तनहाई

22 जनवरी 2019   |  मंजू गीत   (76 बार पढ़ा जा चुका है)

तनहाई घिरने लगा मन में अंधेरा, जब शांत होकर मैं आई। मन में होने लगी उथल-पुथल, यादों ने ली अंगड़ाई। कोई नहीं था, संग मेरे, मैं थीं खुद में समाई। मैं थीं,और थीं मेरी तन्हाई, खुशी हो, या हो गम हम दोनों ही तो है, इसके सिवा है किसकी परछाई? मैं और तन्हाई......... आंखों की नमी उभर आई, मुस्कुरा कर लबों ने दी, नमी को विदाई। मन की खलिश में, फिर से चोट आई, ख्वाहिशों को दफनाने में न देर लगाई। अतीत के पन्नों से एक खुशी उठाई, करवटें बदलते हुए, एक उम्मीद जगाई। अंधेरे में भी चांद की ठंडक मन को भाई, हुई भोर, नयी सुबह, नयी रोशनी को देख मन हर्षाया। लोट गई तन्हाई, मन की गहराई में, जीवन की धारा में, अपने कर्म की पतवार लिए फिर से मैं लोट आई.....

अगला लेख: भाषा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
भा
22 जनवरी 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x