नक्षत्रों की संज्ञा के अनुसार कर्तव्य कर्म

15 मई 2019   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (8 बार पढ़ा जा चुका है)

नक्षत्रों की संज्ञा के अनुसार कर्तव्य कर्म - शब्द (shabd.in)

नक्षत्रों की संज्ञा के अनुसार कर्तव्य कर्म

पिछले लेखों में बात कर रहे थे कि 27 नक्षत्रों में प्रत्येक नक्षत्र में कितने तारे (Stars) होते हैं, प्रत्येक नक्षत्र के देवता (Deity) तथा स्वामी अथवा अधिपति ग्रह (Lordship) कौन हैं, प्रत्येक नक्षत्र को क्या संज्ञा दी गई है | नक्षत्रों की संज्ञा से उनकी प्रकृति का भी कुछ अनुमान हो जाता है | साथ ही यह भी बताने का प्रयास कर रहे थे कि विभिन्न राशियों में कितने अंशों तक किस नक्षत्र का प्रस्तार होता है | उसे ही और सरल बनाते हुए नक्षत्रों के देवताओं के विषय में बताया गया | साथ ही चर्चा की थी नक्षत्रों की संज्ञा की | नक्षत्रों की संज्ञा के आधार भी कुछ आभास जातक के रूप गुण स्वभाव का हो सकता है | साथ ही नक्षत्रों की संज्ञा के अनुसार ही कर्म करने की भी सलाह ज्योतिषी देते हैं | जैसे:

जिन नक्षत्रों की संज्ञा ध्रुव हो उनमें वे कार्य करने चाहियें जिनमें स्थायित्व हो – क्योंकि ध्रुव का अर्थ ही है स्थाई – स्थिर – दृढ़ – अविचल | ये कार्य हैं अभिषेक करना, किसी उत्पात से शान्ति का प्रयास करना, बीज बोना अथवा वृक्षारोपण करना, किसी नगर अथवा भवन आदि की नींव रखना, कोई धार्मिक कृत्य करना करना इत्यादि इत्यादि |

लघु संज्ञा वाले नक्षत्रों में शास्त्रारम्भ, ललित कलाओं की शिक्षा आरम्भ करना, यात्रा के लिए प्रस्थान करना, रोग मुक्ति के लिए औषधि का प्रयोग करना, वस्तुओं का क्रय विक्रय, आभूषण खरीदना, शिल्प कर्म आदि करना उचित माना जाता है |

जिन नक्षत्रों की संज्ञा मृदु हो उनमें मित्रता जैसा मधुर कार्य करना चाहिए | किसी भी प्रकार का ऐसा कार्य जिसमें कोमलता का – मृदुता का भाव हो तथा मांगलिक कार्य मृदु संज्ञा वाले नक्षत्रों में करने चाहियें |

उग्र संज्ञा वाले नक्षत्रों में इनके स्वभाव के अनुसार ही उग्र स्वभाव वाले कार्य करने चाहियें | जैसे: शस्त्रों का प्रयोग तथा उसका अभ्यास करना | तान्त्रिक क्रियाएँ जो लोग करते हैं उनके लिए भी ये नक्षत्र अनुकूल माने जाते हैं | युद्ध आरम्भ करने के लिए इन नक्षत्रों को उपयुक्त माना जाता है | किसी प्रतियोगिता में विजय प्राप्त करने के लिए भी इस नक्षत्र को उपयुक्त माना जाता है |

तीक्ष्ण संज्ञा वाले नक्षत्रों को प्रायः उन लोगों के लिए अनुकूल माना जाता है जो किसी प्रकार के मन्त्र के प्रयोग में सिद्धि प्राप्त करना चाहते हैं या किसी प्रकार के विघ्न बाधा आदि से मुक्ति का प्रयास करना चाहते हैं | इसके अतिरिक्त न्यायालय में या किसी इंटरव्यू आदि के लिए प्रार्थना पत्र देने के लिए भी ये नक्षत्र उपयुक्त माने जाते हैं | कहीं पैसा इन्वेस्ट करना हो तो उसके लिए भी ये नक्षत्र अनुकूल माने जाते हैं |

मृदुतीक्ष्ण – जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है – मृदु और तीक्ष्ण दोनों प्रकार के कार्यों के लिए ये नक्षत्र अनुकूल माने जाते हैं | जैसे किसी भी प्रकार का ऐसा कार्य जिसमें कोमलता का – मृदुता का भाव हो तथा मांगलिक कार्य, मन्त्र सिद्धि के लिए प्रयास करना, इंटरव्यू या कोर्ट में कोई प्रार्थना पत्र देना इत्यादि |

चर नक्षत्रों को प्रायः सभी प्रकार के कार्यों के लिए अनुकूल माना जाता है | किन्तु यात्रा आदि के लिए ये नक्षत्र विशेष रूप से शुभ माने जाते हैं |

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2019/05/15/constellation-nakshatras-40/

अगला लेख: मंगल का मिथुन में गोचर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 मई 2019
मंगल का मिथुन राशि में गोचरमंगलवार सात मई यानीवैशाख शुक्ल तृतीया है – यानी अक्षय तृतीया | जिसे भगवान् विष्णु के छठेअवतार परशुराम के जन्मदिवस के रूप में भी मनाया जाता है | सर्वप्रथम सभी को अक्षय तृतीया की हार्दिक शुभकामनाएँ...कल प्रातः 6:53 केलगभग तैतिल करण और अतिगण्ड योग में मंगल वृषभ राशि से निकल क
06 मई 2019
20 मई 2019
नक्षत्रों की नाड़ियाँपिछले लेख में हमने बात कीप्रत्येक नक्षत्र की संज्ञाओं और उनके आधार पर जातक के अनुमानित कर्तव्य कर्मों की| नक्षत्रों का विभाजन नाड़ी, योनि और तत्वों के आधार पर किया गया है | तो आज“नाड़ियों” पर संक्षिप्त चर्चा…प्रत्येक नक्षत्र की अपनी एकनाड़ी होती है – या यों कह सकते हैं कि प्रत्येक न
20 मई 2019
06 मई 2019
अक्षय तृतीया अक्षय पर्वॐ ह्रीं श्रीं लक्ष्मीनारायणाभ्यां नमःॐ जमदग्न्याय विद्महे महावीराय धीमहि तन्नो परशुराम:प्रचोदयातकल यानी मंगलवार 7 मई को अक्षय तृतीया का अक्षय पर्व है,जिसे भगवान् विष्णु के छठे अवतार परशुराम के जन्मदिवस के रूप में भी मनाया जाता है| तृतीया तिथि का आरम्भ सूर्योदय से पूर्व तीन बजक
06 मई 2019
09 मई 2019
शुक्र का मेष राशि में गोचर कल शुक्रवार, वैशाख शुक्ल षष्ठी कोरात्रि सात बजकर छह मिनट के लगभग तैतिल करण और गण्ड योग में समस्त सांसारिक सुख,समृद्धि, विवाह, परिवारसुख, कला, शिल्प, सौन्दर्य, बौद्धिकता, राजनीतितथा समाज में मान प्रतिष्ठा में वृद्धि आदि का कारक शुक्र मेष राशि और अश्विनीनक्षत्र पर प्रस्थान क
09 मई 2019
20 मई 2019
नक्षत्रों की नाड़ियाँपिछले लेख में हमने बात कीप्रत्येक नक्षत्र की संज्ञाओं और उनके आधार पर जातक के अनुमानित कर्तव्य कर्मों की| नक्षत्रों का विभाजन नाड़ी, योनि और तत्वों के आधार पर किया गया है | तो आज“नाड़ियों” पर संक्षिप्त चर्चा…प्रत्येक नक्षत्र की अपनी एकनाड़ी होती है – या यों कह सकते हैं कि प्रत्येक न
20 मई 2019
04 मई 2019
नक्षत्र और मानव के रूप गुण स्वभाव हम नक्षत्रों के विषय में बात कररहे थे, उसी को आगे बढ़ाते हैं | 27 नक्षत्रों में प्रत्येक नक्षत्र में कितने तारे (Stars) होते हैं, प्रत्येक नक्षत्र के देवता (Deity) तथास्वामी अथवा अधिपति ग्रह (Lordship) कौन हैं, प्रत्येक नक्षत्र को क्या संज्ञा दी गई है इत्यादि विषयों
04 मई 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x