दृढ़ संकल्प :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

12 जुलाई 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (3 बार पढ़ा जा चुका है)

दृढ़ संकल्प :-- आचार्य अर्जुन तिवारी  - शब्द (shabd.in)

दृढ़ संकल्प

इस धरा धाम पर मानवयोनि में जन्म लेने के बाद मनुष्य जीवन में अनेकों कार्य संपन्न करना चाहता , इसके लिए मनुष्य कार्य को प्रारंभ भी करता है परंतु अपने लक्ष्य तक कुछ ही लोग पहुंच पाते हैं | इसका कारण मनुष्य में अदम्य उत्साह एवं अपने कार्य के प्रति निरंतरता तथा सतत प्रयास का अभाव होना ही कहा जा सकता है | महाराज भर्तृहरि ने अपने "नीति शतक" में लिखा है कि इस संसार में तीन प्रकार के मनुष्य होते हैं :-उत्तम , मध्यम एवं निम्न | उन्होंने श्लोक के माध्यम से बड़ी सुंदर व्याख्या दी है | "प्रारभ्यते न खलु विघ्नभयेन नीचैः , प्रारभ्य विघ्नविहता विरमन्ति मध्याः ! विघ्नैः पुनः पुनरपि प्रतिहन्यमानाः , प्रारब्धमुत्तमजना न परित्यजन्ति !!" अर्थात :- इस संसार में नीच, मध्यम और उत्तम ये तीन प्रकार के मनुष्य होते हैं; जिनमे से नीच प्रकार के मनुष्य तो आने वाली विध्न-बाधाओं के डर मात्र से ही किसी कार्य की शुरुआत नहीं करते; और मध्यम प्रकार के मनुष्य कार्य की शुरुआत तो करते हैं लेकिन छोटी-छोटी परेशानियों के आते ही काम को अधूरा छोड़ देते हैं; परन्तु उत्तम मनुष्य ऐसे धैर्यवान होते हैं जो बार-बार विपत्तियों के घेर लेने पर भी अपने हाथ में लिए गए काम सम्पूर्ण किये बिना कदापि नहीं छोड़ते | किसी भी कार्य को पूरा करने के लिए मनुष्य में दृढ़ संकल्प का होना बहुत ही आवश्यक है | यदि मनुष्य में कार्य के प्रति दृढ़ संकल्प एवं सतत प्रयास नहीं है तो उसका कार्य संपूर्ण हो ही जाएगा ऐसा नहीं कहा जा सकता |

किसी भी कार्य के ना पूर्ण होने पर मनुष्य स्वयं को निर्दोष बताते हुए सारा दोष ईश्वर के ऊपर डाल देता जबकि सत्यता यही है कि मनुष्य स्वयं अपने संकल्प के प्रति दृढ़ नहीं हो पाता | उत्तम प्रकृति के मनुष्य यदि किसी कार्य का संकल्प लेते हैं तो उनके कार्य में आने वाली प्रत्येक बाधाएं उनकी संकल्प शक्ति के आगे छोटी हो जाती हैं और वे मार्ग में आने वाली प्रत्येक अग्निपरीक्षा को पार करते हुए अपने लक्ष्य तक अवश्य पहुंचते हैं |* *आज के युग में मनुष्य इतना उतावला हो गया है वह सब कुछ तुरंत पा जाना चाहता है | थोड़ी सी मेहनत करके सब कुछ पाने की इच्छा रखने वाले मनुष्यों को अंत में निराशा ही हाथ लगती है | आज समाज में यदि उत्तम पुरुष या दृढ़ संकल्पवान पुरुष की गिनती की जाए तो शायद बहुत कम ही मिलेंगे |

आज प्राय: यह देखने को मिलता है आज की युवा पीढ़ी कोई भी कार्य बड़े उत्साह के साथ प्रारंभ करती है परंतु थोड़ी सी ही अड़चन आ जाने पर सारा दोष उस कार्य में ही पता कर उस कार्य को छोड़ देती है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" यह बताना चाहूंगा कि संकल्प शक्ति के अभाव में मात्र कल्पना और विचारणा दिवास्वप्न बन कर रह जाती हैं |\राह की छोटी सी बाधा व विषमतायें कार्य को छोड़ने के बहाने बन जाती हैं | लेकिन संकल्पित मनुष्य में किन्ही बहानों की कोई संभावना नहीं रहती है , वह तो हर कीमत पर इसे पूरा करने के लिए तैयार रहता है | दृढ़ संकल्प के अभाव में अनेक योजनाएं धरी की धरी रह जाती है | जागृत एवं दृढ़ संकल्प ही अनेक तरह की बाधाओं के बीच व्यक्ति को अपने लक्ष्य तक पहुंचाता है , इसलिए यदि जीवन में सफलता की आकांक्षा है तो मनुष्य को सदैव अपने संकल्प शक्ति को मजबूत बनाते रहना चाहिए | अपने लक्ष्य के प्रति दृढ़ निश्चयी मनुष्यों के मार्ग में चाहे चट्टान आ जाय या रेगिस्तान वह अपने मार्ग पर बढ़ते ही रहते हैं | जिस प्रकार नदी अनेक चट्टानों को पार करती हुई सागर में पहुंच ही जाती है उसी प्रकार दृढ़ निश्चयी मनुष्य अपने लक्ष्य को अवश्य प्राप्त करते हैं |* *कार्य चाहे बड़ा हो या छोटा उसमें लक्ष्य का निर्धारण करके उस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए संकल्पित होकर सतत प्रयास करने पर ही सफलता प्राप्त हो सकती है |

अगला लेख: चातुर्मास्य :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 जुलाई 2019
*सनातन धर्म में चौरासी लाख योनियों का वर्णन मिलता है | देव , दानव , मानव , प्रेत , पितर , गन्धर्व , यक्ष , किन्नर , नाग आदि के अतिरिक्त भी जलचर , थलचर , नभचर आदि का वर्णन मिलता है | हमारे इतिहास - पुराणों में स्थान - स्थान पर इनका विस्तृत वर्णन भी है | आदिकाल से ही सनातन के अनुयायिओं के साथ ही सनातन
06 जुलाई 2019
07 जुलाई 2019
कर्म की प्रधानता*सनातन धर्म में सदैव से कर्म को ही प्रधान माना गया है एवं अनासक्त होकर कर्मेंद्रियों से कर्मयोग का आचरण करने वाले पुरुषों को श्रेष्ठ पुरुष कहा गया है और यही karma meaning है| अपने द्वारा किए गए कर्म के आधार पर ही जीव की अगली योनियों का निर्धारण होता है | मनुष्य अपने कर्मों का भाग्
07 जुलाई 2019
12 जुलाई 2019
आत्ममुग्धता इस धराधाम पर जन्म लेने के बाद मनुष्य अनेक प्रकार के शत्रुओं एवं मित्रों से घिर जाता है इसमें से कुछ सांसारिक शत्रु एवं मित्र होते हैं तो कुछ आंतरिक | आंतरिक शत्रुओं में जहाँ हमारे शास्त्रों ने काम , क्रोध , मद , लोभ आदि को मनुष्य का शत्रु कहा गया है वहीं शास्त्रों में वर्णित षडरिपुओं के
12 जुलाई 2019
06 जुलाई 2019
*सनातन धर्म में चौरासी लाख योनियों का वर्णन मिलता है | देव , दानव , मानव , प्रेत , पितर , गन्धर्व , यक्ष , किन्नर , नाग आदि के अतिरिक्त भी जलचर , थलचर , नभचर आदि का वर्णन मिलता है | हमारे इतिहास - पुराणों में स्थान - स्थान पर इनका विस्तृत वर्णन भी है | आदिकाल से ही सनातन के अनुयायिओं के साथ ही सनातन
06 जुलाई 2019
23 जून 2019
*इस संसार में परमात्मा ने बड़ी विचित्र सृष्टि की है | देखने में तो सभी पक्षी एक प्रकार के ही दिखते हैं , सभी मनुष्यों की आकृति एक समान ही बनाई है परमात्मा ने परंतु विचित्रता यह है कि एक समान आकृति होते हुए भी प्रत्येक प्राणी के गुण एवं स्वभाव भिन्न - भिन्न ही हैं | अपने गुण , स्वभाव एवं कर्मों से ही
23 जून 2019
04 जुलाई 2019
नश्वर और अनश्वर *सृष्टि के आदिकाल से लेकर आज तक अनेकानेक जीव इस पृथ्वी पर अपने कर्मानुसार आये विकास किये और एक निश्चित अवधि के बाद इस धराधाम से चले भी गये | श्री राम , श्रीकृष्ण , हों या बुद्ध एवं महावीर जैसे महापुरुष इस विकास एवं विनाश (मृत्यु) से कोई भी नहीं बच पाया है | इसका मूल कारण यह है कि
04 जुलाई 2019
06 जुलाई 2019
*मनुष्य अपने जीवनकाल में सदैव उन्नति ही करना चाहता है परंतु सभी इसमें सफल नहीं हो पाते हैं | मनुष्य के किसी भी क्षेत्र में सफल या असफल होने में उसकी संगति महत्त्वपूर्ण स्थान रखती है | इस संसार में भिन्न - भिन्न प्रकार के लोग रहते हैं इसमें से कुछ सद्प्रवृत्ति के होते हैं तो कुछ दुष्प्रवृत्ति के | जह
06 जुलाई 2019
17 जुलाई 2019
*सनातन धर्म दिव्य एवं स्वयं में वैज्ञानिकता को आत्मसात किये हुए है | सनातन के प्रत्येक व्रत - त्यौहार स्वयं में विशिष्ट हैं | इसी कड़ी में सावन महीने का विशेष महत्व है | सनातन धर्म में वर्ष भर व्रत आते रहते हैं और लोग इनका पालन भी करते हैं , परंतु जिस प्रकार सभी संक्रांतियों में मकर संक्रान्ति , सभी
17 जुलाई 2019
29 जून 2019
एक सच्ची पुकार - *ईश्वर की अनुकम्पा से अपने कर्मानुसार अनेकानेक योनियों में भ्रमण करते हुए जीव मानवयोनि को प्राप्त करता है | आठ - नौ महीने माँ के उदर में रहकर जीव भगवान के दर्शन करता रहता है और उनसे प्रार्थना किया करता है कि :-हे भगवन ! हमें यहाँ से निकालो मैं पृथ्वी पर पहुँचकर आपका भजन करूँगा | ई
29 जून 2019
06 जुलाई 2019
*सनातन धर्म में चौरासी लाख योनियों का वर्णन मिलता है | देव , दानव , मानव , प्रेत , पितर , गन्धर्व , यक्ष , किन्नर , नाग आदि के अतिरिक्त भी जलचर , थलचर , नभचर आदि का वर्णन मिलता है | हमारे इतिहास - पुराणों में स्थान - स्थान पर इनका विस्तृत वर्णन भी है | आदिकाल से ही सनातन के अनुयायिओं के साथ ही सनातन
06 जुलाई 2019
07 जुलाई 2019
कर्म की प्रधानता*सनातन धर्म में सदैव से कर्म को ही प्रधान माना गया है एवं अनासक्त होकर कर्मेंद्रियों से कर्मयोग का आचरण करने वाले पुरुषों को श्रेष्ठ पुरुष कहा गया है और यही karma meaning है| अपने द्वारा किए गए कर्म के आधार पर ही जीव की अगली योनियों का निर्धारण होता है | मनुष्य अपने कर्मों का भाग्
07 जुलाई 2019
16 जुलाई 2019
*मनुष्य का जन्म लेने के बाद मनुष्य को इस संसार के विषय में बताने के लिए एक मार्गदर्शक आवश्यकता होती है , जिसे सद्गुरु के नाम से जाना जाता है | मानव जीवन में मार्गदर्शक (सद्गुरु) की परम आवश्यकता होती है | वैसे तो सभी मनुष्य के जीवन में माता प्रथम गुरु होती है जो कि अपने नवजात शिशु को इस संसार की प्रा
16 जुलाई 2019
24 जून 2019
*इस धराधाम पर परमात्मा ने चौरासी लाख योनियों की रचना की , इनमें सर्वश्रेष्ठ मनुष्य हुआ | मनुष्य सर्वश्रेष्ठ यदि हुआ है तो उसका कारण उसकी बुद्धि , विवेक एवं ज्ञान ही कहा जा सकता है | अपने ज्ञान के बल पर मनुष्य आदिकाल से ही संपूर्ण धरा धाम पर शासन करता चला रहा है | संसार में मनुष्य को बलवान बनाने के
24 जून 2019
12 जुलाई 2019
आत्ममुग्धता इस धराधाम पर जन्म लेने के बाद मनुष्य अनेक प्रकार के शत्रुओं एवं मित्रों से घिर जाता है इसमें से कुछ सांसारिक शत्रु एवं मित्र होते हैं तो कुछ आंतरिक | आंतरिक शत्रुओं में जहाँ हमारे शास्त्रों ने काम , क्रोध , मद , लोभ आदि को मनुष्य का शत्रु कहा गया है वहीं शास्त्रों में वर्णित षडरिपुओं के
12 जुलाई 2019
18 जुलाई 2019
*इस संसार में जन्म लेने के बाद मनुष्य मोह - माया में लिप्त हो जाता है | कहा जाता है कि अनेकों महापुरुषों ने मोह - माया पर विजय भी प्राप्त किया है परंतु यदि सूक्ष्मदृष्टि से देखा जाय तो इस मोह से कोई बच ही नहीं पाया है | सबसे बड़ा मोह है अपने शरीर का मोह ! मनुष्य जीवन भर पवित्र एवं अपवित्र के बीच झूल
18 जुलाई 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x