जय श्री राम

26 जनवरी 2019   |  pradeep   (35 बार पढ़ा जा चुका है)

देखो ओ दीवानो तुम ये काम ना करो राम का नाम बदनाम ना करो. शायद दशकों पहले किसी गीतकार ने सच ही कहा था. जिस भगवान् राम की मर्ज़ी के बिना पत्ता तक नहीं हिल सकता तो उस भगवान् राम के मंदिर को कोई कैसे तोड़ सकता है. जो इस सम्पूर्ण सृष्टि के रचियेता है, उसके मंदिर की रचना हम करेंगे? जो कण कण में समाया हो उसे हम सिर्फ एक मंदिर में ढूंढेगे? हमें गर्व है कि हम सनातनी है, हिन्दू नहीं. हिन्दू शब्द विदेशियों का दिया शब्द है जिसमे तिरस्कार है. और जो सच्चा सनातनी है वो अपने भगवान् राम पर राजनीती नहीं करेगा. जय श्री राम. मंदिर बनेगा और ज़रूर बनेगा लेकिन प्रेम और सद्भाव से, नफ़रत से नहीं. जिस मंदिर की स्थापना नफ़रत से होगी वहाँ श्री राम कभी नहीं बसेंगे. इसलिए पहले प्रेम और सद्भाव का माहौल बनाओ और उसके बाद सभी के सहयोग से मंदिर की स्थापना करो, यही सच्चा सनातनी विचार है. (आलिम)

अगला लेख: खानदान



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x