देश के कर्णधार :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

08 दिसम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (62 बार पढ़ा जा चुका है)

देश के कर्णधार :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस संसार में जन्म लेने के बाद प्रत्येक मनुष्य अपने परिवार के संस्कारों के अनुसार अपना जीवन यापन करने का विचार करता है | प्रत्येक माता पिता की यही इच्छा होती है कि हमारी संतान किसी योग्य बन करके समाज में स्थापित हो | जिस प्रकार परिवार के संस्कार होते हैं , शिक्षा होती है उसी प्रकार नवजात शिशु का संस्कार होने लगता है | अपने परिवार के परिवेश के अनुसार वह अपनी शिक्षा प्रारंभ करता है | इन्हीं में से कुछ लोग विद्वान बन जाते हैं कुछ चिंतनशील हो करके समाज के उत्थान का चिंतन करने लगते हैं , कुछ चिकित्सक बन करके देश की चिकित्सा सेवा में योगदान देते हैं , और कुछ देश के अन्यान्य क्षेत्रों में अपना योगदान दे कर के समाज की नींव को मजबूत करते हैं | कोई भी देश दो प्रकार से मजबूत होता है | वाह्य मजबूती एवं आन्तरिक मजबूती | एक ओर तो सीमा पर लगे हुए सेना के जवान हमारी वाह्य सुरक्षा करते हैं , हम को वाह्य मजबूती प्रदान करते हैं तो दूसरी ओर हमारे देश के अंदर अनेक विद्वान , चिकित्सक , सामाजिक चिंतक एवं महापुरुष देश के संस्कारों के अनुसार अपनी पीढ़ियों को मजबूत करते हैं , जिससे देश साहित्य , कला , संस्कृति आदि में भी मजबूत होकर विश्व के समक्ष एक आदर्श प्रस्तुत करता है | इनमें से भी विभिन्न क्षेत्र के विद्वानों का महत्वपूर्ण योगदान होता है | अपने - अपने क्षेत्रों में यह विद्वान अपनी योग्यता के अनुसार समाज को आगे ले जाने का कार्य करते हैं |* *आज समाज में पुस्तकों को पढ़ने मात्र से बने हुये विद्वान अधिक मात्रा में दिखाई पड़ रहे हैं | आज हमारी संस्कृति हमारे संस्कार कहां जा रहे हैं यह हम स्वयं नहीं देखना चाहते हैं | कुछ पुस्तकों के द्वारा ज्ञानार्जन करके स्वयं को विद्वान की श्रेणी में बताने वाले यह तथाकथित मनुष्य विद्वान कहने की योग्य ही नहीं होते हैं | क्योंकि मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का मानना है कि विद्वान समुद्र की तरह होता है जो कि पृथ्वी की सभी नदियों को को स्वयं में समाहित करने के बाद भी कभी उबाल/उफान नहीं मारता | परंतु आज के विद्वान जरा सी बात पर वाद-विवाद करने को तैयार दिखाई पड़ रहे हैं | यह भी विद्वानों की परिभाषा नहीं कही जा सकती है | जिस प्रकार अनेक शोरगुल होने के बाद भी एक हाथी मात्र अपनी मंजिल को लक्ष्य करके अपनी राजसी चाल में चलता रहता है उसी प्रकार विद्वान भी अनर्गल वाद - विवाद से अपने को बचाते हुए गंभीरता का परिचय देकर के एक शब्द में सारी चर्चा का निचोड़ प्रस्तुत करने का प्रयास करता है | परंतु आज अधिकतर विद्वान तर्क - कुतर्क के मायाजाल में स्वयं को लपेटे हुए दिखाई पड़ते हैं , जो उनकी विद्वता पर एक प्रश्न चिन्ह लगाता है | यह विद्वान उसी प्रकार कहे जा सकते हैं जैसे किसी को कहीं से थोड़ा धन प्राप्त हो जाए तो स्वयं को कुबेर समझने लगते हैं | मेरे कहने का तात्पर्य यह नहीं है कि विद्वान नहीं होते यह विद्वान तो होते हैं परंतु यह भी अकाट्य है कि आज के विद्वानों में अहंकार की मात्रा अधिक दिखाई पड़ती है जो कि कहीं न कहीं से विद्वता के पतन का कारण बनती प्रतीत हो रही है |* *एक विद्वान को , शिक्षक को , एवं चिकित्सक को धीर गंभीर होना चाहिए अन्यथा ये अस्तित्व विहीन होकर पतित हो जाते हैं |*

अगला लेख: हम कौन ????? आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 दिसम्बर 2018
*इस धरा धाम पर जन्म लेकरके मनुष्य का लक्ष्य रहा है भगवान को प्राप्त करना | आदिकाल से मनुष्य इसका प्रयास भी करता रहा है | परंतु अनेकों लोग ऐसे भी हुए हैं जिन्होंने भगवान का दर्शन पाने के लिए अपना संपूर्ण जीवन व्यतीत कर दिया परंतु उनको भगवान के दर्शन नहीं हुए | वहीं कुछ लोगों ने क्षण भर में भगवान का द
18 दिसम्बर 2018
11 दिसम्बर 2018
*अखिलनियंता , अखिल ब्रह्मांड नायक परमपिता परमेश्वर द्वारा रचित सृष्टि का विस्तार अनंत है | इस अनंत विस्तार के संतुलन को बनाए रखने के लिए परमात्मा ने मनुष्य को यह दायित्व सौंपा है | परमात्मा ने मनुष्य को जितना दे दिया है उतना अन्य प्राणी को नहीं दिया है | चाहे वह मानवीय शरीर की अतुलनीय शारीरिक संरचन
11 दिसम्बर 2018
08 दिसम्बर 2018
*परमात्मा द्वारा बनाई हुई सृष्टि आदिकाल से गतिशील रही है | गति में निरंतरता बनाए रखने के लिए इस संसार की प्रत्येक वस्तु कहीं न कहीं से नवीन शक्तियां प्राप्त करती रहती है | इस संसार में चाहे सजीव वस्तु हो या निर्जीव सबको अपनी गतिशीलता बनाए रखने के लिए आहार की आवश्यकता होती है | किसी भी जीव को अपनी गत
08 दिसम्बर 2018
21 दिसम्बर 2018
*इस संसार में मनुष्य अपने जीवनकाल में कुछ कर पाये या न कर पाए परंतु एक काम करने का प्रयास अवश्य करता है , वह है दूसरों की नकल करना | नकल करने मनुष्य ने महारत हासिल की है | परंतु कभी कभी मनुष्य दूसरों की नकल करके भी वह सफलता नहीं प्राप्त कर पाता जैसी दूसरों ने प्राप्त कर रखी है , क्योंकि नकल करने के
21 दिसम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
*ईश्वर की बनाई इस महान श्रृष्टि में सबसे प्रमुखता कर्मों को दी गई है | चराचर जगत में जड़ , चेतन , जलचर , थलचर , नभचर या चौरासी लाख योनियों में भ्रमण करने वाला कोई भी जीवमात्र हो | सबको अपने कर्मों का फल अवश्य भुगतना पड़ता है | ईश्वर समदर्शी है , ईश्वर की न्यायशीलता प्रसिद्ध है | ईश्वर का न्याय सिद्
05 दिसम्बर 2018
18 दिसम्बर 2018
*सनातन धर्म में ब्रह्मा विष्णु महेश के साथ 33 करोड़ देवी - देवताओं की मान्यताएं हैं | साथ ही समय-समय पर अनेकों रूप धारण करके परम पिता परमात्मा अवतार लेते रहे हैं जिनको भगवान की संज्ञा दी गई है | भगवान किसे कहा जा सकता है इस पर हमारे शास्त्रों में मार्गदर्शन करते हुए लिखा है :-- ऐश्वर्यस्य समग्रस्य ध
18 दिसम्बर 2018
18 दिसम्बर 2018
*परमपिता परमात्मा ने विशाल सृष्टि की रचना कर दी और इस दृष्टि का संचालन करने के लिए किसी विशेष व्यक्ति या किसी विशेष पद का चयन नहीं किया | चौरासी लाख योनियां इस सृष्टि पर भ्रमण कर रही है परंतु इन को नियंत्रित करने के लिए उस परमात्मा ने कोई अधिकारी तो नहीं किया परंतु परमात्मा ने मनुष्य के सहित अनेक ज
18 दिसम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
*सृष्टि का सृजन करने वाले अखिलनियंता , अखिल ब्रम्हांड नायक , पारब्रह्म परमेश्वर , जिसकी सत्ता में चराचर जगत पल रहा है ! ऐसे कृपालु / दयालु परमात्मा को मनुष्य अपनी आवश्यकता के अनुसार विभिन्न नामों से जानता है | वेदों में कहा गया है :- "एको ब्रह्म द्वितीयो नास्ति" | वही ब्रह्म जहां जैसी आवश्यकता पड़त
05 दिसम्बर 2018
15 दिसम्बर 2018
*इस धरा धाम पर ईश्वर ने मनुष्य को विवेकवान बनाकर भेजा है | मनुष्य इतना स्वतंत्र है कि जो भी चाहे वह सोच सकता है , जो चाहे कर सकता है , किसी के किए हुए कार्य पर मनचाही टिप्पणियां भी कर सकता है | इतना अधिकार देने के बाद भी उस परमपिता परमात्मा ने मनुष्य को स्वतंत्र नहीं किया है | मनुष्य किसी भी कार्य
15 दिसम्बर 2018
25 नवम्बर 2018
*आदिकाल से ही यह संपूर्ण सृष्टि दो भागों में बटी हुई है :- सकारात्मक एवं नकारात्मक | वैदिक काल में सकारात्मक शक्तियों को देवतुल्य एवं नकारात्मक शक्तियों को असुर की संज्ञा दी गयी | देवतुल्य उसी को माना गया है जो जीवमात्र का कल्याण करने हेतु सकारात्मक कार्य करें | मनुष्य एवं समाज का कल्याण जिस में नि
25 नवम्बर 2018
18 दिसम्बर 2018
*ब्रह्मा जी की बनाई हुई सृष्टि नर नारी के सहयोग से ही चल रही है | यहां नर एवं नारी दोनों की ही समान आवश्यकता , उपयोगिता एवं महत्ता है , इसलिए आदिकाल से नर नारी दोनों को ही श्रेष्ठ मानते हुए उनका सम्मान किया गया है | मनुष्य का अस्तित्व माता के बिना संभव नहीं होता , पत्नी के बिना एक पुरुष का जीवन अस्त
18 दिसम्बर 2018
11 दिसम्बर 2018
*योनियों भ्रमण करने के बाद जीव को इन योनियों में सर्वश्रेष्ठ मानव योनि प्राप्त होती है | मनुष्य जन्म लेने के बाद जीव की पहचान उसके नाम से होती है | मानव जीवन में नाम का बड़ा प्रभाव होता है | आदिकाल में पौराणिक आदर्शों के नाम पर अपने बच्चों का नाम रखने की प्रथा रही है | हमारे पूर्वजों का ऐसा मानना थ
11 दिसम्बर 2018
18 दिसम्बर 2018
*आदिकाल से संपूर्ण विश्व में भारत अपने ज्ञान विज्ञान के कारण सर्वश्रेष्ठ माना जाता रहा है | हमारे देश में मानव जीवन संबंधित अनेकानेक ग्रंथ महापुरुषों के द्वारा लिखे गए इन ग्रंथों को लिखने में उन महापुरुषों की विद्वता के दर्शन होते हैं | जिस प्रकार एक धन संपन्न व्यक्ति को धनवान कहा जाता है उसी प्रकार
18 दिसम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x