बच्चे के लिए रात भर मिट्टी खोदती रही हथिनी, सुबह लोगों ने देखा तो दिल भर आया, बच्चे को बचाने के लिए 11 घण्टे तक मिट्टी खोदती रह हथिनी.

08 जनवरी 2019   |  रितिका चटर्जी   (448 बार पढ़ा जा चुका है)

बच्चे के लिए रात भर मिट्टी खोदती रही हथिनी, सुबह लोगों ने देखा तो दिल भर आया, बच्चे को बचाने के लिए 11 घण्टे तक मिट्टी खोदती रह हथिनी.

मां को भगवान का दूसरा रूप माना जाता है ..कहते हैं धरती पर भगवान हर जगह, हर समय नही रह सकते इसलिए मां को बना दिया। अक्सर ये देखा जाता है कि जब भी बच्चे पर बात बन आती है तो मां उसकी रक्षा के लिए सबकुछ कर गुजर जाती है। इंसान तो इंसान, जानवरों में भी मां की ममता कम नही होती..ऐसे ही एक हथिनी की ममता भरी कहानी आजकल सोशल मीडिया पर खूब शेयर की जा रही है।

बच्चे को बचाने के लिए 11 घण्टे तक मिट्टी खोदती रह हथिनी

दरअसल सोशल साइट्स पर इनदिनों एक हथिनी की इमोशनल स्टोरी शेयर की जा रहा है जिसमें एक हथिनी गड्ढे में गिरे अपने बच्चे को बचाने के लिए लगातार मिट्टी खोदती देखी गई। बताया जा रहा है कि यह हथिनी बीते दिनों अपने बच्चे के साथ जंगल पार कर रही थी कि तभी वो बच्चा वहां बने एक गहरे गड्ढे में गिर गया। गड्ढा काफी गहरा था और हाथी के बच्चे की लंबाई काफी कम थी, इसी वजह वो उस गड्ढे को पार कर पाने में असमर्थ था। लेकिन उसे बाहर निकालने के लिए हथिनी ने काफी संघर्ष किया। बताया यह भी जा रहा है कि उसने लगातार बिना रुके 11 घंटे तक गड्ढा खोदा।

सुबह हथिनी का चीख सुन पहुंचे गांव वालें

असल में रात के समय अपने बच्चे के साथ जंगल पार करती एक हथिनी उस समय परेशान हो गई, जब उसका छोटा सा बच्चा रास्ते में बने एक गड्ढे में गिर गया। इस मां ने अपने बच्चे को बाहर निकालने के लिए काफी संघर्ष किया और लगातार बिना रुके उसने 11 घंटे तक गड्ढा खोदा।पर वो अपने बच्चे को निकाल पाने में सफल ना हो सकी, हां पर उसने हार नही मानी और उसकी चीख पुकार सुनकर सुबह होते ही आस पास के लोग आ गएं .. पहले तो वो समझ ही नहीं पाए कि हथिनी रो क्यों रही है? लेकिन जब कुछ गांव वाले हिम्मत कर उसके पास गए, तो उन्होंने देखा कि मां अपने बच्चे को गड्ढे से निकालने के लिए परेशान है। मां की परेशानी देख गांववालों भी इमोशनल हो गए थे।

हथिनी को बहलाकर निकाला बच्चे को

दरअसल घबराहट में हथिनी अपने बच्चे के ऊपर और मिट्टी डालती जा रही थी जिस वजह से बच्चा और ज्यादे दलदल में फंस चुका था ..गांव वालें ये माजरा समझ गए और हाथी के बच्चे को निकालने के लिए योजना बनाई ..उन्होनें सबसे पहले हथिनी का ध्यान भटकाया । इसके लिए वो कुछ केले उसके पास ले गए ..रात भर से बेहाल हो चुकी हथिनी जब केलें देखा तो उसके पाने के लिए वो उस जगह से हटी तो इधर गांव वालों ने बच्चे को निकालने का प्रयास शुरू किया और थोड़ मशक्कत में वो उसे निकाल पाने में सफल हो गए। बच्चे को गढ़्ढ़े के बाहर देख हथिनी खुश हो गयी और उसे लेकर जंगल चली गई।

https://www.newstrend.news/77238/elephant-was-digging-pit-all-night-to-safe-her-baby-video-goes-viral/?fbclid=IwAR0M1hkpTAptgCMmx0P78gtXvDqnznOeJjOd3t-Av_UTEo8hznaRpdYKIZI

बच्चे के लिए रात भर मिट्टी खोदती रही हथिनी, सुबह लोगों ने देखा तो दिल भर आया, बच्चे को बचाने के लिए 11 घण्टे तक मिट्टी खोदती रह हथिनी.

अगला लेख: मृत्यु के बाद शरीर के कौन से छेद से निकलती है आत्मा…90%लोग नहीं जानते होंगे जवाब



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
31 दिसम्बर 2018
वर्तमान समय में किसी भी इंसान को समझ पाना काफी कठिन है किस के मन में क्या है और कब कौन आपको धोखा दे दे इस बारे में कुछ भी नहीं कहा जा सकता इसलिए व्यक्ति को अपनी तरफ से ही बचने की कोशिश करनी चाहिए आप सभी लोग आचार्य चाणक्य जी को तो जानते ही हैं इन्होंने “चाणक्य नीति” नामक ए
31 दिसम्बर 2018
22 जनवरी 2019
एक न एक दिन अपने शरीर का त्याग कर हर किसी को जाना है। मौ’त के बाद की जिंदगी के बारे में जानने को लोग अकसर उत्सुक रहते हैं, लेकिन इस रहस्य को सुलझाना इतना आसान नहीं। हालांकि गरुड़ पुराण में मौ’त के बाद की जिंदगी के बारे में काफी कुछ बताया गया है। आज इन्हीं में से एक किस्से
22 जनवरी 2019
22 जनवरी 2019
आप ने अक्‍सर सुना होगा कि गैस सिलेंडर फटने से बड़ा हादसा हो गया। ऐसे हादसों के बाद लोगों को जिम्‍मेदार ठहराया जाता है, लेकिन अक्‍सर हादसा पेट्रोलियम कंपनी की तरफ से गलत सिलेंडर
22 जनवरी 2019
26 दिसम्बर 2018
8 नवंबर 2016 की नोटबंदी के बाद नोटों की दुनिया में क्रांति आ गई. कुछ बंद हो गए, कुछ नए आ गए, बाकियों का नाक-नक्शा बदल गया. पुराने वाले हज़ार-पांच सौ लापता हो गए. दो हज़ार और दो सौ के नए नोट दिखने लगे. जो बचे थे उनके साथ दिवाली खेली गई. आई मीन जैसे दिवाली पर घर को नया रंग-र
26 दिसम्बर 2018
11 जनवरी 2019
न्यूज़ट्रेंड वेब डेस्क: जीवन में सफल होने के लिए सिर्फ कुछ बातें जरूरी होती हैं जो हैं लगन और जज्बा। अगर आपके मन में ये दोनों चीजें हैं और जीवन में सफल होने के लिए कुछ करने की चाह है तो आप कभी भी असफल नहीं होएंगे। आपकी मेहनत और लगन के बलबूते आप अपने सभी सपनों को पूरा कर स
11 जनवरी 2019
08 जनवरी 2019
IPS अफसर डीसी सागर अपनी फिटनेस को लेकर पूरे डिपार्टमेंट के लिए मिसाल बने हुए हैं। डीसी सागर मध्य प्रदेश के नक्सली इलाके बालाघाट रेंज के IG पद पर तैनात रहने के बाद वे अभी ADGP ( टेक्निकल सर्विसेस) पुलिस मुख्यालय हैं। बता दें कि डीसी सागर पुलिस डिपार्टमेंट में सबसे फिट अफसर में आते हैं। उनका मानना है
08 जनवरी 2019
27 दिसम्बर 2018
बायोपिक का दौर चल रहा है. आने वाली 25 जनवरी को एक साथ दो बायोपिक रिलीज हो रही हैं. कंगना रानौत की हिस्टोरिक बायोग्राफिकल ‘मणिकर्णिका’ और नवाजुद्दीन सिद्दीकी की ‘ठाकरे.’ पुराने जमाने में फिल्मों के लिए कोई शास्त्रीय गीत लिखा जाता था तो एक नाम दिमाग में आता था. इसे मन्ना डे गाएंगे. आज के जमाने में बाय
27 दिसम्बर 2018
08 जनवरी 2019
स्तन कैंसर के मरीजों के लिए एक अच्छी खबर है़ मुंबई स्थित टाटा मेमोरियल हॉस्पिटल के डॉक्टरों ने स्तन कैंसर के इलाज के लिए महंगी कीमोथेरैपी का बेहद सस्ता, लेकिन असरदार विकल्प तलाश लिया है़ दरअसल, उन्होंने इस बीमारी के इलाज के लिए एंटी-डाय
08 जनवरी 2019
29 दिसम्बर 2018
निहित स्वार्थ वाले लोग किसी विश्वास को बनाने या कायम रखने के लिए एक ऐसा आवरण बनाते हैं, जिससे आप महसूस करते हैं कि किसी खास खास वस्तु या सेवा से आपके जीवन में रोचक परिवर्तन आ सकता है। मार्केटर्स हर साल आपको यह समझाने के लिए अरबों डॉलर खर्च करते हैं कि आप उनके इंडस्ट्री का
29 दिसम्बर 2018
27 दिसम्बर 2018
बॉलीवुड के दबंग सलमान खान यारों के यार हैं लेकिन अगर जब कोई उनसे पंगा लेता है तो वो उनसे दुश्मनी भी बखूबी निभाते हैं. सलमान जिसके ऊपर मेहरबान हो जाते हैं तो उनकी जिंदगी बना देते हैं और जब किसी से दुश्मनी होती है तो उसका करियर बिगाड़ भी सकते हैं. उन्होंने बहुत से सितारों क
27 दिसम्बर 2018
31 दिसम्बर 2018
2019 की शुरुआत होने जा रही है और हर किसी के दिमाग में बस यही चल रहा होगा कि कैसा होगा ये नया साल।व्यक्ति के जीवन में राशियों का बड़ा महत्व माना गया है राशियों के आधार पर किसी भी व्यक्ति के बारे में जानकारी हासिल की जा सकती है व्यक्ति को आने वाले समय में किन किन परिस्थितियों का सामना करना पड़ेगा इन स
31 दिसम्बर 2018
26 दिसम्बर 2018
यूनेस्को द्वारा नालंदा यूनिवर्सिटी को वर्ल्ड हेरिटेज साइट का दर्ज़ा दिया गया ।'नालंदा' नाम की उत्पत्ति 3 संस्कृत शब्दों के संयोजन से हुई: "ना", "आलम" और "दा", जिसका अर्थ है 'ज्ञान के उपहार को ना रोकना'।न
26 दिसम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x