हैरान रह जायेगे आप लोग चंदन के भयंकर फायदे जानकर

19 फरवरी 2019   |  सतीश कालरा   (61 बार पढ़ा जा चुका है)

भारत में चंदन को बहुत ही स्वच्छ व पवित्र माना जाता है, इसकी लकड़ी पीले रंग की और भारी होती है, जो वर्षों से अपनी खुशबू के लिए पहचानी जाती है । चन्दन के पेड़ बहत ही कीमती होते हैं और संसार में कीमत के मामले में यह दूसरे नंबर की महंगी लकड़ी मनी जाती है । चन्दन की लकड़ी का ज्यादातर प्रयोग अगरबत्ती, आफ़्टरशेव, परफ्यूम और कास्मेटिक के उत्पाद बनाने के लिए प्रयोग किया जाता है|

चंदन की लकड़ी का तासीर शांत और आरामदायी होती है, इसके शांत प्रभाव की वजह से ही इसका प्रयोग प्रार्थना, ध्यान या फिर अन्य धार्मिक कार्यों में इसका प्रयोग किया जाता है, जब इसको त्वचा पर लगाया जाता है या सूंघा जाता है तो इससे शांति मिलती है । यह एकाग्रता को बढ़ावा है, दिमाग को शांत रखता है और तनाव व चिंता से मुक्त रखता है । यह प्राकृतिक रूप से पुरुषों में काम इच्छा व ऊर्जा बढ़ाने के काम आता है ।

यह भी जाने :-नीम का उपयोग त्वचा रोग मे कैसे करें

यह मूत्र तंत्र की सूजन को आराम देता है, पेशाब के रास्ते को साफ़ करके विषैले पदार्थों को शरीर से बाहर निकाल देता है । यह पेट से गैस को निकलने में मदद करता है व पेट की मांसपेशियों को आराम दिलाता है । चंदन का त्वचा पर लेप किया जाए तो यह ब्लडप्रेशर को कम कर आराम दिलता है, चंदन का उपयोग त्वचा के बहुत से उत्पाद, आफ़्टरशेव और टोनर में मुख्य सामग्री के रूप में किया जाता है जोकि त्वचा को नरम, मुलायम बनाने और साफ़ रखने में सहायक होते हैं ।

चन्दन की लकड़ी का पेस्ट बनाकर त्वचा पर लगाने से त्वचा के दाग धब्बों को जल्दी भरने में सहायता करता है । चंदन का पेस्ट skin पर लगाने से एंटीएजिंग का काम करता है । जब इसको किसी भी तेल के साथ मिलाकर लगाया जाता है तो यह शुष्क त्वचा को मुलायम बना देता है ।

यह भी पढ़े: भांग के पत्ते के फायदे, 6 महत्वपूर्ण रोगों के उपचार व नुकसान



Third party image reference


Third party image reference

चन्दन के पाउडर को गुलाब जल के साथ मिलाकर शरीर लगाने से पसीना कम आता है । सूरज की धूप से बचने के लिए चन्दन पाउडर, खीरे का रस, निम्बू का रस, दही, शहद और एक टमाटर का रस बराबर मात्र में मिलाकर पेस्ट बना लें| इस पेस्ट में नारियल का तेल या बादाम का तेल मिला लें । इसको चेहरे पर लगाकर 15 मिनट के लिए छोड़ दें । फिर हल्के गर्म पानी से धो लें चन्दन के पाउडर, हल्दी, मुल्तानी मिटटी और गुलाब जल चारों को मिलाकर का पेस्ट बना ले । इस पेस्ट को त्वचा पर लगायें । जब यह सुख जाए तो इसे ठन्डे पानी से धो लें । इससे त्वचा नरम व चमकदार हो जाएगी । चन्दन के पाउडर, बादाम के पाउडर और दूध को मिलाकर फेस मास्क बनाएं और इसको सूखने तक चेहरे और गर्दन पर लगायें, फिर ठंडे पानी से धो लें ऐसा करने से त्वचा साफ व चमक दर हो जाएगा ।


अगला लेख: एक धार्मिक कहानी तुलसी कौन थी, और इसका विवाह किसके साथ हुआ था



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 फरवरी 2019
तुलसी के बारे में आप जानते है । यह बुखार सर्दी, जुकाम, खाँसी मे प्रयोग की जाती है । तुलसी सर्वरोग निवारक, जीवनीय शक्तिवर्धक होती है । इसे वृंदा, वैष्णवी, विष्णु बल्लभा, श्री कृष्ण बल्लभा आदि नामो से जाना जाता है । इस औषधि की देवी की तरह पूजा की जाती है । ये सब जगह पाय
24 फरवरी 2019
18 फरवरी 2019
नीम, त्वचा चेचक एवं कुष्ट रोग निवारक औषधी है । नीम के उपयोग से त्वचा की चेचक जैसी भयंकर बीमारिया नही होती तथा इससे रक्त शुद्ध होता है । नीम स्वास्थवर्धक एवं आरयोग्यता प्रदान करने वाला है। ये सभी प्रकार की व्याधियों को हरने वाला है, इसे मृत्यु लोक का कुल्पवृक्ष कहा जात
18 फरवरी 2019
25 फरवरी 2019
हमारे शरीर से विषाक्त पदार्थों के प्रभाव को हटाने के लिए हमारे शरीर में एक जन्म जात अंग है लीवर । हमारे शरीर की सफाई व स्वतस्थ बनाए रखने के लिए किसी भी बाहरी चीज की आवश्यकता नहीं होती है । लीवर चाहे शरीर के अंदर ही होता है, पर उसके खराब होने का असर शरीर के सभी हिस्सों पर पड़ता है इस लिए लीवर का ख़ास
25 फरवरी 2019
18 फरवरी 2019
नीम, त्वचा चेचक एवं कुष्ट रोग निवारक औषधी है । नीम के उपयोग से त्वचा की चेचक जैसी भयंकर बीमारिया नही होती तथा इससे रक्त शुद्ध होता है । नीम स्वास्थवर्धक एवं आरयोग्यता प्रदान करने वाला है। ये सभी प्रकार की व्याधियों को हरने वाला है, इसे मृत्यु लोक का कुल्पवृक्ष कहा जात
18 फरवरी 2019
18 फरवरी 2019
नीम, त्वचा चेचक एवं कुष्ट रोग निवारक औषधी है । नीम के उपयोग से त्वचा की चेचक जैसी भयंकर बीमारिया नही होती तथा इससे रक्त शुद्ध होता है । नीम स्वास्थवर्धक एवं आरयोग्यता प्रदान करने वाला है। ये सभी प्रकार की व्याधियों को हरने वाला है, इसे मृत्यु लोक का कुल्पवृक्ष कहा जात
18 फरवरी 2019
06 मार्च 2019
Third party image referenceतुलसी का पौधा पूर्व जन्म मे एक लड़की थी, जिस का नाम वृंदा था, राक्षस कुल में उसका जन्म हुआ था बचपन से ही भगवान विष्णु की भक्त थी । बड़े ही प्रेम से भगवान की सेवा, पूजा किया करती थी । जब वह बड़ी हुई तो उनका विवाह राक्षस कुल में दानव राज जलंधर से हो गया । जलंधर समुद्र से उत्
06 मार्च 2019
28 फरवरी 2019
Third party image referenceआज कल की जीवन शैली की तेज गति एवं भागदौड़ वाली जिंदगी में सेहत का ध्यान रखना बहुत कठिन हो गया है । जिस कारण से आज हम युवावस्था में ही ब्लड प्रेशर, शुगर, दिल के रोग कोलेस्ट्रोल, गठिया मोटापा जैसे रोगों से ग्रसित होने लगे हैं जो कि पहले व्रद्धावस्था में होते थे, और इसकी सबसे
28 फरवरी 2019
24 फरवरी 2019
होंठ बहुत ही संवेदनशील होते हैं, हर मौसम का इस पर प्रभाव पड़ता है । मौसम के प्रभाव से ही होंठ फटते हैं, जाड़े के दिनों में कुछ ज्यादा ही प्रभाव पड़ता है । हॉट फटने से हसने बोलने में परेशानी तो होती है, पर देखने में भी अच्छा नहीं लगता है । होंठो के फटने का कारण ठंडा मौसम, विटामिन ए तथा विटामिन बी की
24 फरवरी 2019
04 मार्च 2019
Third party image referenceआजकल हर व्यक्ति आंखो की रोशनी को लेकर चिंतित है । आवश्यकता से अधिक दिमाग की मेहनत, तेज रोशनी वाली वस्तुओं को ज्यादा निकट से देखना, जरूरत से अधिक मोबाइल का प्रयोग और मस्तिष्क व स्नायु की कमजोरी से भी आंखों की रोशनी जल्दी कम हो जाती है । लेकिन प्रकृति में अपने आप से बहुत सी
04 मार्च 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x