मनोवृत्ति :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

05 अप्रैल 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (12 बार पढ़ा जा चुका है)

मनोवृत्ति :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस संसार में दुर्लभ मनुष्य शरीर पाकर के मनुष्य संसार में सब कुछ प्राप्त करने का प्रयास करता है | मनुष्य भूल जाता है कि देव दुर्लभ शरीर ही सब कुछ प्राप्त करने का साधन है इसी शरीर के भीतर अमृत भरा हुआ है , इसी में विष है तो इसी को पारस एवं कल्पवृक्ष भी कहा गया है | मनुष्य जो चाहे इसी शरीर से प्राप्त कर सकता है | शरीर से मनोवांछित प्राप्त करने के लिए अपनी मनोवृति को अपने अभीष्ट की ओर मोड़ना पड़ता है | इस मानव जीवन में प्रत्येक कदम पर मनुष्य की परीक्षा होती है जरा सा भी विचलित होने पर मनुष्य अनुत्तीर्ण हो जाता है और फिर परीक्षा देने की उसकी इच्छा नहीं होती है | जबकि मनुष्य को अपने जीवन को सकारात्मक रखते हुए जीवन की परीक्षाओं को उत्तीर्ण करने का प्रयास करना चाहिए | मनुष्य की मनोवृत्ति ही उसके उत्थान एवं पतन का कारण बनती है | मनुष्य जैसे परिवेश में रहता है उसकी मनोवृति उसी प्रकार बनती चली जाती है | जिनका अपने मन पर नियंत्रण है उनके ऊपर दुष्प्रवृतियों का प्रभाव नहीं पड़ता है इसका उदाहरण हमारे पुराणों में देखने को मिलता है कि दैत्यराज हिरणाकश्यप के यहाँ प्रहलाद का जन्म हो जाता है तो लंका जैसी निशाचर नगरी विभीषण जैसे भक्तों का उदय होता है | ऐसा सम्भव तभी हो सकता है जब मनुष्य को अपनी मनोवृति पर नियंत्रण हो , परंतु मनुष्य जिस परिवेश में रहता है उसी परिवेश में उसी के अनुसार बहने का प्रयास करता है | वह यह भूल जाता है कि हम देव दुर्लभ मानव शरीर लेकर के इस धराधाम पर आये हैं |* *आज अधिकतर लोग कहते कि समय बदल गया , परिवेश बदल गया इसीलिए मनुष्य की मनोवृति बदल गई | जबकि न तो समय बदला और ना ही परिवेश बदला है | विचार कीजिए कि जो सूर्य सतयुग में था , द्वापर में था , त्रेता में था वही कलियुग में भी है | जैसे वह पहले निकलता था अब भी निकलता है | चंद्रमा रात को ही निकलता था आज भी वैसे ही निकल रहा है तो बदला क्या है ?? यह विचारणीय है | मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का मानना है कि न समय बदला और ना ही परिवेश बदला है बल्कि बदल गयी है मनुष्य की मनोवृत्ति एवं उसके संस्कार | आज लंका में विभीषण एवं हिरणाकश्यप के प्रहलाद तो नहीं दिख रहे हैं परंतु विश्रवा के यहाँ रावण एवं धर्मात्मा उग्रसेन के यहाँ कंस जैसी मनोवृत्ति के लोग बहुतायत संख्या में देखे जा सकते हैं | आज मनुष्य की मनोवृत्ति निकृष्ट हो गई है | क्योंकि मेरा मानना है कि जो गायत्री मंत्र वशिष्ठ एवं विश्वामित्र जी के पास था वही आज भी है परंतु यदि उसका प्रभाव कम हुआ है तो यह मात्र मनुष्य की निकृष्टता एवं नकारात्मकता के कारण हुआ है | अपनी संचित शक्तियों का नकारात्मक प्रयोग करने के कारण ही मनुष्य की मनोवृत्ति इस प्रकार बन गई है | मनुष्य को सबसे पहले अपने आसपास के परिवेश को देखना चाहिए और नकारात्मक परिवेश से निकलने का प्रयास करना चाहिए अन्यथा उसके लिए सारी सृष्टि ही परिवर्तित दिखाई पड़ती है , जबकि परिवर्तित कुछ भी नहीं हुआ है परिवर्तित सिर्फ मनुष्य के सोचने का दृष्टिकोण हुआ है | इसी दृष्टिकोण को बदलने की आवश्यकता है |* *स्वयं को जैसा चाहे बना सकते हैं ! यदि मनुष्य कहता है कि मैं नकारात्मक हूँ तो वह नकारात्मक ही हो जाता है | क्योंकि यही उसकी मनोवृत्ति बन जाती है |*

अगला लेख: प्रायश्चित :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 मार्च 2019
*परमात्मा द्वारा सृजित यह सृष्टि बड़ी ही विचित्र है | ईश्वर ने चौरासी लाख योनियों की रचना की ! पशु , पक्षी , मनुष्य , जलचर आदि जीवों का सृजन किया | कहने को तो यह सभी एक जैसे हैं परंतु विचित्रता यही है कि एक मनुष्य का चेहरा दूसरे मनुष्य से नहीं मिलता है | असंख्य प्रकार के जीव हैं , एक ही योनि के होन
27 मार्च 2019
29 मार्च 2019
*मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है जो एक समाज में रहता है | किसी भी समाज में रहने के लिए मनुष्य को समाज से संबंधित बहुत से विषय का ज्ञान होना चाहिए , और मानव जीवन से संबंधित सभी प्रकार के ज्ञान हमारे महापुरुषों ने पुस्तकों में संकलित किया है | पुस्तकें हमें ज्ञान देती हैं | किसी भी विषय के बारे में जानने
29 मार्च 2019
05 अप्रैल 2019
*चौरासी लाख योनियों में भटकने के बाद जीव को देव दुर्लभ मानव शरीर प्राप्त होता है | इस शरीर को पाकर के मनुष्य की प्रथम प्राथमिकता होती है स्वयं को एवं अपने समाज को जानने की , उसके लिए मनुष्य को आवश्यकता होती है ज्ञान की | बिना ज्ञान प्राप्त किये मनुष्य का जीवन व्यर्थ है | ज्ञान प्राप्त कर लेना महत्व
05 अप्रैल 2019
25 मार्च 2019
*चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ मानव योनि कही गयी है | मनुष्य का जन्म मिलना है स्वयं में सौभाग्य है | देवताओं की कृपा एवं पूर्वजन्म में ऋषियों के द्वारा दिए गए सत्संग के फलस्वरूप जीव को माता पिता के माध्यम से इस धरती पर मानव रूप में आने का सौभाग्य प्राप्त होता है | इस प्रकार जन्म लेकर के मनुष्य
25 मार्च 2019
25 मार्च 2019
*सनातन धर्म में मनुष्य के जीवन में संस्कारों का बहुत महत्त्व है | हमारे ऋषियों ने सम्पूर्ण मानव जीवन में सोलह संस्कारों का विधान बताया है | सभी संस्कार अपना विशिष्ट महत्त्व रखते हैं , इन्हीं में से एक है :- यज्ञोपवीत संस्कार ! जिसे "उपनयन" या "जनेऊ संस्कार" भी कहा जाता है | ऐसा माना गया है कि मनुष्य
25 मार्च 2019
29 मार्च 2019
*मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है जो एक समाज में रहता है | किसी भी समाज में रहने के लिए मनुष्य को समाज से संबंधित बहुत से विषय का ज्ञान होना चाहिए , और मानव जीवन से संबंधित सभी प्रकार के ज्ञान हमारे महापुरुषों ने पुस्तकों में संकलित किया है | पुस्तकें हमें ज्ञान देती हैं | किसी भी विषय के बारे में जानने
29 मार्च 2019
30 मार्च 2019
*सनातन धर्म में तैंतीस करोड़ देवी देवताओं की मान्यता है | इन देवी - देवताओं को शायद ही किसी ने देखा हो , ये कल्पना भी हो सकते हैं | देवता वही है जिसमें कोई दोष न हो , जो सदैव सकारात्मकता के साथ अपने आश्रितों के लिए कल्याणकारी हो | शायद हमारे मनीषियों ने इसीलिए इस धराधाम पर तीन जीवित एवं जागृत देवताओ
30 मार्च 2019
05 अप्रैल 2019
*ईश्वर द्वारा बनाई हुई सृष्टि कर्म पर ही आधारित है | जो जैसा कर्म करता है उसको वैसा ही फल प्राप्त होता है | यह समझने की आवश्यकता है कि मनुष्य के द्वारा किया गया कर्म ही प्रारब्ध बनता है | जिस प्रकार किसान जो बीज खेत में बोता है उसे फसल के रूप में वहीं बाद में काटना पड़ता है | कोई भी मनुष्य अपने किए
05 अप्रैल 2019
29 मार्च 2019
*मानव जीवन पाकर के प्रत्येक व्यक्ति सफल होना चाहता है | जीवन के सभी क्षेत्र में सफलता प्राप्त करने की इच्छा रखने वाला मनुष्य अपने उद्योग , प्रबल भाग्य एवं पारिवारिक सदस्यों तथा गुरुजनों के दिशा निर्देशन में सफलता प्राप्त करता है | परंतु मनुष्य की सफलता इस बात पर निर्भर करती है कि वह कितना सकारात्मक
29 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x