न भटको अपने नेक इरादों से

27 फरवरी 2019   |  जानू नागर   (50 बार पढ़ा जा चुका है)

न भटको अपने नेक इरादों से


माला जपू श्याम की राम की धनश्याम की जग मे फैला हैं उजियारा तेरे ही नाम का जप-जप कर जीता हैं जग सारा। बनता हैं तूही सहारा जग के बेसहारों का। माला जपू श्याम की राम की घनश्याम की।रहने दे अमन शांति इस जहां मे जहाँ खेलता हैं बचपन गाती हैं जवानी गुनगुनाता हैं बुढ़ापा। करती हैं श्र्ंगर इस जहाँ की औरते, मानती हैं उस स्वर्ग को जिसे जानती नहीं। वह भी जपती हैं माला श्याम की राम की घनश्याम की वह भी जीना चाहती हैं इस सुखमय संसार मे। मत फैलावों मतभेद के धागे जो कभी जुड़े नहीं। धागे वही मजबूत और अच्छे जिससे माला बनी श्याम की राम की घनश्याम की। वाद-विवाद तो खुद को मिटाने की जड़ हैं। समझ लो अभी भी इस बात को अब माला जप लो इंसानियत के नाम की, न भूलों इनके नेक इरादों को युद्ध मे तो बेजुबान पशु पंक्षी भी मारे जाते हैं। सूख जाते हैं बारूदो की धमक से नन्हें कोमल पौधे, नदियाँ भी भटक जाती हैं अपने रास्ते। माला जपू श्याम की राम की घनश्याम की।

अगला लेख: हार कर घर कर गई ।



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x