अक्षय नवमी एवं परिक्रमा :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

05 नवम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (2367 बार पढ़ा जा चुका है)

अक्षय नवमी एवं परिक्रमा :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸


‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼


🌳 *"अक्षयनवमी / परिक्रमा" पर विशेष* 🌳


🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻


*सनातन धर्म में कार्तिक मास का बहुत ही महत्व है , इसे दामोदर मास भी कहा जाता है | कार्तिक मास में महीने भर स्नान एवं दीपदान का विधान बताया गया है | वैसे तो कार्तिक माह में त्यौहार ही त्यौहार मनाए जाते हैं परंतु इन्हीं त्योहारों में कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की नवमी को "अक्षय नवमी" कहा जाता है | अक्षय का अर्थ होता है जो कभी समाप्त न हो | आज के दिन किया गया पुण्य - धर्म कभी क्षय नहीं होता | ऐसा माना जाता है कि कार्तिक मास में भगवान श्री हरि विष्णु आंवले के वृक्ष के नीचे निवास करते हैं इसलिए अक्षय नवमी के दिन आंवले के वृक्ष के नीचे भगवान श्री हरि विष्णु का पूजन करके वही भोजन बनाकर करने की मान्यता है | वर्ष भर जितने भी पुण्य धर्म किए जाते हैं उसकी अपेक्षा अक्षय नवमी के दिन किया गया पुण्य एवं व्रत - पूजन अक्षय फल प्रदान करता है | आज के ही दिन पावन द्वापर युग का प्रारंभ हुआ था | सनातन धर्म मे जो महत्त्व अक्षय तृतीया का है उससे कहीं अधिक महत्त्व अक्षय नवमी का बताया गया है | आज के दिन भगवान विष्णु के दो मुख्य अवतारों श्री राम एवं श्री कृष्ण के नगरी की परिक्रमा का भी विधान है | परिक्रमा के विषय में बताया गया है कि :- यानि कानि च पापानि जन्मांतर कृतानि च ! तानि सर्वाणि नश्यन्तु प्रदक्षिण पदे पदे !! अर्थात जो भी पाप जन्म जन्मांतर में किए गए हैं वह सभी पाप परिक्रमा करने से नष्ट हो जाते हैं | पावन धाम अयोध्या में मुख्य रूप से तीन परिक्रमा की जाती है | चौरासीकोसी , चौदहकोसी एवं पंचकोसी | इसका रहस्य है कि चौरासीकोसी परिक्रमा में पूरा अवध क्षेत्र आता है , समाज के कल्याण एवं चौरासी लाख योनियों से मुक्ति पाने के लिए संतसमाज यह परिक्रमा करता है | चौजह कोसी परिक्रमा में पूरा अयोध्या नगर एवं पंचकोसी परिक्रमा में रामकोट की परिक्रमा की जाती है | आज अक्षय नवमी के दिन भगवान के नगर की परिक्रमा करके उनके प्रति श्रद्धा भक्ति के साथ मनुष्य कृतज्ञता प्रकट करता है | जो व्यक्ति चौरासीकोसी एवं चौदह कोसी परिक्रमा नहीं कर सकता वह रामकोट की परिक्रमा अर्थात पंचकोसी परिक्रमा कर ले | यदि यह भी संभव ना हो सके तो मात्र कनक भवन की परिक्रमा करने से उसको पूरी परिक्रमा का फल प्राप्त हो सकता है | कभी-कभी ऐसी परिस्थिति आ जाती है कि मनुष्य जाने में असमर्थ हो जाता है ऐसी स्थिति में मनुष्य को अपने माता-पिता एवं गुरू को बैठा करके उनकी सात परिक्रमा कर लेनी चाहिए इससे समस्त सृष्टि की परिक्रमा का फल प्राप्त हो सकता है | आवश्यकता है श्रद्धा एवं विश्वास की , क्योंकि बिना श्रद्धा और विश्वास के कुछ भी प्राप्त नहीं हो पाता |*


*आज प्रातः काल जैसे ही अक्षय नवमी लगेगी भगवान के पावन नगरी मथुरा एवं पावन धाम अयोध्या की परिक्रमा भक्तजन प्रारंभ कर देंगे | "जय श्री राम" के उच्त उद्घोष के साथ देश से ही नहीं वरन विदेशों से भी आए हुए श्रद्धालु भगवान के नगरी की परिक्रमा प्रारंभ कर देते हैं | पहले की अपेक्षा आज साधन - संसाधन बढ़ गए हैं , जहां लोग पहले सुदूर क्षेत्रों से पैदल चलकर अयोध्या पहुँच करके परिक्रमा करके पुनः पैदल जाते थे वहीं आज अनेक प्रकार के साधनों का प्रयोग करके श्रद्धालु परिक्रमा करने पहुंचते हैं | पहले जहां परिक्रमा भक्ति भाव के साथ की जाती थी वही आज इसका भी स्वरूप बदल गया है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" समय के साथ बदले हुए इस धार्मिक कार्य का स्वरूप देख कर कह सकता हूं कि आज चौदहकोसी परिक्रमा युवाओं के लिए मनोरंजन का साधन हो गया है | जहां परिक्रमा का विधान है कि एक पैर से दूसरा पैर नहीं लगना चाहिए वही आज बिल्कुल विपरीत स्थिति है | शासन प्रशासन की कड़ी निगरानी में आज परिक्रमा संपन्न हो रही जिसका कारण कहीं ना कहीं से मनुष्य की मानसिकता एवं उतावलापन ही कहा जा सकता है | देश ही नहीं वरन विदेशों से भी अनेकों श्रद्धालु भगवान राम की पावन नगरी में पधारकर सरयू मैया की गोद में स्नान करके हनुमंत लाल का दर्शन एवं रामलला का पूजन करके परिक्रमा प्रारंभ करते हैं वैसे तो परिक्रमा का अक्षय फल प्राप्त होता है परंतु आज जिस प्रकार की परिक्रमा की जा रही है उससे क्या प्राप्त होगा यह मनुष्य की मानसिकता पर निर्भर करता है | मेरा मानना है कि उसका परिक्रमा करना व्यर्थ है जिसके माता-पिता एवं गुरू उससे असंतुष्ट हैं | आज अनेकों लोग अपने माता पिता को तिरस्कृत करके एवं गुरु के साथ छल करके प्रेम से परिक्रमा करने चले आते हैं कि हमें परिक्रमा का फल मिलेगा , उन्हें किलना फल प्राप्त होगा यह तो परमात्मा ही जाने | यदि परिक्रमा का फल लेना है तो सर्वप्रथम जन्मदाता माता-पिता को संतुष्ट करके एवं गुरु भगवान को निश्चल भाव से समर्पित होने के बाद ही परिक्रमा या किसी भी व्रत का फल प्राप्त हो सकता है |*


*कोई भी परिक्रमा करने के पहले विघ्नविनाशक भगवान गणेश की तरह अपने माता-पिता की परिक्रमा करने से समस्त सृष्टि की परिक्रमा का फल प्राप्त हो जाता है | इसलिए प्रत्येक मनुष्य को अक्षय नवमी के दिन अपने माता-पिता एवं गुरु की परिक्रमा अवश्य करनी चाहिए |*


🌺💥🌺 *जय श्री हरि* 🌺💥🌺



♻🏵♻🏵♻🏵♻🏵♻🏵♻


आचार्य अर्जुन तिवारी

प्रवक्ता

श्रीमद्भागवत/श्रीरामकथा

संरक्षक

संकटमोचन हनुमानमंदिर

बड़ागाँव श्रीअयोध्याजी

(उत्तर-प्रदेश)

9935328830


🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀

अगला लेख: मन का उपादान :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शशि भूषण
06 नवम्बर 2019

हार्दिक बधाई

जय सियाराम उपाध्याय जी

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 नवम्बर 2019
*सृष्टि के आदिकाल में वेद प्रकट हुए , वेदों का विन्यास करके वेदव्यास जी ने अनेकों पुराणों का लेखन किया परंतु उनको संतोष नहीं हुआ तब नारद जी के कहने से उन्होंने श्रीमद्भागवत महापुराण की रचना की | श्रीमद्भागवत के विषय में कहा जाता है यह वेद उपनिषदों के मंथन से निकला हुआ ऐसा नवनीत (मक्खन) है जो कि वेद
14 नवम्बर 2019
09 नवम्बर 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार आश्रमों में बांटा गया है , जिनमें से सर्वश्रेष्ठ आश्रम गृहस्थाश्रम को बताया गया है , क्योंकि गृहस्थ आश्रम का पालन किए बिना मनुष्य अन्य तीन आश्रम के विषय में कल्पना भी नहीं कर सकता | मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है समाज का निर्माण परिवार से होता है | व्यक्ति के जीवन में
09 नवम्बर 2019
22 अक्तूबर 2019
*भारत देश में अपने परिवार तथा समाज को संपन्न एवं दीर्घायु की कामना से नारियों ने समय-समय पर कठिन से कठिन व्रत का पालन किया है | वैसे तो वर्ष भर कोई न कोई पर्व एवं त्योहार यहां मनाया जाता रहता है , परंतु कार्तिक मास विशेष रुप से पर्व एवं त्योहारों के लिए माना जाता है | कार्तिक मास में नित्य नए-नए त्य
22 अक्तूबर 2019
31 अक्तूबर 2019
*मनुष्य इस धरा धाम पर जन्म लेकर के जीवन भर अनेकों कृत्य करते हुए अपनी जीवन यात्रा पूर्ण करता है | इस जीवन अनेक बार ऐसी स्थितियां प्रकट हो जाती है मनुष्य किसी वस्तु , विषय या किसी व्यक्ति के प्रति इतना आकर्षित लगने लगता है कि उस वस्तु विशेष के लिए कई बार संसार को भी ठुकराने का संकल्प ले लेता है | आखि
31 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार भागों में विभक्त करते हुए इन्हें आश्रम कहा गया है | जो क्रमश: ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , सन्यास एवं वानप्रस्थ के नाम से जाना जाता है | जीवन का प्रथम आश्रम ब्रह्मचर्य कहा जाता है | ब्रह्मचर्य एक ऐसा विषय है जिस पर आदिकाल से लेकर आज तक तीखी बहस होती रही है | स्वयं को ब्रह्म
24 अक्तूबर 2019
22 अक्तूबर 2019
इस संसार में महिलाओं का जीवन सरल नहीं है और हर पग पर उन्हें कोई ना कोई परीक्षा देनी होती है। उनके ही कारण रमायण, महाभारत जैसे कई युद्ध हुए लेकिन फिर भी हिंदू धर्म में कहीं ना कहीं महिलाओं को देवी का दर्जा दिया गया है। मगर इस्लामिक धर्म
22 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
भारत में जितने भी बड़े-बड़े व्यापारी और सेलिब्रिटीज हैं उनके अपने पर्सनल पंडितजी होते हैं। जिनसे पूछकर ही वे अपने सारे शुभ काम करते हैं। ऐसा हर कोई करता है और धार्मिक गुरु पर उनका ये विश्वास ही उन्हें सच्ची सफलता प्रदान करता है। ज्योतिषीयों के बारे में बहुत सारी बातें होती हैं जिन्हें समझने के लिए ज
24 अक्तूबर 2019
10 नवम्बर 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !!*सनातन धर्म की दिव्यता विश्व विख्यात है | संपूर्ण विश्व ने सनातन धर्म के ग्रंथों को ही आदर्श मान कर दिया जीवन जीने की कला सीखा है | प्राचीन काल में शिक्षा का स्तर इतना अच्छा नहीं था जितना इस समय है परंतु हमारे पूर्वज अनुभव के आधार पर समाज के सारे कार्य कुशलता से संपन्न कर दे
10 नवम्बर 2019
28 अक्तूबर 2019
*कार्तिक माह में चल रहे "पंच महापर्वों" के चौथे दिन आज अन्नकूट एवं गोवर्धन पूजा का पर्व मनाया जाएगा | भारतीय सनातन त्योहारों की यह दिव्यता रही है कि उसमें प्राकृतिक , वैज्ञानिक कारण भी रहते हैं | प्रकृति के वातावरण को स्वयं में समेटे हुए सनातन धर्म के त्योहार आम जनमानस पर अपना अमिट प्रभाव छोड़ते हैं
28 अक्तूबर 2019
16 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर जन्म लेने के बाद मनुष्य येन - केन प्रकारेण ईश्वर प्राप्ति का उपाय किया करता है | ईश्वर का प्रेम पिराप्त करने के लिए मनुष्य पूजा , अनुष्ठान , मन्दिरों में देवदर्शन तथा अनेक तीर्थों का भ्रमण किया करता है जबकि भगवान को कहीं भी ढूंढ़ने की आवश्यकता नहीं है मानव हृदय में तो ईश्वर का वास है ह
16 नवम्बर 2019
28 अक्तूबर 2019
*मानव जीवन पा करके मनुष्य लंबी आयु जीता है | जीवन को निरोगी एवं दीर्घ जीवी रखने के लिए मनुष्य की मुख्य आवश्यकता है भोजन करना | पौष्टिक भोजन करके मनुष्य एक सुंदर एवं स्वस्थ शरीर प्राप्त करता है | मानव जीवन में भोजन का क्या महत्व है इसको बताने की आवश्यकता नहीं है , नित्य अपने घरों में अनेकों प्रकार
28 अक्तूबर 2019
07 नवम्बर 2019
🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻 *हमारे देश में हिंदू संस्कृति में बताए गए बारहों महीने में कार्तिक मास का विशेष महत्व है , इसे दामोदर मास अर्थात भगवान विष्णु के प्रति समर्पित बताया गया है | कार्तिक मास का क्या महत्व है इसका वर
07 नवम्बर 2019
31 अक्तूबर 2019
..... इंसानियत ही सबसे पहले धर्म है, इसके बाद ही पन्ना खोलो गीता और कुरान का......"जय हिन्द"
31 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x