शिक्षा एवं विद्या :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

10 जनवरी 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (50 बार पढ़ा जा चुका है)

शिक्षा एवं विद्या :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धरा धाम पर मनुष्य के अतिरिक्त अनेक जीव हैं , और सब में जीवन है | मक्खी , मच्छर , कीड़े - मकोड़े , मेंढक , मछली आदि में भी जीवन है | एक कछुआ एवं चिड़िया भी अपना जीवन जीते हैं , परंतु उनको हम सभी निम्न स्तर का मानते हैं | क्योंकि उनमें एक ही कमी है कि उनमें ज्ञान नहीं है | इन सभी प्राणियों में सर्वश्रेष्ठ मनुष्य को ज्ञान का देवता माना गया है | अपने ज्ञान के कारण मननशील होने के कारण , विचारशील होने के कारण मनुष्य का स्तर सभी प्राणियों में ऊँचा रहा है | मनुष्य की आवश्यकता है ज्ञान | ज्ञानविहीन होने पर मनुष्य चेतन होते हुए भी सभी प्राणियों में निम्न स्तर का गिना जाएगा | विचार कीजिए सृष्टि के आदिकाल में जब मनुष्य पृथ्वी पर आया होगा तो उसका आकार भी एक पशु की तरह रहा होगा , जिसे आदिमानव कहा जाता है | उस समय मनुष्य को ना सामाजिकता का ज्ञान रहा होगा न अपनी जिम्मेदारियों का | अपने गुण , कर्म , स्वभाव , गौरव एवं गरिमा की विशेषताओं के बारे में वह बहुत नहीं जानता रहा होगा | समाज से अलग रहते हुए अपने परिवार के झुंड में एकाकी जीवन व्यतीत करता रहा होगा | परंतु धीरे धीरे विकास क्रम में मनुष्य ने अपने ज्ञान को बढ़ाया , जिसके कारण वह सृष्टि का सर्वश्रेष्ठ प्राणी बनकर अपनी सार्थकता को सिद्ध किया | प्राचीन काल की तुलना में आज के मनुष्य का ज्ञान बढ़ता हुआ चला गया और मनुष्य अपने विवेक का प्रयोग करते हुए सृष्टि का सर्वोच्च प्राणी बन गया |* *आज विचार करने की आवश्यकता है कि ज्ञान क्या है ? ज्ञान की वस्तुत: दो धाराएं होती हैं | प्रत्येक मनुष्य को अपने ज्ञान की दोनों धाराओं को निरंतर बढ़ाते रहना चाहिए | एक है भौतिक धारा और दूसरी है आध्यात्मिक धारा | भौतिक धारा के ज्ञान को हम शिक्षा कह सकते हैं वहीं आध्यात्मिक धारा के ज्ञान को विद्वानों ने विद्या का नाम दिया है | शिक्षा के आधार पर मनुष्य लोकव्यवहार सीखता है | संसार कैसा है ? इसका भूगोल और इतिहास क्या है ? इस सृष्टि में जीवन की उत्पत्ति कैसे हुई ? राजनीति , समाज , नागरिक कर्तव्य , या जीविकोपार्जन कैसे करना चाहिए ? यह सब हम शिक्षा के माध्यम से जान सकते हैं | मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का मानना है कि शिक्षा के माध्यम से मनुष्य एक व्यवस्थित जीवन जी सकता है , परंतु प्रत्येक मनुष्य को ज्ञान की दूसरी धारा जो कि आध्यात्मिकता है , उसे भी जानना बहुत आवश्यक है | हमारी आंतरिक चेतना , हमारी आत्मा , हमारा विवेक एवं संवेदनाएं यह सब हमारे भीतर समाहित हैं | इनके विषय में जानना भी प्रत्येक मनुष्य के लिए आवश्यक है | इसे अध्यात्म विद्या का नाम दिया गया है भौतिकज्ञान के साथ साथ प्रत्येक मनुष्य में आध्यात्मिक ज्ञान भी होना आवश्यक है , क्योंकि बिना आध्यात्मिक ज्ञान के मानव जीवन सार्थक नहीं हो सकता |* *शिक्षा एवं विद्या दोनों एक दूसरे के पूरक हैं बिना शिक्षा के यदि विद्या नहीं प्राप्त हो सकती तो बिना विद्या के जीवन सार्थक नहीं हो सकता |*

अगला लेख: अहंकारी विद्वता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 जनवरी 2019
हम सभी जानते हैं कि पैसा खुशी नहीं खरीद सकता है ... लेकिन कई बार हम ऐसा कार्य करते हैं जैसे कि हम थोड़े अधिक पैसे के साथ खुश हैं। हम अमीर बनने के लिए इच्छुक हैं (जब हम जानते हैं कि अमीर खुश नहीं हैं या तो); हमें उस नवीनतम गैजेट या शैली को प्राप्त करने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है। हम अधिक पैसा कमा
11 जनवरी 2019
27 दिसम्बर 2018
*आदिकाल के मनुष्यों ने अपने ज्ञान , वीरता एवं साहस से अनेकों ऐसे कार्य किए हैं जिनका लाभ आज तक मानव समाज ले रहा है | पूर्वकाल के मनुष्यों ने आध्यात्मिक , वैज्ञानिक , भौतिक एवं पारलौकिक ऐसे - ऐसे दिव्य कृत्य किए हैं जिनको आज पढ़ कर या सुनकर बड़ा आश्चर्य होता है परंतु कभी मनुष्य इस पर विचार नहीं करत
27 दिसम्बर 2018
06 जनवरी 2019
*पूर्वकाल में यदि मनुष्य सर्वश्रेष्ठ बना तो उसमें मनुष्य के संस्कारों की महत्वपूर्ण भूमिका थी | संस्कार ही मनुष्य को पूर्ण करते हुए पात्रता प्रदान करते हैं और संस्कृति समाज को पूर्ण करती है | संस्कारों से मनुष्य के आचरण कार्य करते हैं | किसी भी मनुष्य के चरित्र निर्माण में धर्म , संस्कार और संस्कृति
06 जनवरी 2019
06 जनवरी 2019
*हमारे पूर्वजों ने अनेक साधनाएं करके हम सब के लिए दुर्लभ साधन उपलब्ध कराया है |साधना क्या है यह जान लेना बहुत आवश्यक है | जैसा कि हम जानते हैं की कुछ ऋषियों ने एकांत में बैठकर साधना की तो कुछ ने संसार में ही रहकर की स्वयं को साधक बना लिया | साधना का अर्थ केवल एकांतवास या ध्यान नहीं होता | वह स
06 जनवरी 2019
06 जनवरी 2019
*सृष्टि के आदिकाल में परमपिता परमात्मा ने एक से अनेक होने की कामना करके भिन्न - भिन्न योनियों का सृजन करके उनमें जीव का आरोपण किया | जड़ - चेतन जितनी भी सृष्टि इस धराधाम पर दिखाई पड़ती है सब उसी कृपालु परमात्मा के अंश से उत्पन्न हुई | कहने का तात्पर्य यह है कि सभी जीवों के साथ ही जड़ पदार्थों में भी
06 जनवरी 2019
07 जनवरी 2019
*आदिकाल से इस धरा धाम सनातन धर्म अपनी दिव्यता एवं स्थिरता के कारण समस्त विश्व में अग्रगण्य एवं पूज्य रहा है | सनातन धर्म की मान्यतायें एवं इसके विधान का पालन करके मनुष्य ने समस्त विश्व में सनातन धर्म की धर्म ध्वजा फहरायी | सनातन के सारे सिद्धांत सनातन धर्म के धर्मग्रंथों में उद्धृत हुए हैं , जिनका
07 जनवरी 2019
01 जनवरी 2019
*आदिकाल से मनुष्यों का सम्मान या उनका अपमान उनके कर्मों के आधार पर ही होता रहा है | मनुष्य की वाणी , उसका व्यवहार एवं उसका आचरण ही उसके जीवन को दिव्य या पतित बनाता रहा है | मनुष्य बहुत बड़ा विद्वान बन जाय परंतु उसकी वाणी में कोमलता न हो , उसकी भाषा मर्यादित न हो एवं उसके कर्म समाज के विपरीत हों तो उ
01 जनवरी 2019
27 दिसम्बर 2018
*इस धराधाम पर जन्म लेने के बाद मनुष्य जीवन भर सहज जिज्ञासु बनकर जीवन व्यतीत करता है | मनुष्य समय-समय पर यह जानना चाहता है कि वह कौन है ? कहां से आया है ? और उसको इस सृष्टि में भेजने वाला वह परमात्मा कैसा होगा ? कोई उसे ब्रह्म कहता है कोई परब्रह्म कहता है ! अनेक नामों से उस अदृश्य शक्ति को लोग पूजते
27 दिसम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x