भारतीय सेना का वो जाबांज शख्स जिसकी जिद के आगे इंदिरा को भी झुकना पड़ा था ....

08 जनवरी 2019   |  अभय शंकर   (14 बार पढ़ा जा चुका है)

भारतीय सेना का वो जाबांज शख्स जिसकी जिद के आगे इंदिरा को भी झुकना पड़ा था ....  - शब्द (shabd.in)

इंदिरा गांधी देश की प्रथम प्रधानमंत्री रहीं और उन्हें ऑयरन लेडी कहा गया। एक ऐसी नेता प्रधान जिससे पाकिस्तान भी कांपता था और भारत में जिसके हर रोज चर्चे होते थे। उन दिनों कोई ऐसा भी था जिसने इंदिरा गांधी के सामने जिद भी दिखाई थी और अपनी बात भी मनवाई थी। वह शख्स जिसने इंदिरा गांधी के सामने बैठकर उनके प्रस्ताव को सिरे से नकार दिया था और इंदिरा गांधी को उसकी बात भी माननी पड़ी थी। कभी किसी के मुंह से ना शब्द नहीं सुनने वाली इंदिरा ने तब ना सुनी भी और और माना भी। वह शख्स था फील्ड मार्शल मानेकशॉ जिसे भारतीय सेना का शेर कहा गया।


सैम मानकेशॉ थे सबके चेहते



भारतीय सेना में मानकेशॉ सबसे चहेते जनरल थी। इसकी सबसे खास वजह थी की वह कभी भी पद के गुरुरर में नहीं रहते थे औऱ ना ही उन्होंने कभी किसी को अपने से छोटा समझा। अपने ही जवानों के बीच अपनों की तरह रहना और उनका हाल पूछना ऐसा लगता था कि वह उनके बराबर ही है। उनकी इस खूबी के भारतीय तो क्या पाकिस्तानी भी कायल थे। सैम का जीवन बहुत ही दिलचस्प रहा। खबर है कि उनके ऊपर जल्द ही फिल्म बनने वाली है जिसमें रणवीर सिंह उनका किरदार निभा सकते हैं।

3 अप्रैल 1914 को पंजाब के अमृतसर में जन्मे सैम ने चार दशक फौज में गुजारे और इस दौरान पांच युद्ध में हिस्सा लिया। फौजी के रुप में उन्होंने अपनी शुरुआत ब्रिटिश इंडियन आर्मी से की थी। 2971 में हुई जंग में उनकी खासी भूमिका थी।


इंदिरा के प्रस्ताव पर किया था इनकार

जहां तक इंदिरा गांधी के आगे अपनी बात मनवाने की बात है तो यह वाक्या है 1971 का जब तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने सैन्य कार्रवाई का मन बनाया था। उनके इस विचार को सैम मानकेशॉ ने सिरे से नकार दिया था। इस किस्से को सैम ने एक इंटरव्यू में बताया था। उन्होंने बताया की जून 1972 वह सेना से रिटायर हो गए थे और 3 जनवरी 1973 को सैम मनकेशॉ को भारतीय सेना का फील्ड मार्शल बनाया गया था।

इंदिरा गांधी के बारे मे बात करते हुए उन्होंने कहा था कि उस वक्त तत्कालीन पीएम गांधी पूर्वी पाकिस्तान को लेकर काफी परेशान रहती थी। उन्होंने 27 अप्रैल को एक आपात बैठक भी बुलाई थी। उस बैठक में सैम भी शामिल थी। इंदिरा गांधी ने अपनी चिंता जताते हुए कहा था कि पूर्वी पाकिस्तान से जंग करनी होगी, लेकिन तब सैम ने उनकी इस बात का विरोध किया था। सैम ने कहा कि वह अभी इसके लिए तैयार नहीं है।


जंग के लिए मांगा समय

पीएम को यह बर्दाश्त नहीं हुआ। वह एक बार जो बात कह देती थीं वह अमल में ला दी जाती थी और पहली बार उनकी किसी चिंता का विरोध हुआ था। उन्होंने वजह जाननी चाही। सैम ने कहा कि अभी फौज एकत्रित नहीं है और ना जवानों को पूर्ण प्रशिक्षण मिला है जिससे वह जंग में लड़ सकें। अभी हम कम नुकसान के साथ यह जंग नहीं जीत सकते। उन्होंने बेहद ही साफ तरीके से यह बात इंदिरा गांधी के सामने रख दी थी।उन्होंने कहा कि अभी जवान एकत्रित करने होंगे और उन्हें ट्रेनिंग देने के लिए समय चाहिए होगा। जब जंग का समय आएगा तो वह उन्हें बता देंगे।

इंदिरा गांधी के लिए यह बात बर्दाश्त से बाहर थी, लेकिन उस वक्त उन्हें उनकी बात माननी पड़ी। कुछ महीने बाद उन्होंने फौजियों के इक्टठा कर लिया और प्रशिक्षण देकर जंग का पूरा खाका तैयार कर लिया।। इंदिरा गांधी और उनके सहयोगी जानना चाहते थे कि जंग ही तो इसमें कितना वक्त लगेगा। सैम ने हा कि बांग्लादेश फ्रांस जितना बड़ा है। अगर एक तरफ से चलना शुरु करेंगे तो डेढ़ से दो महीने लग जाएंगे। हालांकि जंग सिर्फ 14 दिनों में खत्म हो गई। मंत्रियों ने कहा कि आपने पहले दिन ही क्यों नहीं बताया कि 14 दिन ही लगेंगे। सैम ने कहा कि अगर यह बोल देते की चौदह दिन लगेंगे और पंद्रह दिन हो जाते तो वह की टांग खींचते।


क्यों जीते जंग…

सैम ने आगे कहा कि जंग जब खत्म होने वाली थी तो उन्होंने एक सरेंडर एग्रीमेंट बनाया था। इसके लिए उन्होंने पूर्वी पाकिस्तान कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल जगजीत सिंह अरोड़ा को फोन पर लिखवाकर कहा था कि इसकी चार कॉपी बन जानी चाहिए। एक कॉपी जनरल नियॉज को दूसरी पीएम को तीसरी जनरल अरोड़ा को और चौथी उनके ऑफिस में रखी जाए। इतना ही नही, जब जंग खत्म हुई तो 90 हजार से ज्यादा पाक फौजी भारत आए और उनके रहने और खाने की व्यवस्था की गई।

एक बात का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि वह पाक कैंप में फौजियों से मिलने गए जहां कई सूबेदार मेजर रैंक के अफसर थे। उनसे हाथ मिलाया और कैंप में मिल रही सुविधाओं के बारे में जाना। एक सिपाही ने इस दौरान उनसे हाथ मिलाने से मना कर दिया था। सैम ने जानना चाहा की वह हाथ क्यों नहीं मिला रहा। पहले वह थोड़ा हिचका और फिर हाथ मिलाया और कहा कि अब जाना की आप कैसे जीते। हमारे अफसर जनरल नियाजी कभी हमसे इस तरह से नहीं मिले जैसे आप। वह हमेशा ही गुरुर में रहते थे और कुछ नहीं समझते थे। सिपाही यह कहते हुए भावुक हो गया था।


सादगी के कायल थे लोग

सैम की यह एक खासियत रही जिसके लिए हमेशा उनकी तारीफ की गई। वह अपने फौजियों से बहुत प्रेम करते थे और उनके सुख दुख में शामिल होते थे। रिटायरमेंट के बाद भी उन्होंने नीलगिरी की पहाड़ियों के बीच वेलिंगटन को अपना घर बनाया था। वह अंतिम दिनों तक वहीं रहें। वह अपने ड्राइवर को भी अपने साथ रखा करते थे। जब भी उनका ड्राइवर उन्हें लेने के लिए घर पहुंचता तो वह खुद उन्हें बैठाकर चाय बनाते और ब्रेड खाने को देते। यह उनकी सादगी औऱ फितरत थी जिसके सभी कायल थे।

यह भी पढ़ें

भारतीय सेना का वो जाबांज शख्स जिसकी जिद के आगे इंदिरा को भी झुकना पड़ा था ....

https://www.newstrend.news/203429/bhartiya-sena-ka-vo-janbaz-shaksh-jiski-zid-ke-aage-indira-ko-bhi-jhukna-pada-tha/?fbclid=IwAR1yrH_D1BvnK-OI3UDqomVVY46OkBXbbdM1RP6U1B0vGvT5KrVQrRiK6rk

भारतीय सेना का वो जाबांज शख्स जिसकी जिद के आगे इंदिरा को भी झुकना पड़ा था ....  - शब्द (shabd.in)

अगला लेख: मकर संक्रांति के दिन ये एक गलती भूलकर भी न करें, वरना शुरू हो जायेगा बुरा समय



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
31 दिसम्बर 2018
क्या आपके मन में भी कभी ये ख्याल आता है कि आखिर क्यों हर साल न्यू ईयर पर कैलेंडर की तारीखों में बदलाव होता रहता है।आखिर क्यों हर साल त्योहारों से लेकर जन्मदिन तक की सारी तारीखें बदल जाती हैं।अगर आपके मन को भी इन सवालों ने परेशान कर रखा है तो आइए जानते हैं न्यू ईयर मनाने की शुरुआत सबसे पहले कब और कैस
31 दिसम्बर 2018
04 जनवरी 2019
बीजेपी के वरिष्ठ नेता और विधायक प्रदीप पुरोहित ने कहा कि पीएम मोदी ओडिशा के पुरी से लोकसभा चुनाव लड़ सकते हैं, बीजेपी विधायक ने कहा कि कोई भी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ओडिशा से चुनाव लड़ने की संभावना को खारिज नहीं कर सकता है, इस बात की 90 फीसदी संभावना है कि नरेन्द्र
04 जनवरी 2019
27 दिसम्बर 2018
बोधगया में है 2650 साल पुराना यह बोधिवृक्ष। बोधिमंदिर सहित इस वृक्ष की सुरक्षा में बिहार मिलिट्री पुलिस की चार बटालियन (करीब 360 जवान) तैनात हैं।इसकी टहनियां इतनी विशाल हैं कि इसे लोहे के 12 पिलर के सहारे खड़ा किया गया है। संभवत: यह देश का अकेला वृक्ष है, जिसके दर्शन के लिए हर साल 5 लाख से ज्यादा श्र
27 दिसम्बर 2018
03 जनवरी 2019
आपको बता दें कि मुंबई से लौटने के बाद दीपक मीडिया से रू-ब-रू हुए। उनके गांव में दीपक का शानदार स्वागत किया गया। दीपक ने कहा कि शो में मैंने बिहारीपन को पहचान दी। यह मेरे लिए सबसे बड़ी बात है। दीपक ने कहा कि बिग-बॉस शो में 13 प्रतिभागियों के साथ उसके अच्छे संबंध रहे। सभी उसे भाई की तरह प्यार करते थे।
03 जनवरी 2019
07 जनवरी 2019
तीन राज्यों से करारी हार के बाद भाजपा के कर्ता-धर्ता और देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आने वाले लोकसभा चुनाव के लिए हर कदम फूंक-फूंककर रख रहे है. लोकसभा 2019 चुनाव को मद्देनजर रखते हुए मोदी सरकार ने प्राइवेट नौकरी करने वालों के लिए नये साल का तोहफा दिया है. सरकार ने प्राइवेट नौकरी वाले कर्मचारियों
07 जनवरी 2019
27 दिसम्बर 2018
मोदी सरकार जबसे केंद्र में आई है तब से उसका एक ही प्रयास है कि ऐसी योजनाएं चलाई जाएं जिससे आर्थिक रूप से अत्यधिक कमजोर वर्गों को सहायता मिले और वह लोग भी समाज में बराबर का योगदान दे पाए।इस संबंध में सरकार ने कई योजनाओं, स्कीम्स को लॉन्च किया है और लोगों तक पहुंचने का प्रयास किया है। और यह भी मैसेज भ
27 दिसम्बर 2018
25 दिसम्बर 2018
★ नेहरू जी ने #नेशनल हेराल्ड नामक अखबार 1930 में शुरू किया। धीरे-धीरे इस अखबार ने 5000/- करोड़ की संपत्ति अर्जित कर ली। सन् 2000 में यह अखबार घाटे में चला गया और इस पर 90 करोड़ का कर्जा हो गया।★ "नेशनल हेराल्ड" की तत्कालीन डायरेक्टर्स, सोनिया गाँधी, राहुल गाँधी और मोतीलाल वोरा ने, इस अखबार को यंग इं
25 दिसम्बर 2018
26 दिसम्बर 2018
Guest Post क्या है ?Guest Post करना क्यों ज़रूरी हैं ?Guest Post करने के फ़ायदे Guest Post करते समय किन-किन बातों का ध्यान दें ?शब्दनगरी पर Guest Post करें यदि आप एक हिंदी ब्लॉगर (Hindi Bloggar) हैं तो आपका यह जानना ज़रूरी है कि Guest Post क्या है ? ये करना क्यों ज़रूरी ह
26 दिसम्बर 2018
03 जनवरी 2019
गो एयर की टिकटें अहमदाबाद, बैंगलुरु, मुंबई, कोलकाता, दिल्ली गोवा, हैदराबाद, चंडीगढ़, रांची, लखनऊ, नागपुर, पटना, पुणे और चेन्नई की यात्रा के लिए मान्य हैं.नए साल में गो एयर ने हवाई यात्रा करने वाले लोगों को बड़ा तोहफा दिया है. गो एयर के नए ऑफर में आप केवल 1199 रुपए देकर हवाई यात्रा कर सकते हैं. हालां
03 जनवरी 2019
31 दिसम्बर 2018
वर्तमान समय में किसी भी इंसान को समझ पाना काफी कठिन है किस के मन में क्या है और कब कौन आपको धोखा दे दे इस बारे में कुछ भी नहीं कहा जा सकता इसलिए व्यक्ति को अपनी तरफ से ही बचने की कोशिश करनी चाहिए आप सभी लोग आचार्य चाणक्य जी को तो जानते ही हैं इन्होंने “चाणक्य नीति” नामक ए
31 दिसम्बर 2018
28 दिसम्बर 2018
अपनी ज़बरदस्त अभिनय शैली और प्रभावशाली संवाद अदायगी के कारण याद किये जाने वाले दिग्गज अभिनेता कादर ख़ान के स्वास्थ्य को लेकर एक बुरी ख़बर आ रही है। ख़बर है कि उन्हें गंभीर रूप से बीमार होने के बाद बाइपेप वेंटीलेटर पर रखा गया है। 81 साल के कादर ख़ान प्रोग्रेसिव सुप्रान्यूक्लीयर पाल्सी डिसऑर्डर (पीएसपी ) क
28 दिसम्बर 2018
04 जनवरी 2019
इस बार मकर संक्रांति का पर्व रविवार को पड़ रहा है. मकर संक्रांति का ये पर्व सूर्य देव को समर्पित होता है. इस दिन पवित्र नदियों में स्नान किया जाता है और सूर्य को अर्घ्य चढ़ाया जाता है. ज्योतिष में कुल 9 ग्रह होते हैं और सूर्य को इन सबका राजा माना जाता है. मकर संक्रांति उस व
04 जनवरी 2019
28 दिसम्बर 2018
पीएम मोदी के सत्तासीन होने के बाद से ही विभिन्न क्षेत्रों में देश की उपलब्धियों से दुनिया में भारत का नाम रोशन होता रहा है। वर्ष 2018 में भी यह सिलसिला जारी रहा। आइए, एक नजर डालते हैं, इस साल की उन उपलब्धियों पर जो पहली बार भारत को हासिल हुईं और जिन्होंने हर भारतवासी को दुनिया में गर्व से सिर ऊंचा क
28 दिसम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
29 दिसम्बर 2018
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x