ज्ञान की ओर - ( मनन - 2 )

18 दिसम्बर 2018   |  उदय पूना   (84 बार पढ़ा जा चुका है)

** ज्ञान की ओर - ( मनन - 2 ) **


हम ज्ञान की ओर तभी बढ़ेंगे;

जब हमें जानने की इच्छा हो;

उत्सुकता हो;

हमारे स्वयं के निज ज्ञान में क्या है या क्या नहीं है कि स्पष्टता हो;

हमारे स्वयं के निज अनुभव में क्या आया है या क्या नहीं आया है कि स्पष्टता हो।


एक उदाहरण लेलें, तो बात और साफ हो सकती है।

बचपन से छोटा बच्चा सुनता आया है; बचपन से छोटे बच्चे को बतलाया जाता रहा है;

कि ये तुम्हारी माता हैं;

ये तुम्हारे पिता हैं; आदि, आदि।


जब बच्चा बड़ा हो जाता है तब उसे स्पष्ट होना चाहिए कि मैं निज के बोध से नहीं जानता हूं कि मेरे माता पिता कौन हैं।


जो भी मेरे ज्ञान में नहीं है, अनुभव में नहीं है, उसके संबंध में किसी प्रकार का मत, किसी प्रकार की राय न बनाना ही उचित है, क्योंकि "अभी मुझे पता नहीं है"। जब मैं इस प्रकार से चलता हूं तभी मुझे सच पता चल सकता है, तभी मेरा निज ज्ञान बढ़ सकता है।


मेरा लेखन, मेरी रचना प्रस्तुत है।

शीर्षक है " ज्ञान की ओर "; प्रस्तुत है इसका कुछ अंश।


स्वयं जानना और उसके अनुसार जीवन जीना, या बिना जाने केवल मानने, विश्वास कर लेने के साथ जीवन जीते जाना।इस पर थोड़ी सी चर्चा।


उदय पूना



मेरा लेखन, मेरी रचना --

" ज्ञान की ओर "

- ( मनन - 2 ) (कुछ अंश)


प्रश्न यह नहीं है कि भगवान हैं या नहीं।

प्रश्न यह है कि मेरे स्वयं के अनुभव में क्या है।।0।।


अभी, वर्तमान में,
हमारा स्वयं का आधार है,


जो हमने स्वयं के अनुभव से जाना,
जो हमने स्वयं के ज्ञान से जाना


शेष सब कुछ है,


हमारा स्वयं का विश्वास,
हमारी स्वयं की मान्यता,
हमारी स्वयं की कल्पना।।1।।

इस विश्वास, मान्यता, और कल्पना को हमने स्वयं बनाया;
यह सब है हमारे स्वयं के द्वारा कल्पना किया हुआ


इन में से कुछ कुछ को हम विश्वास कहते हैं, कुछ कुछ को मान्यता,
और कुछ कुछ को लेकर चल रहे हैं कल्पना के रूप में ही;
पर यह स्पष्ट है कि यह सब हमने स्वयं बनाया है स्वयं केलिए।


तो फिर;


यह हमारे लिए उपयोगी होना चाहिए,
इससे हमें लाभ होना चाहिए,
इसे बंधन घटाने वाला होना चाहिए,
इसे मुक्ति दिलाने वाला होना चाहिए,
सुविधा बढ़ना चाहिए,
जीवन में सुलझन बढ़ना चाहिए।।2।।

तो फिर हम परिवर्तन करें;


यदि इससे जीवन में उलझन बढ़ रही हो,
हानी हो रही हो,
हमारे अंदर भय बढ़ रहा हो,
बंधन बढ़ रहा हो।।3।।

हमारा भला होगा,


यदि हम स्वयं की सच्चाई,असलियत के साथ जीवन जियें;
तभी हमारा ज्ञान बढ़ेगा, जीवन में वास्तविकता अनुभव में आयेगी;
तभी हमारे बंधन कटेंगे, हम उन्नत होंगे, हम मुक्ति की ओर बढ़ेंगे।।4।।

हो, हो, हो, ...
जीवन का एक आवश्यक सूत्र है - "
मैं नहीं जानता अभी";

यह जीवन में ज्ञान की ओर बढ़ने केलिए का एक अनिवार्य सूत्र है।


जिस विषय के सम्बन्ध में हमारा स्वयं का अनुभव नहीं है,
जिसे हमने नही जाना;
तो, हम कहेंगे, हो,हो, हो, "
मैं नहीं जानता अभी "।

इस सूत्र के साथ जियेंगे तो जान जाएंगे कभी,
वरना, अन्धकार में रहेंगे, न जानेंगे कभी।


इस सूत्र के साथ जीवन जियें,
प्रश्न करें, संशय करें, चिंतन करें, मंथन करें, स्वयं के स्तर पर।
तो, जीवन में सच्चाई, वास्तविकता बढ़ेगी;
मार्ग मिलते जायेंगे, राह खुलती जायेगी।
तभी हमारे बंधन कटेंगे, हम उन्नत होंगे, हम मुक्ति की ओर बढ़ेंगे।।5।।

हम बंधन मुक्त हों, उन्नत हों, हमें मुक्ति मिले।
इसी मंगल कामना के साथ मुझे विराम मिले।।


----- उदय पूना

9284737432 ,



Virus-free. www.avg.com

अगला लेख: मां पहले पत्नी थी; पत्नी रूप में कितना था सम्मान ??



उदय पूना
19 दिसम्बर 2018

इस रचना को शब्दनगरी गण ने सम्मानित किया, साधुवाद, प्रणाम, सभी में ज्ञान बढ़े,

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 दिसम्बर 2018
कु
हिंदी भाषा के अनुसार, हम जो हिंदी काम लाते हैं, उसे सुधारने का एक छोटा प्रयास। हम जो बोलना / कहना चाहते हैं, तो उच्चारण का ध्यान रखना आवश्यक है, तभी हमें सफलता मिलेगी, तब हम वो बोल पाएंगे। इसी तरह हम जो लिखना चाहते हैं, तो हम वही लिखें
23 दिसम्बर 2018
21 दिसम्बर 2018
प्
- प्रश्न - संतान कहां से आती है ? ( कुछ अंश ) : ( प्रश्न - उत्तर, चिंतन 2 )संतान कहां से आती है ?संतान माता पिता से नहीं आती; संतान पति पत्नी के रिश्ते से आती है। समाज के नये सदस्य कहां से आते हैं ?समाज के नये सदस्य माता पिता से नहीं आते; समाज के नये सदस्य पति पत्नी के रिश्ते से आते हैं।। हम इस ब
21 दिसम्बर 2018
07 दिसम्बर 2018
II अनुभव : एक निज सेतु IIहमारा निज अनुभव, मनोभाव के स्तर पर, हमें बतलाता है कि भविष्य में स्वयं के अंदर कैसे भाव उभरेंगे ? अंदर के भावों की द्रष्टि से, निज अनुभव हमारे स्वयं के लिए हमारे स्वयं के वर्तमान से निकलते हुये भविष्य की झलक
07 दिसम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
वि
विपरीत के विपरीत कुछ-कुछ लोग कुछ-कुछ शब्दों को भूल गए, बिसर गए;हमारे पास शब्द हैं, उपयुक्त शब्द हैं, पर कमजोर शब्द पर आ गए। कुछ-कुछ शब्दों के अर्थ भी भूल गए, बिसर गए;और गलत उपयोग शुरू हो गए;मैं भी इन कुछ-कुछ लोगों में हूं, हम जागरूकता से क्यों दूर हो गए।।अनिवार्य है,इस विपरीत धारा के विपरीत जाना;भाष
05 दिसम्बर 2018
19 दिसम्बर 2018
* विश्वास,अविश्वास,और विज्ञान मार्ग गाथा * ( मनन - 3 )विश्वास-मार्ग,अविश्वास-मार्ग,और विज्ञान-मार्ग की यह गाथा है;जानना है, क्या हैं इनको करने के आधार-मार्ग, और समझना इनकी गाथा है।01।बिना जाने ही स्वीकार कर लेना *व
19 दिसम्बर 2018
19 दिसम्बर 2018
* विश्वास,अविश्वास,और विज्ञान मार्ग गाथा * ( मनन - 3 )विश्वास-मार्ग,अविश्वास-मार्ग,और विज्ञान-मार्ग की यह गाथा है;जानना है, क्या हैं इनको करने के आधार-मार्ग, और समझना इनकी गाथा है।01।बिना जाने ही स्वीकार कर लेना *व
19 दिसम्बर 2018
24 दिसम्बर 2018
कु
***** कुछ कुछ - किस्त तीसरी ***** *** व्याकरण - भाषा की, जीवन की *** ** मैं और हम *
24 दिसम्बर 2018
26 दिसम्बर 2018
8 नवंबर 2016 की नोटबंदी के बाद नोटों की दुनिया में क्रांति आ गई. कुछ बंद हो गए, कुछ नए आ गए, बाकियों का नाक-नक्शा बदल गया. पुराने वाले हज़ार-पांच सौ लापता हो गए. दो हज़ार और दो सौ के नए नोट दिखने लगे. जो बचे थे उनके साथ दिवाली खेली गई. आई मीन जैसे दिवाली पर घर को नया रंग-र
26 दिसम्बर 2018
04 दिसम्बर 2018
जी
जीवन यात्रा कदम कदम, जिन्दगी बढ़ती रहती, आगे की ओर;बचपन से जवानी, जवानी से बुढ़ापे की ओर।. . . . जवानी से बुढ़ापे की ओर।। जीवन में आते हैं, कुछ ऐसे क्षण;शादी, सेवनिवृत्ती हैं, कुछ ऐसे ही क्षण। जब बदल जाती है जिंदगी, एकदम से;. . . . एकदम से;सिर्फ एक कदम च
04 दिसम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x