महान गुण है धैर्य :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

08 मार्च 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (45 बार पढ़ा जा चुका है)

महान गुण है धैर्य :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*अपने संपूर्ण जीवन काल में मनुष्य में अनेक गुणों का प्रादुर्भाव होता है | अपने गुणों के माध्यम से ही मनुष्य समाज में सम्मान या अपमान अर्जित करता है | यदि मनुष्य के गुणों की बात की जाए तो धैर्य मानव जीवन में एक ऐसा गुण है जिसके गर्भ से शेष सभी गुण प्रस्फुटित होते हैं | यदि किसी में धैर्य नहीं है तो वह चाहे जितना शक्तिसंपन्न हो उसकी संपन्नता दुर्बलता में बदल जाती है | धैर्य के बिना मनुष्य के किए गए किसी भी कार्य का समुचित परिणाम नहीं प्राप्त हो पाता | हमारे महापुरुषों ने कहा है कि जिसके पास धैर्य है समझो उसने काल को भी पक्ष में कर लिया है | यदि आपमें धैर्य है तो आप के विरोधी ही नहीं बल्कि आपके दुश्मन भी आप का लोहा मानने के लिए बाध्य हो जाएंगे | मनुष्य को जीवन की विषमताओं में प्रतिकूलताओं में अपना धैर्य नहीं खोना चाहिए , यदि धैर्य डगमगा जाता है तो मनुष्य नकारात्मक हो जाता है और नकारात्मक मनुष्य जीवन के अंधेरों में खोता चला जाता है | अतः प्रत्येक मनुष्य को धैर्य का त्याग कभी नहीं करना चाहिये | कर्म करना मनुष्य का कर्तव्य है परंतु कर्म करने के बाद उसके फल की प्रतीक्षा करने में धैर्य की आवश्यकता भी होती है | यदि खेत में बीज डाला गया है तो धैर्य धारण करके फल आने की प्रतीक्षा भी करनी पड़ेगी | यहीं पर यदि किसान का धैर्य खो जाए तो विचार कीजिए कि उसको कैसी फसल प्राप्त होगी ? धैर्यवान मनुष्य कोई भी कार्य समय को अनुकूल पा करके ही करते है यह अलग विषय है ऐसे लोगों को कुछ लोग कमजोर व डरपोक कहने लगते हैं | जबकि ऐसा व्यक्तित्व ना तो कमजोर होता है ना ही डरपोक होता है बल्कि वह धैर्य धारण करके उचित समय की प्रतीक्षा किया करता है |* *आज मनुष्य प्रत्येक कार्य करके उसका परिणाम त्वरित गति से प्राप्त करना चाहता है | कोई भी कार्य करने के बाद धैर्य धारण करके प्रतीक्षा करना आज के मनुष्य के लिए मुश्किल कार्य लग रहा है | यही कारण है कि अधिकतर लोग सफलता के किनारे पहुंचने के बाद भी असफल हो जाते हैं | यह सत्य है कि एक धैर्यवान मनुष्य अपने चारों ओर से स्वयं के ऊपर होने वाले कटाक्षों से व्यथित न होकरके धैर्य धारण किये रहता है और उसका समुचित उत्तर उचित समय आने पर ही देता है | जबकि कुछ लोग विरोधियों के इन कृत्यों से धैर्य खो देते हैं और उनके कदम अपने कर्म पथ से डगमगा जाते है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" इतना ही कहना चाहूंगा कि धैर्य जीवन का एक ऐसा गुण है जिसको धारण कर हम बाहरी जीवन में परिपूर्ण सफलता प्राप्त कर सकते हैं साथ ही आंतरिक जीवन में शांति के अधिकारी भी बन सकते हैं | वर्तमान समय में धैर्य का महत्व और भी बढ़ गया है क्योंकि आज तुरंत सफलता , बुलंदी , नाम व वैभव की अंधी दौड़ प्रचलन में आ चुकी है , आज मनुष्य के व्यक्तिगत एवं सामाजिक जीवन से शान्ति , स्थिरता अंतर्ध्यान हो चुकी है और मनुष्य असंतुलित सा हो गया है |* *धैर्य एक महान गुण है कुसमय में यही वह सच्चा मित्र होता है जो मनुष्य को बचाये रखकर पुन: अच्छे समय की प्रतीक्षा करने में सहायता करके पुनर्जीवन देता है |*

अगला लेख: प्रसन्नता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 मार्च 2019
*सनातन काल से मनुष्य भगवान को प्राप्त करने के अनेकानेक उपाय करता रहा है , परंतु इसके साथ ही भगवान का पूजन , ध्यान एवं सत्संग करने से कतराता भी रहता है | मनुष्य का मानना है कि भगवान का भजन करने के लिए एक निश्चित आयु होती है | जबकि हमारे शास्त्रों में बताया गया है कि मनुष्य के जीवन का कोई भरोसा नहीं ह
16 मार्च 2019
20 मार्च 2019
*सनातन धर्म के संस्कार , संस्कृति एवं वैज्ञानिकता सर्वविदित है | सनातन धर्म के महर्षियों ने जो भी नीति नियम बनाये हैं उनमें गणित से लेकर विज्ञान तक समस्त सूत्र स्पष्ट दिखाई पड़ते हैं | सनातन धर्म के संस्कार रहे हैं कि मनुष्य जब गुरु के यहां जाता था तब वह सेवक बनकर जाता था | इस पृथ्वी पर एकछत्र शासन
20 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*हमारा देश भारत सदैव से एक सशक्त राष्ट्र रहा है | हमारा इतिहास बताता है कि हमारे देश भारत में अनेक ऐसे सम्राट हुए हैं जिन्होंने संपूर्ण पृथ्वी पर शासन किया है | पृथ्वी ही नहीं उन्होंने स्वर्ग तक की यात्रा करके वहाँ भी इन्द्रपद को सुशोभित करके शासन किया है | हमारे देश का इतिहास बहुत ही गौरवशाली रहा ह
08 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*आदिकाल से इस धराधाम का पालन राजा - महाराजाओं के द्वारा होता आया है | किसी भी राजा के सफल होने के पीछे मुख्य रहस्य होता था उसकी नीतियाँ | अनेक नीतिज्ञ सलाहकारों से घिरा राजा राजनीति , कूटनीति एवं राष्ट्रनीति पर चर्चा करके ही अपने सारे कार्य सम्पादित किया करता था | कब , किस समय , कौन सा निर्णय लेना ह
08 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*सम्पूर्ण सृष्टि परमपिता परमात्मा के द्वारा निर्मित है | इस सृष्टि में वन , नदियाँ , पहाड़ , जलचर , थलचर एवं नभचर सब ईश्वर को समान रूप से प्रिय हैं | मनुष्य उस ईश्वर का युवराज कहा जाता है | युवराज का अर्थ है राजा का उत्तराधिकारी जो राजा द्वारा संरक्षित वस्तुओं का संरक्षण करने का उत्तरदायित्व सम्हाले
08 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*आदिकाल से इस धराधाम पर ऋषियों - महर्षियों एवं राजा - महाराजाओं द्वारा लोक कल्याण के लिए यज्ञ / महायज्ञ का अनुष्ठान किया जाता रहा है | जहाँ सद्प्रवृत्तियों द्वारा लोक कल्याण की भावना से ये सारे धर्मकार्य किये जाते रहे हैं वहीं नकारात्मक शक्तियों के द्वारा इन धर्मानुष्ठानों का विरोध करते हुए विध्वंस
08 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*सृष्टि के आदिकाल से इस धरा धाम पर मानव जाति दो खंडों में विभाजित मिलती है | पहला खंड है आस्तिक जो ईश्वर को मानता है और दूसरे खंड को नास्तिक कहा जाता है जो परमसत्ता को मानने से इंकार कर देता है | नास्तिक कौन है ? किसे नास्तिक कहा जा सकता है ? यह प्रश्न बहुत ही जटिल है | क्योंकि आज तक वास्तविक नास्त
08 मार्च 2019
28 फरवरी 2019
*इस धराधाम पर भाँति - भाँति के धर्म , सम्प्रदाय एवं पंथ विद्यमान हैं जो अपने - अपने मतानुसार जीवन को दिशा देते हैं | वैसे तो मनुष्य जिस धर्म में जन्म लेता है वही उसका धर्म हो जाता है परंतु इन धर्मों के अतिरिक्त भी मनुष्य के कुछ धर्म होते हैं जिसे प्रत्येक मनुष्य को मानना चाहिए | इनको कर्तव्य धर्म भी
28 फरवरी 2019
16 मार्च 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार आश्रमों के माध्यम से प्रतिपादित किया गया है | ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , वानप्रस्थ एवं सन्यास | सनातन धर्म में आश्रम व्यवस्था विशेष महत्व रखती है | यही आश्रम व्यवस्था मनुष्य के क्रमिक विकास के चार सोपान हैं , जिनमें धर्म , अर्थ , काम एवं मोक्ष आदि पुरुषार्थ चतुष्टय के समन
16 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x