स्वार्थ एवं भावनायें :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

30 मार्च 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (32 बार पढ़ा जा चुका है)

स्वार्थ एवं भावनायें :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धरा धाम पर परमात्मा की सर्वोत्कृष्ट रचना मनुष्य को मानी गई है | जन्म लेने के बाद मनुष्य ने धीरे धीरे अपना विकास किया और एक समाज का निर्माण किया | परिवार से निकलकर समाज में अपना विस्तार करने वाला मनुष्य अपने संपूर्ण जीवन काल में अनेक प्रकार के रिश्ते बनाता है | इन रिश्तो में प्रमुख होती है मनुष्य की भावनाएं | मानव जीवन में स्वार्थ एवं परमार्थ इन दोनों का बहुत ही महत्व है स्वार्थ का अर्थ हुआ अपने लिए किया गया कार्य , जहां भावनाएं प्रमुख होती है वहां स्वार्थ गौड़ हो जाता है परंतु जहां मनुष्य परम स्वार्थी है वहां भावनाओं का कोई महत्व नहीं होता है | ऐसे व्यक्ति अपने स्वार्थ सिद्ध करने के लिए अपने परिवारी जनों एवं गुरुजनों तथा समाज में अपने मित्रों की भावनाओं को कुचल कर के आगे बढ़ने का प्रयास करते हैं | प्रथमदृष्ट्या वे आगे बढ़ भी जाते हैं परंतु एक समय ऐसा भी होता है जब उनको अपने परिवार , गुरुजन व मित्रों से मिलने वाला प्रेम एवं उनकी भावनाएं याद आती हैं , तब मनुष्य के पास पश्चाताप करने के अलावा और कोई मार्ग नहीं होता है | मानव जीवन में भावना प्रमुख हैं | भावनाएं केन्द्र में रखकर ही लोग अनेक क्रियाकलाप करते हैं परंतु बहुत जल्दी , बहुत ज्यादा प्राप्त कर लेने के चक्कर में मनुष्य इन भावनाओं को अनदेखा करके आगे निकलने का प्रयास करता है जो कि अनुचित ही कहा जाएगा |* *आज समाज में स्वार्थ ने अपना विस्तार कर लिया है | स्वार्थ का साम्राज्य इतना ज्यादा विस्तृत है कि मनुष्य अपने स्वार्थ के लिए उन माता-पिता की भावनाओं को भी कुचल रहा है जिन्होंने जन्म देकरके हाथ पकड़कर चलना सिखाया | जिनके आंचल में रहकरके मनुष्य ने बोलना एवं अन्य क्रिया कलाप करना सीखा , ऐसे माता-पिता की भावनाओं को कुचलकर मनुष्य अपना स्वार्थ सिद्ध कर रहा है | समाज में अनेक ऐसे उदाहरण भी देखने को मिलते हैं जहां शिष्यों ने अपने ऐसे गुरु की भावनाओं का भी ध्यान नहीं रखा जिन्होंने शिष्य को पुत्र की तरह मान करके शिक्षा दीक्षा दी | मुझे "आचार्य अर्जुन तिवारी" को हंसी तब आती है जब ऐसे ही लोग समाज को भावना एवं स्वार्थ की शिक्षा देते हुए दिखाई पड़ते हैं जिन्होंने स्वयं दूसरे की भावनाओं का ध्यान नहीं रखा | अपने स्वार्थ सिद्धि के लिए अपने परिजनों / गुरुजनों की भावनाओं को कुचला | ऐसे लोग आज यह शिक्षा देते हुए दिखाई पड़ते हैं कि "रिश्तो की सिलाई भावनाओं से होनी चाहिए" जो स्वयं नहीं जानते कि भावना एवं प्रेम किसे कहते हैं ? जो अपने स्वार्थ में इन्हें भूल जाते हैं , वह भी मात्र कुछ धन , कुछ ज्यादा या कोई उच्च पद प्राप्त करने के लिए | आज के आधुनिक लोग यह भूल जाते हैं कि यही माता पिता की जिन्होंने हमें समाज में स्थापित किया , लोग भूल जाते हैं की यही वह व्यक्ति है जिसे हम गुरु मान करके समाज के उच्च पद पर आसीन होने का सौभाग्य प्राप्त किए | जन्म से ही कोई समाज में स्थापित नहीं हो जाता है , समाज में स्थापित होने के लिए परिजनों / गुरुजनों का आश्रय लेना पड़ता है | परंतु ऐसे लोग जिन्हें यदि निकृष्ट कहा जाए तो अतिशयोक्ति ना होगी स्वार्थ में अंधे हो जाते हैं | कुछ धनलोलुपता की चकाचौंध में इनका सारा प्रेम एवं समस्त भावनाएं लुप्त हो जाती हैं | यही आज समाज को शिक्षा देने का कार्य कर रहे हैं जो कि हास्यास्पद प्रतीत होता है |* *प्रत्येक मनुष्य स्वार्थी है परंतु "अति सर्वत्र वर्जयेत् " के अनुसार किसी भी चीज की अधिकता मनुष्य को पतन की ओर ही ले जाती है |*

अगला लेख: कर्मफल :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 मार्च 2019
*सनातन धर्म में तैंतीस करोड़ देवी देवताओं की मान्यता है | इन देवी - देवताओं को शायद ही किसी ने देखा हो , ये कल्पना भी हो सकते हैं | देवता वही है जिसमें कोई दोष न हो , जो सदैव सकारात्मकता के साथ अपने आश्रितों के लिए कल्याणकारी हो | शायद हमारे मनीषियों ने इसीलिए इस धराधाम पर तीन जीवित एवं जागृत देवताओ
30 मार्च 2019
27 मार्च 2019
*परमात्मा द्वारा सृजित यह सृष्टि बड़ी ही विचित्र है | ईश्वर ने चौरासी लाख योनियों की रचना की ! पशु , पक्षी , मनुष्य , जलचर आदि जीवों का सृजन किया | कहने को तो यह सभी एक जैसे हैं परंतु विचित्रता यही है कि एक मनुष्य का चेहरा दूसरे मनुष्य से नहीं मिलता है | असंख्य प्रकार के जीव हैं , एक ही योनि के होन
27 मार्च 2019
27 मार्च 2019
*ईश्वर की बनाई इस महान श्रृष्टि में सबसे प्रमुखता कर्मों को दी गई है | चराचर जगत में जड़ , चेतन , जलचर , थलचर , नभचर या चौरासी लाख योनियों में भ्रमण करने वाला कोई भी जीवमात्र हो | सबको अपने कर्मों का फल अवश्य भुगतना पड़ता है | ईश्वर समदर्शी है , ईश्वर की न्यायशीलता प्रसिद्ध है | ईश्वर का न्याय सिद्ध
27 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार आश्रमों के माध्यम से प्रतिपादित किया गया है | ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , वानप्रस्थ एवं सन्यास | सनातन धर्म में आश्रम व्यवस्था विशेष महत्व रखती है | यही आश्रम व्यवस्था मनुष्य के क्रमिक विकास के चार सोपान हैं , जिनमें धर्म , अर्थ , काम एवं मोक्ष आदि पुरुषार्थ चतुष्टय के समन
16 मार्च 2019
25 मार्च 2019
*चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ मानव योनि कही गयी है | मनुष्य का जन्म मिलना है स्वयं में सौभाग्य है | देवताओं की कृपा एवं पूर्वजन्म में ऋषियों के द्वारा दिए गए सत्संग के फलस्वरूप जीव को माता पिता के माध्यम से इस धरती पर मानव रूप में आने का सौभाग्य प्राप्त होता है | इस प्रकार जन्म लेकर के मनुष्य
25 मार्च 2019
23 मार्च 2019
*इस धरा धाम पर मनुष्य सर्वश्रेष्ठ प्राणी बनकर स्थापित हुआ | अपने विकासक्रम में मनुष्य समाज में रहकर के , सामाजिक संगठन बनाकर निरंतर प्रगति की दिशा में अग्रसर रहा | किसी भी समाज में संगठन के प्रति मनुष्य का दायित्व एवं उसकी भूमिका इस बात पर निर्भर करती है कि मनुष्य के अंदर इस जीवन रूपी उद्यान को सुग
23 मार्च 2019
20 मार्च 2019
*आदिकाल में जब इस सृष्टि में मनुष्य का प्रादुर्भाव हुआ तो उनको जीवन जीने के लिए वेदों का सहारा लेना पड़ा | सर्वप्रथम हमारे सप्तऋषियों ने वेद की रचनाओं से मनुष्य के जीवन जीने में सहयोगी नीतियों / रीतियों का प्रतिपादन किया जिन्हें "वेदरीति" का नाम दिया गया | फिर धीरे धीरे धराधाम पर मनुष्य का विस्तार ह
20 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*इस पृथ्वी पर जन्म लेने के बाद मनुष्य का परम लक्ष्य होता है भगवतप्राप्ति करना | भगवान को प्राप्त करने के लिए हमारे महापुरुषों ने अनेकानेक उपाय बताये हैं | अनेक उपाय करने के पहले आवश्यक है कि मनुष्य के हृदय में भक्ति का उदय हो क्योंकि बिना भक्ति के भगवान को प्राप्त कर पाना कठिन ही नहीं वरन् असम्भव है
16 मार्च 2019
25 मार्च 2019
*सनातन धर्म में मनुष्य के जीवन में संस्कारों का बहुत महत्त्व है | हमारे ऋषियों ने सम्पूर्ण मानव जीवन में सोलह संस्कारों का विधान बताया है | सभी संस्कार अपना विशिष्ट महत्त्व रखते हैं , इन्हीं में से एक है :- यज्ञोपवीत संस्कार ! जिसे "उपनयन" या "जनेऊ संस्कार" भी कहा जाता है | ऐसा माना गया है कि मनुष्य
25 मार्च 2019
28 मार्च 2019
*मनुष्य जीवन में संयम का बहुत ही ज्यादा महत्त्व है | ईश्वर ने मनुष्य की अनुपम कृति की है | सुंदर अंग - उपांग बनाये मधुर मधुर बोलने के लिए मधुर वाणी प्रदान की | वाणी का वरदान मनुष्य को ईश्वर द्वारा इस उद्देश्य से प्रदान किया है कि वह जो कुछ भी बोले उसके पहले गहन चिंतन कर ले तत्पश्चात वाणी के माध्यम स
28 मार्च 2019
27 मार्च 2019
*सम्पूर्ण विश्व में भारत ही ऐसा देश है जहाँ से "वसुधैव कुटुम्बकम्" का उद्घोष हुआ | हमारे मनीषियों ने ऐसा उद्घोष यदि किया तो उसके पीछे प्रमुख कारण यह था कि मानव जीवन में कुटुम्ब अर्थात परिवार का महत्त्वपूर्ण व विशिष्ट स्थान है | देवी - देवताओं से लेकर ऋषि - मुनियों तक एवं राजा - महाराजाओं से लेकर असु
27 मार्च 2019
25 मार्च 2019
*सम्पूर्ण जीवनकाल में मनुष्य काम , क्रोध , लोभ , मद , मोह , अहंकार आदि से जूझता रहता है | यही मनुष्य के शत्रु कहे गये हैं , इनमें सबसे प्रबल "मोह" को बताते हुए गोस्वामी तुलसीदास जी मानस में लिखते हैं :- "मोह सकल व्याधिन्ह कर मूला" अर्थात सभी रोगों की जड़ है "मोह" | जिस प्रकार मनुष्य को अंधकार में कु
25 मार्च 2019
27 मार्च 2019
*इस संसार में जन्म लेने के बाद मनुष्य अनेक प्रकार के घटनाक्रम से होते हुए जीवन की यात्रा पूरी करता है | कभी - कभी मनुष्य की जीवनयात्रा में ऐसा भी पड़ाव आता है कि वह किंकर्तव्यविमूढ़ सा होकर विचलित होने लगता है | यहीं पर मनुष्य यदि सत्यशील व दृढ़प्रतिज्ञ नहीं है तो वह अपने सकारात्मक मार्गों का त्याग
27 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x