा सकता है | यह भगवान की भक्ति नहीं तो और क्या थी ?? गोपिया ही नहीं यहां तो ग्वाल बाल भी भगवान की भक्ति में स्वयं के तन की सुधि को विसार करके नृत्य करने लगे थे | भगवान की कथाओं में स्वयं नृत्य करना अपने बस की बात नहीं है , यह तो मनुष्य के उस अवस्था की स्थिति है जब वह संसार की मोहमाया को त्याग करके भगवान की भक्ति में लीन हो जाता है | तब उसे समाज की या परिवार की चिंता नहीं रह जाती है | उस समय उसका भाव यही होता है कि हम भगवान की और भगवान हमारे , इसी भावना के वशीभूत होकर के भगवान के भजन एवं भगवान के प्रेम में नृत्य तक करते रहे हैं |* *आज युग परिवर्तन हो रहा है | मनुष्य वैज्ञानिक युग में प्रवेश कर चुका है ऐसे में भगवान की भक्ति करना एवं उनकी भक्ति में डूब जाना बिरले मनुष्यों के पास ही देखने को मिल सकता है | आज बड़े बड़े आयोजन होते हैं भागवत कथाओं के भव्य मंच पर बैठकर देश के अग्रगण्य संत जन भगवान की मधुर कथा भक्तों को सुनाते हैं , और समय-समय पर भक्तों के द्वारा इन कथाओं में नृत्य भी देखने को मिल जाता है | यह तो मात्र एक उदाहरण है शेष तो मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज यह भी देख रहा हूं की कथा मंच पर बैठने वाले अनेकों कथा वाचक ऐसे हैं जिनको मंच की मर्यादा का भी ध्यान नहीं रह जाता और वह कथा कहते कहते स्वयं को भक्ति में लीन दिखाने के लिए मंच पर ही नृत्य करने लगते हैं | उनके नृत्य को देख कर के कुछ भक्तजन तो रोमांचित हो जाते हैं परंतु शेष सभी हंसी उड़ाते हुए देखे जाते हैं | आज भागवत कथाओं में नृत्य दिखावा मात्र बनकर रह गया है | डीजे की धुन पर बजने वाले गीतों पर नृत्य करके हम अपने किस परमात्मा को रिझा रहे हैं , उनकी भक्ति में कितने लीन हो रहे हैं , यह विचारणीय विषय है | आज जो भी हो रहा है जितना भी हो रहा है सब ठीक ही हो रहा है कम से कम इसी के माध्यम से सनातन धर्म का प्रचार प्रसार तो अनवरत चल रहा है | कुछ लोग इसका विरोध भी करते हैं परंतु मेरा मानना है इसमें विरोध जैसी कोई बात नहीं है मनुष्य स्वतंत्र है और वह अपने भावों को किसी भी माध्यम से प्रकट कर सकता है |* *भगवान की भक्ति दिखावा नहीं होती है | भगवान की भक्ति में नृत्य करने वाला न तो आप की धुन सुनेगा और न ही उसको गीत के बोलों से मतलब होता है | यह तो प्रेम की पराकाष्ठा होती है |*

अगला लेख: हम कौन ????? आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 दिसम्बर 2018
आज हम आपके लिए लेकर आया हैं कुछ दमदार लाइनें, जिन्हें पढ़ने के बाद आपके अंदर की आग भड़क उठेगी आपका हौसला बुलंद हो जाएगा और आप कुछ भी करने के लिए तैयार होंगे ये लाइनें आपके मोटिवेशन को दुगना कर देंगी। इसीलिए दोस्तों एक बार पूरी लाइनें जरूर पढ़िएगा:-1. रख हौंसला वो मंजर भी
03 दिसम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
*आदिकाल से इस धराधाम पर ब्राह्मण पूज्यनीय रहा है | सृष्टि संचालन ब्राह्मणों का महत्वपूर्ण योगदान रहा वेदों को पढ़ कर दो उसके माध्यम से ज्ञानार्जन कर मानव मात्र का कल्याण कैसे हो ब्राह्मण सदैव यही विचार किया करता था | अपने इसी स्वतंत्र विचार के कारण ब्राह्मण पृथ्वी की धुरी कहा गया | ब्राह्मण कभी भी इ
05 दिसम्बर 2018
20 दिसम्बर 2018
हम आपके लिए 11 बहुत ही खूबसूरत तस्वीरें लेकर आए हैं। आज की तस्वीरों पर आपको गर्व जरूर होगा। क्योंकि ये तस्वीरें हिंदू मुस्लिम एकता का प्रतीक है। भारत में सैकड़ों धर्म मौजूद है। यहां पर हिंदू और मुस्लिम दो मुख्य धर्म है। इन दोनों धर्मो को मानने वाले करोड़ों लोग इस देश में रहते हैं दोनों ही समुदाय के
20 दिसम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
*ईश्वर की बनाई इस महान श्रृष्टि में सबसे प्रमुखता कर्मों को दी गई है | चराचर जगत में जड़ , चेतन , जलचर , थलचर , नभचर या चौरासी लाख योनियों में भ्रमण करने वाला कोई भी जीवमात्र हो | सबको अपने कर्मों का फल अवश्य भुगतना पड़ता है | ईश्वर समदर्शी है , ईश्वर की न्यायशीलता प्रसिद्ध है | ईश्वर का न्याय सिद्
05 दिसम्बर 2018
25 नवम्बर 2018
*आदिकाल से ही यह संपूर्ण सृष्टि दो भागों में बटी हुई है :- सकारात्मक एवं नकारात्मक | वैदिक काल में सकारात्मक शक्तियों को देवतुल्य एवं नकारात्मक शक्तियों को असुर की संज्ञा दी गयी | देवतुल्य उसी को माना गया है जो जीवमात्र का कल्याण करने हेतु सकारात्मक कार्य करें | मनुष्य एवं समाज का कल्याण जिस में नि
25 नवम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
*मानव जीवन संघर्षों से भरा हुआ है | "जीवन एक संघर्ष है" की लोकोत्ति विश्व प्रसिद्ध है | मानव जीवन संघर्ष होते हुए भी मर्यादित कैसे व्यतीत किया जाय यदि इसका दर्शन करना है तो "मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम जी" के आदर्शों को देखना पड़ेगा | भगवान श्री राम अपने जीवन में चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों का सामना कर
21 नवम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
*सनातन धर्म में अनेकों देवी - देवताओं का वर्णन मिलता है , इसके अतिरिक्त यक्ष , किन्नर , गंधर्व आदि सनातन धर्म की ही एक शाखा हैं | इन देवी - देवताओं में किस को श्रेष्ठ माना जाए इसको विचार करके मनुष्य कभी-कभी भ्रम में पड़ जाता है | जबकि सत्य यह है कि किसी भी देवी - देवता को मानने के पहले प्रत्येक
05 दिसम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
*सृष्टि का सृजन करने वाले अखिलनियंता , अखिल ब्रम्हांड नायक , पारब्रह्म परमेश्वर , जिसकी सत्ता में चराचर जगत पल रहा है ! ऐसे कृपालु / दयालु परमात्मा को मनुष्य अपनी आवश्यकता के अनुसार विभिन्न नामों से जानता है | वेदों में कहा गया है :- "एको ब्रह्म द्वितीयो नास्ति" | वही ब्रह्म जहां जैसी आवश्यकता पड़त
05 दिसम्बर 2018
24 नवम्बर 2018
जब इस देश पर औरंगजेब का शासन था तब वह कश्मीरी पंडितों तथा हिंदुओ पर बहुत अत्याचार कर रहा था उनका धर्म संकट में था वह उन्हें जबरन मुसलमान बना रहा था उसके जुलम से तंग आकर यह सभी लोग सिखों के नौवें गुरु श्री गुरु तेग बहादुर साहिब जी के पास सहायता के लिए पहुंचे तब उन्होंने इनसे कहा आप सभी लोग घबराए नहीं
24 नवम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
*इस धरा धाम पर आने के बाद मनुष्य का लक्ष्य होता है परमात्मा को प्राप्त करना | परमात्मा को प्राप्त करने के लिए कई साधन बताए गए हैं , परंतु सबसे सरल साधन है भगवान की भक्ति करना | भगवान की भक्ति करने के भी कई भेद बताये गये हैं | वैसे तो भगवान की भक्ति सभी करते हैं परंतु गीता में योगेश्वर श्रीकृष्ण भक्त
05 दिसम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
*सृष्टि के प्रारम्भ में मानव का सृजन करते हुए सबसे पहले ब्रह्मा जी ने अपने अंश से जब मनुष्य बनाया तो वह ब्राह्मण कहलाया | अपने सत्कर्मों के कारण ब्राह्मण सदैव से पूज्यनीय रहा है | वेदमंत्रों के ज्ञान से तपश्चर्या करके आत्मिक एवं आध्यात्मिक बल प्राप्त कर ब्राह्मण आकाशमार्ग में तो विचरण करता ही था बल्
05 दिसम्बर 2018
18 दिसम्बर 2018
*परमात्मा की बनाई हुई यह महान सृष्टि इतनी रहस्यात्मक किससे जानने और समझने मनुष्य का पूरा जीवन व्यतीत हो जाता है , परंतु वह सृष्टि के समस्त रहस्य को जान नहीं पाता है | ठीक उसी प्रकार इस धरा धाम पर मनुष्य का जीवन भी रहस्यों से भरा हुआ है | मानव के रहस्य को आज तक मानव भी नहीं समझ पाया है | इन रहस्यों क
18 दिसम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
*सनातन धर्म में आदिकाल से पूजा - पाठ , कथा - सत्संग आदि का मानव जीवन में बड़ा महत्व रहा है | जहां पूजा पाठ करके मनुष्य आध्यात्मिक शक्ति अर्जित करता था , कुछ क्षणों के लिए भगवान का ध्यान लगा कर के उसे परम शांति का अनुभव होता था , वहीं कथाओं को सुनकर के उसके मन में तरह-तरह की जिज्ञासा उत्पन्न होती थी
21 नवम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x