कर्मयोग – कर्म की तीन संज्ञाएँ

14 नवम्बर 2019   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (497 बार पढ़ा जा चुका है)

कर्मयोग – कर्म की तीन संज्ञाएँ

कर्मयोग – कर्म की तीन संज्ञाएँ

जैसा कि पहले लिखा, कर्ता के भाव के अनुसार कर्म की तीन संज्ञाएँ होती हैं – कर्म, अकर्म और विकर्म | इन तीन संज्ञाओं के साथ साथ हमारे शास्त्रकारों ने कर्म के तीन रूप भी बताए हैं | इनमें प्रथम है संचित कर्म | अनेक जन्मों से लेकर अब तक के संगृहीत कर्म ही संचित कर्म कहलाते हैं | कर्म तब तक क्रियारूप में रहते हैं जब तक वे क्रियमाण होते हैं, और पूरा होते ही तत्काल संचित बन जाते हैं | संचित केवल प्रेरणा देता है, तदनुसार कार्य करने को बाध्य नहीं करता | कर्म करने में तो मनुष्य का वर्तमान समय का पुरुषार्थ ही प्रधान कारण होता है | यदि यह पुरुषार्थ संचित के अनुकूल होगा तो उसके द्वारा उत्पन्न हुई कर्म प्रेरणा में सहायक सिद्ध होगा, और यदि प्रतिकूल होगा तो उस कर्म प्रेरणा को रोक भी देगा | उदाहरण के लिये यदि वर्तमान में कोई व्यक्ति अच्छी संगति में रहता है और उसके संचित भी वैसे ही हैं तो वह सदा अच्छे कर्म ही करेगा, किन्तु संचित तो श्रेष्ठ हैं लेकिन वर्तमान में संगति अच्छी नहीं है तो उस व्यक्ति को अच्छे कर्म करने में कठिनाई होगी | पुरुषार्थ संचित के प्रतिकूल होने के कारण वह समय पर अच्छे कर्म करने से वंचित रह जाएगा |

कर्म का दूसरा रूप है प्रारब्ध | पाप पुण्य के संचित में से कुछ अंश एक जन्म के भोग के उद्देश्य से प्रारब्ध बनता है | इस प्रकार जब तक संचित शेष रहता है प्रारब्ध बनता रहता है, और संचय की समाप्ति होते ही मोक्ष हो जाता है | प्रारब्ध का यह भोग भी दो प्रकार का होता है | चित्त की भावनाओं के द्वारा किया गया भोग मानसिक होता है – जैसे सब प्रकार से सुखी होने के बाद भी कोई व्यक्ति चिंतित रहता है तो यह मानसिक भोग अथवा प्रारब्ध होता है | दूसरा रूप होता है सुख दु:खादि की प्राप्ति | यह दैवयोग अथवा स्वेच्छा से भी होता है – जैसे अचानक किसी दुर्घटना का घट जाना अथवा जान बूझकर आग में कूद जाना |

कर्म का तीसरा रूप है क्रियमाण | स्वेच्छा से किया गया कर्म क्रियमाण होता है और यह फलभोग के लिये बाध्य करता है | इस प्रकार संचित से प्रेरणा, प्रेरणा से क्रियमाण, क्रियमाण से पुनः संचित और उस संचित के अंश से प्रारब्ध – इस प्रकार कर्म प्रवाह जीवन में निरन्तर तब तक प्रवाहित होता रहता है जब तक एक एक संचित कर्म समाप्त नहीं हो जाता, और जब प्रारब्ध भोग कर सारा संचित समाप्त हो जाता है तब प्राप्त होती है मुक्ति | इतना तो निश्चित है कि बिना भोग के मुक्ति नहीं, किन्तु यह भोग अथवा इसके लिये किया गया कर्म निष्काम होना चाहिये | क्योंकि सकाम होते ही फिर से वह संचित हो जाएगा |

अब फिर से प्रश्न उत्पन्न होता है कि निष्काम कर्म की परिभाषा क्या है ? गीता के अनुसार भगवदर्पण भाव से भगवत्प्रीत्यर्थ अनासक्त भाव से तथा फल की इच्छा से रहित होकर जो कर्म किया जाता है वह मुक्ति का साधन होता है | शास्त्रोक्त विधि से सकाम कर्म करने वाला उस सिद्धि को तो प्राप्त कर लेता है जिसके लिये उसने वह कर्म किया है, किन्तु मुक्ति नहीं प्राप्त कर सकता | गीता में यत्र तत्र सर्वत्र इसी आशय के कथन उपलब्ध होते हैं | निष्काम कर्म का महत्व बताते हुए गीता में कहा गया है “निहाभिक्रमनाशोSस्ति प्रत्यवायो न विद्यते, स्वल्पमप्यस्य धर्मस्य त्रायते महतो भयात् ||” (2/40)

इस निष्काम कर्मयोग में न तो आरम्भ का नाश है, न ही विपरीत फल का दोष है, अतः इस निष्काम कर्मयोगरूप धर्म का थोड़ा सा भी साधन जन्म मृत्यु के महान भय से उद्धार कर देता है | निष्काम भाव से कर्म करने का एकमात्र हेतु परमात्मतत्व की प्राप्ति रह जाता है | उसका लक्ष्य इंतना ऊँचा हो जाता है कि उसे बाहरी फलों का कोई ध्यान ही नहीं रहता | वह उस परमात्मतत्व के सामने जगत के बड़े से बड़े पदार्थों को भी तुच्छ समझता है “दूरेण ह्यवरं कर्म बुद्धियोगाद्धनन्जय, बुद्धो शरणमन्विच्छ कृपण: फलहेतव: ||” (2/49)

इस प्रकार गीता में कहीं भी कर्महीनता का समर्थन नहीं मिया गया है, अपितु कर्म के लिये प्रेरित करते हुए उसे निष्काम भाव से करने का पक्ष लिया गया है | और गीता का निष्काम कर्मयोग सर्वथा भक्तिमिश्रित है तथा फल और आसक्ति का त्याग कर भगवान की आज्ञानुसार भगवदर्थ समत्व बुद्धि से शास्त्रविहित कर्मों को करना ही उसका स्वरूप है | इसी कारण से वह मुक्ति का साधन है “सर्वकर्माण्यपि सदा कुर्वाणो मद्व्यपाश्रय:, मत्प्रसादादवाप्नोति शाश्वतं पदमव्ययम् | चेतसा सर्व कर्माणि मयि संन्यस्य मत्परः, बुद्धियोगमुपाश्रित्य मच्चित्त: स ततं भव ||” (18/56,57)

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2019/11/14/%e0%a4%95%e0%a4%b0%e0%a5%8d%e0%a4%ae%e0%a4%af%e0%a5%8b%e0%a4%97-%e0%a4%95%e0%a4%b0%e0%a5%8d%e0%a4%ae-%e0%a4%95%e0%a5%80-%e0%a4%a4%e0%a5%80%e0%a4%a8-%e0%a4%b8%e0%a4%82%e0%a4%9c%e0%a5%8d/

अगला लेख: छठ पूजा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 नवम्बर 2019
तथाकथित “भावनाओं” के सम्बन्ध में एक अत्यन्तसारगर्भित और रोचक लेख...भावनिस्तान - डॉ दिनेश शर्मामुझे लगता है कि हम हिंदुस्तानी कम भावनिस्तानीज्यादा होते जा रहे हैं। ऐसा मैं इस लिए कह रहा हूँ कि बहुत सारे लोग, धर्मगुरु, लीडर, अखबार ,टेलीविजन चैनल और अन्य दूसरे माध्यम भी सालों से यही सिद्ध करने मेंतुले
13 नवम्बर 2019
03 नवम्बर 2019
4 से 10 नवम्बर2019 तक का साप्ताहिकराशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोचर पर आध
03 नवम्बर 2019
07 नवम्बर 2019
हम लोग प्रायः आस्था और अंध श्रद्धा में भेद करना भूल जाते हैं, इसी विषय पर प्रस्तुत है डॉ दिनेश शर्मा का एक लेख... बड़ी अच्छी तरह इस लेख में डॉ शर्मा ने इस बात को बताने का प्रयास किया है. ..आस्था बनाम अंध श्रद्धाडॉ दिनेश शर्माआज
07 नवम्बर 2019
30 अक्तूबर 2019
छठ पूजाशनिवार दो नवम्बर - कार्तिकशुक्ल षष्ठी - छठ पूजा का पावन पर्व – जिसका आरम्भ कल यानी कार्तिक शुक्ल चतुर्थी से ही हो जाएगाऔर सारा वातावरण “हमहूँ अरघिया देबई हे छठी मैया” और “कांच ही बाँस के बहंगियाबहंगी चालकत जाए” जैसे मधुर लोकगीतों से गुंजायमान हो उठेगा | सर्वप्रथम सभी को छठ पूजा की हार्दिक शुभ
30 अक्तूबर 2019
14 नवम्बर 2019
पथ पर बढ़ते ही जाना हैअभी बढ़ाया पहला पग है, अभी न मग को पहचाना है |अभी कहाँ रुकने की वेला, मुझको बड़ी दूर जाना है ||कहीं मोह के विकट भँवर में फँसकर राह भूल ना जाऊँ | कहीं समझकर सबको अपना जाग जाग कर सो ना जाऊँ |मुझको सावधान रहकर ही सबके मन को पा जाना है ||और न कोई साथी, केवल अन्तरतम का स्वर सहचर है साध
14 नवम्बर 2019
05 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKer
05 नवम्बर 2019
13 नवम्बर 2019
कार्तिकीपूर्णिमा - कुछ स्मृतियाँ कल कार्तिकी पूर्णिमा,त्रिपुरारी पूर्णिमा, गुरु परब, प्रकाशपरब और देव दीवाली के साथ ही तुलसी विवाह भी सम्पन्न हो गया और त्यौहारों तथापर्वों का माह कार्तिक माह भी समाप्त होकर आज से मार्गशीर्ष मार्ग आरम्भ हो गया | अपनेबचपन और युवावस्था की कुछ स्मृतियाँ कल दिन भर मन में
13 नवम्बर 2019
07 नवम्बर 2019
पिछले दो महीनों से सोशल मीडिया पर रानू मंडल नाम का एक सितारा जगमगा रहा है। रेलवे स्टेशन से उठकर आज बॉलीवुड में जा बसी हैं लेकिन स्टारडम का अहम् इनके अंदर आ गया है कि लोगों से इस कदर बात करने लगी हैं। कभी रेलवे स्टेशन पर लता मंगेशकर का पॉपुलर गाना 'एक प्यार का नगमा है' गाया और फिर ये गाना इतना वायरल
07 नवम्बर 2019
07 नवम्बर 2019
हिंदी फिल्मों में आपने कई ऐसी कहानियां देखी होगी जिसमें बच्चा बचपन में मां-पिता से बिछड़ जाता है और फिर बहुत ही गरीबी से जिंदगी गुजारता है। बाद में बड़ा होकर वो अपने परिवार से किसी और ही सूरत में मिलता है। ऐसा असल जिंदगी में भी हुआ जब एक करोड़पति माता-पिता का बेटा बिछड़ गया और जब बड़ा होकर मिला तो म
07 नवम्बर 2019
06 नवम्बर 2019
कि
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <w:ValidateAgainstSchemas></w:Val
06 नवम्बर 2019
11 नवम्बर 2019
भारतीय सैनिकों की वाहवाही हमेशा से देशवासी करते आए हैं क्योंकि ये सरहद पर हम सबकी रक्षा करते हैंं। वे वहां पर जगते हैं तभी हम अपने-अपने घरों में चैन से सो पाते हैं और ये एक सच में बहुत बहदुरी का काम है। मगर सरहद पर रहने वाले जवान भी तो आपकी और हमारी तरह इंसान हैं और उनका मन भी किसी ना किसी के प्रति
11 नवम्बर 2019
07 नवम्बर 2019
मकर राशिकल ८ नवंबर २०१९ मकर राशि वाले जातको के लिए बड़ा शुभ दिन है | इन राशि वालो को कल अपना सच्चा प्यार मिल सकता है जो आपकी भावनाओं की कद्र करेगा | जो आपके दुःख और सुख में आपका साथ देगा| आपके जीवन के अटके सभी कार्य में सफलता प्राप्त होगी| संतान की सफलता से आपका मन अत्यधिक
07 नवम्बर 2019
15 नवम्बर 2019
सूर्य का वृश्चिक में गोचरकल मार्गशीर्ष कृष्ण पञ्चमी यानी शनिवार को 24:51 (अर्द्धरात्र्योत्तरबारह बजकर इक्यावन मिनट) के लगभग भगवान भास्कर विशाखा नक्षत्र पर रहतेहुए ही कौलव करण और साध्य योग में तुला राशि से निकल कर अपने मित्र ग्रह मंगल की वृश्चिकराशि में प्रस्थान करेंगे | अपनी इस यात्रा के दौरान आत्मा
15 नवम्बर 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x